अगस्त माह के मुहूर्त के साथ 2023 उपनयन तिथियां

Upanayana Muhurat in 2023

क्या आप उपनयन संस्कार और उपनयन मुहूर्त 2023 के महत्व के बारे में अधिक जानते हैं? उपनयन संस्कार को जनेऊ संस्कार या यज्ञोपवीत संस्कार भी कहा जाता है। यह हिंदू धर्म में महत्वपूर्ण अनुष्ठानों में से एक है। इस प्रकार आने वाले वर्षों के लिए भी उपनयन संस्कार मुहूर्त तिथियों को देखने की सलाह दी जाती है, जैसे हमने आपके लिए उपनयन मुहूर्त 2022 तिथियां दी हैं। इस शुभ अवसर की गणना का मुख्य उद्देश्य यही है कि बालक को देवी-देवताओं और परिवार के सभी सदस्यों की कृपा प्राप्त हो। तो चलिए उपनयन मुहूर्त 2023 के बारे में अधिक जानने के लिए आगे बढ़ते हैं।

जनेऊ संस्कार 2023

हिंदू धर्म में पूरे सम्मान के साथ किए जाने वाले सोलह संस्कार हैं। उपनयन संस्कार उन सोलह संस्कारों में से एक है और इसे जनेऊ संस्कार भी कहा जाता है। जनेऊ तीन सफेद रंग के धागों से बनाया जाता है जो प्रकृति में पवित्र होगा। इसे बाएं कंधे से दाएं तरफ पहनना चाहिए। यह उन लड़कों द्वारा पहना जाएगा जिनकी उम्र 8 से ऊपर है।

सनातन धर्म के अनुसार, उपनयन भगवान के साथ सीधा संबंध कहता है। इस अनुष्ठान के लिए मुहूर्त जाँचने को यज्ञोपवीत संस्कार मुहूर्त भी कहा जाता है। यज्ञो शब्द का अर्थ है यज्ञ-हवन करने का अधिकार रखने वाला। ऐसा माना जाता है कि जब आप सही विधि से जनेऊ संस्कार करते हैं तो सभी पाप और दोष समाप्त हो जाते हैं। इसलिए यह ध्यान देने योग्य बात है कि एक बच्चे का दूसरा जन्म होता है।

पहले के दिनों में, जनेऊ संस्कार करने के बाद ही लड़के को शिक्षा प्राप्त करने की अनुमति दी जाती थी। इस लेख में हम विस्तार से बताते हैं कि बच्चे का उपनयन कब करें।

उपनयन मुहूर्त 2023 के लाभ और महत्व

हिंदू संस्कृति के अनुसार उपनयन या जनेऊ संस्कार का ज्योतिषीय, वैज्ञानिक और धार्मिक महत्व है। उपनयन का अनुष्ठान त्रिमूर्ति (ब्रह्मा, विष्णु और शिव) से जुड़ा हुआ है। इस प्रकार तीन जनेऊ या तीन धागे इन तीन देवताओं का प्रतिनिधित्व करते हैं। ब्रह्मा ने इस संसार की रचना की, विष्णु इस संसार के पालक हैं और शिव संहारक हैं। यही कारण है कि जहां उपनयन संस्कार करते समय देवताओं से सीधा संबंध होने के बारे में जाना जाता है।

  • उपनयन करने वाले ब्राह्मण और क्षत्रिय के लिए मंगलवार का दिन श्रेष्ठ होता है।
  • दूसरों के लिए शुभ दिन बुधवार, गुरुवार और शुक्रवार हैं
  • शुभ तिथि :- 2, 3, 5, 6, 10, 11, 12
  • ऋग्वेदी ब्राह्मण के लिए अश्लेषा, पूर्व फाल्गुनी, हस्त, चित्रा, स्वाति, मूला, पूर्वाषाढ़ा, श्रवण, पूर्वाभाद्रपद, आद्रा, मृगशीर्ष-नक्षत्र उपनयनम करने के लिए अच्छे हैं।
  • शामवेदी ब्राह्मण के लिए अश्विनी, आद्रा, पुष्य, उत्तरा फाल्गुनी, हस्त, उत्तराषाढ़ा, श्रवण, घनिष्ट, उत्तर भाद्रपद, नक्षत्र अच्छे हैं।
  • अथर्ववेद के लिए ब्राह्मण, मृगशीर्ष, पुनर्वसु, हस्त, अनुराधा, धनिष्ठा, रेवती नक्षत्र अच्छे हैं।
  • यजुर्वेद ब्राह्मण के लिए: रोहिणी, मृगशीर्ष, पुनर्वसु, पुष्य, उत्तरा फाल्गुनी, हस्त, चित्रा, अनुराधा, उत्तरा आषाढ़, उत्तरा भाद्रपद, रेवती नक्षत्र अच्छे हैं।
  • ज्योतिष शास्त्र के अनुसार यज्ञोपवीत को मां गायत्री का स्वरूप भी कहा गया है। इस प्रकार जनेऊ का श्रंगार करने से पूर्व जन्म के सभी पापों से मुक्त होकर मां गायत्री की कृपा प्राप्त होती है।
  • जैसा कि सभी जानते हैं, मानव शरीर में कई घटक होते हैं। हिंदू संस्कृति में दाहिने कान को सबसे पवित्र अंग माना जाता है। शास्त्रों के अनुसार मनुष्य के दाहिने कान में आदित्य, वसु, रुद्र, वायु, अग्नि, धर्म, वेद, आप, सोम, सूर्य नाम के देवता निवास करते हैं। यही कारण है कि यह माना जाता है कि यदि कोई व्यक्ति अपने दाहिने कान को कम से कम छूता है तो उसे सभी देवताओं की कृपा प्राप्त होती है।
  • हिंदू प्रथाओं के अनुसार जनेऊ की डोरी में पांच गुच्छे होते हैं। इन पांच गुच्छों को ब्रह्मा, धर्म, अर्ध, काम और मोक्ष की छवियों के रूप में देखा जाता है।
  • एक मानव शरीर में उसकी पीठ की ओर जाने वाली एक अगोचर नस होती है। यह नस मानव शरीर में पर्याप्त ऊर्जा प्रदान करने की गारंटी देती है। यह नस शरीर के दाहिने कंधे से लेकर पेट तक स्थित होती है। ऐसे में इस नस को सुगठित अवस्था में रखने में सहायता के लिए जनेऊ धारण करना माना जाता है, जिससे शरीर में मौलिक ऊर्जा का संचार होता है।
  • इसके अलावा जनेऊ की डोरी भी बच्चे के समग्र जीवन, शक्ति, विकास और भविष्य को जोड़ने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है।
  • कई ज्योतिषी और पुजारी मानते हैं कि शरीर पर डोरी धारण करने से रक्त प्रवाह को नियंत्रित करने में मदद मिलती है। जिससे बच्चे को संक्रमण से बचाया जा सके।
  • डॉक्टरों के मुताबिक लोगों के दाहिने कान के पास मौजूद कई नसें सीधे पाचन तंत्र से जुड़ी होती हैं। यही कारण है कि पेशाब करते या मलत्याग करते समय जनेऊ को दाहिने कान के ऊपर मोड़ा जाता है, जिससे उपस्थित नाड़ियों में खिंचाव होता है।
  • यह पेट से संबंधित कुछ समस्याओं से बचाव में मदद करता है।
  • साथ ही ज्योतिषीय दृष्टिकोण से 2023 में उपनयन संस्कार को एक महत्वपूर्ण प्रथा के रूप में देखा गया है। जनेऊ धारण करने वाले बालक पर नवग्रहों की विशेष कृपा होती है।

Upanayana In August 2023

Sorry, There are No Auspicious Muhurat around the time you are looking for. Please, select some other month!

ऊपर लपेटकर

यदि आपका बच्चा लड़का है तो उपनयन संस्कार के महत्व को जानना उचित है। जीवन भर देवताओं का आशीर्वाद प्राप्त करें। किसी ज्योतिषी से बात करें और उनकी कुंडली के अनुसार उपनयनम करने की शुभ तिथियां और समय जानें।

त्योहारी कैलेंडर

विस्तृत

Download App Now!

Subscribe
Youtube Video
श्रावण विशेष पेशकश

Goodies for The Good Times