महालया अमावस्या क्यों मनाई जाती है, क्या है इसका महत्व

भारत की संस्कृति त्यौहारों से जुड़ी हुई है। यहां हर दिन कोई न कोई त्योहार होता है। आज हम जिस त्योहार की बात करने वाले हैं, वह है महालय अमावस्या। इस दिन हम अपने पूर्वजों को याद करते हैं और उनके प्रति कृतज्ञता और सम्मान प्रकट करने के लिए अनुष्ठान करते हैं। पितृ पक्ष महालय अमावस्या के दिन समाप्त होता है अर्थात इस दिन हम अपने पूर्वजों को विदा करते हैं। इस दिन से देवी पक्ष की शुरुआत भी होती है। अपने अतीत के साथ अपने संबंधों को मजबूत करने और निरंतरता को जारी रखने के लिए हमारे पूर्वजों का सम्मान करना महत्वपूर्ण है। यह हमारे लिए काफी फायदेमंद होता है। आइए इसके बारे में विस्तार से जानते हैं।

कैसा रहेगा आपका 2022, जानें 2022 भविष्यफल के साथ

महालय अमावस्या 2022 की तिथि और समय

दिनांक: 25 सितंबर 2022, दिन-रविवार

तिथि का समय:

25 सितंबर 2022 से 03:12 बजे शुरू होगा

26 सितंबर 2022 को शाम 03:23 बजे समाप्त होगा

महालय अमावस्या का महत्व

महालया अमावस्या हमारे पूर्वजों के साथ हमारे रिश्ते को मजबूत करने का अवसर लेकर आती है। अतीत से हमारे संबंधों के कारण ही मानव संस्कृति आगे बढ़ी है और विकसित होती है। मानव जाति की प्रत्येक पीढ़ी ने मानव विकास में कुछ न कुछ नया योगदान दिया है। इसी के आधार पर आने वाले पीढियों को जीवन जीने में सुगमता होती है। उसी के परिणामस्वरूप निरंतर उन्नति और उन्नति हुई है। यह मानवता के विकास के लिए एक महत्वपूर्ण व्याख्या है। महालया अमावस्या के दौरान आवश्यक अनुष्ठान करने से अतीत से हमारे संबंध मजबूत होते हैं।

हिंदू धर्म में पितृ पक्ष (Pitru Paksha Amavasya) का महत्वपूर्ण माना जाता है। ऐसी मान्यता है कि इस दिन हमारे पूर्वज हमें आशीर्वाद देने के लिए पृथ्वी पर आते हैं। कहा जाता है कि हमारे पूर्वज जो इस दुनिया से चले गए हैं, और किसी और दुनिया में निवास कर रहे हैं, वह इस दो सप्ताह के लिए पृथ्वी पर आते हैं। इस दौरान आप उन्हें खुश कर उन्हें आमंत्रित कर उनसे आशीर्वाद प्राप्त कर सकते हैं। इसीलिए यह दिन हिंदूओं में काफी महत्वपूर्ण है।

यह एक ऐसा समय है जब न केवल आम लोग बल्कि प्रबुद्ध योगी और ऋषि भी अपने पूर्वजों से आशीर्वाद प्राप्त करने के लिए तत्पर रहते हैं। महालय अमावस्या हमारे दिवंगत पूर्वजों से आशीर्वाद लेने के लिए पूजा की जाती है। महालया अमावस्या का महत्व उल्लेखनीय है, और इसे नजरअंदाज न करने से बचना चाहिए।

क्या आप भी अपने भविष्य को लेकर असमंजस में हैं, अभी बात करें हमारे विशषज्ञों से… 

महालया अमावस्या की कथा

पौराणिक कथाओं के अनुसार, एक बार देवताओं और राक्षसों के बीच भयंकर युद्ध हुआ था। इस संघर्ष में दोनों पक्षों के कई लोगों की जान गई थी। युद्ध भाद्रपद बहुल पदयामी को शुरू हुआ और अमावस्या तक जारी रहा। इसी वजह से इस समयावधि को शस्त्रहठ महालय दिया गया। उस युद्ध में मारे गए देवताओं और राक्षसों के सम्मान में इस दिन (Mahalaya Amavasya 2022) पूजा की जाती है, साथ ही हमारे पूर्वजों को भी याद किया जाता है।

लाल बहादुर शास्त्री का जन्म भी 2 अक्टूबर को हुआ था, आइए जानें क्या कहती है उनकी सूर्य कुंडली।

महालया अमावस्या की पूजा विधि

हिंदू धर्म के अनुसार मनुष्य को दुखों से मुक्त जीवन जीने के लिए तीन ऋण चुकाने पड़ते हैं। जिसमें देव ऋण, ऋषि ऋण और पितृ ऋण शामिल है। अर्थात हर मनुष्य भगवान, गुरु और पूर्वजों का ऋणी है।

प्राचीन परंपराओं के अनुसार पुत्र का कर्तव्य है कि जब तक उसके माता पिता जीवित है, वह उनकी सेवा करें और उनके निधन के बाद दिवंगत आत्माओं को शांति प्रदान मिले, इसके लिए श्राद्ध करे। गरुड़ पुराण, वायु पुराण, अग्नि पुराण, मत्स्य पुराण और मार्कंडेय पुराण इन सभी में इस बात का उल्लेख किया गया है।

महालया अमावस्या (Mahalaya Amavasya Puja) के दिन प्रसाद बनाकर तर्पण करना चाहिए। तर्पण कच्चे चावल, काले तिल को पानी में मिलाकर किया जाता है और इसे नक्षत्र सहित पितरों का आह्वान करके छोड़ दिया जाता है। यह उन पुरुषों द्वारा किया जाने वाला एक संस्कार है, जिन्होंने अपने पिता को खो दिया है। कौवे सहित पक्षियों को इस विश्वास के साथ भोजन प्रसाद तक पहुंचने की अनुमति है कि हमारे पूर्वज विभिन्न तरीकों से प्रकट होते हैं और ग्रहण करते हैं।

(क्या आपकी कुंडली में बन रहा है कोई नकारात्मक योग, एक बार अपनी कुंडली का अध्ययन हमारे विशेषज्ञों से जरूर करवाएं)

ध्यान रखने योग्य बातें

  • इस दिन तर्पण करने से आपको अपने बुरे कर्मों से छुटकारा पाने में मदद मिलेगी।
  • आपको उस कर्म से छुटकारा मिल सकता है, जो आपके पूर्वजों को मुक्ति प्राप्त करने से रोक रहा है।
  • पितरों की आत्मा की मुक्ति के लिए पूजा का आयोजन करें।
  • अपने पूर्वजों का आशीर्वाद प्राप्त करने के लिए पीपल के पेड़ पर जल चढ़ाएं।

अभिवादन

हमें उम्मीद है कि आपको इस ब्लॉग के माध्यम से महालय अमावस्या के बारे में सारी जानकारी मिल गई होगी। इस बार आप महालय अमावस्या के दिन इस ब्लॉग में बताई गई बातों का अवश्य ध्यान रखें। आपको महालया अमावस्या की हार्दिक शुभकामनाएं!