कैसी होगी मेष राशि के पुरुष व महिला की जोड़ी?

सूर्य के परिवार का प्रतिनिधित्व करने वाली पहली राशि है मेष। यह पराक्रमी भगवान राम का प्रतीक है। जो लोग 21 मार्च से 19 अप्रैल के बीच में जन्में हैं, वे मेष सूर्य राशि के जातक हैं। जो भी इस राशि से जुड़े हैं वे आशावादी, ऊर्जावान और आत्मविश्वासी होते हैं।


मेष राशि के पुरुष

मेष राशि के पुरुष शर्मीले स्वभाव और शांति का मिलाजुला पैकेज होते हैं। वे काम को खुद ही करने का प्रयास करते हैं। इन्हें नकारे जाने का डर बना रहता है, यही कारण है कि ये अपनी भावनाओं को जाहिर करने में हिचकते हैं। यहां स्पष्ट हो जाता है कि अगर आपका प्रेमी मेष राशि का जातक है, तो वह कभी आगे बढ़कर प्यार का इजहार नहीं करेगा। आप उनके बोलने का इंतजार न करें, खुद ही उसे मन की बात कह दें।


मेष राशि की महिला

मेष राशि की महिला का स्वभाव इस मामले में मेष राशि के पुरुषों से बिल्कुल अलग होता है। वे अपनी भावनाओं को मुखर होकर व्यक्त करती हैं। ये महिलाएं अगर किसी के प्रेम में पड़ती हैं तो खुलकर स्वीकार करती हैं। पूरी तरह समर्पित रहती हैं। ये अपने रिश्ते को दिल के साथ दिमाग में भी रखते हैं। हालांकि मेष राशि के पुरुष प्रेम के मामले में जुनूनी नहीं होते हैं पर इस मामले में महिलाएं पूरी तरह जुनूनी होती हैं। वे सीधी और स्पष्ट होती हैं। बड़ी साफगोई से बात कह देती हैं। अब ऐसे में कौन सी बात हमसफर को सही लगे और कौन सी बुरी लग जाए, इसका अंदाजा लगाना संभव नहीं है।


मेष राशि के पुरुष और मेष राशि की महिलाएं

मेष राशि के जातक अपने लक्ष्य को प्राप्त करने और अपनी शर्तों को निर्धारित करने के लिए जाने जाते हैं। इनका स्वामी वह ग्रह होता है जिसे युद्ध का देवता माना जाता है यानी मंगल ग्रह। मेष राशि वालों को स्वभाव से आक्रामक माना जाता है। उनके साथ समझौते की संभावना बहुत कम होती है। वे थोड़ा पाकर संतुष्ट नहीं होते हैं, जो उन्होंने तय किया है, उसे पाने के लिए लगातार जुटे रहते हैं।


मेष पुरुष और मेष महिला का संबंध समझें

मेष राशि स्त्री व पुरुष के बीच तालमेल की संभावना काफी होती है। ये अपने संबंध में बहुत कुछ करने की क्षमता रखते हैं। इस जोड़ी की महत्वाकांक्षा बहुत होती हैं, ये सब कुछ पाना चाहते हैं। रास्ते में जो कुछ भी आता है, उसे स्वीकार करना इनके लिए मुश्किल होता है। अगर ये दोनों स्त्री पुरुष अपनी आक्रामकता को एक तरफ रख दें और समझौता करने को राजी हो जाएं तो यकीन मानिए मेष और मेष राशि की जोड़ी से किसी की जोड़ी नहीं हो सकती। ये आदर्श साबित हो सकते हैं।

मेष राशि के पुरुष और मेष राशि की महिला के बीच प्रेम संबंध अद्भुत होते हैं। यह जोड़ी वास्तव में एक-दूसरे की भलाई को लेकर चिंतित रहती है। सार्वजनिक रूप से हमेशा एक-दूसरे की सुरक्षा करते हैं। ये दूसरे जोड़ों से अलग होते हैं पर ये हमेशा एक दूसरे के साथ खड़े नजर आते हैं। लेकिन यहां यह बात भी सत्य है कि दोनों ही अपने इगो या आत्मसम्मान की रक्षा की पूरी कोशिश करते हैं। ऐसे में अगर वे एक दूसरे के आत्मसम्मान को ठेस पहुंचाते हैं तो झगड़े होना भी तय माना जा सकता है।

मेष और मेष राशि की जोड़ी में दोनों ही थोड़े विद्रोही, लड़ाकू और स्वार्थी भी हो सकते हैं। ऐसा स्वामी ग्रह मंगल के प्रभाव के कारण हो सकता है। लेकिन अगर दूसरी तरफ नजर डालें तो यही कारण हैं जो उन्हें सफलता दिलाने में मददगार साबित होते हैं। उनके सपने पूरे होते हैं।

रिश्तों के मुद्दों से निपटने के लिए, विशेषज्ञ ज्योतिषियों से सलाह लें!

यह मेष और मेष राशि की जोड़ी अपने समान व्यक्तित्व के कारण एक दूसरे को समझने की कोशिश करती है। यदि यह जोड़ी एक-दूसरे के प्रति कठोर होती है तो इसका मतलब यह भी हो सकता है कि वह किसी नई दुनिया का निर्माण करने का प्रयास कर रही हो। उत्साह और ऊर्जा से भरी एक रोमांचक दुनिया।


मेष राशि के पुरुष और महिला के बीच संवेदनशीलता का स्तर

मेष राशि के पुरुष और मेष राशि की महिला के बीच एक मजबूत धागा होता है। जब वे अपनी जीवन शैली और अपनी आदतों की बात करते हैं तो वे बहुत कठोर हो जाते हैं। उग्रता इनके स्वभाव का ही एक पक्ष है। अगर उनकी इच्छाएं पूरी होती नजर नहीं आती हैं तो वे बिखर जाते हैं, उग्र हो जाते हैं।

दोनों के बीच एक दूसरे से बेहतर दिखने की होड़ लगी रहती है। वे एक दूसरे पर पूरी तरह नियंत्रण पाने की कोशिश करते रहते हैं। शक्ति पाने के चक्कर में कोई भी समर्पण नहीं करना चाहता, ऐसे में संघर्ष लगातार चलता रहता है।

इन सबके बाद सब बातों पर ध्यान दें तो कुल मिलाकर कहा जा सकता है कि एक मेष राशि के पुरुष और मेष राशि की महिला के बीच शानदार समझ विकसित हो सकती है। इसके लिए थोड़ा समझौता करने की जरूरत होती है।

मेष राशि की एक महिला सत्ता हाथ में रखना चाहती हैं। वह चाहती हैं कि सभी चीजों पर उनका नियंत्रण रहे। वे जब अपने शयनकक्ष में होती है तो भी यही चाहती हैं। वे चाहती हैं जब संभोग करें तो सब उसी की मर्जी से हो। इसी तरह मेष राशि के पुरुष का स्वभाव उसे संभोग के मामले में पीछे रहने की अनुमति नहीं देता है। इसी स्वभाव के कारण वह भी बिस्तर में मौजूद रहने के दौरान लीड करना पसंद करता है। संभोग के दौरान काफी जुनूनी नजर आते हैं। कामेच्छा इतनी उग्र होती है कि सामने वाले के पास उसके लिए बहुत अधिक सहनशक्ति की जरूरत होती है।

मेष राशि के व्यक्ति के जीवन में सब कुछ उसकी खुशी के आस पास घूमता है। ऐसे में जब दोनों साथी अपनी उत्कृष्टता सिद्ध करने में जुटे रहते हैं तो अंतरंग संबंध तो सार्थक सिद्ध हो जाते हैं, लेकिन भावुक संबंध इस मामले में पीछे रह जाते हैं। वे शून्य होते नजर आते हैं। कई बार ये अपने साथी के प्रति ज्यादा आक्रामक होते नजर आते हैं। अधिक प्रभाव जमाने लगते हैं।

मेष और मेष राशि की जोड़ी के प्रारंभिक संबंध एक दूसरे से पूरी तरह घुलने-मिलने की अनुमति प्रदान करते हैं। वे एक दूसरे के प्रेम निवेदन को बहुत प्यार से स्वीकार करते हैं। दोनों संबंधों को लेकर कई मामले में अनुकूल नजर आते हैं।


मेष राशि की महिला और मेष राशि के पुरुष

मेष राशि की महिला व पुरुष का प्रेम संबंध एक अलग अनुभव होगा, इनके रिश्ते में उतार चढ़ाव आ सकता है। बावजूद इनके ये कभी अपने व्यवहार में बदलाव नहीं करना चाहेंगे। स्पष्ट है कि वे अपने आत्मसम्मान के साथ किसी तरह का समझौता नहीं करना चाहेंगे। वे बैर भाव रखने के साथ ही झगड़े आदि में भी संलिप्त हो सकते हैं। मेष राशि के पुरुष व महिला खुद के साथ ईमानदार होने के साथ ही एक दूसरे के साथ भी ईमानदार होते हैं। ऐसे कोई प्रमाण नहीं है कि वे रिश्ते में समझौता करते हैं। वे आग का कुआं हैं और सकारात्मक ऊर्जा से भरे रहते हैं। इन गुणों के कारण उन्हें जीवन में आगे बढ़ने से कोई नहीं रोक सकता। हालांकि ये लोग बहुत सफल लोग होते हैं। वे हर काम को करने के लिए अतिरिक्त प्रयास करने में विश्वास रखते हैं और ऐसा करते भी हैं। इससे उन्हें अपने लक्ष्य को पूरा करने में मदद मिलती है।

इस राशि का स्वामी मंगल होता है। यह दंपत्ति में आत्मीयता बढ़ाने में मुख्य भूमिका निभाता है। यह ग्रह उन्हें एक दूसरे के करीब लाता है। अपने स्वभाव के वशीभूत वे झगड़ा भी करते हैं और उनके सम्मान को ठेस भी लगती है। इस जोड़े को बस यही ध्यान रखना है कि आक्रामकता से दूर रहें, रिश्ते में संतुलन बनाए रखें।

मेष राशि के जातक उन लोगों को बहुत पसंद करते हैं जो उन्हें अच्छे लगते हैं। यह भाव भी मेष राशि वालों को कुछ करने की प्रेरणा देती है। यह उनके आस पास नकारात्मक ऊर्जा को बाहर निकाल देता है और समृद्ध बनाने में मदद करता है। मेष और मेष राशि की जोड़ी का साथ होना एक रोलर कोस्टर की सवारी जैसा है। प्रेम से एक साथ रहकर वे कठिन समय को भी पार कर लेंगे। उन्हें वापस लड़ने के लिए खड़ा करेगा, मजबूत करेगा।