नवरात्रि के नौवें दिन का महत्व

नवरात्रि के दौरान भक्त मां दुर्गा के नौ अवतारों की आराधना करते हैं। यह मां शैलपुत्री की पूजा के साथ शुरू होता है और देवी दुर्गा के अन्य अवतारों की पूजा के साथ आगे बढ़ता है।

मां सिद्धिदात्री की पूजा

नवरात्रि का नौवां दिन मां सिद्धिदात्री की पूजा को समर्पित है। सिद्धि का अर्थ है अलौकिक शक्ति, और धात्री का अर्थ है वह जो इसे प्रदान करता है। ऐसा माना जाता है कि मां सिद्धिदात्री सभी दिव्य मनोकामनाएं पूरी करती हैं।

मां सिद्धिदात्री को सिद्धि दाता के रूप में जाना जाता है। वह अपने भक्तों को ज्ञान और आध्यात्मिक ज्ञान प्रदान करती हैं। राक्षस भी सभी देवताओं से घिरी मां सिद्धिदात्री की पूजा करते हैं।

मां सिद्धिदात्री की कथा और उत्पत्ति

मां सिद्धिदात्री की कहानी तब शुरू हुई जब ब्रह्मांड एक विशाल शून्य से ज्यादा कुछ नहीं था। यहां गहरा अंधेरा था, और जीवन का कोई संकेत नहीं था।

मां सिद्धिदात्री – पूर्णता की दाता – वह देवी हैं जिन्होंने भगवान शिव से ये सिद्धियां प्रदान की। इसके बाद भगवान ब्रह्मा को ब्रह्मांड बनाने का काम सौंपा गया था। हालांकि, सृष्टि के सृजन के लिए उन्हें एक पुरुष और एक महिला की आवश्यकता थी, इसलिए भगवान ब्रह्मा को यह कार्य अत्यंत कठिन लगा।

उन्होंने मां सिद्धिदात्री से प्रार्थना की और उनसे सहायता मांगी। मां सिद्धिदात्री ने भगवान ब्रह्मा के अनुरोध को सुनकर भगवान शिव के आधे शरीर को एक महिला के शरीर में बदल दिया। नतीजतन, भगवान शिव को अर्धनारीश्वर (अर्ध – आधा, नारी – महिला, ईश्वर – भगवान शिव को संदर्भित करता है) के रूप में भी जाना जाता है।

भगवान ब्रह्मा, बाकी ब्रह्मांड की तरह, अब जीवित प्राणी बना सकते थें। तो यह मां सिद्धिदात्री ही थी, जिन्होंने भगवान शिव को पूर्णता प्रदान करते हुए ब्रह्मांड के निर्माण में भगवान ब्रह्मा की सहायता की।

ज्योतिषीय उपायों से अपने बेहद मुश्किल को आसान बनाएं, अभी हमारे विशेषज्ञों से बात करें!

मां सिद्धिदात्री: देवी दुर्गा का नौवां रूप

मां सिद्धिदात्री को आमतौर पर कमल या सिंह पर विराजमान दिखाया जाता है। उनकी चार भुजाएं हैं, जिसमें एक शंख, एक गदा, एक कमल और एक चक्र होता है। हालांकि, मां सिद्धिदात्री के पास अष्ट सिद्धि होती है। ऐसा माना जाता है कि मां सिद्धिदात्री अपने भक्तों को आध्यात्मिक ज्ञान प्रदान करती हैं और वह अज्ञानता को भी नष्ट करती हैं।

9वें दिन नवरात्रि 2022 के लिए समय और मुहूर्त

दिनांक: मंगलवार, 04 अक्टूबर, 2022

मां सिद्धिदात्री का प्रतीकवाद: देवी सिद्धिदात्री के अद्वितीय लक्षण

मां सिद्धीदात्रि की चार भुजाएं हैं और वह गुलाबी कमल के फूल पर विराजमान होती है। अपने ऊपरी दाहिने हाथ में, वह एक गदा रखती है, और उसके निचले हाथ में एक चक्र शुसोभित है। वहीं बांए ऊपरी और निचले बाएं हाथ में, वह कमल और एक सफेद शंख रखती है। सिंह यानी शेर उनकी सवारी का नेतृत्व करता है।

किंवदंती और उसके रूप की उत्पत्ति

सिद्धिदात्री देवी पार्वती की मूल रूप हैं। वह अपने चारों हाथों में एक चक्र, शंख, गदा और कमल धारण किए हुए हैं। वह या तो पूर्ण रूप से खिले हुए कमल पर विराजमान है या सिंह पर। अनिमा, महिमा, गरिमा, लघिमा, प्राप्ति, प्राकम्ब्य, इशित्वा और वशित्व उनकी आठ अलौकिक शक्तियां या सिद्धियां हैं। एनिमा का अर्थ है किसी के शरीर को एक परमाणु के आकार में सिकोड़ना; महिमा से तात्पर्य किसी के शरीर को ब्रह्मांड के आकार तक विस्तारित करने से है।

मां सिद्धिदात्री आरती और पूजा मंत्र

नवरात्रि के नौवें दिन, जिसे महानवमी या दुर्गा नवमी के रूप में भी जाना जाता है, माता सिद्धिदात्री की पूजा की जाती है। हालांकि महानवमी पर मां सिद्धिदात्री के रूप मां दुर्गा के नौवें स्वरूप की पूजा पूरे जोश के साथ की जाती है। वैसे इस दिन मां सिद्धिदात्री की पूजा करने से भक्तों के सभी दुख, भय और रोग दूर हो जाते हैं। साथ ही मां दुर्गा पूजा करने से सभी सिद्धियां प्राप्त होती हैं।

माता सिद्धिदात्री को प्रणाम

मंत्र

या देवी सर्वभूतेषु मां सिद्धिदात्री रूपेण संस्थिता।
नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम:।

मां सिद्धिदात्री बीज मंत्र

ऊँ ह्रीं क्लीं चामुण्डायै विच्चे नमो नम:” से कम से कम 108 बार आहुति दें।
या देवी सर्वभूतेषु मां सिद्धिदात्री रूपेण संस्थिता।
नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम:।
वन्दे वांछित मनोरथार्थ चन्द्रार्घकृत शेखराम्।

मां सिद्धिदात्री की आरती / मां सिद्धिदात्री की आरती
जय सिद्धिदात्री तू सिद्धि की दाता
तू भक्तों की रक्षक तू दासों की माता,
तेरा नाम लेते ही मिलती है सिद्धि
तेरे नाम से मन की होती है शुद्धि
कठिन काम सिद्ध कराती हो तुम
हाथ सेवक के सर धरती हो तुम,
तेरी पूजा में न कोई विधि है
तू जगदंबे दाती तू सर्वसिद्धि है
रविवार को तेरा सुमरिन करे जो
तेरी मूर्ति को ही मन में धरे जो,
तू सब काज उसके कराती हो पूरे
कभी काम उस के रहे न अधूरे
तुम्हारी दया और तुम्हारी यह माया
रखे जिसके सर पैर मैया अपनी छाया,
सर्व सिद्धि दाती वो है भाग्यशाली
जो है तेरे दर का ही अम्बे सवा
हिमाचल है पर्वत जहां वास तेरा
महानंदा मंदिर में है वास तेरा,
मुझे आसरा है तुम्हारा ही माता
वंदना है सवाली तू जिसकी दाता…

समापन भाग

सिद्धिदात्री मां की कृपा से मनुष्य सभी प्रकार की सिद्धियों को प्राप्त करता है और मोक्ष प्राप्त करने में प्रभावी होता है। मार्केंडियन पुराण में अणिमा, महिमा, गरिमा, लघिमा, प्राप्ति, प्राकाम्य, इशिता और वशिष्ठ के बारे में आठ सिद्धियों का वर्णन किया गया है।

मां सिद्धिदात्री आप सभी की मनोकामना पूर्ण करें और आपको सुख-समृद्धि प्रदान करें।

अधिक जानने के लिए, कृपया www.mypandit.com पर हमारे विशेषज्ञों से संपर्क करें या MyPandit ऐप को अभी डाउनलोड करें!