चौथे घर में चंद्रमा (Moon): मां से संबंध होंगे मजबूत

अपने आप को आप भाग्यशाली मानें चंद्रमा माता प्रतिनिधित्व करता है और चतुर्थ यानी चौथा घर भी माता घर ही माना जाता है। ऐसे में यह एक अनोखा संयोग है। ऐसा होने पर आपका पूरा ध्यान बाकी लोगों से हटकर आपकी माता पर ही होगा। आप के लिए मां सबसे अहम होगी, बाकी लोग आपके लिए माता के बाद ही आएंगे। ऐसे में चतुर्थ भाव में चंद्रमा होने के कारण कई तरह की अजीब स्थिति या नाटकीय हालात देखने को मिल सकते हैं।

यह बताने की जरूरत नहीं है कि आपका और आपकी माता का रिश्ता कितना प्रगाढ़ है। आप अपनी जड़ों का बहुत सम्मान करते हैं और उन्हें छोडऩा नहीं चाहते हैं। एक ही जगह जुड़े रहने के कारण आपको परेशानी का सामना करना पड़ सकता है। जलाशयों के पास वाली जगहें आपको बेहद पसंद आएंगी। चंद्रमा के चतुर्थ भाव में गोचर करने का जीवन के कई क्षेत्रों पर प्रभाव होता है, आइए हम इन प्रभावों के बारे में जानते हैं।


चतुर्थ भाव में चंद्रमा का प्रभाव

  • जीवन में प्राथमिकताएं
  • प्रोफेशनल लाइप
  • जीवन के लक्ष्य
  • महत्वाकांक्षाएं
  • अपनों के प्रति रवैया
  • मां से जुड़ाव
  • भावनाएं और मनोदशा

जानिए अपनी कुंडली में मौजूद सभी ग्रहों की ताकत और कमजोरियों के बारे में
निशुल्क प्राप्त करें जन्मपत्री


क्या होता है जब चंद्रमा चौथे भाव में होता है?

सवाल यह है कि क्या चौथा भाव चंद्रमा के लिए अच्छा है? जब चंद्रमा चौथे भाव में होता है, तो यह चंद्रमा का एक मजबूत स्थान होता है। चंद्रमा ग्रह चतुर्थ भाव और कर्क राशि का स्वामी है। ऐसे में जातक के विलासिता पूर्ण जीवन जीने और उच्च शिक्षा में अच्छे परिणाम हासिल करने की पूरी संभावना होती है। आप के पास समृद्धि होगी। आप अच्छे खाने, ट्रेंडिंग एक्सेसरीज और नए कपड़ों का लुत्फ लेंगे।

आप अच्छी तरह से व्यवहार करेंगे। सामाजिक कार्यों, पार्टियों और मिलनसार व्यवहार करेंगे। शिष्टाचार का पालन करेंगे। आपके आसपास के लोग अच्छे और मददगार होंगे। यद्यपि आपकी जन्म कुंडली के आठवें भाव में स्थित चंद्रमा का भी अच्छा खासा प्रभाव होगा। आइए चंद्रमा के आपके जीवन पर पडऩे वाले सभी प्रभावों के बारे में जानते हैं।


चतुर्थ भाव में चंद्रमा का व्यक्तित्व पर प्रभाव

संकट के समय में आप घर पर सुरक्षित महसूस करेंगे। जब भी बाहरी दुनिया में आप परेशानी महसूस करेंगे, या परेशान होंगे तो आप तुरंत घर लौटेंगे। यह आपके लिए सुरक्षात्मक नजरिए से भी बेहतर होगा। इस दौरान भले ही आप अपने दोस्त-रिश्तेदारों के बीच हों, कई लोगों का साथ हो, बावजूद इसके संकट के समय में आप अपना बैग पैक करके अपने घर लौटने को प्राथमिकता देंगे। ऐसा इसलिए है क्योंकि चंद्रमा ग्रह चतुर्थ भाव और कर्क राशि का स्वामी है। यह राशि चक्र में गृहस्थ का प्रतिनिधित्व करता है। यही वजह होती है कि आपका घर और माता पिता ही आपको मुश्किल समय में सुरक्षात्मक महसूस करवाते हैं। वे इस कठिन दौर में आपको संभाल सकते हैं। आप उनके प्रारंभिक बचपन के पैटर्न में वापस चले जाते हैं जब संघर्ष कभी खत्म नहीं होते हैं। आप बचपन की भावनाओं में वापस लौटना चाहते हैं, हालांकि आप इसके बारे में चर्चा करना पसंद नहीं करते हैं। आपकी ज्यादातर भावनाएं छिपी रहती हैं।

इसमें कोई शक नहीं है कि चौथे भाव में चंद्रमा की स्थिति आपको बेहद भावुक व्यक्ति बनाएगी। आपके लिए तीन चीजों का बेहद महत्व होगा, ये हैं सुरक्षा, गोपनीयता और संरक्षण। इसके साथ ही आपकी भावनात्मक जरूरतों का पूरा होना भी बेहद जरूरी है।

आप में अंतज्र्ञान सतत बना रहेगा। कभी कभी आपकी बातें कठोर हो जाती है तो कभी सरल ज्ञान की अनुभूति आपको होती रहती है। यूं ही मिले जुले रूप से आपको आत्मज्ञान का बोध होता रहता है। आप हमेशा अपने अंतज्र्ञान के संपर्क में रहते हैं। सही बात तो यह है कि यह विपरीत परिस्थितियों में आपकी रक्षा करता है।

दूसरी तरफ अगर नकारात्मक पक्ष की बात करें तो आप अपनी भावनाओं के कारण जरूरत से ज्यादा रक्षात्मक बन सकते हैं। आप अपनी भावनाओं को पूरा करने में अत्यधिक सख्त भी हो सकते हैं।

सही दिशा में अपनी ताकत और क्षमता का प्रयोग करें। प्रीमियम जन्मपत्री प्राप्त करें


चतुर्थ भाव में चंद्रमा का आपके वैवाहिक जीवन और परिवार पर प्रभाव

आपके लिए आपका परिवार की जरूरतें व उनके हित एक बड़ा महत्व रखते हैं। इसके साथ ही चतुर्थ भाव में चंद्रमा के प्रभाव से एक सुंदर और आरामदायक घर पाने की इच्छा मन में उत्पन्न होगी। आपसे जुड़ी हुई कई चीजें और पर्यावरण में आने वाले बदलावों को आप स्वीकार करने में हिचकिचाएंगे। बदलावों का स्वागत नहीं कर पाएंगे।

आप न केवल अपनी माता बल्कि अपने पिता का भी पूरा ध्यान रखेंगे। आप अपने माता-पिता से प्यार करेंगे और उनकी अच्छी देखभाल करेंगे। परिवार और दोस्तों के साथ सौहार्दपूर्ण संबंध रहेंगे यही आपके लिए भावनात्मक सुरक्षा प्राप्त करने की कुंजी साबित होगी।

वैवाहिक जीवन में भी आप अपने जीवनसाथी के साथ मधुर संबंध बनाने की इच्छा रखेंगें। जब आपके जीवनसाथी के साथ संबंध तनावपूर्ण हो जाएंगे तो आप बहुत असुरक्षित महसूस कर सकते हैं। इससे आपके भावनात्मक दृष्टिकोण में बदलाव आ जाएगा। यह बदलाव बहुत छोटा या नजरअंदाज करने लायक नहीं होगा।

यद्यपि परिवार के साथ के कारण ही आपके निजी संबंध बेहतर हो पाएंगे। माता पिता की सेवा करेंगे, उनसे बेहतर संबंध रखेंगे तो बाकी नाते रिश्तेदारों से संबंधियों से अपने आप संबंध सहज हो जाएंगे।


चतुर्थ भाव में चंद्रमा का आपके कॅरियर और धन पर प्रभाव

चतुर्थ भाव में चंद्रमा की उपस्थिति बताती है कि दूसरों पर आपकी अत्यधिक भावनात्मक निर्भरता आपके वित्तीय मामलों में परेशानी का कारण बन सकती है। यह आपके लिए चिंता का विषय साबित हो सकती है।

जब आपकी भौतिक जरूरतें पूरी होंगी तो आपके जीवन में स्थिरता आएगी, आप संतुष्ट महसूस करेंगे। अगर आपके जीवन में व्यावहारिक और यर्थाथवादी लक्ष्य हैं तो यह आपको सफल बनाने में मदद करेंगे। इसके साथ ही आपको लक्ष्य बनाने के बाद पूरी मेहनत, जी जान से उन्हें पाने का प्रयास करना होगा। ऐसा करके आप जीवन में स्थिरता और सुरक्षा को लंबे समय तक बरकरार रख सकते हैं।

चंद्रमा का होना, आपके जीवन में महज प्रभावों से अधिक बहुत कुछ है।
प्रीमियम जन्मपत्री प्राप्त करें


समापन

आप भावुक हैं और अपने माता-पिता से बहुत जुड़े हुए हैं। आपके निजी जीवन में सामंजस्य होना वास्तव में आपके लिए महत्वपूर्ण है। आपको दूसरों पर अपनी भावनात्मक निर्भरता कम करनी होगी। जीवन में व्यावहारिक लक्ष्य निर्धारित करने से आपको प्रगति करने में मदद मिलेगी। यह आपको वित्तीय सुरक्षा भी प्रदान करेगा।