जाने सावन 2022 और सोलह सोमवार व्रत विधि

श्रावण हिंदू कैलेंडर का पांचवां महीना है, जो शिव भक्तों द्वारा मनाया जाता है। पूरे महीने उपवास और पूजा – अर्चना करने वाले श्रावण को अत्यंत शुभ माना जाता है। हिंदू धर्म में दो कैलेंडर प्रचलित हैं, एक जिसे उत्तर भारत में लोग पूर्णिमा कैलेंडर के रूप जाने जाते हैं और दूसरा जो दक्षिण में प्रचलित है इसे अमावसांत कैलेंडर के नाम से जानते और पालन करते हैं। यही कारण है कि भारत में श्रावण या सावन का उत्सव अलग – अलग होते हैं। श्रावण का सबसे महत्वपूर्ण हिस्सा सोमवार का व्रत है। सोमवार का व्रत पूर्ण रूप से शिव को समर्पित है। आइए सावन 2022 के इस पावन महीने में सावन सोमवार की महिमा, सावन सोमवार व्रत विधि, सावन सोमवार पूजा विधि और सोलह सोमवार से जुड़ी महत्वपूर्ण बातों को करीब से जानें।


सावन सोमवार 2022 कब है (sawan somvar kab hai)

इस साल सावन का महीना 14 जुलाई 2022 से शुरू होगा। सावन के माह में आने वाले सोमवार को ही सावन सोमवार के नाम से जाना जाता है। सामान्यतौर पर सावन के महीने में 5 सोमवार देखने को मिलते हैं, लेकिन साल 2022 सावन माह में सिर्फ 4 सोमवार ही आने वाले हैं। एक रोचक बात यह भी है कि इस साल सावन माह 2022 की शुरूआत 17 जुलाई, रविवार के दिन होगी, और सावन माह 2022 का अंतिम दिन 22 अगस्त के दिन भी रविवार ही है। आइए साल 2022 के सावन सोमवार की तारीख और तिथि जानें।

  • पहला श्रावण सोमवार सोमवार, 18 जुलाई 2022
  • दूसरा श्रावण सोमवार सोमवार, 25 जुलाई 2022
  • तीसरा श्रावण सोमवार सोमवार, अगस्त 1, 2022
  • चौथा श्रावण सोमवार सोमवार, अगस्त 8, 2022

सावन सोमवार व्रत विधि और महत्व (sawan somvar vrat aur mahatv)

सावन का पूरा महीना पवित्र होता है, लेकिन सोमवार या सावन या सोमवार का विशेष महत्व होता है, जब व्रत और अनुष्ठानों का पालन करने की बात आती है। पौराणिक कथाओं के अनुसार श्रावण सोमवार व्रत का विशेष महत्व है।

हालांकि सावन सोमवार उपवास के तरीके एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति और उनके स्वास्थ्य और परिस्थितियों के अनुसार भिन्न हो सकते हैं। कुछ लोग बिना अनाज का सेवन किए उपवास रखते हैं और केवल फल और दूध खाते हैं। वहीं कुछ लोग दिन में एक बार बिना नमक का बना खाना खाते हैं। धार्मिक मान्यताओं के अलावा उपवास शरीर को डिटॉक्सीफाई करने में भी मदद करता है। विशेष रूप से मानसून के मौसम में जब जलजनित और वायुजनित रोगों में वृद्धि होती है, तो वातावरण में सूक्ष्मजीवों के प्रजनन में वृद्धि के कारण, उपवास शरीर में सही संतुलन बनाए रखने में मदद करता है। इसलिए, ऐसा माना जाता है कि इस दौरान उपवास करने से आपके शरीर और आत्मा को डिटॉक्सीफाई और शुद्ध किया जा सकता है।


सावन सोमवार की महिमा (sawan somvar ki mahima)

ऐसा माना जाता है कि अविवाहित लड़कियों के लिए सावन सोमवार का व्रत बेहद फायदेमंद होता है। सोमवार व्रत का पालन करके वे अपने लिए एक उपयुक्त जीवन साथी पाते हैं। सावन सोमवार व्रत महत्वपूर्ण है, क्योंकि यह व्यक्ति की इच्छा को पूरा करता है और सभी सपने सच होते हैं। सावन सोमवार का व्रत और भगवान शिव की पूजा करने से भक्तों को मनोवांछित फल की प्राप्ति होती है।


सावन सोमवार का महत्व (sawan somvar ka mahatva)

पुराण के अनुसार समुद्र मंथन श्रावण मास में हुआ था, जब देवताओं और राक्षसों ने मिलकर समुद्र मंथन किया था। परिणामस्वरूप, समुद्र से चौदह दिव्य वस्तुएं निकलीं। इसमें एक बेहद ही घातक जहर भी शामिल था जिसे हलाहल के नाम से जाना गया। दुनिया को विनाश से बचाने के लिए भगवान शिव ने जहर पी लिया। लेकिन यह उन्होंने कंठ में धारण कर दिया। इसलिए प्रभु ने अपने कंड में हलाहल को स्थान दिया परिणामस्वरूप उसका गला नीला हो गया। इसलिए, उन्हें नीलकंठ के नाम से भी जाना जाता है। यही सावन सोमवार की पौराणिक कथा आगे चलकर शिव के सम्मान में सावन सोमवार व्रत का पालन करने और आभार व्यक्त करने का कारण बना। देश के कई हिस्सों में सावन के महीने में पड़ने वाले पहले सोमवार से एक बेहद ही महत्वपूर्ण और जटिल उपवासों की सीरीज की शुरूआत होती है। इन्हें सोलह सोमवार के नाम से जाना जाता है। आइए सोलह सोमवार व्रत के बारे में नजदीक से जानें।


सोलह सोमवार व्रत (solah somvar vrat)

भगवान शिव की पूजा में सावन सोमवार का व्रत सबसे महत्वपूर्ण माना जाता है और यदि आप 16 सोमवार तक इस व्रत का पालन करते हैं, तो यह माना जाता है कि दयालु भगवान वह सब कुछ प्रदान करेंगे जो आपके दिल की इच्छा है। 16 सप्ताह तक इसका पालन करना सोलह सोमवार व्रत के रूप में जाना जाता है और पौराणिक कथाओं के अनुसार सबसे फलदायी उपवासों में से एक है।


सावन में सोलह सोमवार का व्रत (sawan me solah somvar ka vrat)

भगवान शिव को प्रभावित करने और उनका आशीर्वाद लेने के लिए लगातार 16 सोमवारों तक किया जाने वाला सोलह सोमवार व्रत सबसे लोकप्रिय व्रत है। यह व्रत कोई भी व्यक्ति कर सकता है, जो भगवान शिव की पूजा करना चाहता है। हालांकि, यह प्रमुख रूप से अविवाहित महिलाओं द्वारा धारण किया जाता है, जिन्हें अपने वांछित जीवनसाथी से शादी करने में समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है। श्रावण मास के पहले सोमवार से शुरू होने वाला यह सोलह सोमवार व्रत 16 सप्ताह तक चलता है। अन्य उपवासों की तरह, भक्त प्रार्थना करते हैं, अनुष्ठानों का पालन करते हैं और सोलह सोमवार व्रत कथा का पाठ करते हैं।


सोलह सोमवार व्रत का उपवास कैसे करें (solah somvar vrat ka upwas kaise karen)

सोलह सोमवार व्रत का पालन करना बहुत आसान है। शुद्ध मन और भक्ति के साथ 16 सोमवार तक व्रत का पालन करने का संकल्प लेना चाहिए। व्रत की शुरुआत सुबह जल्दी उठकर स्नान करने से होती है। फिर पूजा सामग्री और पूजा के लिए आवश्यक सामग्री की व्यवस्था करें। फिर आप भगवान शिव के मंदिर जाकर या अपने घर में बने शिव मंदिर में प्रभु के दर्शन और पूजा कर सकते हैं। आप प्रभु का रूद्राभिषेक या सामान्य पानी से जलाभिषेक कर सकते हैं। प्रभु की प्रतिमा या मूर्तियों पर फूल और अन्य पूजा सामग्री अर्पित करें और एक दिया जलाएं। सोलह सोमवार व्रत पूजा विधि से भगवान की पूजा करने के बाद भगवान शिव की आरती करें और सोलह सोमवार व्रत कथा पढ़ें या किसी से सुनें।


शिव की पूजा विधि और मंत्र

भगवान शिव की पूजा से विशेष फलों की प्राप्ति होती है। शिव पूजा में किसी तरह का आडंबर नहीं लगता है। भगवान शिव महज जल अभिषेक से भी प्रसन्न हो जाते हैं। फिर भी सावन में भगवान शिव का प्रतिदिन दूध, दही, शहद, घी और शकर मिलाकर अभिषेक करने का विशेष फायदा होता है। भगवान शिव को कर्पूर आरती विशेष पसंद आती है। भगवान शिव के पंचाक्षरी मंत्र ओम नम: शिवाय का जाप करते रहने से फायदा मिलता है।

भगवान शिव के आशीर्वाद का फल पाएं रुद्राभिषेक से। जाने विधि हमारे विशेषज्ञों से