जाने क्यों करते हैं शिव लौकिक नृत्य तांडव (Tandav)

दुनिया भर में इंसान का अस्तित्व आज भी कई विशेषज्ञों और वैज्ञानिकों के लिए एक रहस्य बना हुआ है। ऐसे बहुत से सवाल हैं जिनका कोई जवाब नहीं है। एक सिद्धांत बताता है कि हमारा पूरा ब्रह्मांड विभिन्न कणों का मिश्रण है, जो सर्वोच्च ऊर्जा के विभिन्न नियमों का पालन करता है। हिंदू धर्म में, कई संतों और ऋषियों ने समझाया है कि दुनिया जितनी सरल है, उसे समझना उतना ही जटिल है।

ब्रह्मांड और उसके अस्तित्व का वास्तविक अर्थ जानने के लिए आपको स्वयं को अंदर से प्रबुद्ध करना या जगाना होगा।

शिव के लौकिक या ब्रह्मांडीय नृत्य को तांडव कहा जाता है। भगवान शिव या शिव नटराज पूरे ब्रह्मांड में ऊर्जावान कंपन लाने के लिए तांडव करते हैं। भगवान शिव के इस नृत्य रूप में शिव के एक अन्य प्रसिद्ध रूप नटराज को भी दर्शाया गया है। शिव के नृत्य या तांडव नृत्य में दो अलग-अलग अवस्थाएं होती हैं, और शिव का लौकिक नृत्य भी स्वयं की वास्तविक ऊर्जा को नृत्य के देवता भगवान नटराज के रूप को परिभाषित करता है।


शिव के नृत्य प्रकार –तांडव

शिव या भगवान नटराज का लौकिक नृत्य तांडव के दो रूप हैं – रुद्र तांडव और आनंद तांडव हैं। आइए हम दोनों शिव के नृत्य को समझते हैं।
आइए जानें कि तांडव के कितने प्रकार हैं। असल में शिव का लौकिक नृत्य या भगवान नटराज के नृत्य को तांडव कहा जाता है, और तांडव के दो प्रकार हैं, एक है रूद्र तांडव और दूसरा आनंद तांडव। आइए आपको दोनों तांडव के बारे में विस्तार से बताएं-

रूद्र तांडव

भगवान शिव या नटराज तीन त्रिदेवों में से एक हैं। ब्रह्मा – ब्रह्मांड के निर्माता, विष्णु – दुनिया के संरक्षक और भगवान शिव – संहारक। रुद्र तांडव शिव का लौकिक नृत्य है, और यह दुनिया के विनाश का प्रतीक है। विनाश का मतलब दुनिया का अंत नहीं है। शिव का रूद्र तांडव नृत्य हमारे भीतर की बुराई का विनाश करने का प्रतीक है। यह जन्म और मृत्यु के चक्र से बाहर निकलने को भी दर्शाता है । रुद्र तांडव बुराई के विनाश के बाद नया जीवन, नए प्रकाश आने का भी प्रतीक है।

क्या आपको तलाश है एक नए जीवन की, आइए हमारे ज्योतिषियों से चर्चा करें

आनंद तांडव

आनंद तांडव नृत्य भगवान शिव के शुद्ध अस्तित्व की वजह से शिवम – यानी सच्चिदानंद रूपी मानसिक अवस्था में बदलने को कहा जाता है। रुद्र तांडव के विपरीत, शिव का यह नृत्य जन्म और मृत्यु चक्र के अंत से जुड़ा नहीं है बल्कि यह शिव और भगवान नटराज का लौकिक नृत्य जुड़ा है भावनाओं और खुशियों से | आनंद तांडव जीवन के परम आनंद की सच्ची भावना है जिसे सांसारिक दुनिया छू नहीं सकती |

शिव के नृत्य के ये दो रूप भगवान शिव या भगवान नटराज के विशिष्ट व्यक्तित्व को दर्शाते हैं। रुद्र तांडव आग की तरह है, और आनंद तांडव शिव के नृत्य का विशुद्ध आनंद है।


शिव के लौकिक नृत्य का अर्थ

हिंदू धर्म में, पौराणिक कथाओं के अनुसार, तांडव नृत्य – शिव का लौकिक या ब्रह्मांडीय नृत्य ब्रह्मांड का निर्माण और विनाश कर सकता है। शिव के तांडव नृत्य का अर्थ है जब भगवान शिव नृत्य के देवता भगवान नटराज के रूप में नृत्य करते हैं, तो पूरी दुनिया में ऊर्जा का संचार होता है |

भगवान शिव का कोई आदि यानी की शुरुआत या अंत नहीं है। हिंदू धर्म में लोगों का मानना ​​है कि हमारा ब्रह्मांड भगवान शिव की गोद में है और शिव का नटराज रूप नृत्य रूप में जन्म और मृत्यु चक्र का प्रतीक है। शिव का नटराज रूप और शिव का लौकिक, ब्रह्मांडीय नृत्य दुनिया में जीवन के चक्र के प्रतीक हैं।

तांडव, शिव का यह लौकिक नृत्य , मात्र लोगों के मनोरंजन करने के लिए किया गया कोई साधारण नृत्य नहीं है। यह दुनिया के सर्वश्रेष्ठ नर्तक भगवान नटराज द्वारा नृत्य का वास्तविक रूप है। यहां तक ​​कि वैज्ञानिकों की भी राय है कि ब्रह्मांड विभिन्न कणों के नृत्य से ही बना है | नटराज, नृत्य का पवित्र रूप है, और यह पैर के कंपन के साथ सृजन और विनाश का प्रतीक है।


लस्या - तांडव के साथ पार्वती नृत्य

लास्य भगवान शिव की पत्नी देवी पार्वती द्वारा किया जाने वाला नृत्य है। जब भगवान शिव पुरी तरह मगन हो तांडव नृत्य करते हैं तो भला देवी पार्वती कैसे पीछे रह सकती हैं। वह लास्य नृत्य कर शिव के तांडव नृत्य का जवाब देती है। नृत्य की यह शैली ब्रह्मांड की खुशी, कृपा और सुंदरता का प्रतीक है। देवी पार्वती आदि शक्ति हैं, वह प्रकृति भी हैं और शिवशक्ति भी हैं, जो ब्रह्मांड की ऊर्जा को संतुलित करती हैं।


नटराज की प्रतिमा

हिंदू पौराणिक कथाओं में नटराज को नृत्य देवता और भगवान शिव के रूप में वर्णित किया गया है। ईसा पूर्व छठी शताब्दी के आसपास एलोरा की गुफाओं और बादामी गुफाओं में नटराज की प्रतिमा का उल्लेख मिलता है। एक और नटराज की कांस्य प्रतिमा ईसा पूर्व 10 वीं शताब्दी की है जो कि दक्षिण भारत के चोल राजवंश से जुड़ी है। नटराज की कांस्य मूर्ति वर्तमान में लॉस एंजिल्स के काउंटी म्यूजियम ऑफ़ आर्ट में है।


भगवान कृष्ण और शिव का लौकिक नृत्य

तांडव का संबंध भगवान कृष्ण से भी है, कहा जाता है कि बचपन में, भगवान कृष्ण अपने दोस्तों के साथ यमुना नदी के किनारे खेल रहे थे, खेलते- खेलते कृष्ण का खिलौना नदी में गिर गया और कृष्ण वो खिलौना लेने नदी में गोता लगाने चले गए। उस समय, एक बेहद शक्तिशाली सांप जिसे कालिया नाग कहा जाता था अपने परिवार के साथ नदी के अंदर रहता था। सांप के जहर से नदी का समूचा पानी जहर में परिवर्तित हो गया था |

अब भगवान कृष्ण अपने खिलौने की तलाश में कालिया के ठिकाने पर पहुंचे और उसे सबक सिखाया। उसने वचन दिया कि वो नदी छोड़ देगा और जो विष उसने उगला है वो भी वापस ले लेगा| इसके बाद उस कालिया नाग ने भगवान कृष्ण को उनकी जीत के जश्न को मानाने के लिए अपने सिर पर खड़े होने की अनुमति दी। तब भगवान कृष्ण ने उस नाग के सिर पर नृत्य किया, जो की तांडव नृत्य था।


नटराज रूप का अर्थ

  • तांडव नामक लौकिक नृत्य करते समय भगवान शिव नटराज की मुद्रा धारण करते हैं| नटराज रूप दर्शाता है कि यह कला महान भगवान शिव से पैदा हुई है और शिव को नृत्य के स्वामी के रूप में स्थापित करती है। आइए नटराज के रूप को विस्तार से समझते हैं।
  • नटराज रूप में, भगवान शिव अपने बाएं पैर पर खड़े होते हैं और दाहिने पैर को ऊपर उठाते हैं। यह नाट्य शास्त्र मुद्रा परमानंद मे डूबे भगवान शिव की नाट्य शास्त्र मुद्रा है।
  • भगवान नटराज अपने बाएं हाथ में पीछे की तरफ आग रखते हैं, और सामने वाला हाथ हाथी के रूप में है, जिसे गज हस्त मुद्रा भी कहा जाता है। इस मुद्रा को दंड हस्त भी कहते हैं।
  • सामने की तरफ एक हाथ में चारों ओर एक सांप है जो अभय या बिना किसी डर के नज़र आता है| दूसरे हाथ में पीछे की ओर ढोल जैसा वाद्य यंत्र डमरू है, इसे डमरू हस्त मुद्रा के रूप में भी जाना जाता है, जिसका अर्थ है समय और लय। भगवान नटराज को कई आकर्षक वस्तुओं से सजाया गया है, और उन सभी का अपना प्रतीकात्मक महत्व है।
  • नटराज रूप बताता है कि भगवान शिव में अपार शक्ति है, फिर भी वे इस मुद्रा में बेहद शांतचित नज़र आते हैं| उनकी तीन आंखें हैं जिनमें एक आंख सूर्य, दूसरी चंद्रमा और तीसरी आंख शाश्वत ज्ञान स्रोत को दर्शाती हैं |
  • भगवान नटराज कमल के आसन पर खड़े हैं और एक गोलाकार अग्नि चक्र से घिरे हैं, जिसका अर्थ स्वयं ब्रह्मांड है। हिंदू पौराणिक कथाओं के अनुसार, भगवान नटराज के पीछे अग्नि का गोलाकार चक्र एक प्रभा मंडल है जो की प्रती क है जीवन-चक्र, सृष्टि और हर चीज के अंत का |
  • इस रूप के नीचे एक बौना दानव है, जिसे अपस्मार पुरुष के नाम से जाना जाता है। वह बुराई का प्रतीक है। इस प्रकार, अंततः यह मुद्रा बुराई को नष्ट करने और शक्ति के साथ उससे ऊंचा उठने को दर्शाती है।

क्या आप अपने कॅरियर या व्यवसाय में सफल होना चाहते हैं, तो आइए हमारे ज्योतिषियों से बात करें।


अंत में

भगवान शिव, नटराज के रूप में, तांडव करते हैं, जो उनका का लौकिक और ब्रह्मांडीय नृत्य है । यह नृत्य का रूप जीवन के चक्र और ब्रह्मांड के साथ उसके संबंध का चित्रण है। यह अपने आप को जानने के लिए ऊर्जा के प्रवाह का भी प्रतीक है। कई ऋषि-मुनियों का मानना ​​है कि हमारा जीवन और संसार एक दूसरे से जुड़े हुए हैं|

साथ ही, कारण और उसके प्रभाव के सिद्धांत के अनुसार, ब्रह्मांड के समान ताल पर नृत्य के माध्यम से ये साबित होता है कि हम सब एक हैं और दुनिया में सब समान हैं।