कुंडली के दूसरे घर में राहु, निर्धन को बना सकता है अरबपति

ग्रह राहु की छाया जीवन में भ्रम, असंतोष, भय और हानि का कारण बन सकती है, यह मन में डर पैदा करती है। ग्रहों की मंत्रिमंडल में इस ग्रह को ‘हैड ऑफ ड्रैगन’ के नाम से जाना जाता है। राहु की स्थिति आपके जीवन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। ज्योतिषीय सिद्धांत बताते हैं कि जिस भी घर में राहु होता, वह घर अपना मौलिक महत्व खो सकता है। यदि राहु जिस भाव के स्वामी से जुड़ा होता है तो इस युति से आपको नकारात्मक प्रभाव मिलते हैं।

दूसरे भाव में अगर राहु मजबूत स्थिति में होता है तो वह एक भिखारी को अरबपति और अरबपति को भिखारी बना सकता है। दोनों की स्थिति बदल सकती है। इसके साथ ही यह स्थान आपके धन और समृद्धि को नकारात्मक रूप से बुरी तरह प्रभावित कर सकता है। इस वजह से आपको धन की कमी का अनुभव हो सकता है और आप वित्तीय लक्ष्यों से दूर हो सकते हैं। धन की कमी महसूस होगी, संतुलन नहीं बैठा सकेंगे।

राहु की इन दशाओं और स्थितियों पर प्रकाश डालने व गहन अध्ययन करने के लिए हमने विशेषज्ञों की टीम को जुटाया। हम आपको उनसे मिली जानकारी के मुताबिक राहु के प्रभाव व उसके उपायों के बारे ेमें बताते हैं।


ज्योतिष में द्वितीय भाव क्या दर्शाता है?

दूसरा भाव जातक के धन, वित्तीय स्थिति, परिवार और संवाद कौशल से संबंधित होता है। यह घर धन और समृद्धि के मामले में बहुत महत्व रखता है। इस प्रकार इसे आमतौर पर धन भाव के रूप में जाना जाता है। राहु खगोल विज्ञान में अशुभ ग्रह है, जो आपकी सफलता के मार्ग में बाधा बन सकता है।

यदि राहु दूसरे भाव में है, तो आपको वाणी संबंधी समस्या हो सकती है। वित्तीय स्थिति अस्थिर होने की भी पूरी संभावना है। यह जरूर है कि यह यह आपकी आवश्यक जीवन सुख-सुविधाओं को लेकर किसी तरह का व्यवधान नहीं डालेगा। आप में से कुछ को अपने ससुराल पक्ष से मूल्यवान संपत्ति प्राप्त हो सकती है। इसके अलावा, दूसरा घर राहु आपके परिवार के सदस्यों के साथ संबंधों को खराब कर सकता है। यह आपके लिए खराब संवाद या गलत भाषा के उपयोग का कारण बन सकता है।

यद्यपि धन के घर में बैठा राहु आपको अपने अच्छी संभावनाएं खोजने में मदद कर सकता है। जब तक आप 34 वर्ष के नहीं हो जाते, तब तक यह आपको निराशाजनक परिणाम दगा। इसके बाद, आप अप्रत्याशित धन लाभ प्राप्त कर सकेंगे। यदि दूसरे भाव में राहु बैठा है तो आपको कठिन समय से बाहर आने के लिए और भी इंतजार करना पड़ सकता है।

राहु दूसरे भाव में है या नहीं, चेक करें। निशुल्क जन्मपत्री प्राप्त करें।

दूसरे भाव में राहु का प्रभाव

  • धन
  • आय
  • संवाद
  • शादी

दूसरे भाव में राहु का आपके व्यक्तित्व पर प्रभाव

दूसरे भाव में जिन जातकों के राहु होता है, उन्हें बातचीत में परेशानी का सामना करना पड़ सकता है। आप जाने अनजाने में कठोर शब्दों का प्रयोग कर सकते हैं, ऐसे में किसी दूसरे को आपकी बातों से ठेस लग सकती है। आप एक दयालु व्यक्ति हैं जो पारंपरिक मूल्यों में विश्वास करते हैं। यह बात अलग है कि आपके ये गुण दूसरे लोग न पहचान पाएं। इस वजह से आपके और आपके परिवार के सदस्यों के बीच संबंधों में दरार पैदा हो सकती है। दूसरे भाव में राहु के जातक अक्सर घर से दूर रहते हैं।

25-30 वर्ष की आयु में आपको आय में गिरावट देखने को मिल सकती है। आप अपनी वित्तीय स्थिति को सुधारने के लिए कई दूसरे रास्ते चुनते हैं, इनमें आप गलत रास्तों को भी अपना सकते हैं, अवैध गतिविधियों में लिप्त हो सकते हैं। इस समय आपको आय का एक स्थिर ोत मिलना मुश्किल हो सकता है। विशेषज्ञों का सुझाव है कि आपको बड़ा निवेश करने या ऋण लेने से बचना चाहिए।

यद्यपि राहु के साथ अगर कोई लाभकारी ग्रह है तो यह चीजें उलट भी सकता है, बदलाव ला सकता है। यह आपको आपकी खोई हुई ताकत दिलाने में मदद कर सकता है। यह खोया हुआ धन भी दिला सकता है और परिवार में संबंध मधुर कर सकता है।


आपके विवाह पर राहु का द्वितीय भाव में प्रभाव

राहु का द्वितीय भाव में होना, आपके विवाह के संदर्भ में अच्छी खबर नहीं है। इसके कई तरह के परिणाम हो सकते हैं, पहला तो यह है कि हो सकता है कि आपका जीवन साथी आपके प्रति वफादार न रहे। आप दोनों में विश्वास, निष्ठा और ईमानदारी की कमी हो सकती है, जो आपकी समझ में बड़ा अंतर पैदा कर सकती है। इस स्थान के जातक अपने साथी को धोखा दे सकते हैं। प्रेम संबंधों में किसी तीसरे व्यक्ति की एंट्री भी हो सकती है।

आपका जीवनसाथी आपको धोखा दे सकता है, संभव है कि वे किसी बाहरी व्यक्ति के साथ यौन सुख की लालसा रखते हैं। यह आपके वैवाहिक संबंधों के मामले में राहु की सबसे खराब स्थिति हो सकती है। इसके अलावा ही आपको बोलचाल से संबंधी समस्याएं हो सकती हैं। इसका अर्थ है कि आपके शब्दों से आपके साथी को ठेस पहुंच सकती है। दूसरे घर में राहु वैवाहिक जीवन में उदासी, चिंता और अवसाद से भरा हो सकता है।


राहु का दूसरे भाव में आपके कॅरियर पर प्रभाव

दूसरे भाव में राहु के व्यक्तियों को उनके कॅरियर में गंभीर हानि नहीं होती है। कोचिंग और ट्यूशन से जुड़े क्षेत्र में आप सही प्रदर्शन कर सकते हैं। आप योग प्रशिक्षक, ज़ुम्बा प्रशिक्षक, जिम ट्रेनर या स्वास्थ्य आहार विशेषज्ञ बन सकते हैं। यदि राहु आपके दूसरे भाव में अनुकूल हो या शुभ ग्रहों की नजर में हो तो आप अपने बोलने और सुनने के कौशल में सुधार ला सकते हैं। इसके अलाव आपको विदेशी भाषाएं सीखने का मौका भी मिल सकता है।

दूसरे भाव में राहु के जातक भारी मजदूरी से जुड़े मानदंडों को पार कर सकते हैं। अवैध गतिविधियों में भी लिप्त हो सकते हैं। द्वितीय भाव में राहु के व्यक्ति सट्टा लगाने में अच्छे होते हैं, और इसलिए वे शेयर बाजार में निवेश के माध्यम से अधिक लाभ कमा सकते हैं। विशेषज्ञ बड़े निवेश करने से परहेज करने की सलाह देते हैं। यह भविष्य में आपके अनुकूल परिणाम नहीं दे सकता है।

अपने कॅरियर की संभावनाओं के बारे में विवरण प्राप्त करें, अभी निशुल्क जन्मपत्री से जानकारी प्राप्त करें


द्वितीय भाव में राहु के उपाय

दूसरे भाव में राहु के प्रभाव को कम करने के उपाय नीचे दिए गए हैं:

  • चांदी की गेंद जेब में रखें
  • ससुराल वालों से इलेक्ट्रॉनिक गैजेट्स लेने से बचें
  • अपनी मां या अपने से बड़ी महिलाओं का सम्मान करें
  • राहु के नकारात्मक प्रभाव को कम करने के लिए पीले रंग के कपड़े पहनें
  • सोना पहनें

समापन

हमने राशि के दूसरे घर की स्थिति के बारे में जानकारी हासिल की है। यह जातक के जीवन में कहर बरपा सकता है। यह आपके खराब व्यवहार के कारण आपकी छवि के समाज में खराब कर सकता है। वैवाहिक जीवन के मामले में आपको अपनी पसंद का जीवनसाथी मिल सकता है। इसके बाद दीर्घकालिक संबंध बनाना आपके हाथ में होता है। इसके लिए आपको अधिक प्रयास करने होंगे। आपके वैवाहिक संबंधों में आपके साथी से विश्वासघात की संभावना अधिक होगी।

दूसरी तरफ, आपको अपने पेशेवर जीवन में सकारात्मक परिणाम मिल सकते हैं क्योंकि दूसरे घर का राहु आपको कॅरियर के विकास की ओर बढऩे में मदद कर सकता है। आप धन कमाने के लिए गलत रास्ते चुन सकते हैं। यह धन को तो बढ़ा देंगे पर आपके लिए परेशानी का सबब बन सकते हैं। ऐसे में आपको अपने वित्तीय मामलों से सावधान रहना चाहिए। साथ ही आपको अपने वैवाहिक जीवन में प्यार और विश्वास विकसित करने का प्रयास करना चाहिए।