8 मार्च अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस : जानें अलग राशियों की सुपर वुमन

8 मार्च अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस : जानें अलग राशियों की सुपर वुमन

दुनिया भर में लोग 8 मार्च को अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस के रूप में मनाते हैं। स्त्री ईश्वर की वो कृति है, जो इस दुनिया में सबसे नायब है। इस धरती पर नए इंसान रूपी अंश को जन्म देने की ताकत सिर्फ स्त्री के ही पास है। विश्व महिलाओं को सम्मान देने के लिए 8 मार्च को अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस मनाया जाता है। वैसे स्त्री सिर्फ एक दिन के सम्मान की हकदार नहीं, बल्कि प्रतिदिन के सम्मान की हकदार है। आज हम यहाँ राशि अनुसार महिला के जातकों के बारे में कुछ शानदार जानकारी देने जा रहे हैं। बिना देर किया चलिए जानते हैं। राशि अनुसार महिलायों के व्यक्तित्व के बारे में।


महिला दिवस का इतिहास

अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पहली बार 1910 में कोपेनहेगन में अंतरराष्ट्रीय समाजवादी महिला सम्मेलन के रूप में मनाया गया था। एक मार्क्सवादी सिद्धांतकार और एक जर्मन महिला अधिकार कार्यकर्ता क्लारा ज़ेटकिन ने कोपेनहेगन के इस सम्मेलन में इस दिन को अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर मनाने का विचार रखा था। 17 देशों की 100 महिलाओं ने उनके इस प्रस्ताव पर अपनी सहमति जताई।

यह दिन उत्तरी भाग में 20वीं शताब्दी के दौरान अमेरिका और यूरोप में श्रमिक गतिविधियों की वजह से प्रकाश में था। साल दर साल यह दिन ख़ास होता गया। लोग अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस के दिन स्थानीय और अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर विभिन्न कार्यक्रम आयोजित करके महिलायों को सम्मान देने लगे। धीरे-धीरे यह दिन लोकप्रिय होता गया। संयुक्त राष्ट्र (यूएन) ने 8 मार्च 1975 को अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस के रूप में मनाना शुरू किया। अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस दुनिया भर में लैंगिक समानता बढ़ाने के लिए ‘कॉल टू एक्शन’ का प्रतीक है।


8 मार्च को अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस मनाने के पीछे का कारण और उसका सारांश

अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस का इतिहास 112 साल पुराना है। इसकी अपनी एक समृद्ध पृष्ठभूमि है, इसकी पहली झलक 1909 में देखने को मिली थी। उस समय सोशलिस्ट पार्टी ऑफ अमेरिका ने 15,000 महिलाओं के साथ मिलकर इसे मनाया। वे न्यूयॉर्क शहर में अपने अधिकारों का हक पाने के लिए गई थी। वे वहां कम वेतन में लंबे समय तक काम करने और मतदान के अधिकार की कमी का विरोध जताने गई थीं।

1911 से रूस ने अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस मनाना शुरू किया, लेकिन 8 मार्च की तारीख अनजाने में उनके द्वारा निर्धारित हो गई। 1913 में रूस में इसकी आधिकारिक घोषणा की गई। तब से अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस अवकाश घोषित हो गया।

 

आज के समय में पूरे विश्व में 8 मार्च महिला दिवस को बहुत ही शानदार तरीके से मनाया जाता है। इस दिन महिलाओं द्वारा समाज में की गई उपलब्धियों को याद किया जाता है। उन्हें नई पहचान दी जाती है। कई तरीके से जश्न मनाया जाता है।

इस दिन हम व्यक्तिगत रूप से, लैंगिक असमानता के खिलाफ आवाज उठा सकते हैं। हम सब मिलकर सभी एक ऐसी दुनिया बनाने में मदद कर सकते हैं, पर जहां परिवर्तन केवल समाचार पत्रों में बड़ी सुर्खियों, अदालत में कानूनी जीत, या अंतरराष्ट्रीय समझौतों और संधियों में न होकर जमीनी हकीकत में हो। जिसकी शुरुआत हमें अपने घर, परिवार और समाज से करनी होगी।



अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस का चिन्ह

अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस के लोगो का रंग सफेद और बैंगनी है, जो शुक्र ग्रह का प्रतिनिधित्व करता है। शुक्र का मतलब होता है महिला जातक। कुछ लोगो का रंग हरा भी होता है। प्रत्येक रंग अपना महत्व रखता है, उदाहरण के लिए, सफेद शुद्धता का प्रतीक है, बैंगनी न्याय और गरिमा का प्रतिनिधित्व करता है, जबकि हरा रंग आशा का प्रतीक माना जाता है। इन रंगों को 1908 में यूके में महिला सामाजिक और राजनीतिक संघ (WSPU) द्वारा जोड़ा गया था।

हमारे समाज में भले ही महिलाओं की उम्र, राष्ट्रीयता या जॉब प्रोफाइल अलग हो सकती है। लेकिन वे मिलकर दुनिया की अनूठी चुनौतियों का सामना करने के लिए, उन्हें दिए गए प्लेटफॉर्म का उपयोग बखूबी कर रही हैं। तो आइए जानते हैं, दुनिया को चलाने वाली और अपने क्षेत्र में बेहद सफल कुछ प्रेरणादायक महिलाओं और उनकी राशियों के बारे में:


मेष राशि वाली महिला

कंगना रनौत

आज के समय कंगना के बारे में हर कोई जनता है। वे अपनी बेबाकी के लिए जानी जाती है। जितनी शानदार उनकी बेबाकी है उतनी ही शानदार उनकी एक्टिंग है। हिम्मत के साथ हर चीज का सामना करती है। रानी लक्ष्मीबाई से लेकर फैशन जैसी फिल्मों में वे अपनी एक्टिंग का लोहा मनवा चुकी है। जो उसका स्वभाव है वो मेष राशि की वजह से है। मेष राशि की महिला नियंत्रण और शक्ति का शानदार मिश्रण होती है। अग्नि तत्व इनके अंदर भरा होता है। 2014 में आई फिल्म क्वीन में शानदार एक्टिंग की वजह से इन्हें बॉलीवुड की क्वीन भी कहा जाने लगा। कंगना को मणिकर्णिका ओर पंगा फिल्म में अपने अभिनय की वजह से उन्हें सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री पुरस्कार भी दिया गया था। इन्होने एक बायोपिक फिल्म थलाइवी में राजनेता जयललिता की भूमिका निभाई। मेष राशि की महिलायों का जीवन कई तरह के आश्चर्य की भावना से भरा होता है। इनके बारें में लोग जानने के लिए बेताब रहते हैं।


वृषभ राशि महिला

अनुष्का शर्मा

वृषभ राशि वाले , भरोसेमंद और मेहनती होते है। इस राशि के लोग सुंदरता के लिए एक गहरी नजर रखते हैं। इनका स्वभाव जिद्दी और उग्र होता है। वृषभ राशि में अनुष्का शर्मा का नाम आता है। अनुष्का शर्मा एक मॉडल और बॉलीवुड में एक जाना माना नाम है। इन्होंने अपने फ़िल्मी करियर की शुरुआत 2008 मे बनी फिल्म रब ने बना दी जोड़ी के साथ शुरु किया था। जो आदित्य चोपड़ा द्वारा बनाई गई थी। वृषभ राशि के लोग उन लोगों में से है जो जितना सोचते हैं उससे अधिक व्यक्तित्व लक्षण साझा कर सकते हैं।

वृषभ राशि की हर महिलाएं हर तूफान से बच सकती हैं, और उसके बाद भी अगर जीवन में सुनामी आती है तो वे हमेशा मोहक मुस्कान के साथ इसका मुकाबला करेंगी। अनुष्का शर्मा भी बिलकुल ऐसी ही है। जब उन्होंने विराट कोहली से शादी की तब उनके करियर को लेकर कई तरह की बातें की जाने लगी, पर उन्होंने शांत रहकर इसका जवाब दिया। अनुष्का शर्मा का जन्म अयोध्या में हुआ था, परन्तु उनके माता-पिता गढ़वाल, उत्तराखंड के रहने वाले है। उनके पिता, कर्नल अजय कुमार शर्मा एक आर्मी अफसर है और माँ आशिमा शर्मा एक हाउस वाइफ थी।


मिथुन राशि महिला

मानसी गिरीश चंद जोशी

मिथुन राशि वालों को बहुत बहुमुखी कहा जाता है। मानसी जोशी को देखकर आप इस बात का अंदाजा लगा सकते हैं। जो एक भारतीय पैरा-एथलीट है, वर्तमान में पैरा-बैडमिंटन विश्व चैंपियन, इंजीनियर और सबसे महत्वपूर्ण रूप से एक चेंजमेकर है। मिथुन राशि की महिलाएं जीवन को लेकर काफी भावुक होती हैं। यह 32 वर्षीय बैडमिंटन खिलाड़ी भारत में विकलांगता और पैरा-स्पोर्ट्स के मामले में लोगों की मानसिकता में बदलाव लाने की इच्छा रखती है। बैडमिंटन वर्ल्ड फेडरेशन ने 2020 में SL3 सिंगल्स में उन्हें नंबर 2 की रैंक प्रदान की थी। इतनी कम उम्र में इतना कुछ हासिल करना युवा, तेज और स्मार्ट मिथुन राशि की विशेषता को दर्शाता है। हाल ही में, टाइम पत्रिका द्वारा मानसी जोशी को “अगली पीढ़ी के नेता” के रूप में सूचीबद्ध किया गया था। वह भारत में विकलांग लोगों के अधिकारों के लिए एक वकील के रूप में पत्रिका – एशिया संस्करण के कवर पेज पर भी दिखाई दीं। 2019 में, उन्हें बीबीसी इंडियन स्पोर्ट्सवुमन ऑफ़ द ईयर से सम्मानित किया गया।

दूसरा उदारण सोनिया गांधी का है। मिथुन राशि वाली महिला वायु तत्व से जुड़ी होती है। इस पर बुध ग्रह का शासन है। तो, मिथुन राशि से महिला के पास बौद्धिक दिमाग, रचनात्मकता और उत्कृष्ट संचार कौशल होने की संभावना होती है। सोनिया गांधी भी बिलकुल ऐसी ही है। सोनिया गांधी फेमस भारतीय नेता हैं, और संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन की अध्यक्ष भी हैं, यह केंद्र-वाम दलों का गठबंधन है। इस गठबंधन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने का श्रेय इन्हें दिया जाता है। सोनिया गांधी को 2004 – 2014 तक भारत की सबसे शक्तिशाली राजनेता माना गया है। 2013 में, फोर्ब्स पत्रिका द्वारा सोनिया गांधी को दुनिया के सबसे शक्तिशाली व्यक्तित्व में 9वां स्थान और सबसे शक्तिशाली महिला में 21 वें स्थान पर रखा गया था। मिथुन राशि की महिला हमेशा वफादार होती है। सोनिया गांधी ने भी अपने परिवार और देश के प्रति अपने समर्पण और वफादारी को दिखाया।

राजीव गांधी की हत्या के बाद उन्होंने ही कांग्रेस पार्टी की कमान सम्हाली। वह कांग्रेस पार्टी में शामिल हो गईं। जब पार्टी राजीव की हत्या होने के बाद उथल-पुथल मच गई, तब पार्टी के नेताओं ने उन्हें राजनीति में शामिल होने के लिए राजी किया गया था। उन्होंने कार्यभार संभाला और 10 साल तक सबसे लंबे समय तक कांग्रेस अध्यक्ष होने का रिकॉर्ड अपने नाम किया।


कर्क राशि महिला

प्रियंका चोपड़ा जोंस

कर्क राशि के लोग आकर्षक पर्सनालिटी वाले होते हैं। कर्क जल तत्व की राशि है। जिसकी वजह से ज्यादा ही इमोशनल होते हैं। कर्क राशि का चिन्ह केकड़ा है, वो अधिकतर अपने खोल में ही रहता है। जब उसे किसी चीज की जरूरत होती है, तब ही अपने खोल से बाहर निकलता है। ठीक इनके इमोशन का यही हाल होता है। यह लोग अपने जज्बात हर किसी के सामने नहीं बताते हैं। जो इनके ख़ास होते हैं। बस उनको ही अपनी भावनाएं बताते है। प्रियंका चोपड़ा जोंस इस नाम को देश और विदेश में भी लोग जानते हैं।

इनके नाम को किसी परिचय की जरुरत नहीं है। वे आज एक इंटरनेशनल आइकॉन हैं। सोशल साइट पर इनके फॉलोवर की संख्या मिलियन में है। इसका अंदाजा आप इनके इंस्टाग्राम पर फॉलोवर से ही लगा सकते हैं। इंस्टाग्राम पर 60 मिलियन से भी ज्यादा लोगों द्वारा इन्हें फॉलो किया जाता हैं। प्रियंका के भावुक स्वभाव का लोगों को तब पता चला जब उन्होंने अपने दम पर एक मुकाम हासिल कर लिया। एक बार इंटरव्यू के दौरान इन्होने बताया था, की कैसे उन्हें यूनाइटेड स्टेट में पढ़ाई करते हुए, उन्हें रंगभेद की टिप्पणी का सामना करना पड़ा।

अपनी खूबसूरती और दिमाग की वजह से इन्होने 2002 में मिस इंडिया और मिस वर्ल्ड का ताज हासिल किया। कर्क राशि की महिलायों की आँखें बहुत ही कमाल की होती है। इनकी आंखें ही उनकी जुबान होती है। इस बात का अंदाजा आप प्रियंका की आँखों को देखकर लगा सकते हैं। कर्क राशि वाली महिला को हमेशा अपनी जिन्दगी में एक सुरक्षात्मक रिश्ते की तलाश रहती है। इन लोगों को प्यार में बिलकुल भी जल्दी नहीं रहती है। निक जोन्स के रिश्ते के मामले में इसको देखा जा सकता है। कर्क राशि वाली महिला अपने परिवार के लिए प्रोटेक्टिव होती है, वे उनके लिए कुछ भी कर सकती है। आपने देखा होगा प्रियंका ने अपने पापा के लिए हाथ में टैटू बनवाया है। जो उनके प्रति प्यार दिखाता है।


सिंह राशि महिला

निर्मला सीतारमण

सूर्य की वजह से इस राशि के लोग हमेशा दूसरों पर राज करना पसंद करते हैं। सिंह को जंगल का राजा माना जाता है। सिंह का राजा वाला स्वभाव ही इनकी खासियत होती है। सिंह राशि के व्यक्तित्व में जिस महिला का नाम आता है वो है निर्मला सीतारमण। जब से उन्होंने भारतीय रक्षा मंत्रालय का का कार्यभार सम्हाला है तब से बिलकुल एक राजा की तरह ही काम किया है। वे अपने इरादों पर हमेशा अडिग रहती है। उन्होंने इस मंत्रालय का बहुत ही शानदार तरीके से नेतृत्व किया। 62 वर्षीय निर्मला सीतारमण की उपलब्धियों की बात की जाए, तो गिनवाना आसान नहीं है। वे भारत की पहली फुल टाइम रक्षा मंत्री और वित्त मंत्री हैं। यह दोनों मंत्रालय अपने आप में बहुत ही ख़ास है। जिस प्रकार राजा अपनी प्रजा के हर सुख-दुःख का ख्याल रखता है, ठीक उसी तरह निर्मला सीतारमण भी अपने बजट में जनता का ख्याल रखा। निर्मला सीतारमण भारत की महिलाओं के लिए प्रेरणा स्त्रोत हैं।


कन्या राशि महिला

पदम् पार्वती लक्ष्मी वैद्यनाथ

यदि आप अपने हर काम में परफेक्शन चाहते हैं, तो आप एक कन्या राशि वालों के पास जाए। कन्या राशि के लोग बुद्धिमान और विश्लेषक होते हैं। वो कितने भी बड़े आकड़े हो उन्हें आसानी से याद रखते है। यह लोग लेखन में भी माहिर होते हैं। इसका सबसे बड़ा उदारण है पदम् पार्वती लक्ष्मी वैद्यनाथ। पदम् पार्वती लक्ष्मी वैद्यनाथ, भारतीय मूल की अमेरिकन लेखक हैं। लक्ष्मी वैद्यनाथ न सिर्फ एक सफल लेखिका है बल्कि एक प्रेरणादायक मां भी है। कन्या राशि वाले बहुत ही भावुक होते हैं। इनके दिल में स्नेह का भंडार होता है। भावुक और स्नेही स्वभाव की वजह से ये अच्छी मां साबित होती है। कन्या राशि वाले बुद्धिमान होते हैं, इस बात का उदाहरण है पदम् पार्वती लक्ष्मी वैद्यनाथ। इन्हें पांच भाषाओं का ज्ञान हैं। एक लेखिका होने के अलावा वे फेमस मॉडल भी रह चुकी हैं। उन्हें खाना बनाने और इसमें एक्सपेरिमेंट करने का भी शौक है। उन्होंने दो कुक बुक भी लिखी है। कन्या राशि वाले लोग बहुत ही भावुक होते हैं, वे किसी और को दुख और परेशानी में नहीं देख सकते हैं। वे दूसरों की मदद करने के लिए किसी भी स्तर तक जा सकते हैं। स्व नीरजा भनोट इसका उदाहरण हैं, जिन्होंने अपनी जान की परवाह किये बिना आतंकवादी हमले से प्लेन के लोगों को बचाया, और अपनी जिन्दगी को कुर्बान कर दिया।


तुला राशि महिला

लता मंगेशकर

तुला राशि वाले लोग जिन्दगी में बैलेंस बनाने के लिए जाने जाते हैं। वे हमेशा रिश्तों में संतुलन बनाकर चलते हैं। यह लोग अपने आस-पास के माहौल को साफ़ और नैतिकता पूर्ण बनाने का भरसक प्रयास करते हैं। स्वर साम्राज्ञी लता मंगेशकर भी तुला राशि वाली है, और उनके लिए नैतिकता बहुत मायने रखती है। इस बात का अंदाजा आपने कई बार उनकी बातों से लगा लिया होगा।
लता मंगेशकर एक छोटे से परिवार से आती है। अपने परिवार को चलाने के लिए वे म्यूजिक की फील्ड से जुड़ी थी। आज वे संगीत सम्रागी के नाम से जानी जाती है। तुला राशि वालों का दिमाग हमेशा एक रेशनल की भांति काम करता है। वे हमेशा सच का साथ देना और स्पष्ट बोलने में यकीन रखते हैं। लता मंगेशकर भी उन्हीं में से एक है, वे आज भी अपनी बात लोगों के सामने, निष्पक्ष रूप से रखती हैं। संतुलन और समर्पण वाला गुण लता मंगेशकर के जीवन को देख कर जाना जा सकता है।


वृश्चिक राशि महिला

इंद्रा कृष्णमूर्ति नूयी

दृढ़ संकल्प और महत्वाकांक्षी की विशेषताएं एक वृश्चिक महिला के पास होती है। आप इंदिरा नूयी से इसका अंदाजा लगा सकते हैं। इंदिरा नूयी ने अंतरराष्ट्रीय बिज़नस के इतिहास में अपना नाम तब बनाया जब वह मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) और पेप्सिको की अध्यक्ष बनीं। यह दुनिया की दूसरी सबसे बड़ी खाद्य और पेय कंपनी है। नूयी को फॉर्च्यून द्वारा सबसे शक्तिशाली महिलाओं की सूची में दूसरा स्थान प्राप्त था। जबकि फोर्ब्स 2017 की लिस्ट में दुनिया की 100 सबसे शक्तिशाली महिलाओं की सूची में 11वें स्थान पर रखा गया था। वह 1994 में पेप्सिको में शामिल हुईं और पिछले दो दशकों में संगठन की अंतर्राष्ट्रीय योजना को नियंत्रित किया है। वृश्चिक राशि की महिलाएं कभी हार नहीं मानती और यही नूयी ने हमें दिखाया। उसने इतने सालों तक एक ही कंपनी में अपना समय दिया और शीर्ष पर पहुंच गई।

लॉर्डे, शैलीन वुडली, ऐनी हैथवे, कैटी पेरी, राचेल मैकएडम्स और एम्मा स्टोन हमारी इस राशि की अद्भुत महिलाओं की सूची में कुछ अन्य उदाहरण हैं। वृश्चिक राशि एक तामसिक पक्ष है लेकिन एम्मा स्टोन ने इसे सकारात्मक रूप से लिया। उसने संडे एक्सप्रेस से कहा, “मेरा बदला केवल मौन में रहा है।” जिन लोगों ने आपके साथ गलत किया है, उन्हें पाने का सबसे अच्छा तरीका है कि आप उनके साथ अच्छा व्यवहार करें। वे इससे नफरत करते हैं, तो फिर आपको किसी और चीज द्वारा उनसे बदला लेने की क्या जरूरत है।


धनु राशि महिला

रोशनी नादर मल्होत्रा

धनु राशि का राशि चिन्ह धनुष और बाण है। यह बात इन लोगों के साथ समझ आती है, क्योकि इनका तीर हमेशा निशाने पर जाकर लगता है। रोशनी नादर मल्होत्रा एचसीएल कॉर्पोरेशन की सीईओ हैं। उनके पिता 1976 में एचसीएल के संस्थापक थे। आज 40 वर्षीय, रोशनी नादर मल्होत्रा 9.9 बिलियन डॉलर की प्रौद्योगिकी कंपनी के लिए सभी रणनीति वाले निर्णयों की जिम्मेदारी संभाल रही है।

धनु को इंडिपेंडेंट और सोफिस्टिकेटेड कहा जाता है। अरुंधति रॉय इस पर बिल्कुल फिट बैठती हैं। अरुंधति रॉय ने अपने पहले उपन्यास ‘द गॉड ऑफ स्मॉल थिंग्स’ के लिए 1997 में फिक्शन के लिए मैन बुकर पुरस्कार जीता था। उनके जीवन में बहुत सारे विवादों के साथ अनेक उतार-चढ़ाव आये, लेकिन फिर भी, 59 वर्षीय लेखिका हमेशा अपने लेखन में टॉप पर रही। उनको साहित्यिक प्रसिद्धि, पर्यावरण और मानवीय उपक्रमों में योगदान के लिए सम्मानित किया गया है। सोनिया ओ’सुल्लीवन हमारी धनु राशि का एक और उदाहरण है। वह एक पूर्व विश्व चैंपियन हैं जिन्होंने 1989 में अपनी पहली प्रतिस्पर्धी दौड़ में भाग लिया और 19 वर्षों तक अंतरराष्ट्रीय एथलेटिक्स मंच पर आयरलैंड का प्रतिनिधित्व किया। सोनिया ओ’सुल्लीवन ने लंबे समय तक विश्व रिकॉर्ड बनाए रखा। सोनिया ओ’सुल्लीवन ने 1995 विश्व चैंपियनशिप में 5,000 मीटर की दौड़ में रजत पदक, स्वर्ण पदक जीता।


मकर राशि

ममता बनर्जी

मकर राशि जैसा की इसका प्रतीक चिन्ह है, बकरी वैसा ही स्वभाव लिए होते हैं। बकरी कभी भी नये रास्ते पर अकेले चलना पसंद नहीं करती। पश्चिम बंगाल की वर्तमान मुख्यमंत्री और पश्चिम बंगाल की कमान संभालने वाली पहली महिला मुख्यमंत्री ममता बनर्जी हैं। रेल मंत्री का पद भी उन्हने दो बार दिया गया था, जिसकी वजह से वे रेल मंत्री का पद दो बार संभालने वाली पहली महिला थीं। ममता बनर्जी की उपलब्धियों की लंबी फेहरिस्त है। भारत की सबसे निडर महिलाओं में ममता बनर्जी का भी नाम आता है। उनका जन्म और पालन-पोषण कोलकाता में एक बंगाली हिंदू ब्राह्मण परिवार में हुआ था। उन्होंने 17 साल की उम्र में अपने पिता को खो दिया, लेकिन फिर भी, उन्होंने इस्लामिक इतिहास में मास्टर डिग्री ली। वह एक ऐसी प्रतिभा है जो किसी भी कठिन और बुरी परिस्थितियों में भी कभी हार नहीं मानती है। जैसे बकरियां मजबूत और स्वतंत्र होती हैं, वे दूसरों पर निर्भर रहना कमजोरी का प्रतीक मानती है। ठीक वैसे ही मकर राशि वाले जातक होते हैं।


कुम्भ राशि महिला

उषा थोराट

आत्मविश्वास कुम्भ राशि वालों की सबसे ख़ास विशेषता होती है। वे अपने आत्मविश्वास की वजह से किसी भी फील्ड में अपनी अमिट छाप छोड़ते है। यह लोग बहुत अच्छे विश्लेषक होते हैं, और हमेशा सच की तलाश में रहते हैं। इनकी सोच भी बहुत खुली होती है। आर बी आई की भूतपूर्व डिप्टी गवर्नर उषा थोराट, यही सब विशेषतायें लिए हुए है। दिल्ली के स्कूल ऑफ इकोनॉमिक्स से पढ़ी उषा थोराट ने भारत की फ़ाइनेंशियल ग्रोथ में अहम भूमिका निभाई है। अपने काम की वजह से उषा थोराट ने मंझे हुए कुम्भ की तरह इकोनॉमिस्ट में अपनी पहचान बनाई है। कुंभ राशि वालों के पास विचारों का खुला हुआ भंडार होता है।


मीन राशि

आलिया भट्ट

मीन राशि की महिला चुलबुली स्वभाव की होती है। यह बात आप आलिया भट्ट को देखकर लगा सकते हैं। बॉलीवुड की मशहूर अभिनेत्री और गायिका आलिया भट्ट शायद हिंदी फिल्मों की सबसे फेमस वीआईपी प्रतीक हैं। उन्होंने अभी तक अपने करियर में दो फिल्मफेयर अवार्ड जीते है। फोर्ब्स इंडिया ने उन्हें टॉप 100 सेलिब्रिटी सूची में शामिल किया गया था। जबकि फोर्ब्स एशिया की लिस्ट में उन्हें “30 अंडर 30” में शामिल किया। मीन राशि वालों खूबसूरती में कोई कमी नहीं होती, उनका चेहरा आपको आकर्षित करता है। वो जिस फील्ड में होती है अपना सर्वश्रेष्ठ देती है। आलिया भट्ट कमाल की अभिनेत्री है। उन्होंने अपनी एक्टिंग से सबको हैरान कर दिया। फिल्मों में उन्हें करण जौहर लेकर आये।

इतनी कम उम्र में भारत में सबसे अधिक पहचाने जाने वाले चेहरों में से एक होने के नाते, आलिया ने निश्चित रूप से अपने माता-पिता को गौरवान्वित किया है। 15 मार्च 1993 को मुंबई में जन्मी आलिया अपनी पहली फिल्म स्टूडेंट ऑफ द ईयर से ऊंचाइयों पर जा पहुची। इस फिल्म को आलोचकों से भी सराहना मिली। इसके बाद हाईवे फिल्म में उनके रोल ने आलोचकों से सम्मान प्राप्त किया। मकर राशि की महिलाओं की बचपन से ही नजर हमेशा सबसे आगे रहने की होती है। वे हमेशा प्रतियोगिता में भाग लेकर जितना चाहती है। यह लोग हमेशा अपने जीवन में गलतियाँ करेगी, लेकिन उनकी यह खूबी भी है कि वह तुरंत उन गलतियों से सीख लेगी, फिर उन्हें दोहराएगी नहीं। खुद को ऊपर उठाएगी और फिर से नई शुरुआत करेगी। आलिया भट्ट भी बिलकुल ऐसी ही है। वो हमेशा अपने काम में की गई गलती से दोबारा सबक लेकर उनसे कुछ न कुछ सीख लेती है।