जाने फाइनेंशियल पोजीशन में बढ़ाने के लिए ज्योतिष के उपाय

पैसों के बारे में कहा जाता है की “पैसा भगवान तो नहीं लेकिन उससे कम भी नहीं”। आज के समय में पूरी दुनिया पैसो के इर्द-गिर्द घूमती रही है। हर कोई इसे चाहता है। व्यक्ति को इसकी आवश्यकता भी हमेशा होती है। पैसा न केवल विलासिता और समृद्धि देता है, बल्कि समाज में आपका मूल्य और स्थिति भी बताता है। आज के समय में पैसा हर व्यक्ति की जरूरत है। इसके बिना जीवन यापन संभव नहीं।

अब आपको यह सोचकर अजीब लग सकता है, की पैसा कैसे आपकी प्रतिष्ठा को भी तय कर करता है। आज के समय का यही सच है। इससे किसी को कोई फर्क नहीं पड़ता कि व्यक्ति कैसा है। कुछ लोग सिर्फ यही देखते है की उसके पास कितना पैसा है। लोग आपको देखकर आपके पैसो का अंदाजा लगा लेते है। आपका रहन- सहन, कपड़े सब आपके पैसो की ताकत को बताते हैं। यह आज के समय का कड़वा सच है।

भले ही पैसा सबसे ज्यादा मायने रखता है, लेकिन हर कोई उतना नहीं कमा सकता। जितनी उसकी जरूरत होती है। कोई कम मेहनत में ज्यादा कमा लेता है, तो कोई ज्यादा मेहनत करके भी कम ही कमा पाते हैं। आपके जीवन में पैसों की स्थिति कैसी रहेगी, इसके लिए जातक की कुंडली में मौजूद धन योग या लक्ष्मी योग भी एक प्रमुख भूमिका निभाते हैं। जो जीवन में सफलता प्राप्त करने के लिए प्रेरित करते हैं। तो आइए चर्चा करते हैं कुंडली के धन प्रदाय योग के बारे में –


कुंडली के दूसरे भाव द्वारा फाइनेंशियल स्थिति जाने

वैदिक ज्योतिष में द्वितीय भाव को धन भाव के रूप में जाना जाता है, साथ ही, यह आय और वित्तीय मामलों का भी भाव कहलाता है। इसके साथ ही यह भाव आपकी कमाई के स्रोत भी दिखाता है। आप कितनी संपत्ति अपने जीवन में प्राप्त करेंगे। इसका निर्धारण भी इस भाव से होता है। मजबूत द्वितीय भाव वाले जातक को किसी प्रकार की आर्थिक समस्या का सामना नहीं करना पड़ता है। द्वितीयेश की मजबूत स्थिति भी जबरदस्त धन देती है। हालांकि, द्वितीय भाव की अशुभता जीवन में आर्थिक रूप से बहुत परेशानी पैदा कर देता है। आपको धन पाने के लिए बहुत मेहनत करने की आवश्यकता होती है।


कुंडली के ग्यारहवे भाव द्वारा फाइनेंशियल स्थिति जाने

वैदिक ज्योतिष अनुसार कुंडली के 11वें भाव को लाभ भाव के रूप में जाना जाता है। यह लाभ किस स्तर का होगा यह बताता है। आप व्यापार के माध्यम से किस प्रकार का लाभ प्राप्त करेंगे, यह कुंडली के ग्यारहवे भाव से देखा जाता है। आपके व्यवसाय और लाभ की सफलता इस भाव से ही तय होती है। यह आपकी सभी इच्छाओं का घर है, जिसे आप इस जीवन में पूरा करना चाहते हैं। यह भाव धन लाभ की वृद्धि और गिरावट को निर्धारित करता है। मजबूत 11वां घर भारी लाभ देता है, जो जातक की फाइनेंशियल पोजिशन को ऊंचा करता है, और धनवान बनाता है। 11वें भाव की अशुभता व्यापार में परेशानी पैदा करती है। आपको अचानक से धन हानि भी दे सकती है।


दूसरे और 11वें भाव का धन से सम्बन्ध

कुंडली का दूसरा और 11वां भाव धन लाभ के लिए मजबूत भाव माने जाते हैं। इन भावों में ग्रहों की स्थिति उनकी ताकत और कमजोरियों के अनुसार परिणाम देती है। आप कह सकते है की कुंडली में अगर दूसरे और ग्यारहवें भाव में ग्रह अच्छी स्थिति में होते हैं तो जल्दी धन लाभ देते हैं। यह अशुभ होते है तो धन के मामले में हानि देते है।

भले ही कुंडली में आपके यह दोनों भाव कमजोर या पीड़ित हों, आपके वित्तीय मामलों को प्रभावित कर रहे हों, फिर भी आपको इसके बारे में चिंता करने की ज़रूरत नहीं है। आपकी आर्थिक स्थिति में सुधार करने के लिए हमारे पास कुछ उपाय हैं। यदि आपने उनका पालन किया, तो निश्चित रूप से अधिक धन कमाने में सफलता मिलेगी। ऐसा माना जाता है की कर्म के द्वारा आप नियति को बदल सकते हैं। आप धन प्राप्ति के लिए कर्म करते जाएं, आपको लाभ होगा।


वित्तीय स्थिति को सुधारने के लिए ज्योतिष उपाय

अपनी आर्थिक स्थिति में सुधार करने के लिए यहां कुछ ज्योतिषीय उपाय दिए जा रहे हैं।

  • कैश वाले लॉकर को कमरे के दक्षिण या दक्षिण-पश्चिम कोने में इस तरह रखें, कि उसका दरवाजा उत्तर दिशा में खुलना चाहिए।
    अधिक धन को आकर्षित करने के लिए आप तिजोरी के सामने शीशा लगा सकते हैं।
  • हर दिन शनि चालीसा का पाठ करना चाहिए और आर्थिक मामलों में बाधाओं को दूर करने के लिए हर शनिवार का व्रत करना चाहिए।
    बेईमानी से पैसा कमाने से हमेशा बचे। बेहतर होगा कि आप इससे जितना हो सके दूर रहने की कोशिश करें।
  • जरूरतमंद लोगों को हमेशा पैसे और कपड़े दान करें। यह कुंडली में मौजूद दोषों को कम करने में मदद करेगा। इससे शनि देव प्रसन्न होंगे। यह उपाय करने से सफलता मिलती है।
  • प्रतिदिन भगवान कुबेर के मंत्र का जाप करें और कुबेर यंत्र की पूजा करें। वे आपको इतनी सारी चीजें देंगे, जिसकी आपने कभी कल्पना भी नहीं की होगी।
  • प्रतिदिन तुलसी के पौधे के पास घी का दीपक अवश्य जलाएं। यह उपाय स्वास्थ्य, धन और समृद्धि देता है।
  • धन और ऐश्वर्य को आकर्षित करने के लिए प्रत्येक शुक्रवार को विष्णु सहस्रनाम का पाठ करें।
  • टूटे हुए बर्तनों का उपयोग करने से बचें, और उन्हें घर पर न रखें। घर में टूटे बर्तन सदस्यों में अशांति और पैसों की समस्याओं को पैदा कर सकते हैं।
  • आपको अपने घर को साफ रखना चाहिए और हर दिन कचरा फेंकना चाहिए।
  • देवी लक्ष्मी का आशीर्वाद लेने के लिए हर गुरुवार और शुक्रवार को उनके बीज मंत्र का जाप करना चाहिए।
  • अभिमंत्रित लक्ष्मी गणेश यंत्र को आप घर, कार्यस्थल और व्यावसायिक स्थान पर रख सकते हैं। यह आपको नकारात्मकता से बचाएगा और चारों ओर समृद्धि के साथ धन लाएगा।

अधिक धन प्राप्ति के लिए उपरोक्त दिए गये सभी उपाय बहुत प्रभावी हैं। यह जातक के जीवन से सभी वित्तीय समस्याओं को दूर कर सकते हैं। इन उपायों को करने से मां लक्ष्मी का आशीर्वाद प्राप्त होकर सफलता मिलती है। आप इसे एक बार जरूर आजमाएं और अपनी आर्थिक समस्याओं में आए बदलाव को महसूस करें जिससे आपको खुशी मिलेगी।

किसी भी समस्या के हल के लिए आज ही हमारे ज्योतिष से संपर्क करें