मीन राशि के डेकन (दशमांश), जानें क्या कहता ज्योतिष

नमस्कार, आज हम आपसे एक रहस्यमय राशि के बारे में बात करने जा रहे हैं। यह राशि चक्र की अंतिम राशि है, और इसके चरित्र की बहुत सारी विशेषताएं शामिल हैं। जी हां, हम बात कर रहे हैं मीन राशि की। हम इसके बारे में बताना चाहते हैं आपको इंतजार नहीं करवाना चाहते हैं, तो आइए जानते हैं मीन राशि के बारे में।


मीन राशि का डेकन (दस दिन का अंतराल)

  • मीन राशि को तीन डेकन यानी दस के अंतराल में बांटा जाता है। इसमें मीन राशि के पहले डेकन में वे लोग आते हैं, जिनका जन्म 19 फरवरी से 29 फरवरी के बीच हुआ होता है। इनका स्वामी नेपच्यून होता है। यह ग्रह धैर्य और केलकुलेटिव नेचर प्रदान करता है।
  • 1 से 10 मार्च के बीच जन्म लेने वाले लोगों को द्वितीय मीन राशि के दूसरे डेकन में माना जाता है, और उन पर चंद्रमा का शासन होता है। यह ग्रह उन्हें एक सुखी परिवार को आगे बढ़ाने के गुण प्रदान करता है।
  • मीन राशि के तीसरे डेकन में 11 और 20 मार्च के बीच पैदा हुए लोग शामिल होते हैं, और उन पर प्लूटो ग्रह का प्रभुत्व होता है। प्लूटो किसी के जीवन में कल्पना और महत्वाकांक्षा को बढ़ाने में मदद करता है।

मीन राशि क्या है?

मीन राशि राशि चक्र की बारहवीं और अंतिम राशि होती है। यह बिना कहे समझा जा सकता है कि मीन राशि सभी राशियों में सबसे रहस्यमय और भावुक होती है। दो मछलियां मीन राशि का प्रतिनिधित्व करती हैं, जो नेपच्यून ग्रह से प्रभावित होती है। नेपच्यून अंतर्ज्ञान, प्रेरणा, दृष्टि और भ्रम जैसी स्थितियों को नियंत्रित करता है। नतीजतन, अधिकांश मीन राशि वालों को दिन में सपने देखने वाला माना जा सकता है।

मीन राशि से जुड़ा व्यक्ति भावुक व्यक्ति होता है। यह राशि जल तत्व से जुड़ी होती है। प्रवाह में बहती रहती है। जब हम इसे मीन राशि की प्राकृतिक मानसिक क्षमता के साथ जोड़ते हैं, तो हमें पता लगता है कि मीन राशि का व्यक्ति शक्तिशाली तो है ही उसके साथ ही सहज और दयालु प्रवृत्ति का व्यक्ति होता है।


मीन डेकन प्रथम: 19 फरवरी से 29 फरवरी

मीन चक्र का पहला दशमांश या खंड, यानी पहले दस दिन, केवल बृहस्पति का प्रभुत्व है और खुले विचार और दयालु होना इन लोगों की विशेषता है।

इस राशि के जातक जीवन को आशावादी दृष्टिकोण से देखते हैं और संवेदनशील भी होते हैं। वे भले ही पूरी तरह सम्पन्न न हों, फिर भी वे जीवन में विलासिता और आराम जैसी चीजों का आनंद लेते हैं। उनकी संवेदनशीलता और आध्यात्मिकता उन्हें शादी से दूर ले जाती है। वे दयालु, दानवीर, भरोसेमंद और कल्पनाशील होते हैं, लेकिन वे अपने आप कोई काम नहीं करते, दूसरों की सलाह के आधार पर कार्य करते हैं।

इस राशि के जातक बेहद सहज होते हैं, इसलिए आप अन्य लोगों के मूड, विचारों और भावनाओं को समझ सकते हैं। ये इतने भावुक होने के कारण ही कई बार मन ही मन परेशान भी होते रहते हैं। ये दूसरों की चिंताओं को लेकर भी परेशान हो जाते हैं। आप पर इसका प्रभाव ज्यादा इसलिए नहीं होता है क्योंकि आपका स्वभाव दूसरे की निस्वार्थ मदद करने का होता है। ऐसे में अगर आप किसी दूसरे का बोझ सहन करने में सक्षम हैं तो आप ऐसा जरूर करेंगे।


नेपच्यून मीन राशि को कैसे प्रभावित करता है

मीन या नेपच्यून का दशमांश सबसे लोकप्रिय माना जाता है। अब तक जिन बातों पर चर्चा हुई है उनमें कई बातें सामने आई हैं। फिर भी इनके अलावा भी बहुत कुछ हैं जो आपको बताया जा सकता है। मीन राशि के कारण इसमें जन्म लेने वाले जातकों की ग्रहण करने और उसके अनुकूल हो जाने की क्षमता अधिक होती है, लचीलापन काफी ज्यादा होता है। आप जीवन की धड़कन को महसूस कर सकते हैं।

इस पर नेपच्यून का प्रभाव आपके नजरिए और स्वरूप को कोमलता प्रदान करेंगे। आप अपने दैनिक व्यवहार में न तो हिंसक होते हैं न ही किसी से शत्रुता रखते हैं। आम तौर पर आपको वही मिलेगा जो आप वास्तव में चाहते हैं और जिसकी आपको आवश्यकता है। इसके साथ ही, आप उन लोगों को सही से जवाब नहीं देते हैं, सही व्यवहार नहीं करते हैं, जिनके मन में दूसरों के प्रति दयालुता और शिष्टाचार नहीं होता है, आप उनके साथ शिष्टाचार पूर्ण व्यवहार नहीं करते हैं।

भ्रम की दुनिया का स्वामी नेपच्यून लीडर भी होता है और उप शासक भी। यह सरलता और कल्पना पर जोर देता है। अपने पक्ष में डबल नेपच्यून के साथ मीन के जातक बिना सोचे समझे लोगों से बात करते हैं, बिना किसी आधार पर वार्ता करते हैं। अगर उन्हें यह कहा जाए कि आप क्या करने जा रहे हैं, इतना कहते ही वे अपने आने वाले कदम के बारे में योजना तैयार कर लेते हैं।

संभवतया वे अपने इस पक्ष के बारे में पहलेे से नहीं जानते हैं, उन्हें इसका अंदाजा नहीं लगा है। यही कारण है कि अब तक वे इसे हल्के में लेते आए हैं। मीन राशि में दो मछली होना यानी उनका दोहरा रवैया, मंजिल तक पहुंचने से पहले राही को दो बार चक्कर कटवा देता है।

एक और बात हम बताते हैं, यह आपके जीवन में आपके द्वारा लिए गए हर निर्णय के लिए स्पष्टता देने के संबंध में है।

एक सफल और समृद्ध जीवन व्यतीत करें, निशुल्क जन्मपत्री विश्लेषण!


मीन डेकन द्वितीय: 1 मार्च से 10 मार्च

मीन राशि का दूसरा डेकन दस दिनों का होता है। इसमें एक मार्च से दस मार्च के बीच जन्म लेने वाले लोग शामिल होते हैं। मीन राशि के दूसरे जातकों के मुकाबले ये सबसे अधिक सतर्क और दयालु जातक होते हैं। इन पर बृहस्पति के अलावा चंद्रमा का प्रभुत्व है।

इस दशमांश के जातक बाकी लोगों की तुलना में अधिक चालाक और अधिक दयालु होते हैं। रिश्तों में सबसे उदार और वफादार होते हैं। ये अपने प्रियजनों के लिए कुछ भी करने के लिए तैयार रहते हैं। वे बेहद संवेदनशील होते हैं और इसलिए बहुत सारी चिंताएं हमेशा उनके साथ लगी रहती है। इन्हें सबको संभालकर एक साथ आगे ले जाने की जरूरत होती है।

अगर वे वास्तव में कुछ बातों को गंभीरता से ले लेते हैं तो उनके पास दौलत, प्यार, दोस्त, शौहरत और बहुत कुछ होगा। जब वे मेहनत और प्रयास करते हैं तो कायनात खुद उनके लिए सफलता की तैयारी कर लेती है। हालात इसी तरह के बनाती है कि सफलता उनके कदम चूमें।


चंद्रमा मीन राशि को कैसे प्रभावित करता है

दूसरे दशमांश वाले मीन राशि के जातकों पर चंद्रमा का प्रभाव पारिवारिक संबंधों से संबंधित होता है। यह तय करता है कि परिवार के साथ उनका व्यवहार कैसा होगा।

उनके माता-पिता ने जिस तरह का सुरक्षात्मक और सुकून भरा माहौल उन्हें दिया है, जैसे माहौल में उनकी परवरिश की है, उसे छोडऩा इन जातकों के लिए मुश्किल भरा साबित हो सकता है। हांलाकि उस माहौल से निकलकर ही जीवन के संघर्ष में सफलता हासिल की जा सकती है, विकास किया जा सकता है। अपने परिवार को स्थापित करने और अपने प्रियजनों की देखभाल के बीच अपने संघर्ष को ठीक करने में मदद मिलेगी।

ये लोग चंद्रमा और नेपच्यून के प्रभाव के बीच पैदा हुए हैं और दूसरों की भागीदारी के प्रति बेहद संवेदनशील और विचारशील हैं। वे अपनी रचनात्मक क्षमताओं का उपयोग करके किसी भी सामाजिक सवालों का जवाब दे सकते हैं, फिर ये सवाल औपचारिक हों या अनौपचारिक।


मीन डेकन द्वितीय: 11 मार्च से 20 मार्च

मीन राशि के तीसरे डेकन राशि के जातक रहस्यमयी व्यक्तित्व होते हैं। ये प्रयोग करने में विश्वास करते हैं और ये ताकतवर भी होते हैं। मीन राशि का तीसरा दशमांश, राशि चक्र के छत्तीस दशमांशों में यह दशमांश सबसे अंतिम होता है। यह वृश्चिक राशि के साथ समानता रखता है क्योंकि इन जातकों के मन में बहुत सारे विचार होते हैं।

इस अंतिम दशमांश के जातक बेहद मजबूत होते हैं। वे कम संवेदनशील होते हैं। लेकिन आखिर में वे अच्छे सपने देखने वाले और काल्पनिकता से भरे होते हैं। वे दिल से रोमांटिक और आध्यात्मिक होते हैं। यद्यपि वे नैतिकता और अच्छाई में विश्वास करते हैं। ऐसे में ये ईर्ष्या और बुरी लत का शिकार हो सकते हैं।

ये जातक आध्यात्मिक जुड़ाव के प्रति विशेष रूप से संवेदनशील होते हैं। अपनी छवि और प्रवृत्ति के प्रति बेहद संवेदनशील हैं। आपके जीवन में अध्यात्म वास्तव में महत्वपूर्ण स्थान रखता है। आप अभी भी आत्मा की खोज और खुशी के वास्तविक अर्थ की खोज के बारे में ज्यादातर समय विचार करते रहते हैं। आप भी एक शक्तिशाली कल्पना रखने वाले व्यक्ति के साथ एक गहरे विचारक होते हैं। ऐसे विचार, जो वास्तव में कविताओं और साहित्य के कार्यों का निर्माण कर सकते हैं।


प्लूटो मीन राशि को कैसे प्रभावित करता है

प्लूटो इस डेकेन के जातकों पर उप-प्रभाव है। वृश्चिक राशि आठवें घर का स्वामी होती है। यह उत्सुकता, जिज्ञासा, प्रेरणा, इच्छा शक्ति और दृढ़ संकल्प जैसी विशेषताओं को नियंत्रित करता है। यह अपनी शक्तियों को उपयोग सकारात्मक तरीके से करता है। यदि अपने प्रयासों में ये सकारात्मक रूप से आगे बढ़ेंगे तो सफलता जरूर मिलेगी।

हालांकि मीन राशि का अकेलापन उसे असंतुष्ट बना देता है। यह उनकी भावनाओं को और भी हवा दे देता है। लेकिन फिर भी इन सब के बावजूद मीन राशि के जातक को पीछे नहीं हटना चाहिए। उसे प्रयास करते रहना चाहिए। आपके पास मीन राशि की रचनात्मकता और कल्पनाशीलता होती है। ऐसे में अपनी ही राशि के पहले दशमांश से विपरीत भौतिक रूप से मौजूद सत्य को अपनाना चाहिए। अपनी बात पर दृढ़ बने रहना चाहिए।

मंगल जहां पहल, शक्ति और शुरुआत करने वाली ऊर्जा का ग्रह है। यह मीन राशि के स्वामी ग्रह नेपच्यून का विरोधी ग्रह है। यह उनकी गतिविधि बढ़ाने पर जोर देता है। इस डेकन का अंत यानी अगले राशि चक्र की शुरुआत होती है। इस डेकन के अंत के बाद मेष राशि आती है। इसके बाद एक जातक और भी अधिक गति हासिल कर लेता है, विकास कर पाता है। वे अपने परिवेश के प्रति बहुत संवेदनशील होते हैं।

अपने जीवन के इस सफर को पूरा करने के लिए सही समय नहीं मिल पा रहा है? चिंता करने की कोई जरूरत नहीं। 1 रुपए प्रति मिनट की दर से अभी विशेषज्ञ से सलाह लें।

दोस्तों आशा है कि आपको बताई गई जानकारी जो हमने आपको बताई है, वह आपको लाभ पहुंचाएगी। इस जानकारी से आप मीन राशि के तीन डेकन को पूरी तरह समझ पाए हैं। अब समाप्ति का समय है, उम्मीद है कि आप अपने जीवन को खुशी के साथ जीते रहेंगे।