वास्तु टिप्स का पालन कर बनाएं क्लिनिक, जानिए कैसे करें पालन

वास्तु शास्त्र वह पुराना भारतीय विज्ञान है, जो घर या किसी भी भवन की योजना बनाने वाले प्रत्येक कोण के सुस्वादु और तार्किक मानकों का प्रबंधन करता है। यानि आपके घर की दिशा कैसे होगी, इसे वास्तु शास्त्र के आधार पर तय करना चाहिए। यह सिर्फ घर के मुखिया के कंफर्ट के लिए नहीं होता है, बल्कि यह दर्शाता है कि आपके परिवार के लिए समृद्धि के द्वार कैसे खुलें। आपको आपने घर या किसी अन्य भवन का निर्माण कैसे करवाना है, इसके लिए वास्तु शास्त्र का सहारा लेना लाभदायक होता है।

वास्तु शास्त्र स्थापत्य (अथर्ववेद का एक टुकड़ा) में है। शुरुआत में वास्तु शास्त्रियों ने विभिन्न समयों पर सूर्य की किरणों और उनकी बदलती परिस्थितियों के अनुसार मानकों का मसौदा तैयार किया था। अप्रत्याशित रूप से, वास्तु शास्त्र का यह अध्ययन महाभारत और रामायण जैसे प्राचीन पवित्र लेखों में मिलता है।

वास्तु विशेषज्ञों के अनुसार जहां वास्तु दोष होता है, वह आपके लिए कई चिकित्सा संबंधि समस्याएं पैदा कर सकता है। हैं जो चिकित्सा शर्तों को ला सकते हैं। इन बातों पर ध्यान दीजिए….

उत्तर पूर्व में शौचालय
उत्तर में रसोई घर
उत्तर पश्चिम में प्रवेश द्वार
उत्तर पश्चिम के पश्चिम की ओर कमरा
पूर्व में जमीन के ऊपर पानी की टंकी
दक्षिण पूर्व में सेप्टिक टैंक
दक्षिण में बोरवेल या भूमिगत पानी की टंकी

ये कुछ विकृतियां हैं, जो आपके घर में कई चिकित्सा समस्याओं का कारण बन सकती हैं। वहीं, दीवार पर पेंट, दवाओं की गलत स्थिति भी स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं का कारण बन सकती है।

सीटीए: क्या आपने अपना क्लिनिक वास्तु के अनुसार बनाया है? ज्योतिषी से बात करें

वास्तु विशेषज्ञों के अनुसार, उत्तर-पूर्व दिशा – भलाई और अभेद्यता का क्षेत्र है, यह शारीरिक और मनोवैज्ञानिक कल्याण के बीच सामंजस्य की गारंटी देता है। यदि यह क्षेत्र असंतुलित है, तो आपके शरीर में बिमारियों से लड़ने की क्षमता कम हो जाती है, जो बाद में आपको दुर्बल बना सकती है। यदि आप क्लिनिक का निर्माण करवाते हैं, तो आपको उसके लिए वास्तु की जांच करना आवश्यक है, क्योंकि प्रत्येक क्लिनिक में उचित स्वास्थ्य नियंत्रण होना चाहिए।

भलाई और अभेद्यता पर प्रभाव के संबंध में घर की यह दिशा इतनी असाधारण है कि आपको दवा लगाने के लिए इस क्षेत्र का उपयोग करने के लिए प्रोत्साहित किया जाता है। आप पाएंगे कि इस क्षेत्र में रखे गए नुस्खे रोगी को शीघ्र स्वस्थ होने की गारंटी देने वाले और अधिक सम्मोहक बनाते हैं।

क्लिनिक एक ऐसी जगह है, जो हर किसी के लिए महत्वपूर्ण है। हर कोई अपनी जिंदगी में क्लिनिक जाता रहता है। ऐसे क्लिनिक में कोई नहीं जाना चाहता है, जो रोगियों से भरा हो। ऐसी स्थिति में क्लिनिक संचालक को भी इस बात का आभाष होना चाहिए, तो वह स्थान वास्तु संगत नहीं है। वास्तु संगत नहीं होने से यह ऐसा बनता है, जो रोगियों से भरा हुआ है। प्रत्येक चिकित्सक को अस्पताल या क्लिनिक बनाते समय आपको वास्तु शास्त्र का विशेष ध्यान रखना चाहिए।


क्लिनिक के लिए वास्तु: मरीजों के लिए पहला टॉनिक

जब कोई व्यक्ति डॉक्टर बन जाता है, तो वह बीमारी से लड़कर उससे जीतने की कमस खाता है। यानि कि वह हर परिस्तिथि में अपने मरीज की जान बचाने की कोशिश करता है। किसी भी मामले में आपको इस बात का ज्ञान होना चाहिए कि काफी अच्छे प्रयासों के बावजूद रोगी ठीक नहीं होते हैं, और रोगियों को हमेशा आपके अस्पताल या फिर क्लिनिक से निराशा ही हाथ लगती है। आपको इस बात को गंभीरता से लेने चाहिए, और वास्तु विशेषज्ञों से सलाह लेना चाहिए। आपको अपने क्लिनिक या अस्पताल में वास्तु शास्त्र का पालन करना चाहिए। वास्तु में आपके क्लिनिक के मुख्य द्वार की दिशा, विशेषज्ञ और रोगी की अतिथि योजना, विश्राम कक्ष, सूर्य किरणों की उपस्थिति, कमरे में खिड़कियां, विद्युत गियर की स्थिति सहित अन्य चीजों पर ध्यान देना आवश्यक है। दंत चिकित्सालयों और अन्य अस्पतालों के लिए वास्तु के अनुसार, इन सभी का संभावित परिणाम और रोगियों के शीघ्र और ठोस स्वास्थ्य लाभ होना चाहिए।

क्या आपके क्लिनिक में अधिक मरीज नहीं आ रहे हैं? ज्योतिषी से बात करें…


क्लिनिक के लिए सामान्य वास्तु टिप्स

  • उत्तर-पूर्व दिशा में एक लौ या मोमबत्ती जलाएं। यह आपके क्लिनिक में सकारात्मकता पैदा करता है।
  • नलों के लगातार बहने से नकारात्मक ऊर्जा उत्पन्न होती है, और यह बहुत ही अशुभ माना जाता है। आपको इस बात को सुनिश्चित करना चाहिए कि आपके क्लिनिक में नल नहीं बहेंगे।
  • सीढ़ियों के नीचे की जगह को टॉयलेट, स्टोर या किचन के रूप में इस्तेमाल करने से घबराहट और दिल की बीमारी हो सकती है।
  • काम करते समय उत्तर या पूर्व की ओर मुंह करें। इससे आपकी स्मृति को बढ़ावा मिलता है।
  • तुलसी के पौधे लगाने से घर की हवा शुद्ध होती है। कैक्टस, बोनसाई और अन्य चिकने पौधों से दूर रहें। ये आपकी बीमारी और तनाव को बढ़ा सकते हैं।
  • कोशिश करें कि अपने घर या क्लिनिक के उत्तर-पूर्वी कोने में सीढ़ियां या शौचालय न बनाएं। यह स्वास्थ्य संबंधी मुद्दों का कारण बनता है और युवाओं के विकास में बाधा डालता है।

व्यावहारिक होने और मानवीय मान्यताओं को पूरा करने के लिए यह कुछ वास्तु टिप्स के सुझाव हैं, आप इनका पालन करते हुए विपरित परिस्थियों से खुद को बचा सकते हैं।

जब आप आपातकालीन क्लिनिक के वास्तु के बारे में सीखते हैं, तो इन बातों पर ध्यान दिया जाना चाहिए। मेडिकल क्लिनिक के लिए वास्तु टिप्स की व्यापक जांच की जरूरत है।


क्लिनिक में रोगी प्रवाह बढ़ाने के लिए वास्तु टिप्स

यह विभिन्न कारकों पर निर्भर करता है जैसे:

  • इसके लिए क्लिनिक का क्षेत्र महत्वपूर्ण है।
  • आपातकालीन क्लिनिक भवन का अनुभव या आसपास का वातावरण।
  • कार्यस्थल के बाहरी हिस्से जैसे आकार, तिरछा, कद, जल स्तर।
  • शाफ्ट क्षेत्र
  • प्रवेश द्वार की दिशा
  • खिड़कियों का दिशा और व्यवस्था।
  • उपकरण का दिशा और व्यवस्था।
  • कमरों की दिशा और व्यवस्था।
  • रोगी के बिस्तर का शीर्षक और स्थिति।
  • ऑपरेशन थिएटर का दिशा और स्थिति।
  • आपातकालीन वार्ड का दिशा और स्थिति।
  • रिकवरी वार्ड का दिशा और स्थिति।
  • आईसीयू का दिशा और स्थिति।
  • कार्य/प्रसूति कक्ष का दिशा और स्थिति।
  • कमरे की छायांकन योजना।
  • क्लिनिक की ​​मशीनों का असर और स्थिति

क्लिनिक के लिए भारतीय वास्तु शास्त्र

आजकल हम कई निजी क्लिनिक देखते हैं। जगह की कमीं के कारण डॉक्टर इसे अपने घरों या फिर किराए की छोटी सी जगह लेकर वहां क्लिनिक चला रहे हैं। ऐसी परिस्थिति में सभी वास्तु टिप्स का पालन करना कठिन हो जाता है। फिर भी, यदि विशेषज्ञ अपनी सुविधा के लिए इन वास्तु टिप्स का पालन कर सकता है, तो वह अपने रोगी को ठीक करने की गारंटी दे सकता है, जिससे उसके क्लिनिक में रोगियों की भी संख्या में बढ़ोत्तरी होगी।

वास्तु के अनुसार क्लिनिक कान्फेंस रूम का मार्ग उत्तर, पूर्व या उत्तर पूर्व में होना चाहिए। यह रोगियों को यह सुनिश्चित करता है कि वह सही जगह पर आए हैं, और वह बिना किसी डर के अपने डॉक्टर से चर्चा कर सकते हैं।

इस बात को सुनिश्चित करें कि क्लिनिक का आकार 250 वर्ग फुट से कम नहीं है। अगर ऐसा नहीं होता है, तो आपके क्लिनिक में सकारात्मक तरंगों को आने में मुश्किल होती है।

आपके क्लिनिक में रोगियों की आवश्यकता अनुसार सुविधाएं होना आवश्यक है। वास्तु शास्त्र द्वारा आपका क्लिनिक सिर्फ चौकोर आकार का प्रस्तावित किया गया है। कोई अन्य आकार अनिश्चितता पैदा करता है और रोगियों की कमी ला सकता है।

वास्तु के अनुसार ग्राउंड फ्लोर क्लिनिक के लिए सबसे सही है, यह सकारात्मक भी है।

आपको जमीन की सतह पर सफेद या फिर डीम कलर के टाइल्स नहीं लगवाना चाहिए, क्योंकि यह स्थान को बोझिल बनाता है।

वास्तु के अनुसार छत पर किसी भी तरह का कांच या दर्पण नहीं लगवाना चाहिए। यह नकारात्मता को फैलाता है, और रोगियों और विशेषज्ञों में दुर्बलता का संकेत देता है।

रोगियों के बैठने की जगह दक्षिण-पूर्व में नहीं होनी चाहिए, क्योंकि यह अग्नि दिशा है, और इससे रोगियों में दबाव और अनिश्चितता हो सकती है। इसके लिए सबसे सही दिशा उत्तर, पूर्व या उत्तर-पूर्व है।

एक ही समय में रोगियों का इलाज करते समय विशेषज्ञ पूर्व या उत्तर पूर्व की ओर मुख कर सकता है। यह रोगी के आसपास क्लिनिक को बेहतर मदद करता है।

गहरे, मंद और नीचे रंग का अपने क्लिनिक में इस्तेमाल नहीं करना चाहिए, इसे वास्तु शास्त्र में गलत बताया गया है। यह रंग निराशा और उदासी के अग्रदूत हैं।

अपने क्लिनिक में गुलाबी, हल्के हरे या हल्के नीले रंग से रंगा जाना चाहिए। ये रोगियों में सकारात्मक भावनाएं उत्पन्न होगी और वे शांत रहेंगे।

वास्तु शास्त्र कमरे के उत्तर-पश्चिम में मरीजों की मूल्यांकन तालिका रखने की सलाह देता है। रोगी को अपना सिर पूर्व की ओर और पैर पश्चिम की ओर करके लेटना चाहिए।

उत्तर-पूर्व, दक्षिण-पश्चिम में शोचलय होना अशुभ साबित होगा। यह विशेषज्ञ और रोगी के बीच एक अप्रिय संबंध का संकेत देगा। यह दुश्मनी और गरीबी को भी बढ़ावा देगा। शौचालयों के लिए उत्कृष्ट स्थान उत्तर-पश्चिम है।

आपके क्लिनिक में ज्यादा से ज्यादा मरीज आएं, इसके लिए एक महत्वपूर्ण टिप्स यह है कि आप अपने क्लिनिक में कभी भी मछली न पालें, जो कि आजकल फैशन हो गया है। क्योंकि यह विकास में बाधा डालते हैं।

शेल्फ की सुविधा को दक्षिण या पश्चिम में रखा जाना चाहिए।

दवाएं रखने का सबसे अच्छा स्थान उत्तर या उत्तर-पूर्व है।

तेज गंध वाली किसी भी चीज को रखने से परहेज करें।

फर्श को सप्ताह में तीन बार पानी में नमक मिलाकर धोएं। इससे विरोध से बचा जा सकेगा और क्लिनिक में साफ-सफाई रखने का भी सुझाव दिया गया है।

आपको अपने क्लिनिक में सकारात्मक चित्रों को लगाना चाहिए। यह आपके यहां आने वाले रोगियों में सकारात्मक तंरगे उत्पन्न करेगा।


निष्कर्ष

डॉक्टर रोगी का इलाज करने और दवा देने के लिए उत्तरदायी है, लेकिन ब्रह्मांड की ऊर्जाएं भी रोगी के लिए सहज और सामंजस्यपूर्ण रूप से ठीक होने के लिए समान रूप से जिम्मेदार हैं। ये ऊर्जा रोगियों को ठीक करती है। इसीलिए क्लीनिक के लिए वास्तु का सही होना किसी भी विशेषज्ञ के लिए अपरिहार्य हो जाता है। हमारे पास दंत चिकित्सा केंद्रों और होम्योपैथी सुविधाओं के लिए भी विभिन्न सुझाव हैं। जो सबसे महत्वपूर्ण है वह है एक ठोस आहार और सकारात्मक सोच। ऐसे में स्थिर होकर खाएं और भरोसेमंद बने रहें। आपकी सकारात्मक सोच और अच्छा आहार आपको जल्दी से ठीक कर देगा।