लोहड़ी 2023 : जानें इस शुभ दिन के बारे में…

लोहड़ी (Lohri) का त्यौहार माघी से एक दिन पहले आता है, और यह मुख्य रूप से भारत के उत्तरी क्षेत्रों (पंजाब-हरियाणा) में फसलों की कटाई का संकेत देता है। भारत के अन्य भागों में इसे मकर संक्रांति के नाम से जाना जाता है। लोग रात में अलाव जलाकर लोहड़ी (Lohri) का पर्व मनाते हैं। साथ ही अलाव के आसपास पारंपरिक वस्त्र पहनकर नृत्य करते हैं। नवविवाहित जोड़ा उत्सव की रस्मों में भाग लेता है और अपने से बड़ों का आशीर्वाद लेता है। आमतौर पर लोहड़ी (lohri) जनवरी के 14 वें दिन पड़ती है। इस मौके पर लोग पारंपरिक गीतों को गाते हैं।

लोहड़ी 2023 की कथा

लोहड़ी 2023 (lohari 2023) पर्व को मनाने के पीछे एक प्रसिद्ध कथा जुड़ी हुई है। कहानी दुल्ला नाम के डकैत के इर्द-गिर्द घूमती है, जो पंजाब के मुगल जिले का रहने वाला था। लेकिन, वह गरीबों के लिए रॉबिनहुड था। वह बहुत निडर आदमी था, और गुलाम बनाए गए लोगों को अपने अकेले के दम पर ही छुड़ा लेता था। उसके बाद उनका विवाह करवाता था। उन्होंने अकबर जैसे शासक को भी नाकों चने चबवा दिए थे। वह अमीरों से, अकबर के जमींदारों से, सिपाहियों से सामान लूटता और गरीबों में बांट देता था। लोहड़ी 2023 (lohri 2023) का त्योहार दुल्ला भट्टी और उनके कारनामों, और सुंदरी-मुंदरी के सम्मान में मनाया जाएगा। सुंदरी-मुंदरी लोहड़ी (lohri) के अवसर पर गाया जाने वाला एक लोकगीत है। आजकल लोहड़ी (lohari) का त्यौहार मनाते समय लोकगीतों में इस विषय का उपयोग करना एक आम चलन बन गया है।

लोहड़ी 2023 (lohri 2023) वास्तव में एक स्वदेशी अनुष्ठान है, जो उत्तर भारत में मनाया जाता है, जहाँ सर्दी अरब प्रायद्वीप के शेष हिस्से की तुलना में अधिक ठंडी है। इस मौसम में रबी की फसल के बाद, हिन्दू और सिख अपने घर के आंगन में एक बड़ा अलाव जलाते है, उसके आसपास इकट्ठा होकर एक साथ लोकगीत गाते हैं और नृत्य करते हैं। सिख समुदाय संक्रांति से शुरू करके महीने के अंत तक लोहड़ी (lohri) मनाते हैं। लोहड़ी 2023 (lohri 2023) एक हिंदू त्योहार है, जो शीतकालीन संक्रांति या उत्तरायण के आगमन का प्रतीक है।

लोहड़ी 2023 में कब है (lohari 2023 me kab hai)

लोहड़ी 2023 की तारीख : 14 जनवरी, 2023 (शनिवार)

लोहड़ी 2023 का महत्व

लोहड़ी 2023 (lohri 2023) त्योहार सर्दियों की फसल से जुड़े उत्सव को इंगित करता है (जो मुख्य रूप से पंजाब – हरियाणा में देखा जाता है)। यह शीतकालीन संक्रांति के अंत और सूर्य के उत्तर की ओर गति का प्रतीक है। लोहड़ी 2023 (lohri 2023) का यह पर्व उत्तरायण के दिन पड़ता है और इस पर्व के साथ ही दिन बड़े होने लगते हैं और रातें छोटी हो जाती हैं। मूल रूप से, लोहड़ी (lohri) गर्म दिनों का स्वागत करने के लिए मनाया जाता है। बहुत से लोग, विशेषकर किसान, इस दिन से फसल की कटाई शुरू करते हैं।

लोहड़ी (lohri) पर्व पर कुछ लोग सूर्य देवता को प्रसन्न करने के लिए श्लोक-मंत्रों का भी जाप करते हैं, ताकि वे सर्दी के ठंडे दिनों में सूर्य की गर्मी प्राप्त कर सकें। ऐसी मान्यता है कि यदि आप इन मंत्रों का जाप करते हैं, तो सूर्यदेव आपकी प्रार्थनाओं को स्वीकार कर लेते हैं। नतीजतन, आपको अपने परिवार और दोस्तों के साथ इस शुभ दिन को मनाने का मौका मिलता है।

लोहड़ी 2023 के अवसर पर अपने घर पर पूजा का आयोजन करना चाहते हैं? अनुभवी ज्योतिषियों से संपर्क करें

लोहड़ी 2023 के दिन क्या करें

लोहड़ी 2023 (lohri 2023) उत्सव उन लोगों के लिए और भी महत्वपूर्ण होगा, जिनकी इसी साल शादी हुई है, या घर में किसी बच्चे का जन्म हुआ है। अधिकांश उत्तर भारतीयों के घरों में लोहड़ी (lohri) विशेष समारोह मनाया जाता है। लोहड़ी (lohri) पर किए जाने वाले आयोजनों को रिकॉर्ड किया जाता है, और लोहड़ी के गीत गाते हैं।

लोहड़ी 2023 (lohri 2023) पर संगीत और नृत्य दो महत्वपूर्ण चीजें हैं। नृत्य और गायन प्रतियोगिता में शामिल होने के लिए लोग नए कपड़े पहनते हैं। लोहड़ी (lohari) के दिन खाने में मुख्य रूप से सरसों दा साग और मक्के दी रोटी होती है। शहरी क्षेत्रों में रहने वाले लोग भी लोहड़ी को बड़े ही हर्षोल्लास के साथ मनाते हैं।

लोहड़ी (lohri) उत्सव पंजाब के कई हिस्सों में लगभग 10 से 15 दिन पहले शुरू होता है। लोहड़ी (lohri) के अलाव के लिए लड़के और लड़कियां ग्रामीण इलाकों में कटाई के लिए जाते हैं। वे अनाज और गुड़ जैसे उत्पाद भी जमा करते हैं, जिन्हें बेचा जाता है और कुछ क्षेत्रों में समुदाय के बीच धन का बी आदान-प्रदान किया जाता है।

पंजाब के कुछ हिस्सों में इस त्योहार को मनाने के लिए सबसे पहले लोग एक व्यक्ति का चयन करते हैं, और उसके चेहरे पर राख लगाकर उसे रस्सी से बांध देते हैं। कहा जाता है वह व्यक्ति उन लोगों के लिए एक चेतावनी के रूप में काम करेगा, जो लोहड़ी (lohri) का उपहार देने से इनकार करते हैं।

लोहड़ी (lohri) पर उपहार प्राप्त करने के लिए लड़के लोहड़ी गीत गाते थे। यदि दी गई राशि अपर्याप्त है, तो और भी मांग कर सकते हैं। बच्चे घर-घर लोहड़ी (lohri) लेने जाते हैं और उन्हें खाली हाथ नहीं लौटाया जाता है। इसलिए उन्हें गुड़, मूंगफली, तिल, गजक या रेवड़ी दी जाती है।

फिर आग जलाकर लोहड़ी (lohri) को सभी में वितरित किया जाता है। नृत्य-संगीत का दौर भी चलता है। पुरुष भांगड़ा और महिलाएं गिद्दा करती हैं।

2023 में सिर्फ सकारात्मकता पर रहे आपका फोकस, इसीलिए एक क्लिक में पाइए 2023 की वार्षिक एस्ट्रोलॉजी रिपोर्ट बिल्कुल मुफ्त!

लोहड़ी के बारे में अन्य तथ्य

शीतकालीन संक्रांति समारोह पहले से ही विभिन्न हिस्सों में आयोजित कई अन्य त्योहारों में मिलता जुलता है। क्रिसमस के उत्सव के दौरान, शीतकालीन संक्रांति को चिह्नित करने के लिए एक लकड़ी को लट्ठा जलाया जाता है, जिसे यूल के रूप में मनाया जाता है।

इस त्योहार को भारत के विभिन्न हिस्सों में मकर संक्रांति, पोंगल या भोगली बिहू के नाम से भी जाना जाता है।

निष्कर्ष

लोहड़ी 2023 (Lohri 2023) भारत में सबसे ज्यादा मनाए जाने वाले त्योहारों में से एक है। इस लेख के माध्यम से हमने जाना कि कैसे उत्तर भारत के लोग 15 दिन पहले लोहड़ी 2023 (Lohri 2023) के उत्सव के लिए तैयार होंगे। यहां तक ​​कि युवक-युवतियां इस उत्सव को अच्छे से मनाने के लिए लोहड़ी (Lohri) के उत्सव की शुरुआत जल्दी कर देते हैं। वहीं, अन्य हिस्सों में लोग इस शुभ दिन पर देवी-देवताओं की पूजा करने के लिए मंदिरों में जाते हैं। आप सभी को लोहड़ी पर्व (lohri festival) की शुभकामनाएं…

आने वाले साल में क्या होने वाला है खास, जानने के लिए अभी पढ़ें विस्तृत राशिफल 2023