शीतला सातम (Shitala Satam): व्रत और पूजा विधि के पालन का महत्व

शीतला सातम (Shitala Satam): व्रत और पूजा विधि के पालन का महत्व

शीतला सातम (Shitala Satam) का पर्व अधिकतर पश्चिमी भारत के राज्यों यथा गुजरात, राजस्थान, उत्तरप्रदेश आदि में मनाया जाता है। शीतला सातम को राजस्थानी भाषा में ‘बासोड़ा’ भी कहा जाता है। आमतौर पर होली के बाद मार्च अप्रैल के माह में यह पर्व आता है। शीतला माता को प्रसन्न करने के लिए लोग दिन भर का उपवास भी रखते हैं और घर पर विभिन्न पूजा व अनुष्ठानों का आयोजन करते हैं। आइए इस विषय पर अधिक विस्तार से जानते हैं।

शीतला सातम 2022 की तिथि और समय

तिथि
शीतला सातम18 अगस्त, 2022 गुरूवार
सप्तमी तिथि का प्रारंभ17 अगस्त, 2022 को पूर्वाह्न 08:24
सप्तमी तिथि का समापन18 अगस्त, 2022 को पूर्वाह्न 09:20

मां शीतला की पूजा का महत्व (Importance Of Worshipping Maa Shitala)

सामाजिक मान्यताओं के अनुसार शीतला सातम का पर्व देवी शीतला को समर्पित है। देवी अपने हाथों में एक यात्रा और एक कूड़ेदान लिए हुए हैं। इस पर्व को कई अन्य समुदायों द्वारा अपनी इच्छाओं को पूर्ण करने के लिए भी मनाया जाता है। कहा जाता है कि देवी शीतला अपने अनुयायियों को खसरा और चेचक जैसी बीमारियों से बचाती हैं। मां शीतला की पूजा करने से आपको महामारी से उबरने में सहायता मिल सकती है।

पूजा विधि (Puja Vidhi)

शीतला सातम पर, भक्त सुबह जल्दी उठते हैं और स्नान आदि से निवृत्त होकर अनुष्ठान आरंभ करते हैं। बहुत से लोग नदी के किनारे भी जाते हैं, जहां वे शीतला माता की मूर्ति स्थापित करते हैं और बाद में देवी की पूजा करते हैं। नदी के पानी में पवित्र डुबकी लगाने के बाद लाल कपड़े पर स्थापित किया जाता है। इस दिन वे अन्य शास्त्रों के साथ-साथ शीतला अष्टकम का पाठ भी करते हैं। इसके बाद देवी की षोडशोपचार पूजा की जाती है।

इस दिन लोग ताजा खाना भी नहीं बनाते हैं वरन वे पिछले दिन का बना हुआ खाना ही ग्रहण करते हैं। दूसरे शब्दों में इस दिन अग्नि प्रज्जवलित नहीं की जाती हैं इस प्रकार, वे पिछले दिन, रंधन छठ, षष्ठी के अगले दिन (चंद्र मास के घटते क्रम का छठा दिन) भोजन तैयार करते हैं। कुछ क्षेत्रों में, कच्चे गेहूं को गुड़ के साथ मिला कर धानी बनाई जाती हैं, जिसका उपयोग दीया (दीया) जलाने के लिए भी किया जाता है। वे शीतला देवी के सामने दीपक और अगरबत्ती जलाते हैं। घर के बुजुर्ग देवी को प्रसन्न करने के लिए व्रत कथा का पाठ करते हैं।

व्रत कथा (Vrat Katha)

प्राचीन मान्यताओं के अनुसार इस व्रत की कथा कही जाती है। कहा जाता है, किसी समय एक बहुत ही शक्तिशाली और न्यायप्रिय राजा था, उसका नाम इंद्रद्युम्न था। राजा का विवाह प्रमिला नामक कन्या से हुआ। उनकी संतान की संतान (पौत्री) शुभकारी की शादी पड़ोसी क्षेत्र के राजकुमार गुणवन से हुई थी। इंद्रद्युम्न के शाही महल ने कई वर्षों तक शीतला सातम व्रत को समान उत्साह के साथ मनाया। शुभकारी फिर शीतला सातम के अवसर पर अपनी मां से मिलने के लिए लौटी। वहां पर राजकुमारी और उसकी सहेलियां शीतला सातम व्रत देखने के लिए एक झील पर गईं और एक-दूसरे से बिछड़ गईं। इस पर उन्होंने देवी से प्रार्थना की वह उन सबको पुन: मिला दें।

तभी वन में आई एक महिला ने उनकी मदद की और उन्हें शीतला सातम का व्रत रखने को भी कहा। पूजा से प्रसन्न होकर शीतला माता ने शुभकारी को वरदान दिया। अपने राज्य में वापस जाते समय, मार्ग में शुभकारी एक गरीब ब्राह्मण परिवार से मिली, जिसके एक सदस्य की सांप के काटने से मृत्यु हो गई थी। शुभकारी ने शीतला माता के दिए वरदान का उपयोग करते हुए देवी से मृत ब्राह्मण को वापस जीवित करने की प्रार्थना की तथा वह जीवित हो गया। इस घटना के साक्षी बने लोगों ने शीतला सातम की पूजा का महत्व समझा तथा भविष्य में व्रत रखने का निश्चय किया। इस दिन गरीबों या ब्राह्मणों को भोजन दान करने का भी महत्व है।

शीतला सातम का व्रत (Shitala Satam Vrat)

शीतला सातम के दिन लगभग हर घर में उपवास रखा जाता है। इस दिन व्रत रखने का अत्यधिक महत्व है। इसलिए महिलाएं ताजी चीजें पकाने से परहेज करती हैं और इस दिन शीतला माता का स्मरण करती हैं। शीतला सतम व्रत रखने के लिए नीचे बताई गई बातों का ध्यान रखना चाहिए।

  • शीतला सातम से एक दिन पूर्व ही खाद्य सामग्री तैयार करें।
  • शीतला सातम के दिन देवी की मूर्ति के सामने पूजा करें।
  • इस दिन उपवास करें तथा देवी की पूजा करें।
  • इस दिन आपको घर में चूल्हा नहीं जलाना चाहिए और पिछले दिन का बना हुआ खाना ही खाना चाहिए।
  • इसके अलावा ठंडे भोजन को को दोबारा गर्म भी नहीं करना चाहिए।
  • पूरे दिन व्रत रखने वाले लोगों को भगवान के दीपक के अलावा अन्यत्र कहीं भी आग का प्रयोग नहीं करना चाहिए।

शीतला सातम व्रत के लाभ (Benefits Of Shitala Satam Vrat)

शीतला सातम का व्रत करने से जीवन में आने वाली बाधाओं से मुक्ति मिलती है। शीतला माता आपके खराब स्वास्थ्य को सही कर सकती है, और आपको लंबे समय तक अच्छे स्वास्थ्य का आशीर्वाद प्रदान करती हैं। देवी की कृपा से किसी भी शरीर संबंधी रोग से पीड़ित व्यक्ति स्वस्थ हो सकता है। देवी की कृपा से चेचक, चेचक या खसरा जैसी महामारियों को दूर किया जा सकता है। इसलिए बहुत सी महिलाएं अपने बच्चे के अच्छे स्वास्थ्य के लिए भी व्रत रखती हैं। शहरी क्षेत्रों में रहने वाले लोग पास के एक मंदिर में जाते हैं और माता शीतला की स्तुति करने के लिए उनके बेहतर स्वास्थ्य के लिए प्रार्थना करते हैं। इस तरह शीतला सप्तमी का व्रत कई तरह से फायदा पहुंचाता है।

दीर्घकालिक रोग से पीड़ित है? हमारे अनुभवी ज्योतिषियों से एक रुपया प्रति मिनट में सलाह लें और उपाय पाएं।

समापन

यह स्पष्ट है कि जो कोई भी शीतला माता की पूजा करते हुए शीतला सप्तमी का व्रत रखता है, उसे देवी का आशीर्वाद प्राप्त होता है। हम आपको व आपके परिवार को अग्रिम रूप से शीतला सातम की शुभकामनाएं देते हैं। देवी शीतला आप पर और आपके परिवार पर कृपा बनाये रखें।