कैसा होना चाहिए लॉकर रूम, जाने Locker Room vastu tips में


सारांश

जीवन में आर्थिक समृद्धि के महत्व को कम कर नहीं आंका जा सकता है। सुखी और खुशहाल जीवन के लिए घर में धन दौलत का होना बहुत ही आवश्यक है। और अगर हम सही ढंग से वास्तु का इस्तेमाल करें तो आसानी से आर्थिक समृद्ध जीवन जी सकते हैं। सदियों से धन दौलत जीवन को आसान और सुखद बनाते आए हैं और बिना पैसों के जीवन बहुत ही कठिन बन जाता है।

वास्तु शास्त्र के अनुसार, लॉकर रूम डिजाइन करते समय वास्तु के विभिन्न पहलुओं पर विचार किया जाना चाहिए।
जिस कमरे में आप लॉकर या तिजोरी रखना चाहते हैं उसे वास्तु के अनुसार बनाए, उसकी दिशा वास्तु अनुसार तय करें, इससे आपके जीवन में समृद्धि आएगी, घर में धन और पैसा आएगा। वास्तु के सही उपयोग से घर में खर्च भी कम होगा।

वास्तु के अनुसार आपके लॉकर रूम की दिशा, उसके आकार का सीधा सम्बन्ध होता है आपकी संपन्नता के साथ। आप जितना वास्तु का सही इस्तेमाल करेंगे और अपने लॉकर रूम को वास्तु के अनुसार रखेंगे, उतनी आर्थिक तरक्की आपको मिलेगी और उतना ही आपके घर में धन का आगमन होगा।


लॉकर रूम के लिए वास्तु टिप्स

चूंकि लॉकर रूम में पैसे, आभूषण, और ज़रूरी कागज़ात रखे जाते हैं, इसलिए लॉकर रूम की सही दिशा का चयन बहुत महत्वपूर्ण होता है और इस रूम की सुरक्षा का भी ख्याल रखना चाहिए। वास्तु शास्त्र के अनुसार, लॉकर रूम को सही दिशा मे बनाने से जीवन मे सकारात्मक बदलाव आ सकते हैं। साथ ही ये आपको असीमित धन और दौलत भी दिला सकता है। अपना लॉकर रूम बनाने से पहले नीचे लिखी बातों का ख़ास ख्याल रखें –

लॉकर रूम लोकेशन

वास्तु शास्त्र के अनुसार, लॉकर रूम बनाने के लिए सर्वोत्तम दिशा घर की उत्तर दिशा है। वास्तु शास्त्र कहता है कि घर मे लॉकर रूम बनाने से धन की आमद बढ़ती है, और आपका किया हुआ निवेश दोगुना होता है। लेकिन, अगर लॉकर रूम की दिशा गलत हो जाए तो धन का बाहर जाना या खर्च होना ज़्यादा होता है, बनिस्बत धन के आने के। इसलिए आप हमेशा लॉकर रूम बनाने के लिए सही दिशा ही चुने।

लॉकर रूम का आकार और प्रकार

वास्तु के अनुसार लॉकर रूम का आकार अगर त्रिकोणीय या चौकोर है तो वो सदा लाभ देगा। यहां यह भी जानिए कि लॉकर रूम अगर त्रिकोणीय और चौकोर के आकार के अलावा पेंटागन के आकार के कमरे भी स्वीकार्य होते हैं। लेकिन लॉकर रूम कभी भी विचित्र आकार के न बनाए क्यों ऐसा करना वास्तु के अनुसार नुकसान दायक होता है। हमेशा ये सुनिश्चित करें की लॉकर रूम की ऊंचाई घर के अन्य कमरों जितनी ही हो। आयताकार या चौकोर आकार में आदर्श रूप से लॉकर रूम का निर्माण करना आवश्यक है। त्रिकोणीय और यहां तक कि पेंटागन-पक्षीय कमरे भी स्वीकार्य हैं, लेकिन अजीब आकार के लॉकर रूम बनाने की सलाह नहीं दी जाती है। सुनिश्चित करें कि लॉकर रूम की ऊंचाई अन्य कमरों के आकार के बराबर हो अन्यथा ये आपकी आर्थिक प्रगति में रुकावट ला सकता है।

लॉकर रूम की दिशा और स्थान

घर मे लॉकर रूम का स्थान वास्तु अनुसार ही तय करना चाहिए। अगर आपके घर में तिजोरी है या अलमारी में आप धन रखते हैं तो इसकी सही दिशा हमेशा घर की दक्षिण दिशा ही होगी।
लॉकर रूम कभी दक्षिण-पूर्व या दक्षिण-पश्चिम दिशाओं में न बनाएं तो ही बेहतर होगा। सुनिश्चित करें कि लॉकर या तिजोरी का पिछला हिस्सा घर की दक्षिण की दीवार की तरफ हो और सामने वाला हिस्सा उत्तर की दीवार की तरफ हो क्योंकि वास्तु अनुसार ये शुभ माना जाता है।

लॉकर के लिए कमरे के उत्तर-पूर्व, दक्षिण-पूर्व और उत्तर-पश्चिम कोनों से बचें क्योंकि यह अनावश्यक नुकसान और खर्च को बढ़ावा देता है। जब तिजोरी रखने की बात आती है, तो इसे दीवार से कम से कम एक इंच की दूरी पर सही दिशा में रखा जाना चाहिए।

वास्तु के अनुसार, लॉकर उत्तर-पश्चिम या दक्षिण-पश्चिम दिशा से एक फुट की दूरी पर होना चाहिए।

दरवाजे और खिड़कियों की सही दिशा

वास्तु शास्त्र बताता है कि लॉकर रूम का दरवाज़ा ऐसा होना चाहिए जिसमे दो शटर होने चाहिए। इस टेक्नोलॉजी के युग मे नए-नए किस्म के दरवाज़े बन रहे हैं, पर वास्तु के अनुसार लॉकर रूम के दरवाज़े मे दो ही शटर होने चाहिए। ये भी ख्याल रखें की लॉकर रूम का प्रवेश द्वार उत्तर या पूर्व दिशा में होना चाहिए क्योंकि यह अनुकूल माना जाता है। दरवाजे लगाने के लिए दक्षिण, दक्षिण-पूर्व, दक्षिण-पश्चिम, उत्तर-पश्चिम दिशा से बचें। खिड़कियों के लिए, कमरे में पूर्व और उत्तर दिशाओं को प्राथमिकता दें।

लॉकर रूम का रंग कैसा हो

कोई भी कमरा तब तक सही मायनो मैं कमरा नहीं लगता जबतक उसे सही रंगो रोगन न मिले। घर के हर कमरे की अपनी कहानी होती है जो उसके रंगों से बयान होती है यदि रंग उज्ज्वल और खुशनुमा हैं, तो कमरा बहुत ही जीवंत और ऊर्जा देने वाला लगता है वहीँ अगर कमरे का रंग सुस्त बहुत चटक है तो ये निराशा भी लाता है और ऐसे रंगों के कमरों को देख कोई ख़ुशी नहीं मिलती। ऐसा प्रतीत होता है कि आप किसी निराशा देने वाली जगह में प्रवेश कर रहे हैं। कुछ रंग समृद्धि, और धन को आकर्षित करते हैं, जबकि कई रंग धन की आवक को रोकते हैं और आर्थिक हानि को आकर्षित करते हैं। वास्तु के अनुसार, लॉकर रूम के लिए पीला रंग सबसे अच्छा माना जाता है|

कमरे की दीवार और फर्श पीले रंग से रंगे होने चाहिए क्योंकि यह माना जाता है कि यह रंग धन में वृद्धि लाता है।


लॉकर रूम के वास्तु में क्या न करें

आपके लॉकर रूम के संदर्भ में ऊपर दी गयी सभी टिप्स और जानकारी के द्वारा आप लाभ पा सकते हैं पर वास्तु ये भी कहता है कि कुछ बातों और युक्तियों से बचना भी चाहिए, ऐसा करने से हम हानि को टाल कर लाभ को न्योता दे सकते हैं।

यहां कुछ ध्यान देने योग्य बातें हैं जिन पर गौर करना जरूरी है

  • वास्तु अनुसार अपने लॉकर रूम को कभी भी घर के उत्तर-पूर्व कोने में न रखें क्योंकि इससे आपके धन का नुकसान होगा। लॉकर रूम के लिए दक्षिण-पूर्व और उत्तर-पश्चिम कोने बिलकुल भी उचित नहीं माने जाते है, क्योंकि वे घर के निवासियों को अनावश्यक वस्तुओं पर खर्च करने के लिए उकसाते हैं।
  • लॉकर रूम का दरवाजा दक्षिण-पूर्व, दक्षिण-पश्चिम, उत्तर-पश्चिम या दक्षिण दिशाओं में नहीं रखना चाहिए।
  • वास्तु अनुसार अपने लॉकर रूम को हमेशा साफ और सुव्यवस्थित रखना आवश्यक है क्योंकि स्वच्छ कमरों मे ही मां लक्ष्मी का आगमन होता है और अस्वच्छ कमरों से धन की देवी मां लक्ष्मी कोसों दूर रहती हैं।
  • हमेशा अपने लॉकर रूम की सुरक्षा का ख्याल रखें। इस बात का ख़ास ख्याल रखें की आपके लॉकर रूम मे कोई मूर्ति या देवता नहीं होने चाहिए। इसके बजाय, पैसे को प्रतिबिंबित करने के लिए कमरे या तिजोरी मे एक छोटा सा दर्पण या आइना रखें, ऐसा करने से आर्थिक समृद्धि आती है।
  • वास्तु ये भी आगाह करता है की लॉकर रूम पर या आपकी तिजोरी पर घर मे आने जाने वालों की सीधी नज़र ना जाए। हमेशा लॉकर रूम को ठोस सीमेंट की दीवार से बनाए।

उपर्युक्त बातों से ये साफ़ है की आप घर मे लॉकर रूम बनाए तो वास्तु के नियमों का ख़ास ख्याल रखें जिससे आपको अत्यधिक लाभ मिल सके।


सामान्य सवाल (FAQs)

लॉकर रूम किस दिशा में होना चाहिए?
लॉकर रूम के लिए सबसे उपयुक्त दिशा घर का उत्तरी क्षेत्र है। सुनिश्चित करें कि लॉकर का मुख उत्तर की ओर हो। इसका अर्थ है कि इसका प्रवेश द्वार उत्तर दिशा में खुलना चाहिए, चूंकि उत्तर दिशा धन के देवता कुबेर की दिशा मानी जाती है। इसलिए ये लॉकर रूम के लिए सबसे लाभकारी दिशा होती है।

कैश बॉक्स रखने का सही स्थान?
वास्तु के मुताबिक कॅश बॉक्स के लिए दक्षिण और दक्षिण-पश्चिम सबसे अनुकूल स्थान हैं। इसे पूर्व, उत्तर या ऊपरी पूर्व की तरफ मुख करना चाहिए और कभी भी दक्षिण, पश्चिम या दक्षिण-पश्चिम दिशा की तरफ मुख न हो।

हमें अलमारी को किस तरफ रखना चाहिए?
घर मे अलमारी को उत्तर- पूर्व दिशा में इस तरह रखें की ये ये उत्तर या उत्तर पूर्व दिशा की तरफ खुले , इस बात का ख्याल रखें की दक्षिण पश्चिम दिशा में अलमारी पर कोई दर्पण न हो।


निष्कर्ष

संक्षेप में कहें तो आजकल सभी के लिए सबसे महत्वपूर्ण है- पैसा कमाना और सही निवेश करना। ये भी सच है कि जीवन में जैसे-जैसे धन आता है, आवक बढ़ती है तो उसे सुरक्षित रखने की फिक्र भी होती है। लेकिन वास्तु के नियमों के अनुसार लॉकर रूम बनाकर हम चिंता मुक्त हो सकते हैं। उपर्युक्त दिए सभी वास्तु नियमों का हम पालन कर सकते हैं और एक शानदार लाभ देने वाला लॉकर रूम बना सकते हैं। जो हमें आर्थिक समृद्धि की तरफ ले जाएगा।

अगर आपकी कोई वास्तु समस्या है तो हमारे विशेषज्ञ से बात करें