धनु डेक्कन (dhanu decans) : धनु राशि के तीनों डेक्कन और ज्योतिष

ज्योतिषीय राशि को तीन बराबर भागों में बांटा जाता है। आप जिस राशि में पैदा हुए हैं, उसे भी तीन भागों में बांटा जाता है। प्रत्येक राशि का संकेत 30 डिग्री से बना होता है। इसके बाद उन्हें तीन भागों में बांटा जाता है, जिससे प्रत्येक भाग 10-10 डिग्री का बनता है। इसे ही डेक्कन (दस दिनों का अंतराल) कहा जाता है। अब आपके मन में सवाल होगा कि डेक्कन हमारी कैसे मदद करता है? चूंकि यह हमारे जन्म ज्योतिष का एक छोटा सा हिस्सा है, इसलिए यह हमें अधिक सटीक ज्योतिषीय भविष्यवाणियों में मदद करेगा।


धनु राशि के तीन डेक्कन

पहले धनु डेक्कन (दस दिनों का अंतराल) के जातक का जन्म 23 नवंबर और 2 दिसंबर के बीच हुआ है, और इस पर बृहस्पति का शासन है। इस ग्रह जातक को ईमानदारी और ध्यान केंद्रित की क्षमता प्रदान करता है।

दूसरे धनु डेक्कन में वे लोग होते हैं, जिनका जन्म 3 दिसंबर से 12 दिसंबर के बीच हुआ है, और इन पर मंगल का शासन है। यह ग्रह इन लोगों को जुनूनी और मल्टीटास्किंग बनाता है।

तीसरे धनु डेक्कन में जन्म लेने वाले जातक वह होते हैं, जिनका जन्म 13 दिसंबर और 21 दिसंबर के बीच हुआ है, और उन पर सूर्य का शासन होता है। सूर्य उन्हें वास्तविकता और जमीन से जुड़े रहने की भावना प्रदान करता है।


धनु राशि डेक्कन क्या है?

जैसा कि ऊपर उल्लेख किया गया है, एक डेक्कन आपकी राशि का एक तिहाई हिस्सा होता है। प्रत्येक राशि को आवंटित 30 डिग्री में से एक डेक्कन 10 डिग्री से बना होता है।

23 नवंबर से 21 दिसंबर के बीच जन्म लेने वाले लोग धनु राशि के होते हैं। उस समय सीमा को तीन भागों में बांटने पर हमें धनु राशि के डेक्कन प्राप्त होगा। जिसके माध्यम से हम राशि चक्र के ज्योतिषीय तत्वों और उनके अंतर्गत आने वाले व्यक्तियों के बारे में गहराई से जान पाएंगे।

यहां हम आपको धनु राशि के तीनों डेक्कन के बारे में बताएंगे।


धनु राशि का पहला डेक्कन- 23 नवंबर से 2 दिसंबर

धनु राशि के इस डेक्कन में जन्में लोग ईमानदार होने के साथ थोड़े मंदबुद्धि होते हैं, जो आपके आस पास हो सकते हैं। हालांकि इनका सेंस ऑफ ह्यूमर अच्छा होता है, और यह बड़े दिल वाले होते हैं। वह हमेशा किसी भी साहसिक कार्य को करने के लिए तैयार रहते हैं। धनु राशि के पहले डेक्कन के जातक सबसे साहसी और बहादुर होते हैं। वास्तव में, धनु राशि के जातक अन्य राशियों की तुलना में काफी बहादुर होते हैं।

वह हमेशा खुश रहते हैं, और जहां भी जाते हैं, वहां पर हंसी खुशी का माहौल बना देते हैं। वह खुश रहने में ही विश्वास करते हैं। कभी कभी उनकी ईमानदारी उन्हें अवांछित परेशानियों में डाल सकती है, जिन्हें टाला जा सकता था। इन जातकों को सलाह दी जाती है कि वे ऐसी समस्याओं से सावधान रहें।


धनु राशि के पहले डेक्कन को कैसे प्रभावित करता है बृहस्पति

धनु राशि के पहले डेक्कन का शासक ग्रह बृहस्पति है, जिसके चलते यह जातक को कई तरह से प्रभाव डालता है। बृहस्पति उन्हें फोकस और एकाग्रता देता है। धनु राशि के लोग हमेशा गलत के खिलाफ खड़े रहते हैं, वह सच्चाई के लिए लड़ाई लड़ते हैं। वह हमारे बीच से भ्रष्ट लोगों को बाहर निकाल फैंकने में विश्वास करते हैं।

दुर्भाग्य यह है कि इस डेक्कन के जातक बिना सोचे कानून को अपने हाथ में ले सकते हैं। वे अपनी अलग सोच के कारण काले कारनामो को अंजाम दे सकते हैं। हालांकि यह लोग दिमाग के साथ साथ अपने काम को अंजाम देने में भी तेज होते हैं। अगर उन्होंने किसी कार्य को करने के लिए समय निर्धारित कर लिया है, तो वह तब तक नहीं रुकेंगे, जब तक वह उस कार्य को पूरा नहीं कर लेंगे। वे किसी भी क्षेत्र में सफलता के नए स्तर को छू सकते हैं। दूसरी ओर, यदि उनके पास करने के लिए कुछ नहीं है, तो वे अवसाद में जा सकते है, जिससे उनका नुकसान हो सकता है।

जन्म के समय ग्रहों की स्थिति आपके जीवन को कई तरह से प्रभावित करती है। हम जिन डेक्कन के बारे में बात कर रहे हैं, उनके अलावा आपका लग्न और राशि भी आपके जीवन को आकार देने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। जन्मपत्री को पूरी तरह से समझने से आपको इसे समझने में मदद मिलेगी।


दूसरा धनु डेक्कन- 3 दिसंबर से 12 दिसंबर

इस डेक्कन के मूल निवासियों के लिए ऊर्जा और उत्साह खेल के नाम हैं। दूसरे डेक्कन के जातकों का जीवन ऊर्जा और प्रेम से भरा होता है। ये लोग बहुत आवेगी होते हैं, जब यह आपके आसपास होते हैं, तो उनके द्वारा जल्दबाजी में लिए गए निर्णयों को देख सकते हैं। वह एक जगह टिके नहीं रहते हैं, और ज्यादा बेचैन भी नहीं होते हैं।

हालांकि आप उन्हें मूर्ख न समझें, वह अपने जीवन के लक्ष्य से अच्छे से परिचित है। वह अपने जीवन से क्या चाहते हैं, यह जानते हैं। इसके लिए वह काफी मेहनत करते हैं, यह उनकी रोजमर्रा की जिंदगी में भी दिखता है। वह अपने जीवन में विविधता की तलाश करते हैं, और अगर कोई नहीं मिलता है, तो वह वह ऊब जाते हैं। वह अपने द्वारा लक्षित किसी भी कार्य में महारत हासिल कर सकते हैं। वह किसी भी दिन अपने जीवन में रोमांच भर सकते हैं। हालांकि एक सच्चाई यह भी है कि वह कभी कभी कठोर हो जाते हैं।


धनु राशि के दूसरे डेक्कन को कैसे प्रभावित करता है मंगल ग्रह

लाल ग्रह के नाम से जाने वाले मंगल ग्रह को उग्र और आक्रामक माना जाता है। हालांकि, यह धनु राशि के दूसरे डेक्कन में जन्मे लोगों को अपार प्रतिभा का आशीर्वाद देता है, और वह प्रसिद्धि प्रदान करता है, जिसके आम आदमी सिर्फ सपने देखता है। इस राशि के जातक अपने कार्यों को लेकर विश्वासी, विलक्षण और मजबूत होते हैं। वे अपने नैतिक नियमों को हमेशा बढ़ावा देते हैं। वह साहसिक के साथ भावुक भी होते हैं। वह जिसे चीज को हासिल करना चाहते हैं, उसे पाए बिना पीछे नहीं हटते हैं। धनु राशि के दूसरे डेक्कन के जातक मल्टीटास्किंग भी होते हैं।

वह हमेशा मानसिक और शारीरिक ऊर्जाओं से भरपूर रहते हैं। कभी-कभी वह अपने बिना किसी उद्देश्य से ऐसी जगहों पर चले जाते हैं, जहां आम लोग नहीं जाते हैं। हालांकि वह अवसाद से भी ग्रस्त हो सकते हैं। वह प्रकृति के साथ एक गहरा रिश्ता रखते हैं, वह सब कुछ अपनी आंखों से देखना पसंद करते हैं। वे स्वभाव से बहुत भौतिकवादी नहीं है।


धनु राशि का तीसरा डेक्कन- 13 दिसंबर से 21 दिसंबर

इस डेक्कन में जन्म लेने वाले जातकों में शुद्धता और सच्चाई भरपूर होती है। दूसरे डेक्कन के जातकों के लिए जो हमने चर्चा की, उसके विपरीत धनु राशि के तीसरे डेक्कन के लोग आवेगी नहीं होते हैं। वे अपने लेन-देन को लेकर सतर्क होते हैं, और और इस वजह से बहुत अच्छे वार्ताकार हैं। वे जन्मजात नेता होते हैं और आसानी से लोगों को प्रभावित कर सकते हैं। वह मजेदार तथ्यों के साथ लोगों को आकर्षित करने की क्षमता रखते हैं।

वे अपने कार्यों को लेकर सतर्क और सावधान हो सकते हैं, लेकिन वे जोखिम लेने से कभी नहीं कतराएंगे। यह जातक बहुत प्यारे होते हैं। जिनसे भी आप इनके बारे में जानेंगे, या जो लोग इन्हें व्यक्तिगत रूप से जानते हैं, वह इनके बारे में आपको बताएंगे। तीसरे डेक्कन के जातक अच्छे मनोरंजनकर्ता, कलाकार और अभिनेता हो सकते हैं। हालांकि, वे दूसरे लोगों के बारे में जानने को लेकर अच्छे नहीं होते हैं। अर्थात वह दूसरों को आसानी से नहीं समझ पाते हैं।


धनु राशि के तीसरे को सूर्य कैसे प्रभावित करता है

धनु राशि का तीसरा डेक्कन सूर्य द्वारा शासित होता है। जब भी सूर्य ग्रहण होता है, तो इस डेक्कन के जातक अज्ञात चीज से डरते हैं। इसके अलावा सूर्य ग्रह इन्हें यथार्थवादी और स्थिर बनाता है। वे औसत धनु राशि के मूल निवासियों की तुलना में कम आदर्शवादी और एकता के लिए जाने जाते हैं। इसका मतलब यह नहीं है कि इन लोगों के बड़े सपने नहीं होते हैं, यह लोग भी बड़े सपने देखते हैं, और उसे पूरा करने के लिए काफी मेहनत करते हैं।

दिलचस्प बात यह है कि इन लोगों को डार्क सेंस ऑफ ह्यूमर के लिए भी जाना जाता है। वे निराशाजनक रूप से रोमांटिक नहीं हैं। वह दुनिया और अपने आसापास के लोगों को लेकर संदेह की भावना रखता है। धनु राशि तीसरे डेक्कन के लोग शिक्षक और परामर्शदाता के रूप में बेहतरीन काम करते हैं। वे अपराध और उनसे जुड़ी कहानियों से भी प्रभावित होते हैं, क्योंकि वे मानव व्यवहार का अध्ययन करना पसंद करते हैं। उन्हें इतिहास में भी काफी रुचि होती है।

धनु राशि के तीनों डेक्कन के जन्म के इतने कम समय में विशेषताओं क्या मिश्रण है। नहीं, धनु राशि के जातक हमेशा से ही पेचीदा होते हैं। हालांकि उनके डेक्कन उन्हें थोड़ा और साबित करते हैं। हमें उम्मीद है कि हमने इस लेख के माध्यम से धनु राशि के तीनों डेक्कन के बारे में समझा दिया होगा। आपको यह समझ आ गया होगा कि तीनों डेक्कन एक दूसरे से थोड़े बहुत अलग है।

किसी भी समस्या से निजात पाने के लिए हमारे विशेषज्ञ ज्योतिष से बात करें