नवरात्रि अनुष्ठान: देवी की मूर्ति पर फूल चढ़ाने का महत्व

नवरात्रि अनुष्ठान: देवी की मूर्ति पर फूल चढ़ाने का महत्व

हिन्दू धर्म में नवरात्रि को जीवन में ऊर्जा, प्रसन्नता तथा दैवीय आशीर्वाद लाने वाला पर्व माना गया है। नवरात्रि में प्रत्येक दिन यानी इन नौ दिनों में मां दुर्गा के विभिन्न रूपों की आराधना की जाती है और उनसे मनोकामना पूर्ति का आशीर्वाद मांगा जाता है। लोग रात में गरबा के पारंपरिक नृत्य का भी आयोजन करते हैं और भक्ति गीत सुनते हैं। मां दुर्गा आंतरिक बल, शक्ति और ऊर्जा की प्रदाता हैं।

भगवती आद्यशक्ति की प्रार्थना तथा उनकी कृपा से भक्तों अपने शत्रुओं पर विजय प्राप्त करने में सक्षम हो पाते हैं। इसके साथ ही आप सुख, सौभाग्य तथा सम्पन्नता भी प्राप्त करते हैं। इसलिए, भक्तजन उनके नौ अलग-अलग रूपों की पूरी ईमानदारी से पूजा करते हैं। हम मां दुर्गा की मूर्ति के सामने पूजा विधिपूर्वक करते हैं और पुष्प आदि भी समर्पित करते हैं। यहां आपको इस बात का विशेष ध्यान रखने की जरूरत है कि देवी के किस स्वरूप को कौनसा पुष्प चढ़ाया जाना चाहिए। तो आइए जानते हैं कि देवी दुर्गा के विभिन्न रूपों को कौन सा फूल चढ़ाया जाता है।


देवी दुर्गा के विभिन्न रूप (Different Forms Of Goddess Durga)

नीचे नवरात्रि के दौरान मनाए जाने वाले देवी दुर्गा के विभिन्न रूप हैं। इन दिनों में भक्त श्रद्धालु मां भगवती की पूजा करते हैं और उन्हें अपने अनुष्ठानों से रिझा कर उनका आशीर्वाद प्राप्त करते हैं।

  • पहला दिन देवी शैलपुत्री को समर्पित है।
  • दूसरा दिन देवी ब्रह्मचारिणी को समर्पित है।
  • तीसरा दिन देवी चंद्रघंटा को समर्पित है।
  • चौथा दिन देवी कुष्मांडा को समर्पित है।
  • पांचवां दिन देवी स्कंदमाता को समर्पित है।
  • छठा दिन देवी कात्यायनी को समर्पित है।
  • सातवां दिन देवी कालरात्रि को समर्पित है।
  • आठवां दिन देवी महागौरी को समर्पित है।
  • नवां देवी सिद्धिदात्री को समर्पित है।

प्राचीन मान्यताओं के अनुसार जो व्यक्ति देवी दुर्गा के सभी नौ रूपों को फूल चढ़ाकर पूजा करता है, उसे जीवन में वांछित सफलता प्राप्त होती है। फूल भी अनुष्ठान के महत्वपूर्ण अंग हैं क्योंकि यह देवी के नौ रूपों से जुड़े हुए हैं।

फूल आपके और ईश्वर के बीच संबंध विकसित करने में आपकी मदद करते हैं। इसलिए, हर बार जब आप भगवान या देवी को फूल चढ़ाते हैं, तो हो सकता है कि आपकी प्रार्थना अनसुनी न हो। लेकिन उसके लिए, देवी के नौ अवतारों के पसंदीदा फूलों को जानना आवश्यक है। तो आइए इसके बारे में और जानें।

अपने कॅरियर में सफलता पाने के लिए मार्गदर्शन चाहते हैं? अभी हमारे अनुभवी ज्योतिषियों से 1 रुपए प्रति मिनट में बात करें।


विभिन्न देवियों के पसंदीदा फूल (Favourite Flowers Of Goddesses)

पहले दिन, हम पूजा करते समय व्यापक रूप से उपयोग किए जाने वाले उनके पसंदीदा हिबिस्कस यानी गुड़हल के फूलों को चढ़ाते हैं। गुड़हल के फूलों से देवी शैलपुत्री की पूजा करते हैं। इसके बाद, हम अच्छी संपत्ति का आशीर्वाद पाने के लिए ब्रह्मचारिणी देवी को गुलदाउदी के फूलों से उन्हें खुश करने का प्रयास करते हैं।

नकारात्मक विचारों और मन में भय से छुटकारा पाने के लिए हम तीसरे दिन देवी चंद्रघंटा की मूर्ति के पास कमल का फूल रखते हैं। नवरात्रि का चौथा दिन मां कुष्मांडा को चमेली के फूल चढ़ाकर मनाया जाता है।

पांचवें दिन की कार्यवाही में देवी स्कंदमाता की पूजा शामिल है और इसलिए, हम उन्हें गुलाब का फूल चढ़ाते हैं। फिर, हम सौभाग्य प्राप्त करने के लिए छठे दिन कात्यायनी की मूर्ति के पास गेंदे के फूलों का एक गुलदस्ता लगाते हैं। 7 वें दिन, हम मां दुर्गा, देवी कालरात्रि के उग्र रूप को प्रसन्न करने के लिए पासिफ्लोरा (कृष्ण कमल) चढ़ाते हैं।

भक्त नवरात्रि के 8 वें दिन देवी महागौरी को अरबी चमेली या मोगरा फूल से नमन करते हैं। नवरात्रि के अंतिम दिन, हम देवी सिद्धिदात्री से आशीर्वाद प्राप्त करने के लिए प्लमेरिया के फूलों या चंपा के फूलों का उपयोग करके पूजा करते हैं।


रंगीन फूलों की भूमिका (A Role Of Colorful flowers)

अब, जैसा कि हम जानते हैं, फूल देवताओं के साथ जुड़े हुए हैं। आपको यह भी पता होना चाहिए कि किस रंग का फूल आपको अधिकतम लाभ दिलाने में मदद कर सकता है। ये रंग-बिरंगे फूल भगवान को प्रसन्न करने में अहम भूमिका निभाते हैं। यह भगवान की पूजा करने के पीछे आपकी आस्था और भक्ति का प्रतिनिधित्व करता है। यहां जानिए मां दुर्गा के नौ रूपों को किस रंग के फूल चढ़ाए जाते हैं।

हम पीले रंग के फूलों का उपयोग करके देवी शैलपुत्री की पूजा करते हैं, जिन्हें खुशी और खुशी का प्रतीक कहा जाता है। अगले दिन, हम देवी ब्रह्मचारिणी को प्रभावित करने के लिए नीले रंग के फूलों का उपयोग करते हैं। तीसरा दिन देवी चंद्रघंटा को याद करने के लिए मनाया जाता है, इसलिए हम उन्हें भूरे रंग के फूल चढ़ाते हैं। इसके बाद, हम देवी कुष्मांडा की मूर्ति के पास हरे रंग के फूल रखकर उनका सम्मान करते हैं।

5वें दिन की पूजा सफेद रंग के फूलों के सेट का उपयोग करके देवी स्कंदमाता को समर्पित है। बाद में छठे दिन देवी कात्यायनी को प्रसन्न करने के लिए नारंगी रंग के फूलों का प्रसाद चढ़ाया जाता है। मां दुर्गा के सातवें स्वरूप कालरात्रि को लाल रंग के फूल देकर उनकी पूजा की जाती है।

फिर, भक्त 8 वें दिन गुलाबी रंग के फूलों से देवी महागौरी की पूजा करने के लिए उन्हें पुष्प अर्पित करते हैं। नवरात्रि के अंतिम दिन, हम देवी सिद्धिदात्री की मूर्ति के पास रखने के लिए ताजे बैंगनी रंग के फूल इकट्ठा करते हैं और इन फूलों को उन्हें अर्पित करते हैं ताकि देवी खुश हो। देवी को खुश कर भक्त अपनी मनचाही इच्छा मांगते हैं।


समापन

आप में से कुछ लोग यह नहीं जानते होंगे कि कैसे फूल देवी का आशीर्वाद पाने के लिए आपका मार्गदर्शन कर सकते हैं। परन्तु अब हमें विश्वास है कि आपको विभिन्न देवियों को चढ़ाए जाने वाले पुष्पों का पता चल गया है तो आप भी अपनी इस नई जानकारी की बदौलत देवी को प्रसन्न कर उनका आशीर्वाद ले सकेंगे।

इस तरह हम जानते हैं कि नवरात्रि के दिनों में लगातार प्रार्थना तथा पूजा करने से आपके जीवन में सफलता के रास्ते नए रास्ते खुल सकते हैं और हां, देवी की मूर्ति पर तरह-तरह के फूल चढ़ाना न भूलें। अत: में आप सब के लिए नवरात्रि सुख, शांति, सौभाग्य और प्रसन्नता लेकर आएं।