नवरात्रि पूजा के दौरान भोग का महत्व

नवरात्रि पूजा के दौरान भोग का महत्व

नवरात्रि के शुभ अवसर पर लोग मां दुर्गा को प्रभावित करने के लिए अनुष्ठान करते हैं। नवरात्रि के पवित्र त्योहार के दोरान माता के अलग अलग रूपों की पूजा की जाती है। इस दौरान विभिन्न व्यंजनों से भोग लगाकर माता दुर्गा का आशीर्वाद लिया जाता है। यह यह पर्व आश्विन मास की अमावस्या के अगले दिनों से शुरु होकर 9 दिनों तक चलता है।

ऐसा माना जाता है कि एक समय महिषासुर नामक राक्षस ने बहुत ही आतंक मचा रखा था। तब देवताओं ने दिव्य शक्ति से माता दुर्गा को प्रकट किया था। उन्होंने ही बाद में महिषासुर राक्षस का वध कर लोगों और देवताओं को उसके आतंक से मुक्ति दिलाई थी। कहा जाता है कि तभी से माता के नौ रूपों की पूजा की जाती है, और इस त्योहार को मनाया जाता है। मां दुर्गा अपनी आठों भुजाओं में विभिन्न शस्त्र धारण किए शेर पर सवार रहती हैं।

देवी के नौ रूपों की बात की जाए, तो उनमें मां शैलपुत्री, ब्रह्मचारिणी, चंद्रघंटा, कुष्मांडा, स्कंदमाता, कात्यायनी, कालरात्रि, महागौरी और सिद्धिदात्री हैं। माता के अनन्य भक्त मन की शांति प्राप्त करने के लिए फूल, मिठाई, फल माता को अर्पित कर प्रार्थना करते हैं। वहीं कई लोग माता को प्रसन्न करने के लिए उपवास रखते हैं।


कैसे लगाते हैं माता को भोग ?

नवरात्रि के दौरान भक्त माता की पूजा पूरी श्रद्धा से करते हैं। इसके साथ ही वे मां दुर्गा पूजा के एक अलग रूप के लिए ताजा भोजन और मीठे व्यंजन भी तैयार करते हैं। आइए जानते हैं माता के नौ रूपों को कैसे भोग लगाता जाता है।

पूजा करने में कोई कठिनाई का सामना करना पड़ रहा है? अभी हमारे अनुभवी ज्योतिषियों से संपर्क करें!

देवी शैलपुत्री

नवरात्रि के पहले दिन मां शैलपुत्री की पूजा का विशेष महत्व है। ऐसा माना जाता है कि देवी पार्वती का पुनर्जन्म पर्वत के राजा की बेटी के रूप में हुआ था। माता इस रूप में बैल की सवारी करती है, और सफेद वस्त्र धारण करती है। इनकी पूजा के लिए भक्त अपने अच्छे स्वास्थ्य और फिटनेस के लिए उन्हें शुद्ध घी चढ़ाते हैं।

देवी ब्रह्मचारिणी

नवरात्रि का दूसरा दिन मां ब्रह्मचारिणी का है। देवी के दाएं हाथ में जप की माला है और बाएं हाथ में यह कमण्डल धारण किए हैं। पूर्वजन्म में इन्होंने हिमालय के घर पुत्री रूप में जन्म लिया था और नारदजी के उपदेश से भगवान शंकर को पति रूप में प्राप्त करने के लिए घोर तपस्या की थी। इसके बाद, भगवान ब्रह्मा उनकी भक्ति से प्रभावित हुए और उन्हें वरदान दिया कि नवरात्रि के दूसरे दिन उनकी पूजा की जाएगी। लोग अपने परिवार के सदस्यों की लंबी उम्र के लिए मां ब्रह्मचारिणी को मीठे व्यंजन और गुड़ के साथ भोग लगाते हैं।

देवी चंद्रघंटा

देवी चंद्रघंटा देवी पार्वती का विवाहित रूप है। जब उन्होंने भगवान शिव से विवाह किया, तो उसने अपने माथे को अर्धचंद्र से सजाना शुरू कर दिया। बाद में उन्हें मां चंद्रघंटा के नाम से जाना जाने लगा। माता चंद्रघंटा की दस भुजाएं है, और उनकी सवारी बाघ है। मां के भक्त माता को खीर का भोग या दूध से बनी मिठाई का भोग लगाते हैं। ऐसा करने से देवी उन्हें अच्छी संपत्ति का आशीर्वाद देती हैं।

देवी कुष्मांडा

देवी कुष्मांडा देवी सिद्धिदात्री का भौतिक रूप हैं। उनकी आठ भुजाएं हैं, और बाघ उनकी सवारी है। माता के भक्त अक्सर उन्होंने मालपुआ का भोग लगाते हैं और बाद में ब्राह्मणों को वितरित करते हैं। देवी कुष्मांडा की पूजा करने से आपका स्वास्थ्य ठीक होता है और स्वास्थ्य संबंधी सारी समस्याएं दूर हो जाती है।

देवी स्कंदमाता

नवरात्रि का पांचवा दिन मां स्कंदमाता को समर्पित होता है। जब देवी पार्वती ने कार्तिकेय (स्कंद) को जन्म दिया, तब से उन्हें देवी स्कंदमाता के रूप में जाना जाने लगा। उन्हें भक्त केले के फल को भोग के रूप में चढ़ाते हैं। और बदले में, देवी उन्हें वांछित समृद्धि और स्वस्थ शरीर प्रदान करती हैं।

देवी कात्यायनी

जब मां दुर्गा ने राक्षस महिषासुर का वध किया, तो वह अपने भयानक रूप के कारण मां कात्यायनी के नाम से जानी गई। मां दुर्गा का यह रूप दानव के विनाश का संकेत देता है। इस दिन, लोगों ने देवी कात्यायनी को भोग के रूप में शहद का भोग लगाया, क्योंकि यह भक्तों को उनके क्रोध को सकारात्मक दिशा में निर्देशित करने में मदद करेगा।

देवी कालरात्रि

मां कालरात्रि को देवी दुर्गा का सबसे हिंसक और क्रूर रूप माना गया है। ऐसा गया है कि देवी कालरात्रि को दो राक्षसों, चंद और मुंड को मारने के लिए जाना जाता था। उन्होंने रात्रि के समय अनिष्ट शक्तियों का नाश किया और इस प्रकार उनका नाम कालरात्रि पड़ा। देवी को एक गधे पर लोहे की घातक हुक और हाथों में तलवार लिए हुए उनका प्रतिकात्मक रूप देखा जाता था। सातवें दिन लोग उन्हें भोग के रूप में गुड़ (गुड़) चढ़ाते हैं। देवी भक्तों को किसी भी बीमारी या दुख से छुटकारा पाने में मदद कर सकती हैं।

देवी महागौरी

देवी महागौरी पवित्रता और सुंदरता का प्रतीक हैं। जब देवी पार्वती राक्षसों से लड़ने के लिए गई, तो उन्होंने अपना हिस्सा कैलाश पर्वत पर छोड़ दिया। उनका यह गोरा रूप महागौरी के नाम से जाना जाता है। देवी महागौरी अपने भक्तों को उनके सभी कार्यों और धन में सफलता का आशीर्वाद देती हैं। भक्त मां महागौरी की पूजा के लिए भोग के रूप में नारियल चढ़ाते हैं।

देवी सिद्धिदात्री

ऐसा माना जाता है कि देवी सिद्धिदात्री का कोई शारीरिक रूप नहीं है, बल्कि ऊर्जा का एक शुद्ध रूप है। भगवान शिव ने इस अवतार के साथ मिलकर अर्धनारीश्वर का निर्माण किया, जो ब्रह्मांड में पुरुषत्व और स्त्रीत्व का प्रतीक है। देवी की मूर्ति में कमल के फूल पर आरूढ़ महिला को दर्शाया गया है। वह शुरुआत और अंत के प्रतीक के रूप में जानी जाती है। लोग देवी के आशीर्वाद के रूप में आराम और शांति प्राप्त करने के लिए भोग के रूप में तिल चढ़ाते हैं।


अंत में...

इस आलेख के माध्यम से हमने आपको बताया कि कैसे भक्त मां दुर्गा की पूजा के लिए अनुष्ठान का आयोजन करते हैं, और क्या भोग लगाते हैं। लोग लगातार नौ दिनों तक भोग लगाकर देवी दुर्गा को प्रसन्न करते हैं और इस प्रकार नवरात्रि के समय भोग की सेवा करना महत्वपूर्ण हो जाता है। आशा है कि आपको यह ब्लॉग पढ़कर अच्छा लगा होगा।