तमिल संस्कृति में क्यों मनाया जाता है आदि पेरुक्कू? जानें इस से जुड़ी महत्वपूर्ण बातें

तमिल संस्कृति में क्यों मनाया जाता है आदि पेरुक्कू? जानें इस से जुड़ी महत्वपूर्ण बातें

तमिल महीना ‘आदि’, तमिलनाडु में मानसून की शुरुआत का प्रतीक है। इस महीने में मानसून के कारण नदियों में जल स्तर बढ़ जाता है। प्रकृति के प्रति अपनी कृतज्ञता दिखाने के लिए और कावेरी नदी को धन्यवाद देने के लिए आदि पेरुक्कू का त्योहार मनाया जाता है। आदि पेरुक्कू एक अद्वितीय दक्षिण भारतीय और विशेष रूप से तमिल राज्य का त्योहार है जो ‘आदि’ के तमिल महीने के 18 वें दिन मनाया जाता है।

आदि पेरुक्कू हर साल 2 या 3 अगस्त को पड़ता है। आदि पेरुक्कू, को पथिनेट्टम पेरुक्कू के नाम से भी जाना जाता है। “पडिनेट्टम पेरुक्कु” में पदिनेट्टु अठारह का प्रतीक है, और पेरुक्कू आरंभ या उदय को दर्शाता है। यह त्योहार मुख्य रूप से तमिलनाडु में महिलाओं द्वारा मनाया जाता है। महिलाओं द्वारा मनाए जाने वाले जल-अनुष्ठान के रूप में आदिपेरुक्कू को प्रकृति का सम्मान करने के लिए कहा जाता है। इस शुभ दिन में, देवी पार्वती की पूजा चावल के विभिन्न व्यंजनों से की जाती है। कावेरी जैसी पवित्र नदियों में फूल, अक्षत और चावल का प्रसाद चढ़ाया जाता है। पुराण के अनुसार, पार्वती देवी ने दिव्य दृष्टि प्राप्त करने के लिए भगवान शिव का ध्यान किया और भगवान शिव शंख-नारायण स्वामी के रूप में प्रकट हुए। माना जाता है कि श्री भूमि देवी का अवतार भी इसी महीने में हुआ था।

आमतौर पर आदि पेरुक्कू के शुरू होने से पहले जलाशयों से पानी छोड़ा जाता है,ताकि श्रद्धालुओं के लिए नदी में पानी भरा रहे। लोग पानी में पवित्र डुबकी लगाते हैं और नदी के किनारे स्नान घाटों पर पूजा करते हैं। पूजा के बाद, उनके पास नदी के किनारे परिवार के साथ ‘कलंधा साधम’ (किस्म के चावल) के लिए इकत्रित होते हैं।

साल 2022 में आदि पेरुक्कू कब है?

आदिपेरुक्कू 20223 अगस्त 2022
दिन बुधवार
सूर्योदय3 अगस्त 2022, 06:11 AM
सूर्यास्त3 अगस्त 2022, 07:20 PM

आदि पेरुक्कू का इतिहास और अर्थ

आदि पेरुक्कू को पथिनेट्टम पेरुक्कू के नाम से भी जाना जाता है। तमिल कैलेंडर के अनुसार, मानसून की शुरुआत तमिलनाडु में आदि के महीने से होती है। इस समय नदी में जल स्तर में वृद्धि देखी जाती है। तमिलनाडु में आदि के महीने में खेती में बीज बोने, जड़ने और अन्य प्रक्रियाओं जैसी गतिविधिया अनुकूल रूप से की जाती हैं। आदि पेरुक्कू प्रजनन क्षमता को मनाने का एक भव्य अवसर है जो राजाओं और शाही परिवारों के समय से मनाया जाता रहा है।

आदि पेरुक्कू पानी के जीवन-निर्वाह गुणों के सम्मान में मनाया जाता है जो मानवता के लिए एक उपहार हैं। प्रकृति माता की पूजा लोग अम्मान देवताओं के रूप में करते हैं। वे इस दौरान कावेरी नदी के प्रति आभार भी व्यक्त करते हैं। एक तरह से यह प्रकृति को अपनी कृपा, शांति और समृद्धि की वर्षा करने के लिए धन्यवाद देना कहा जा सकता है। जल अनुष्ठान मुख्य रूप से तमिलनाडु की महिलाओं द्वारा श्रद्धांजलि के रूप में किया जाता है। वे झीलों और राज्य के सभी बारहमासी नदी और जल स्रोतों की पूजा करती हैं। यह दक्षिण भारत में एक विशिष्ट घटना है और तमिलनाडु का एक उल्लेखनीय त्योहार है।

आदि पेरुक्कू का उत्सव

आदि पेरुक्कू के अवसर पर अविवाहित लड़कियां समाज की विवाहित महिलाओं के साथ अनुष्ठान और पूजा करती हैं। विधि के अनुसार अविवाहित महिलाएं जो चावल और गुड़ से बनी मिठाई, ताड़ के पत्तों की बालियां और काले रंग की माला चढ़ाती हैं, उन्हें मनचाहा वर मिलता है। विवाहित पुरुषों को उनके ससुराल वाले आमंत्रित करते हैं और उपहार के रूप में नए कपड़े देते हैं। विवाहित महिलाएं अपने माता-पिता के घर जाती हैं और आदि पेरुक्कू से पहले एक महीने तक वहां रहती हैं। आदि पेरुक्कू के एक दिन बाद वे अपने पति के साथ वापस लौटती हैं। महिलाएं आमतौर पर चावल की अलग-अलग चीजें तैयार करती हैं और उन्हें कावेरी नदी पर चढ़ाती हैं।

जो लोग किसी कारण से मंदिरों में नहीं जा पाते हैं, घर में हल्दी के पानी की पूजा करने के बाद इसे पौधों पर डालें या पूजा शेल्फ में देवताओं पर छिड़कें। सक्कराय पोंगल इस अवसर पर नैवेद्य के रूप में अर्पित किया जाता है। महिलाएं इस दिन आमतौर पर घर के सामने सुंदर कोलम बनाती हैं। प्रवेश द्वार पर आम के पत्ते लगाए जाते हैं। पूजा की थाली को दलिया, नारियल के दूध और वडाई से सजाकर एक विशेष पूजा की जाती है।

अच्छे समय का आगमन

आदी पेरुक्कू को एक नई शुरुआत के रूप में माना जाता है। साथ ही माना जाता है कि इस दिन कुछ नया खरीदने से समृद्धि मिलती और धन लाभ भी मिलता है। अपने इस अटूट विश्वास के कारण लोग इस दिन सोना खरीदना बहुत ज्यादा पसंद करते हैं। पूरे साल जमा किए हुए पैसे से हर कोई अपने पसंद के सोने की चीज लेने के लिए ज्वैलर्स के दुकान में इस दिन मिल सकता है। हालांकि, जरूरी है कि सोना खरीदने से पहले उसके गुणवत्ता और खरे होने की परख जरूर करें।

आदि पेरुक्कू पवित्र नदियों का सम्मान

आदि के महीने को बीज बोने और पौधे लगाने के लिए एक अच्छा समय माना गया है। इस समय वरुण देव बारिश के रूप में अपने भरपूर आशीर्वाद की वर्षा करना शुरू कर देते हैं। इस समय लगाई गई वनस्पतियां अन्य मौसमों में लगाए गए पौधों की तुलना में बेहतर फलती-फूलती हैं और थाई पोंगल उत्सव की पूर्व संध्या पर 5 महीने की अवधि में कटाई की जा सकती है।

हमारे देश में समृद्ध सांस्कृतिक विरासत के साथ गंगा जैसी पवित्र नदियों की भक्ति के साथ पूजा की जाती है क्योंकि उनका भगवान विष्णु से निकटता से संबंधित होने का एक प्राचीन इतिहास है। माना जाता है कि माँ गंगा श्री हरी विष्णु के चरणों से गुजरती हैं और महादेव शिव की जटाओं में विराजमान है।

आदि पेरुक्कू जीवन को बनाए रखने के लिए कृतज्ञता

महान तमिल विद्वान थिरुवल्लुवर, जिनकी ख्याति दुनिया भर में मशहूर है, इस तथ्य को स्वीकार करते हैं कि अगर बारिश नहीं हुई तो इस के परिणाम स्वरूप दुनिया समाप्त हो सकती इसलिए इस दुनिया में बारिश को महत्व देना बहुत ही ज्यादा जरूरी है। इस बात को समझते हुए कई जगह जलशयों के निर्माण को महत्व भी दिया गया है।

जल-अनुष्ठान न केवल भौतिकवादी लाभ प्राप्त करने के लिए मनाया जाता है, बल्कि मानव जीवन में पानी द्वारा निभाई जाने वाली भूमिका को समझने के लिए भी मनाया जाता है। इसलिए इसे भविष्य की पीढ़ियों तक पहुंचाने के लिए संरक्षित किया जाता है।

आदि पेरुक्कू एक परंपरा

परंपरागत रूप से, यह माना जाता है कि जो युवा लड़कियां नदी के किनारे करुगामणि (काले मोती), काधोलई (ताड़ के पत्तों को झुमके बनाने के लिए मोड देना) और काप्परसी अर्पण करके पूजा करती हैं, उन्हें भगवान से अच्छे पति प्राप्ति का आशीर्वाद मिलता है। आदि पेरुक्कू के दिन, महिलाएं देवी पार्वती की पूजा करती हैं। चावल के विभिन्न स्वाद जैसे मीठा पोंगल, दही चावल, इमली चावल, नींबू चावल आदि तैयार किए जाते हैं और देवी को भक्ति के साथ प्रस्तुत किए जाते हैं। भक्त पवित्र जल में डुबकी लगाते हैं और नए वस्त्र धारण करते हैं। अब कावेरी अम्मन का पवित्र स्नान किया जाता है और जुलूस आगे भी जारी रहता है।
आदि पेरुक्कू का उल्लेख सिलपथिकारम में भी मिलता है। कई विवाहित महिलाएं अपनी ‘थाली’ पर धागा बदलने के लिए हर साल इस दिन मीनाक्षी मंदिर के तालाब में आती हैं और इस भीड़ में लड़कियों भी शामिल होती है, जिससे पता चलता है कि हमारी संस्कृति संरक्षित है। नवविवाहित महिलाओं के बगल में विवाह की गांठों (थाली) के परिवर्तन के दौरान पति बैठते हैं।