अभिजीत मुहूर्त 2022

यह एक स्थापित तथ्य है कि किसी भी कार्य में सफलता पूरी तरह से उस शुभ क्षण पर निर्भर करती है, जिस पर उस कार्य को शुरू किया जाता है। लोग किसी भी कार्य को करने से पहले शुभ मुहूर्त मानते हैं ताकि उसका सकारात्मक परिणाम मिले। ज्योतिष शास्त्र कहता है कि अच्छा मुहूर्त किसी भी गतिविधि की सफलता की संभावना को बढ़ाता है। लेकिन कभी-कभी लोगों को तत्काल आधार पर कार्य करना पड़ता है और शुभ मुहूर्त खोजने का समय नहीं होता है। ऐसे में मुहूर्त न मिलने पर लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ता है। वैदिक ज्योतिष के अनुसार अभिजीत मुहूर्त नामक एक विशेष मुहूर्त है। यह मुहूर्त किसी भी कार्य के लिए शुभ होता है। अभिजीत मुहूर्त किसी विशेष स्थिति के लिए विशेष नहीं है, लेकिन इसकी खासियत यह है कि यह हर दिन मौजूद रहता है।

अभिजीत मुहूर्त कैसे कार्य करता है

अभिजीत मुहूर्त सूर्य की स्थिति पर आधारित मुहूर्त है। यह प्रत्येक स्थान के अनुसार बदलता रहता है। इसकी गणना उस विशेष शहर में सूर्योदय और सूर्यास्त के आधार पर की जाती है। अभिजीत शब्द का अर्थ ही विजयी होता है। तो अभिजीत मुहूर्त वह समय है जिस पर शुरू किया गया कार्य या गतिविधि जातक को विजयी बनाएगा। विवाह या उपनयन को छोड़कर किसी भी गतिविधि को शुरू करने के लिए यह आदर्श मुहूर्त है। 

क्या अभिजीत मुहूर्त कितनी देर रहता है

वैसे तो अभिजीत मुहूर्त अपने आप में बेहद शक्तिशाली मुहूर्त है लेकिन अभिजीत मुहूर्त अधिक पवित्र और शक्तिशाली हो जाता है यदि यह शुक्ल पक्ष के दौरान हो, और जिस दिन अन्य लाभकारी योग हों। इस मुहूर्त का किसी तिथि, नक्षत्र, राशि या मास पर निर्भर नहीं है। यह मुहूर्त प्रतिदिन उपस्थित होता है और इसकी अवधि लगभग 48 मिनट की होती है। नक्षत्र समय से 24 मिनट पहले और बाद में अभिजीत मुहूर्त कहा जाता है। मूल रूप से यह 48 मिनट तक रहता है लेकिन दिन छोटा होने पर अवधि कम हो सकती है। अभिजीत मुहूर्त शुभ होने के कारण लोग इस मुहूर्त को अपना काम करने के लिए चुनते हैं। दिन अशुभ होने पर भी अभिजीत मुहूर्त किसी शुभ कार्य की रक्षा करता है।

अभिजीत मुहूर्त का ज्योतिषीय महत्व

आम आदमी के लिए, जो पंचांग की पेचीदगियों को समझने में असमर्थ हैं, अभिजीत मुहूर्त के दौरान शुभ कार्य की शुरुआत कर सकते हैं। अभिजीत मुहूर्त के पीछे ज्योतिषीय पहलू यह है कि, दिन के इस समय सूर्य लग्न से दसवें घर में स्थित होता है और दसवां भाव कर्म स्थान प्रतिनिधित्व करता है। सूर्य का लग्न से 10वें घर में होना सफलता को दर्शाता है। अभिजीत मुहूर्त को अभिजीत नक्षत्र के साथ भ्रमित नहीं करना चाहिए, जो कुल नक्षत्रों में से अट्ठाईसवें नक्षत्र है। अभिजीत मुहूर्त सभी दोषों को दूर करने में सक्षम है। किसी भी प्रकार के कार्य को करने के लिए यह एक शुभ समय माना जाता है। अभिजीत मुहूर्त को अन्य गतिविधियों के लिए अलग मुहूर्त में जाए बिना किसी भी प्रकार की गतिविधि के लिए चुना जा सकता है।

अभिजीत मुहूर्त से जुड़ी पौराणिक कथा

अभिजीत मुहूर्त के दौरान भगवान शिव ने राक्षस त्रिपुरासुर का सिर काट दिया। हिंदू पौराणिक कथाओं के अनुसार, अभिजीत मुहूर्त में भगवान विष्णु का आशीर्वाद होता है, जिन्होंने सुदर्शन चक्र की मदद से अभिजीत मुहूर्त के दौरान कई दोषों को दूर किया। भगवान विष्णु के सातवें अवतार भगवान राम ने अभिजीत मुहूर्त में ही जन्म लिया। इतना ही नहीं सिख गुरुओं ने भी ज्योतिष की मदद से शुभ मुहूर्त खोजने का कार्य किया। यही कारण है कि उन्होंने किसी भी शुभ कार्य को शुरू करने के लिए अभिजीत मुहूर्त को चुना जाता है। इतना ही नहीं कहा जाता है कि देश की आजादी के समय भी नेहरू ने अभिजीत मुहूर्त के महत्व को चुना था। 

अभिजीत मुहूर्त की गणना कैसे करें

अभिजीत मुहूर्त कुल 15 मुहूर्त में से 8वां मुहूर्त है जो सूर्योदय और सूर्यास्त के बीच होता है। सूर्योदय और सूर्यास्त के बीच के समय अंतराल को 15 बराबर भागों में विभाजित किया जाता है और पंद्रह भागों के मध्य भाग को अभिजीत मुहूर्त के रूप में जाना जाता है। यदि सूर्योदय सुबह 6 बजे और सूर्यास्त शाम 6 बजे होता है। किसी विशेष स्थान के लिए अभिजीत मुहूर्त दोपहर से ठीक 24 मिनट पहले शुरू होगा और दोपहर के 24 मिनट बाद समाप्त होगा। दूसरे शब्दों में, ऐसे स्थान के लिए अभिजीत मुहूर्त सुबह 11;40 से दोपहर 12:20 के बीच होगा। दिन के सूर्योदय और सूर्यास्त के समय के मौसमी बदलाव के कारण, अभिजीत मुहूर्त का सही समय और अवधि निश्चित नहीं है।

अभिजीत मुहूर्त 2022