7 मुखी रुद्राक्ष (7 Mukhi Rudraksha) के लाभ


क्या है 7 मुखी रुद्राक्ष?

ईश्वर की शक्ति को यदि आप महसूस करना चाहते हैं, तो रुद्राक्ष के पास आपको बताने के लिए काफी कुछ है। रुद्राक्ष में किसी भी देवी या देवता के रूप में शक्तियां मौजूद होती हैं। धन की देवी महालक्ष्मी हैं। इसलिए जिंदगी में यदि आप प्रचुर धन पाना चाहते हैं, तो ऐसे में देवी लक्ष्मी को प्रसन्न करना बहुत ही जरूरी है। इसके लिए सात मुखी रुद्राक्ष एक आदर्श विकल्प है।

7 मुखी रुद्राक्ष के लाभ इतने हैं, जिनकी कोई सीमा ही नहीं है। शुक्र ग्रह और देवी महालक्ष्मी से इसका संबंध है। इसे परम परमात्मा भी माना गया है। यदि आपके पास 7 मुखी रुद्राक्ष मौजूद है, तो इसके बदले में आपको न केवल सौभाग्य, बल्कि भरपूर ज्ञान और समृद्धि की भी प्राप्ति होती है। रुद्राक्ष का मूल मंत्र ओम हुम् नमः और ओम महालक्ष्मी नमः है। आप इस रुद्राक्ष से महालक्ष्मी की पूजा करते वक्त मूल मंत्र का जाप कर सकते हैं।


7 मुखी रुद्राक्ष के लाभ

7 मुखी रुद्राक्ष को धारण करने से जो लाभ प्राप्त होते हैं, उनका संबंध ज्योतिष से है। शुक्र ग्रह से जुड़े होने की वजह से ये आपको शत्रुओं के ऊपर विजय दिलाते हैं। साथ ही समग्र रूप से ये आपको बेहतर स्वास्थ्य भी प्रदान करते हैं।

  • वैदिक ज्योतिष में 7 मुखी रुद्राक्ष का लाभ यह बताया गया है कि इसे धारण करने वाले को धन और सुख की प्राप्ति होती है।
  • आप यदि इस रुद्राक्ष को धारण कर लेते हैं, तो आपके जीवन से धुंध खत्म हो जाती है। सब कुछ स्पष्ट हो जाता है और आपको उत्तम भाग्य की प्राप्ति होती है।
  • 7 मुखी रुद्राक्ष पहनने वालों के अपने प्रियजनों के साथ संबंध भी अच्छे होते हैं, जिससे जिंदगी सरल, सुगम और खुशियों से सराबोर हो जाती है।

क्या आपको इस बात का भय सता रहा है कि ग्रहों का प्रभाव आपके प्रेम संबंधों में बाधा डाल रहा है? ज्योतिषी से अभी बात करें।


क्यों धारण करना चाहिए 7 मुखी रुद्राक्ष?

जैसा कि पहले ही यह उल्लेख किया जा चुका है कि 7 मुखी रुद्राक्ष से मिलने वाले लाभों के बारे में बताने के लिए ज्योतिष के पास बहुत कुछ है। आइए जानते हैं कि 7 मुखी रुद्राक्ष को धारण करने से कुछ ही समय में आपको कितने प्रकार के लाभ मिल सकते हैं।

  • आपके व्यवसाय में उत्तरोत्तर वृद्धि होती चली जाती है और इसमें स्थिरता भी आती है।
  • आपके प्रेम संबंध में सुधार होता है। साथ ही अपनी पसंदीदा नौकरी पाने के बहुत से अवसर आपको प्राप्त होते हैं।
  • आप खुश रहते हैं और आपका जीवन आनंदमय बन जाता है।
  • बुरी आत्माओं और बुरी नजरों से आपकी रक्षा होती है।

आपके स्वास्थ्य के लिए 7 मुखी रुद्राक्ष के लाभ

आइए जानते हैं कि स्वास्थ्य के दृष्टिकोण से 7 मुखी रुद्राक्ष को धारण करने वालों को किस तरह के लाभ मिलते हैं।

  • इसे पहनाने वालों को अपच और एसिडिटी से राहत मिलती है।
  • श्वसन संबंधी समस्याओं का यह स्थाई इलाज उपलब्ध कराता है।
  • लीवर, पेट और अग्नाशय सुचारू तरीके से काम करने लगते हैं।
  • अधिवृक्क ग्रंथि से जुड़ी समस्याओं को ठीक करने में भी रुद्राक्ष मददगार होता है।
  • दिल से जुड़ी समस्याओं को भी यह ठीक करने में सक्षम होता है।

मणिपुर चक्र और 7 मुखी रुद्राक्ष आपस में जुड़े हुए हैं। इसलिए 7 मुखी रुद्राक्ष को पहनने से यह चक्र को खोल कर आत्म सम्मान प्राप्त करने में मदद करता है।


सही 7 मुखी रुद्राक्ष कैसे खरीदें?

किसी प्रमाणित या भरोसेमंद डीलर से ही रुद्राक्ष को खरीदना जरूरी होता है। नहीं तो इस बात की आशंका रहती है कि आपको नकली रुद्राक्ष मिल जाए, जिसमें कि कोई भी शक्ति नहीं होती है। सात मुखी रुद्राक्ष में आपको एक सिरे से दूसरे सिरे तक अखंड सात रेखाएं देखने के लिए मिलती हैं। एक मनके में इन रेखाओं के साथ सात विभाजित फलक होते हैं।

इसके अलावा आप पानी के साथ एक विशेष परीक्षण भी करके रुद्राक्ष की शुद्धता की जांच कर सकते हैं। इसके लिए आपको एक कटोरी गर्म पानी लेकर इसमें मनके को डाल देना है। यदि पानी का रंग बदल जाए, तो समझ लेना चाहिए कि रुद्राक्ष असली नहीं है।


सात मुखी रुद्राक्ष को कैसे करें सक्रिय?

सात मुखी रुद्राक्ष को यदि आप आदर्श तरीके से धारण करते हैं, तभी आपको इसके लाभ भी मिल पाते हैं। मनकों को सक्रिय बनाने के लिए इसे पहनने वाले को सबसे पहले अनुष्ठान और पूजा-पाठ करने चाहिए। चूंकि शुक्रवार देवी महालक्ष्मी का दिन होता है, इसलिए रुद्राक्ष को आप शुक्रवार को धारण कर सकते हैं। इसके लिए आपको सूर्योदय से पहले उठ जाना है और स्नान करके पूजा के लिए तैयार होना है। अपने रूद्राक्ष के मनकों को गंगा के पवित्र जल से धो लेना है। इन्हें 9 पीपल के पत्तों से सजे हुए तांबे की थाली में रख देना है।

मनकों पर आपको चंदन का लेप लगाना है और फूलों से पूजा करनी है। इसके बाद आपको ओम हुम् नमः! ओम महालक्ष्मी नमः मंत्र का 108 बार जाप करना है। फिर मनके को चांदी या सोने के कंगन में लाल रेशम या धागे से ढक दिया जाता है।


समापन

7 मुखी रुद्राक्ष का स्वामी शुक्र ग्रह है और इस पर सप्तमातृका की कृपा है। शुभ मनके में उपचार करने की दिव्य शक्तियां मौजूद हैं। रुद्राक्ष को धारण कर लेने से व्यक्ति जो कुछ भी मांगता है, बहुत ही कम समय में उसे वह चीज प्राप्त हो जाती है। आर्थिक रूप से तो उसकी तरक्की होती ही है, साथ ही तनाव, चिंता एवं जिंदगी में आने वाली सभी नकारात्मकताओं को दूर करने में यह मदद करता है।