चौमासी चौदस 2022: जैन धर्म के सबसे महत्वपूर्ण त्योहार

चौमासी चौदस 2022: जैन धर्म के सबसे महत्वपूर्ण त्योहार

चौमासी चौदस चार महीने की अवधि है, जब भगवान महावीर द्वारा निर्धारित ज्ञान और ज्ञान का जैन समुदाय द्वारा अभ्यास किया जाता है। जैन धर्म अहिंसा के सिद्धांतों का पालन करता है और चौमासी चौदास उसी का संदेश फैलाते हैं। चौमासी चौदस जैन धर्म के सबसे महत्वपूर्ण त्योहारों में से एक है। भगवान महावीर की शिक्षाओं और दर्शन से उपजा, त्योहार अहिंसा और दान के सिद्धांत का प्रकटीकरण है। इस उत्सव के कई आयाम समय-समय पर बदलते रहे हैं, लेकिन इस उत्सव का मुख्य उद्देश्य भगवान महावीर के दर्शन और शिक्षाओं को प्रतिबिंबित करने का अवसर प्रदान करना और स्वयं के साथ-साथ स्वयं की भलाई के लिए उनका अभ्यास करना है। 

साल 2022 कब है चौमासी चौदस

साल 2022 में चौमासी चौदस का इस प्रकार से पड़ेगा…

चौमासी चौदसतिथिदिन
फाल्गुन चौमासी चौदस17 मार्च 2022बृहस्पतिवार
आषाढ़ चौमासी चौदस12 जुलाई 2022मंगलवार
कार्तिक चौमासी चौदस7 नवंबर 2022सोमवार

चौमासी चौदस का महत्व

चातुर्मास या चौमास का तात्पर्य चार महीने की अवधि से है, जो आषाढ़ी पूर्णिमा (जून-जुलाई) से शुरू होती है और कार्तिक पूर्णिमा (अक्टूबर-नवंबर) पर समाप्त होती है। भारत में यह चार महीने की अवधि मानसून द्वारा चिह्नित की जाती है और इसलिए इसे वर्षा वास के रूप में जाना जाता है। वर्षा वनस्पति लाती है, जिससे पृथ्वी हरी-भरी हो जाती है। प्राचीन काल में, न्यूनतम सड़क संपर्क था। इसलिए, बरसात के मौसम में पर्यावरण समृद्ध जीवों से भर गया था। जैन धर्म पौधों को इंद्रियों और भावनाओं के साथ जीवन के रूप में देखता है। जैन धर्म में अहिंसा पर बहुत जोर दिया गया है। चातुर्मास के दौरान वनस्पति को मानव से बचाने के लिए, जैन ऋषि इन चार महीनों के दौरान यात्रा करने से बचते थे। लोगों को विशेष रूप से जैन मुनियों को घर के अंदर रहने की सलाह दी गई। चतुर्मास के दौरान ऋषि सभी के कल्याण के लिए प्रार्थना और ध्यान के लिए खुद को प्रतिबद्ध करते हैं। अहिंसा की यह अवधारणा चौमासी चौदस के पीछे की भावना को दर्शाती है। आंतरिक शक्ति को जगाने के लिए वे अध्यात्म का अभ्यास करते हैं। इसलिए, चातुर्मास अपने भीतर आध्यात्मिकता को जगाने का समय है।

कैसे मनाया जाता है चौमासी चौदस

चौमासी चातुर्मास के चार महीनों के दौरान, पूरे जीवन में एक नया मोड़ आता है। भक्त नदियों में पवित्र स्नान करते हैं और इस अवधि के दौरान उपवास रखते हैं। भक्त एक समय ही भोजन करते हैं। जैन मुनि अपने आश्रमों तक ही सीमित रहकर साधना और तपस्या करते हैं।

जैन धर्म में, भगवान महावीर की शिक्षाओं का पालन किया जाता है और बहुत भक्ति और समर्पण के साथ अभ्यास किया जाता है। चातुर्मास के दौरान जैन भक्त भगवान की पूजा करते हैं और कई धार्मिक अनुष्ठान करते हैं। इन दिनों के दौरान, वे अपने घरों को साफ करते हैं और सजाते हैं। इसके अलावा नए कपड़ों की खरीदारी करते हैं। सभी पापों को दूर करने और अच्छे ‘कर्म’ अर्जित करने के लिए दान और भिक्षा की जाती है।

भगवान महावीर कौन थे?

जैन धर्म के 24वें तीर्थंकर भगवान महावीर स्वामी ने लोगों को जीवन भर सत्य और अहिंसा के मार्ग पर चलने की शिक्षा दी और उन्हें प्रेम से साथ रहने की सलाह दी। साथ ही पशु बलि, जातिगत भेदभाव आदि की कड़ी निंदा की।

महावीर स्वामी विश्व के उन महान महात्माओं में से एक थे, जिन्होंने मानवता के कल्याण के लिए राजपाट को छोड़कर तपस्या और त्याग का मार्ग अपनाया। महावीर स्वामी का जीवन सभी के लिए प्रेरणादायी है। जिस प्रकार महल में निवास करने वाले महावीर स्वामी ने हठधर्मिता का परित्याग कर सत्य की खोज की और परम ज्ञान को प्राप्त किया।

महावीर प्रभु का जन्म

जैन धर्म के महान तीर्थंकर महावीर स्वामी का जन्म 599 ईसा पूर्व वैशाली राज्य के क्षत्रियकुंड शहर में चैत्र मास की त्रयोदशी के दिन इक्ष्वाकु वंश के राजा सिद्धार्थ और रानी त्रिशला के एक साधारण बच्चे के रूप में हुआ था।

महावीर स्वामी बचपन से ही बहुत तेज और बुद्धिमान थे। उन्होंने कठोर तप के बल पर अपने जीवन को महान बनाया। भगवान महावीर को सन्मति, महावीर श्रमण, वर्धमान आदि नामों से भी जाना जाता है। इनके अलग-अलग नामों से जुड़ी कुछ किंवदंतियां हैं।

कहा जाता है कि महावीर स्वामी के जन्म के बाद उनके राज्य में काफी वृद्धि और विकास हुआ, इसलिए उनका नाम वर्धमान पड़ा। वहीं बचपन से ही उनके तेज, साहसिक और पराक्रमिक होने के कारण उन्हें महावीर कहा जाता था। महावीर स्वामी ने अपनी सभी इच्छाओं और इंद्रियों पर विजय प्राप्त कर ली थी, इसलिए उन्हें “जिनेद्र” कहा गया।

महावीर स्वामी का विवाह - भगवान महावीर जीवन इतिहास

राजा के पुत्र के रूप में जन्म लेने के बावजूद, महावीर स्वामी को सांसारिक सुखों से कोई विशेष लगाव नहीं था, लेकिन अपने माता-पिता की इच्छा के अनुसार, उन्होंने वसंतपुर के महासामंत समरवीर की बेटी यशोदा से शादी की। शादी के बाद उन्हें प्रियदर्शिनी नाम की एक बेटी भी हुई।

महावीर स्वामी जी को शुरू से ही सांसारिक सुखों से कोई लगाव नहीं था। माता-पिता की मृत्यु के बाद संतों के जीवन को अपनाने की उनकी इच्छा जागृत हुई, लेकिन वे अपने भाई के कहने पर कुछ दिनों तक रहे।

महावीर से स्वामी बनाने की कहानी

30 वर्ष की आयु में महावीर स्वामी जी ने सांसारिक मोह को त्यागकर घर छोड़कर वैराग्य जीवन जीने का निश्चय किया। इसके बाद उन्होंने लगातार 12 वर्षों तक घने जंगल में तपस्या की और सत्य ज्ञान प्राप्त किया। इसके बाद उनकी प्रसिद्धि चारों ओर फैल गई। इसके बाद उनकी महान शिक्षाओं के कारण महान राजा और सम्राट उनके अनुयायी बने।

उन्होंने अपनी शिक्षाओं के माध्यम से लोगों को जीवित प्राणियों पर दया करने, एक-दूसरे के साथ सद्भाव में रहने, सत्य, अहिंसा के मार्ग पर चलने के लिए प्रेरित किया।

महावीर स्वामी की प्रसिद्ध कथाएं

महावीर स्वामी के जीवन से जुड़ी कई कहानियां हैं, लेकिन यहां हम आपको उनकी प्रसिद्ध कहानियों के बारे में बता रहे हैं-

महावीर स्वामी और ग्वाले की कहानी

एक बार जब महावीर स्वामी एक पेड़ के नीचे कठोर तपस्या कर रहे थे, तभी एक चरवाहा अपनी गायों के साथ वहां आया और महावीर स्वामी से कि जब तक वह वापस नहीं आ जाता, तब तक उनकी गायों की देखभाल करें। जब वह वापस आया तो उन्हें अपनी गायें नहीं मिलीं, तो उन्होंने स्वामी जी से उनकी गायों के बारे में पूछा, जिसके बाद महावीर स्वामीजी ने ग्वाला के प्रश्न का कोई उत्तर नहीं दिया और वे अपने ध्यान में मग्न हो गए।

जिसके बाद ग्वाला पूरी रात जंगल में अपनी गायों की तलाश करता रहा, जब वह थक कर वापस आया, तो उसने अपनी गायों को महावीर स्वामी जी के साथ देखा, जिसे देखकर वह क्रोधित हो गया और महावीर स्वामीजी पर हमला करने के लिए तैयार हो गया।

उसी समय दैवीय शक्ति प्रकट हुई और उसने अपराध करने जा रहे ग्वाला को रोका और कहा कि उत्तर सुने बिना आपने अपनी गायों को महावीर जी के पास छोड़ दिया और अब आप पूरी गाय पाकर भी उन्हें दोष दे रहे हैं। जिसके बाद ग्वाला महावीर स्वामी जी के चरणों में गिर पड़े और माफी मांगते हुए अपनी गलती पर पछताया।

महावीर स्वामी और चंदकौशिक सर्प की कथा

जब महावीर स्वामी सत्य और परम ज्ञान की प्राप्ति के लिए श्वेतांबरी शहर के घने जंगल में कठोर तपस्या करने जा रहे थे, तब वहां के कुछ ग्रामीणों ने उन्हें हमेशा क्रोध में रहने वाले एक चंडकौशिक सांप के बारे में बताया और उन्हें आगे जाने के लिए रोकने की कोशिश की, लेकिन निडर महावीर स्वामी जंगल में चले गए।

कुछ देर बाद महावीर जीर्ण-शीर्ण और बंजर जंगल में तपस्या करने बैठ गए, तभी क्रोधित चंडकौशिक सांप वहां आया और अपना फन फैलाकर महावीर की ओर बढ़ने लगा। लेकिन इसके बावजूद महावीर अपने ध्यान से विचलित नहीं हुए, यह देखकर कि जहरीले सांप ने महावीर का अंगूठा काट लिया।

इसके बावजूद महावीर ध्यान में रहे और सांप के जहर का उन पर कोई असर नहीं हुआ। कुछ ही देर बाद महावीर स्वामी ने अपनी मधुर वाणी और स्नेह से सर्प से कहा, “सोचो कि तुम क्या कर रहे हो।”

चंडकौशिक को अपने पिछले जन्मों के कर्मों की याद आ गई और अपनी गलती पर पछतावा हुआ और उसने अपना मन बदल दिया और प्रेम और अहिंसा के पुजारी बन गया। अपनी भावनाओं पर नियंत्रण और आत्मसंयम को प्राप्त कर उसने मोक्ष प्राप्त किया।

महावीर प्रभु की शिक्षाएं

जैन धर्म के 24वें तीर्थंकर महावीर स्वामीजी ने अपनी शिक्षाओं और शिक्षाओं के माध्यम से न केवल लोगों को जीने की कला सिखाई है, बल्कि उन्हें सत्य और अहिंसा के मार्ग पर चलना भी सिखाया है। महावीर स्वामी द्वारा दी गई शिक्षाएं जैन धर्म का मुख्य पंचशील सिद्धांत बन गई। इन सिद्धांतों में सत्य, अपरिग्रह, अस्तेय, अहिंसा और ब्रह्मचर्य शामिल हैं।

महावीर स्वामी जी द्वारा बताए गए पंचशील सिद्धांत निम्नलिखित हैं-

पहला सिद्धांत - सत्य

जैन धर्म के प्रमुख तीर्थंकर महावीर स्वामी जी ने अपने पंचशील सिद्धांतों में सबसे पहले ‘सत्य’ को महत्व दिया है। उन्होंने सत्य को संसार में सबसे शक्तिशाली और महान बताया है। उन्होंने लोगों को हमेशा सत्य का अनुसरण करने और सत्य का समर्थन करने के लिए प्रेरित किया है।

दूसरा सिद्धांत - अहिंसा

जीने और जीने के सिद्धांत पर जोर देने वाले महान तीर्थंकर महावीर स्वामी जी ने अहिंसा को सबसे बड़ा धर्म बताया है और लोगों को सिखाया है कि अहिंसा का पालन करें और एक दूसरे के साथ सद्भाव से रहें।

तीसरा सिद्धांत - अस्तेय

लोगों को करुणा और मानवता का पाठ पढ़ाने वाले महान जैन तीर्थंकर महावीर स्वामी जी ने भी लोगों को अस्तेय अर्थात चोरी न करने की शिक्षा दी है। यानी लोगों को सलाह दी जाती है कि वे अपने जीवन में ही खुश और संतुष्ट रहें।

चौथा सिद्धांत - ब्रह्मचर्य

महावीर जी द्वारा दिए गए प्रमुख सिद्धांतों में भी ब्रह्मचर्य प्रमुख है, जिनका पालन एक सच्चा और दृढ़निश्चयी अनुयायी कर सकता है। ब्रह्मचर्य का पालन करने वाला कोई भी मनुष्य जन्म और मृत्यु के बंधन से मुक्त हो जाता है।

पांचवां सिद्धांत - अपरिग्रह

अपरिग्रह महावीर स्वामी द्वारा दिए गए पंचशील सिद्धांतों में भी महत्वपूर्ण है, जिसका अर्थ है कि अपनी जरूरत से ज्यादा चीज जमा नहीं करना चाहिए।

महावीर जी का यह सिद्धांत लोगों को यह एहसास कराता है कि सांसारिक मोह ही मनुष्य के कष्टों का मुख्य कारण है।