नवरात्रि का छठा दिन: माता कात्यायनी की करें पूजा, मिलेगी ग्रह दोष से मुक्ति

देवी कात्यायनी मां दुर्गा का छठा स्वरूप हैं, जिनकी पूजा नवरात्रि के छठे दिन की जाती है। नौ रातों तक चलने वाले इस त्योहार की तैयारी जोरों पर है। नवरात्रि वास्तव में भारत के सबसे लोकप्रिय त्योहारों में से एक है और लाखों भक्तों के दिलों में एक विशेष स्थान रखता है। हर साल पूरे देश में नवरात्रि बड़े उत्साह के साथ मनाई जाती है। इस दौरान देवी दुर्गा के नौ रूपों या अवतारों की पूजा करते हैं। नवरात्रि की शुरुआत मां शैलपुत्री की पूजा से होती है और इसके बाद मां ब्रम्हाचारिणी, मां चंद्रघंटा, मां कुष्मांडा और स्कंदमाता जैसे अन्य अवतारों की पूजा की जाती है। नवरात्रि के छठे दिन माता के कात्यायनी रूप की पूजा अर्चना की जाती है। अक्सर मां कात्यायनी की पूजा करने से विवाह संबंधी परेशानी दूर होती है। यदि आप भी विवाह नहीं होने, विवाह में सामंजस्य नहीं हो पाने जैसी चीजों से परेशान हो रहे हैं, तो आपको मां कात्यायनी की पूजा के साथ दुर्गा सप्तशती का पाठ जरूर करवाना चाहिए। आप समस्याओं से निपटने के लिए वैदिक रीति से की जाने वाली पूजा का लाभ जरूर लें। हमारे विशेषज्ञ पंडित आपके संकल्प के आधार पर आपके लिए व्यक्तिगत पूजा करवाने में आपकी मदद करेंगे। आगे जानिए क्या है मां कात्यायनी का स्वरूप-


मां कात्यायनी का स्वरूप

नवरात्रि पर्व का छठा दिन मां दुर्गा के छठे अवतार मां कात्यायनी को समर्पित है। एक बार कात्या नाम के एक महान ऋषि थे और उनकी इच्छा थी कि मां दुर्गा उनकी बेटी के रूप् में पैदा हों। उन्होंने देवताओं को प्रसन्न करने के लिए कई वर्षों तक कठोर तपस्या की, ऋषि की तपस्या से प्रसन्न देवताओं ने उन्हे वांछित वरदान दिया। एक समय महिषासुर नामक राक्षस ने पृथ्वी पर आतंक फैला रखा था तब देवताओं की त्रिमूर्ति ब्रह्मा, विष्णु और महेष अर्थात शिव क्रोधित हो गए और उन्होंने देवी दुर्गा की रचना की, जो सभी देवताओं की क्षमताओं का अंतिम परिणाम थी। कात्या के घर उनका जन्म हुआ जिसके कारण उनका नाम कात्यायनी पड़ा। मां कात्यायनी के स्वरूप की बात करें तो उनकी 3 आंखें और 4 हाथ हैं। उनके एक बाएं हाथ में तलवार और दूसरे में कमल है। अन्य 2 हाथ क्रमशः रक्षा और कार्यों की अनुमति देते हैं। जानिए मां की कृपा से कौन से कार्यों की सिद्धि होती है और क्या है मां का महत्व-


मां कात्यायनी का महत्व

यदि आप नवरात्रि के दौरान उपवास और उसकी पूजा करने की शपथ लेते हैं, तो वह आपको अपने मनवांछित फल प्राप्त करने में मदद करतीं हैं। विशेष रूप से अविवाहित महिलाएं यदि मां कात्यायनी की पूजा करती है तो माता से आशीर्वाद स्वरूप में वांछित पति का फल प्राप्त कर सकती है। यदि किसी महिला के विवाह में किसी न किसी कारण से देरी हो रही है, तो वह अपने विवाह में देरी का कारण बनने वाली बाधाओं को दूर करने के लिए मां कात्यायनी की पूजा कर सकती है। मां आपको बेहतर स्वास्थ्य और धन का आशीर्वाद भी देती हैं। मां कात्यायनी की पूजा करने से आप सभी रोगों, दुखों और भयों से लड़ने के लिए महान शक्ति विकसित कर सकते हैं। अपने कई जन्मों में संचित पापों को नष्ट करने के लिए आपको मां कात्यायनी की वैदिक पूजा करने की सलाह है।

नवरात्रि के दौरान दुर्गा सप्तशती की पूजा अवश्य करवाएं, इस पूजा को कराने से घर में सुख शांति बनी रहती है…


मां कात्यायनी का ज्योतिषीय महत्व

देवी कात्यायनी तेजस्वी सिंह पर सवार हैं और उन्हें चार हाथों में चित्रित किया गया है। देवी कात्यायनी अपने बाएं हाथों में कमल का फूल और तलवार लेकर अभय और वरद मुद्राएं रखती है। वैदिक ज्योतिष के अनुसार माता कात्यायनी की पूजा आराधना से शुक्र के सकारात्मक प्रभावों को बलवान किया जा सकता है। नवरात्रि के छठे दिन देवी कात्यायनी की पूजा करने से शुक्र बलवान होता है। माता की कृपा से शुक्र के सकारात्मक प्रभावों में स्टाइलिंग की समझ, सामान्य सीखने की क्षमता, लग्जरी लाइफ, प्रेम, रोमांस आदि में आ रही परेशानी दूर होती है। इसी के साथ आपको खुशियां, सही आचरण, अपव्यय, उत्कृष्टता, परोपकार, प्रेम, अपील, सहजता और परिष्कृत व्यवहार भी प्राप्त होता है। आगे जानिए कैसे करें मां की पूजा-

क्या कड़ी मेहनत और लगन से काम करने के बाद भी आपको सफलता नहीं मिल रही! वैदिक ज्योतिष से जानें अपनी समस्याओं का हल। अभी क्लिक करें!


मां कात्यायनी पूजा विधि

देवी कात्यायनी की पूजा करने के लिए आपको सरल अनुष्ठानों का पालन करने की आवश्यकता है। आपको नवरात्रि घटस्थापना के दौरान स्थापित कलश में सभी देवी-देवताओं और ग्रहों की पूजा करनी चाहिए और फिर भगवान गणेश, कार्तिकेय, देवी सरस्वती, लक्ष्मी, विजया, जया और देवी दुर्गा के परिवार के अन्य सदस्यों की पूजा करनी चाहिए। पूजा का समापन देवी कात्यायनी की पूजा करके किया जाना चाहिए। मां कात्यायनी की पूजा के दौरान लाल या केसरी रंग के वस्त्र धारण करें और माता को अपने सामर्थ्य अनुसार सूजी का हलवा या डाई फ्रूट का भोग लगाएं। पूजा के बाद माता कात्यायनी से अपनी त्रुटियों के लिए क्षमा मांगे।


मां कात्यायनी की पूजा के लिए करें इस मंत्र का जाप करें...

कात्यायनी महामाये महायोगिन्यधीश्वरि ।

नंद गोपसुतन देविपतिं मे कुरु ते नमः

पूजा समाप्त होने के बाद इस मंत्र का 108 बार जाप करें

– मां कात्यायनी का मंत्र – ओम कात्यायनी देव्यै नमः

मां कात्यायनी की कथा पढ़ने से पुण्य फलों की प्राप्ति होती है। आगे आप इस पुण्य को जरूर कमाएं।


माता कात्यायनी कथा

कहा जाता है कि बहुत पहले कात्यायन नाम के एक ऋषि थे। वह देवी शक्ति के बहुत बड़ा भक्त थे और लगातार तप में लीन रहते थे। ऋषि कात्यायन हमेशा कामना करते थे कि देवी शक्ति उनकी बेटी के रूप में पैदा हों। इस दौरान महिषासुर नाम का एक दुष्ट राक्षस देवताओं के लिए बड़ी मुसीबत खड़ी कर रहा था। जैसे-जैसे दिन बीतते गए, उन्होंने और अधिक शक्ति प्राप्त की और देवताओं को उनके बारे में चिंता होने लगी। उन्होंने देवी शक्ति से प्रार्थना की और उन्हें महिषासुर के प्रकोप से बचाने के लिए कहा।

नवरात्रि के सातवे के दिन कैसे करें माता की पूजा…

देवी कत्यायनी की कहानी के अनुसार देवी शक्ति ने पृथ्वी पर जन्म लेने और महिषासुर के शासन को समाप्त करने का फैसला किया। उन्होंने ऋषि कात्यायन की इच्छा पूरी की और उनकी बेटी के रूप में पृथ्वी पर जन्म लिया। वह एक मजबूत, सुंदर सेनानी के रूप में बड़ी हुई और कात्यायन की बेटी कात्यायनी के रूप में जानी जाने लगी। एक दिन महिषासुर के दो दूत ने कात्यायनी को देखा और उसकी सुंदरता पर मंत्रमुग्ध हो गए। वे अपने स्वामी के पास वापस गए और उन्हें कात्यायनी के बारे में सब कुछ बताया, यह सुनकर महिषासुर बहुत खुश हुआ और उसने तुरंत अपने एक अन्य दूत दुंदुभि को जाकर कात्यायनी से बात करने के लिए कहा।

दुंदुभी ने कात्यायनी से मुलाकात की और उसे महिषासुर के बारे में सब बताया। उसने उसे अपनी महानता के बारे में बताया और दावा किया कि कैसे महिषासुर अब तीनों लोकों का शासक है। उन्होंने कात्यायनी से कहा कि उन्हें महिषासुर से विवाह करना चाहिए क्योंकि वे एक महान युगल बनाएंगे। कात्यायनी मुस्कुराई और दुंदुभी से कहा कि उसकी पारिवारिक परंपरा के अनुसार, महिषासुर को पहले उसे युद्ध में हराना होगा। तभी दोनों की शादी हो सकती है। दुंदुभी वापस महिषासुर के पास गए और उसे इस चुनौती के बारे में बताया। महिषासुर मान गया और जल्द ही तैयारी शुरू हो गई।

कात्यायनी और महिषासुर के बीच भीषण युद्ध हुआ। वह दानव सैनिकों को हराने में कामयाब रही और उनमें से अधिकांश को मार डाला। जब कात्यायनी और महिषासुर आमने-सामने आए, तो उन्होंने खुद को भैंस में बदल लिया। यह कात्यायनी के लिए एक वास्तविक चुनौती साबित हुई क्योंकि उसने उससे लड़ने के लिए संघर्ष किया। हालांकि, कात्यायनी ने महिषासुर को पछाड़ दिया और उसकी पीठ पर चढ़ गई। वह इस कदम से हैरान था और उसे हिलाने की बहुत कोशिश की, लेकिन असफल रहा। फिर कात्यायनी ने अपना पैर महिषासुर की गर्दन के पीछे रखा, उसे अपने त्रिशूल (त्रिशूल) से छेद दिया और उसका सिर काट दिया।

इस प्रकार माँ कात्यायनी ने दुष्ट और शक्तिशाली राक्षस महिषासुर का वध किया। ऐसा करके, उन्होंने देवताओं को उसके खतरे से बचाया और इस दुनिया में शांति वापस लाई। आप भी मां कात्यायनी की कथा के साथ पूरा दुर्गा सप्तशती का पाठ आने वाली परेशानियों से बचने के लिए जरूर करवाएं। सप्तशती पाठ के लिए आप यहां क्लिक करें।