काली चौदस या नरक चतुर्दशी, इन उपाय से मिलेगी राहु-केतु के दुष्प्रभावों से मुक्ति

हिंदू कैलेंडर के अनुसार, दिवाली से एक दिन पहले, अश्विन महीने के अंधेरे पखवाड़े और उत्तर भारतीय मान्यता के अनुसार कार्तिक माह का 14 वां दिन, काली चौदस के रूप में मनाया जाता है, जो कि देवी काली की पूजा करने के लिए मनाया जाता है। वह अपने भक्तों को बुरी ताकतों से लड़ने की शक्ति और साहस प्रदान करती है। ऐसे लोग भी हैं जो आलौकिक शक्तियों के आशीर्वाद के लिए देवी की पूजा करते हैं जिसका वे अन्य लोगों को नुकसान पहुंचाने के लिए दुरुपयोग करते हैं। काली की पूजा करने से ऐसे दुष्टों से भी रक्षा होती है। काली चौदस को नरक चतुर्दशी, नरक निवारण चतुर्दशी या रूप चौदस के नाम से भी जाना जाता है। इस बार नरक चतुर्दशी 24 अक्टूबर, 2022 को पड़ रहा है। काली चौदस आमतौर पर भाई दूज से तीन दिन पहले और लाभ पंचम से छह दिन पहले आती है, जो दिवाली के दौरान अन्य दो महत्वपूर्ण त्योहार हैं।

काली चौदस पर अभ्यंग स्नान का महत्व

पांच दिनों तक चलने वाला दिवाली उत्सव धनत्रयोदशी के दिन शुरू होता है और भाई दूज पर समाप्त होता है। अभ्यंग स्नान तीन दिन यानी चतुर्दशी, अमावस्या और प्रतिपदा के दिन दिवाली के दौरान करने का सुझाव दिया गया है। नरक चतुर्दशी पर अभ्यंग स्नान सबसे महत्वपूर्ण है। ऐसा माना जाता है कि जो लोग इस दिन अभ्यंग स्नान करते हैं, वे नरक में जाने से बच सकते हैं। अभ्यंग स्नान के दौरान उबटन के लिए तिल के तेल का प्रयोग करना चाहिए।

नरक चतुर्दशी अभ्यंग स्नान मुहूर्त

नरक चतुर्दशी 2022अक्टूबर 24, 2022 - सोमवार
चतुर्दशी तिथि आरंभ23 अक्टूबर, 2022 को 06:03 PM
चतुर्दशी तिथि समाप्ति24 अक्टूबर, 2022 05:27 PM
अभ्यंग स्नान मुहूर्त सुबह 5:44 से 6:40 बजे तक

काली चौदस से जुड़ी मान्यताएं

यह अश्विन और कुछ क्षेत्रों में कार्तिक माह की अंधेरी रात्रि के 14वें दिन पड़ता है। अंधेरे पखवाड़े की चतुर्दशी, उन सभी के लिए सबसे अनुकूल दिनों में से एक है जो गुप्त क्षेत्रों से जुड़े हैं और गूढ़ विषयों में रुचि रखते हैं। इसके अलावा, काली चौदस या नरक निवारण चतुर्दशी को तांत्रिकों और अघोरियों के लिए उनके अनुष्ठान और तपस्या करने के लिए आदर्श माना जाता है। इसके अलावा, इस अवसर को बुरी आत्माओं को दूर भगाने के उपाय करने के लिए सबसे अधिक अनुकूल माना जाता है।

नरक चतुर्दशी का ज्योतिषीय महत्व

ज्योतिष में राहु ग्रह को जीवन के अंधेरे क्षेत्रों का कारक माना जाता है और माना जाता है कि देवी काली की पूजा करने से बहुत सारे नकारात्मक प्रभावों को कम किया जा सकता है जो कि राहु की अशुभ स्थिति का परिणाम हो सकता है। राहु के कारण गंभीर परेशानियों का सामना करने वालों को नरक निवारण चतुर्दशी पर देवी को प्रसन्न करने के लिए विशेष उपाय करने चाहिए। यही काली चौदस का महत्व है।

नरक चतुर्दशी की कथा

नरकासुर सबसे भयानक और क्रूर राक्षसों में से एक था और उसने पृथ्वी पर भी स्वर्ग जैसी महान शक्ति प्राप्त की थी। यहां तक कि शक्तिशाली देवराज – इंद्र देवलोक या स्वर्गलोक को बर्बर राक्षस के हमले से नहीं बचा सके, और इस तरह उन्हें भागना पड़ा। इन स्थितियों में, सभी देवताओं ने सर्वव्यापी भगवान विष्णु की सहायता मांगी। भगवान ने देवताओं को आश्वासन दिया था कि, कृष्ण के रूप में, नरकासूर का अंत कर दिया जाएगा। फिर कृष्ण जन्म में भगवान विष्णु और राक्षस के बीच एक भयंकर युद्ध हुआ और अंत में नरकासुर की हार हुई। माना जाता है कि नरकासुर राक्षस के वध को प्रमाणिकता देने के लिए इस दिन को नरक चतुर्दशी या रूप चौदस के नाम से जाना जाने लगा।

नरक चतुर्दशी से जुड़ी कुछ अन्य किंवदंतियां

नरक चतुर्दशी व हनुमान की कथा

भगवान राम के प्रिय भक्त हनुमान जी को हर कोई जानता है। जब हनुमान सिर्फ एक बच्चे थे तो उन्होंने सूर्य को देखा और उसे एक अद्भुत फल समझकर निगल लिया, जिससे पूरी दुनिया में अंधेरा छा गया। काली चौदस के दिन, सभी देवताओं और अर्ध-देवताओं ने हनुमान से सूर्य को मुक्त करने की गुहार लगाई, लेकिन हनुमान नहीं माने, इसलिए भगवान इंद्र ने उन पर वज्र से हमला किया, जो हनुमान के मुंह पर लगा और सूर्य उनके मुख से बाहर निकल पाए।

नरक चतुर्दशी बलि की कथा

राजा बलि सबसे उदार राजाओं में से एक थे और उन्होंने इसके लिए बहुत प्रसिद्धि प्राप्त की, लेकिन प्रसिद्धि की वजह से वे बहुत घमंडी हो गए। वह भिक्षा के लिए उनके पास आने वाले लोगों का अपमान करने लगे, इसलिए भगवान विष्णु ने उन्हें सबक सिखाने का फैसला किया और एक बाल वामन के अवतार में आए। जब बलि ने उससे कहा कि वह जो चाहे मांग ले तो भगवान वामन ने उनसे तीन कदम के बराबर भूमि मांगी। वामन अवतार विष्णु ने पहले पग से सारी पृथ्वी और दूसरे पग से सारे आकाश को नाप लिया। फिर उसने बलि से पूछा कि वह अपना तीसरा कदम कहां रखे। तब बलि ने भगवान की महिमा को समझकर विनम्रता से झुककर भगवान से उनका तीसरा पग अपने सिर पर रखने का अनुरोध किया, जिससे उन्हें मोक्ष प्राप्त हुआ। इसलिए लालच को दूर करने के लिए इस दिन काली चौदस मनाया जाता है।

काली चौदस पर मां काली का आशीर्वाद प्राप्त करें

इस दिन मां पार्वती की मां काली के रूप में पूजा की जाती है। ऐसा माना जाता है कि इस दिन काली की पूजा करने से कई लाभ मिलते हैं। इसमें मुख्य रूप से शनि दोष के नकारात्मक प्रभावों को दूर करना, विवाह और धन में समृद्धि, दीर्घकालिक रोगों से मुक्ति और बुरी आत्माओं के प्रभाव से मुक्ति शामिल है।

नरक चतुर्दशी के दिन देवी काली केंद्रीय महत्व की देवी हैं। देवी शक्ति के उग्र रूप को सभी नकारात्मक पहलुओं और बुरे तत्वों का नाश करने वाला माना जाता है। उन्हें विनाश और उत्थान के चेहरे के रूप में भी जाना जाता है। काली चौदस पर उनका आशीर्वाद लेने से सभी नकारात्मक ऊर्जाओं से सुरक्षा और शत्रुओं पर विजय सुनिश्चित होगी।

नरक चतुर्दशी पर क्या करें और क्या न करें

काली चौदस पूजा विधि के अनुसार ये कार्य करें

  • काली चौदस की विधि के अनुसार सुबह स्नान के बाद माता को तिल, लड्डू और चावल घी व चीनी का भोग लगाएं।
  • पूरे दिन और विशेष रूप से मुहूर्त की अवधि के दौरान देवी काली को समर्पित भक्ति गीत गाएं।
  • काली चौदस के दिन नहाते समय सिर को धोकर आंखों में काजल लगाएं।

नरक चतुर्दशी पर क्या न करें

नरक चतुर्दशी के दिन लाल कपड़े से ढके बर्तन, चौराहे पर रखे फल या काली गुड़िया पर कदम रखने या पार करने से सख्ती से बचें।

देवी काली अपने भक्तों को काली चौदस पर असंख्य चीजों से सुरक्षा प्रदान करती हैं, जैसे पुरानी बीमारियां, टर्मिनल बीमारियां, काले जादू के दुष्परिणाम, वित्तीय ऋण, नौकरी या व्यापार में रुकावटें, शनि और राहु के दुष्प्रभाव, अज्ञात लोगों से अपमान आदि।

कम शब्दों में

कम शब्दों में कहें तो काली चौदस या नरक चौदस दिवाली या दीपावली के एक बड़े त्योहार का हिस्सा है। लेकिन नरक चतुर्दशी के दिन माँ काली का पूजन और विधि विधान से उनकी सेवा करने से लोगों को निर्भयता का वरदान मिलता है। नरक चतुर्दशी के दिन माता काली की विधि पूर्वक पूजा से ही लाभ प्राप्त किया जा सकता है। माता काली का स्वभाव बेहद क्रोधी है इसलिए इस बात का ध्यान रखें की माता की पूजा के दौरान किसी तरह की कोई चूक की गुंजाईश न रहे। अन्यथा मां काली का आशीर्वाद प्राप्त होने की जगह इसके दुष्परिणाम देखने को मिल सकते हैं।