देवी चंद्रघंटा की पूजा नवरात्रि में क्यों करते हैं

नवरात्रि के तीसरे दिन मां चंद्रघंटा का आगमन होता है। वह देवी दुर्गा का तीसरा अवतार हैं, इसलिए नवरात्रि के तीसरे दिन उनकी पूजा की जाती है। मां चंद्रघंटा की पहचान आधे चंद्रमा के आकार से की जा सकती है, जो उनके सिर पर है और उन्होंने चंद्रघंटा के रूप में कपड़े पहने हैं। वह बाघ पर सवार हैं और शांति व समृद्धि का प्रतीक हैं।


जानिए चंद्रघंटा देवी के बारे में

तीन नेत्रों वाली और दस शस्त्रों को धारण करने वाली माता चंद्रघंटा खतरे में और अप्रिय स्थिति में भय को नियंत्रित करने की क्षमता देती है। मां चंद्रघंटा हमेशा अपने भक्तों पर कृपा करती हैं। मां चंद्रघंटा की पूजा करने
से आपको मान-सम्मान और लोकप्रियता मिलेगी। उनकी महिमा आपको जीवन से नकारात्मक ऊर्जा, कठिनाइयों और चिंताओं को बाहर निकालने की शक्ति देती है।

प्रभावी वैदिक ज्योतिष समाधान के साथ अपनी सभी चिंताओं और कठिनाइयों को अलविदा कहें, विशेषज्ञों से बात करें!

अगर आप देवी चंद्रघंटा की कृपा चाहते हैं, तो आपको सबसे पहले मां दुर्गा और उनके परिवार की पूजा-अर्चना करनी चाहिए। इसके अलावा, भगवान शिव और भगवान विष्णु के प्रति कृतज्ञता और समर्पण के बाद मां चंद्रघंटा की आराधना के साथ पूजा समाप्त होनी चाहिए।


देवी चंद्रघंटा की कहानी: मां दुर्गा के तीसरे स्वरूप का महत्व

भगवान शिव से विवाह करने के लिए मां दुर्गा ने उनकी प्रार्थना की और उन्हें प्रभावित किया। ऐसे में भगवान शिव विवाह करने के लिए तैयार हो गए और विचित्र बारात लेकर रवाना हुए। भगवान शिव का पूरा शरीर राख से मला हुआ था। इसके अलावा उनके गले में कई सांप थे और उनके बिखरे बालों ने जटाओं का रूप ले रखा था। भगवान शिव के इस डरा देने वाले रूप से और बारात में शामिल पिशाचों, संतों और बैरागियों की उपस्थिति के कारण मां पार्वती का परिवार हैरान था और लगभग मूर्छित हो गया था। इस सारी शर्मिंदगी से बचने के लिए माता पार्वती ने माता चंद्रघंटा का रूप ले लिया, देवी पार्वती का भयंकर रूप। इस भयंकर रूप में माता चंद्रघंटा ने भगवान शिव से एक सुंदर राजकुमार का रूप धारण करने की याचना की। ऐसे में भगवान शिव शाही कपड़ों और आभूषणों से सजधज कर एक आकर्षक राजकुमार में बदल गए। विवाह सभी वैदिक रीति-रिवाजों और पूजा विधान के साथ संपन्न हुआ। साथ ही, हर साल उनकी शादी को पूरा देश महाशिवरात्रि के रूप में मनाता है।

मां चंद्रघंटा बीज मंत्र, पूजा और प्रार्थना

नवरात्रि के तीसरे दिन भक्त अपने आशीर्वाद के लिए मां चंद्रघंटा की पूजा करते हैं।

पिण्डज प्रवरारूढ़ा चण्डकोपास्त्रकैर्युता।
प्रसीदम तनुते महयं चन्द्रघण्टेति विश्रुता।।

देवी चंद्रघंटा को प्रसन्न करने के लिए आप ओम देवी चंद्रघंटायै नमः का 108 बार जाप कर सकते हैं।

नवरात्रि के तीसरे दिन स्तुति:
या देवी सर्वभूतेषु मां चंद्रघंटा रूपेण संस्थिता।।
नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम:।।

चंद्रघंटा देवी को प्रसन्न करने के लिए इस ध्यान मंत्र का ध्यान करें

वन्दे वांछितालाभाय चन्द्रार्धकृत्यशेखरम्
सिंहरूढा चंद्रघंटा यशस्विनीम्
मणिपुर स्थिताम् तृतीय दुर्गा त्रिनेत्राम्
खड्ग, गदा, त्रिशूल, चापशर, पद्म कमंडलु माला वराभीतकराम्
पटाम्बर परिधानाम् मृदुहास्या नानालंकार भूषिताम्
मंजीर, हार, केयूर, किंकिणि, रत्नकुंडल मण्डिताम्
प्रफुल्ल वंदना बिबाधारा कांत कपोलम् तुगम् कुचम्
कमनीयाम् लावण्याम् क्षीणकटि नितम्बनीम्।।

जानिए जीवन में सफलता पाने का मंत्र, अब विशेषज्ञों से बात करें!


सारांश

नवरात्रि मां दुर्गा देवी की एक नई शुरुआत का अवसर है, जो आपके घर, कार्यालय, संस्थान में श्री यंत्र (कॉस्मिक पावर) स्थापित करने से दिव्य शक्ति प्रदान करती है।