रत्न (Gemstones) क्या है, कैसे डालते हैं रत्न हमारे जीवन पर प्रभाव

रत्न एक ऐसा शब्द है, जो अपने बारे में बहुत कुछ कहता है। यह शब्द अपनी व्याख्या स्वयं ही कर देता है। वैसे अगर रत्न के मूल रूप की बात करें तो रत्न एक कीमती पत्थर होता है, यह कुदरत का एक उपहार होता है, एक देन होती है, यह प्राकृतिक रूप से बनता है। रत्न एक ऐसा कीमती पत्थर होता है , जो प्रकृति में उपलब्ध खनिजों, चट्टानों, कार्बनिक पदार्थों से बने होते हैं। ये रत्न कभी-कभी कच्चे माल के रूप में होते हैं जिन्हें पहनने से पहले संसाधित करने की आवश्यकता होती है। इन्हें पहने जाने से पहले तराशा जाता है, इन्हें चमकदार बनाया जाता है। इनके आकार को सुधारा जाता है।  इसे रत्न सबसे शक्तिशाली रत्न बनता है।  उदाहरण के लिए हम बात करते हैं हीरे की। हीरे को उनकी असली सुंदरता तक पहुंचाने के लिए, चमकदार बनाने के लिए कारखानों में संसाधित किया जाता है, उन्हें संवारा जाता है। कुछ मामलों में वे मोती, नीलम, माणिक, पन्ना आदि की तरह अपने मूल रूप में पाए जाते हैं।


रत्नों के बारे में जानने योग्य कुछ तथ्य

रत्न प्राचीनकाल से ही हमारे जीवन का एक अभिन्न हिस्सा रहे हैं। हमने अपने पूर्वजों से रत्नों से जुड़ी कई बातें, कई कहानियां सुनी होंगी। ये कहानियां, ये कथाएं हमें एक विरासत के रूप में मिली हैं। ऐसी कई बातें हैं जो हमें इसी विरासत के जरिए जानने को मिली हैं। हमें बताया गया है कि रत्न व मानव जीवन का आपस में गहरा संबंध है। इन रत्नों का मानव शरीर पर गहरा प्रभाव पड़ता है, यह करीब करीब वैसा ही है जैसे मानव जीवन पर ग्रहों का असर होता है, उसी तरह रत्न भी अपना प्रभाव रखते हैं। यहां एक बात जान लेना जरूरी है कि कुछ रत्न ऐसे होते हैं, जिन्हें पहनने से पहले, धारण करने से पहले संशोधित करना जरूरी होता है। उन्हें पॉलिश करना, रत्न को सजाना जरूरी होता है, उसे चमकाने के बाद, सजाने के बाद ही इसे पहना जा सकता है। जब हम प्रसिद्ध रत्नों की बात करते हैं तो मोती, एम्बर, ओपल, हीरा, माणिक, नीलम कुछ प्रसिद्ध रत्न हैं, जिनके नाम सबसे पहले आते हैं। वैसे तो लगभग 300 रत्न होते हैं, जिनमें से कुछ रत्न ऐसे हैं, जो हीरे की तुलना में भी बहुत ही दुर्लभ होते हैं।  

ये सभी रत्न बहुत ही कीमती होते हैं। इन कीमती रत्नों में कुछ न कुछ खास होता है, यही खासियत इनकी कीमत तय करती है। इन रत्नों जो विशेषता होती है, वह उनके आकार, रंग, दुर्लभता, उनकी मौजदूगी से जुड़ी होती है, यह उनकी भौतिकता, उनकी बनावट से संबंधित भी हो सकती है। यह बात अलग है कि हर रत्न को आभूषण में सजाकर नहीं पहना जा सकता है। हर रत्न की किस्मत में गहनों में सजना नहीं होता है। उनमें से कुछ रत्न  पहने जाने के लिए बहुत नाजुक भी हो सकते हैं। यहां एक खास बात आपको बताते हैं, वो यह है कि हीरा प्राकृतिक रूप से पाया जाने वाला सबसे कठोर पदार्थ है और खरोंच के लिए प्रतिरोधी है। एक खास बात यह भी होती है कि अधिकांश हीरे रंगहीन होते हैं। सारे हीरे रंगहीन नहीं होते हैं, कुछ हीरे रंगीन भी होते हैं रंगीन हीरे भी होते हैं, जैसे पीला, भूरा, हरा, नीला, नारंगी, गुलाबी, बैंगनी और लाल, उनके रंग होते हैं।

अब बात करते हैं रत्नों के वर्गीकरण के बारे में । रत्नों की किस्म को वर्गीकृत किस तरह से तय किया जाता है, या किस तरह उनके अलग अलग श्रेणी में रखा जाता है, यह हम बताते हैं। रत्नों को कई अलग-अलग तरीकों से वर्गीकृत किया गया है। वर्गीकरण के विषय में हम सर्वप्रथम बात करते हैं कीमती रत्नों के बारे में। कीमती रत्नों में हीरे, पन्ना, नीलम और माणिक आदि शामिल होते हैं। इसके अलावा बाकी अर्ध-कीमती पत्थर होते हैं। आज के समय में यह पता करना बहुत ही मुश्किल है कि एक व्यक्ति के तौर पर आपके लिए सबसे बेहतर रत्न कौन सा हो सकता है। कौन सा रत्न आपको सूट करेगा, कौन सा रत्न है जो आपके व्यक्तित्व को सुधार सकता है, आपके विकास रास्ते को प्रशस्त कर सकता है। यह इतना मुश्किल हो सकता है जैसे कि एक समुद्र से मोती निकालना। अथाह समुद्र में मौजूद असीमित जल राशि में से एक छोटा सा मोती तलाशना कितना मुश्किल होता है। यह कार्य असंभव सा लगता है, कुछ इतना ही कठिन कार्य है, अपने लिए एक सही और उपयुक्त रत्न की खोज करना। हम आपको बताना चाहते हैं कि असंभव सा लगने वाला यह काम संभव हो सकता है, इसके लिए आपको एक सर्टिफाइड जेमोलॉजी विशेषज्ञ की मदद लेनी होगी। उसकी मदद से इस काम को सहजता के साथ किया जा सकता है। एक खास बात यह भी है कि आजकल कुछ अर्ध कीमती (सेमी प्रिशियस) रत्न कीमती रत्नों से अधिक महंगे होते हैं, उनकी खासियत उन्हें अधिक महंगा बना देती है।  यही कारण है कि भारत में मूल रत्नों की कीमतें अलग-अलग जगहों पर अलग-अलग हो सकती हैं। आपको एक ही मूल रत्न अलग-अलग वेबसाइटों पर अलग-अलग कीमतों पर मिल सकता है। इसलिए अपने और अपने प्रियजनों के लिए सही रत्न चुनने से पहले सावधान रहें। हर बात को सावधानी पूर्वक पढ़ें समझें और फिर अपनी पसंद के रत्न को चुनें।

यहां दुनिया भर में उपलब्ध सबसे आम रत्नों की सूची दी गई है।

  • हीरा (डायमंड)
  • माणिक (रूबी)
  • मोती (पर्ल)
  • नीलम (सफायर)
  • पन्ना (एमरल्ड)
  • दूधिया पत्थर (ओपल)
  • बिल्लौर (ऐमेथिस्ट)
  • अक्वामरीन
  • बेरिल फिरोजा
  • टोपाज
  • गार्नेट
  • गोमेद
  • लापिज लाजुली
  • जेड
  • एम्बर
  • मैलाकाइट
  • अलेक्जेंड्राइट
  • टूमलाइन
  • पेरिडॉट
  • मूनस्टोन
  • स्पाइनेल
  • कारेलियन
  • क्वाट्र्ज

धरती पर मौजूद सबसे मूल्यवान रत्नों में से कुछ रत्न

यद्यपि दुनिया के सबसे मूल्यवान रत्न क्रिस्टल होते हैं, यह आपको संग्रहालयों में देखने को मिल सकत हैं। यहां हम ऐसे दस मूल्यवान रत्नों की सूचीदे रहे हैं, बता रहे हैं उनकी जानकारी।  

अलेक्जेंड्राइट

अलेक्जेंड्राइट एक खास तरह का रत्न होता है, यह रत्न रंग बदलता है। यानी दो रंग दिखाता है। यह रत्न  धूप में हरा होता है और प्रकाश में चटक लाल रंग का हो जाता है। यही कारण है कि इसे रंग बदलने वाला रत्न माना जाता है। यह 1830 में रूस में खोजा गया था और इसका नाम जार अलेक्जेंडर द्वितीय के नाम पर रखा गया था। इस रत्न की कुछ अन्य किस्में श्रीलंका, एशिया में पाई जाती हैं। इस रत्न की दुर्लभ और शुद्ध महंगी होती हैं।

जेडाइट

जेडाइट दुनिया के सबसे मूल्यवान रत्नों में से एक है। जेड का सबसे महंगा और वास्तव में सुंदर, अद्भुत और गहरा हरा पारभासी रत्न होता है।

तंजेनाइट

यह रत्न उत्तरी तंजानिया में पाया गया था। यह रत्न नीले रंग का होता है। इस रत्नों में कई तरह की खासियतें होती हैं, जो इसे विशेष बनाती है। यह दिसंबर के जन्में लोगों के लिए रत्नों में से एक है। यह नीलम से भी काफी दुर्लभ होता है, यह हीरे से भी अभेद्य होता है। इसकी कठोरता के कारण यह आभूषण के रूप में पहनने के लिए टिकाऊ है।

ताफीइट

इस रत्न की खोज 1945 में हुई थी। इसकी खोज जिस जेमोलॉजिस्ट ने की, उनका नाम रिचर्ड टैफ था। यह रत्न आस्ट्रेलिया में पाया गया था। यह एक दुर्लभ रत्न है। इसके दुर्लभ होने का अंदाज इसी बात से लगाया जा सकता है कि हममें से ज्यादातर लोगों ने नाम भी नहीं सुना होगा। यह हल्का बैंगनी रंग का रत्न होता है। यह श्रीलंका और तंजानिया में भी पाया जाता है।

डिमांटोइड गार्नेट

डिमांटोइड गार्नेट रत्नों की एक खास तरह की किस्म होती है। यह हरे रंग का होता है। रत्न रूस में खोजा गया था।

पदपरदशा नीलम

यह नीलम एक बहुत ही दुर्लभ किस्म का नीलम है और यह आमतौर पर श्रीलंका, तंजानिया और मेडागास्कर में पाया जाता है। गुलाबी और नारंगी रंग का इसका सुंदर संयोजन इसे कई रत्न प्रेमियों के लिए वांछनीय बनाता है। इसके रंगों की अनोखा मेल ही इसे रत्नों में बहुत ही अद्भुत बनाता है।

रेड बेरिल

रेड बेरिल न्यू मैक्सिको में पाया जाने वाला एक अत्यंत दुर्लभ प्रकार का बेरिल होता है, क्योंकि इस रत्न को बनाने के लिए कुछ विशिष्ट जलवायु परिस्थितियों की आवश्यकता होती है।

 

ब्लैक ओपल

ब्लैक ओपल रत्न सभी रत्नों में सबसे दुर्लभ ओपल है।

बेनिटोइट

 यह रत्न कैलिफोर्निया में पाया गया था और यह एक बहुत ही दुर्लभ रत्न है। यह नीले रंग का रत्न है।

मुस्ग्रेवाइट

 यह एक और दुर्लभ रत्न है, सबसे पहले यह 1967 में ऑस्ट्रेलिया के मुस्ग्रेव में पाया गया था।


क्या हैं 12 कीमती पत्थर और क्या हैं उनके लाभ?

रत्नों को उनके लाभ और विभिन्न महीनों में पैदा हुए लोगों पर प्रभाव के अनुसार वर्गीकृत किया जा सकता है। इन रत्नों को जन्म रत्न के रूप में जाना जाता है। रत्नों की दुनिया में जन्म का रत्न एक और नया अनुभव है, इसकी एक अलग पहचान, एक अलग व्याख्या होती है। इन रत्नों का उपयोग करने में कोई भेदभाव नहीं होता है। लिंग, आयु, राष्ट्रीयता या धर्म की परवाह किए बिना उनका व्यापक रूप से उपयोग किया जा सकता है। जन्म के रत्न अपनी भीतर कई खासियतें रखते हैं। ये रत्न गुप्त गुण और विद्या रखते हैं, जो प्रत्येक रत्न के लिए अद्वितीय होते हैं। बिल्कुल अलग होते हैं। रत्न की सत्यता और शुद्धता को आंकना कठिन होता है।

जनवरी

जनवरी साल का पहला वर्ष होता है। गारनेट जनवरी के लिए जन्म का रत्न है। यह लाल, नारंगी, पीला और बैंगनी जैसे विभिन्न रंगों में आता है। यह सकारात्मक भावनाओं का प्रतीक होता है। जन्म का रत्न जनवरी में जन्म लेने वालों के लिए उपयुक्त है। यह रत्न जो लोग धारण करते हैं, यह रत्न पहनने वाले के लिए स्वास्थ्य, धन और खुशी लाता है।

फरवरी

साल के दूसरे महीने यानी फरवरी के जातकों के लिए रत्न अलग तरह के होते हैं। फरवरी में जन्म लेने वालों के लिए नीलम जन्म का रत्न है। यह बैंगनी रंग में आता है और नशे को ठीक करने वाला माना जाता है। यह सशक्तिकरण और स्वास्थ्य का प्रतीक है। यह मन को शक्तिशाली बनाता है और सेहत के पाए को और मजबूत बनाता है।

मार्च

साल का तीसरा महीना मार्च होता है? मार्च के महीने में जन्म लेने वालों के लिए एक्वामरीन और ब्लडस्टोन जन्म का रत्न माने जाते हैं। एक्वामरीन में समुद्र के रंग गहरे हरे से लेकर हल्के आसमानी नीले रंग तक होते हैं। यह मन और आत्मा की पवित्रता का प्रतीक होते है, जबकि ब्लडस्टोन स्वास्थ्य और शक्ति का प्रतीक है। ऐसे में कहा जा सकता है कि ये रत्न आत्मा को शुद्ध और सेहत को दुरुस्त बनाते हैं।  

अप्रैल

हीरा यानी डायमंड, यह रत्न बहुत ही प्रसिद्ध रत्न है, यह काफी पसंद किया जाता है। हीरा अप्रैल में जन्म लेने वालों के लिए जन्म का रत्न है। हीरा सभी रत्नों में सबसे प्यारा, प्यारा, वांछनीय और प्रसिद्ध कीमती रत्नों में से एक है।

मई

पन्ना मई के महीने में जन्म लेने वालों के लिए जन्म का रत्न है। हरे रंग का यह रत्न पहनने वाले के जीवन में वसंत का प्रतिनिधित्व करता है। यह रत्न प्रेमियों के लिए सदियों से आकर्षण का केंद्र बना रहा है। यह सबसे वांछनीय और पोषित पत्थरों में से एक है। यह पहनने वाले को मन और बुद्धि की शक्ति देता है। 20 वीं और 35 वीं वर्षगांठ पर उपहार के रूप में चुना जा सकता है। ऐसे में यह रत्न बहुत ही खास और अनोखा रत्न माना जा सकता है। 

जून

जून साल का सबसे गर्म माह माना जाता है। जून में जन्म लेने वालों के लिए मोती, अलेक्जेंड्राइट और मूनस्टोन जन्म का रत्न माने जाते हैं। मोती एक पारंपरिक उपहार है और ज्यादातर महिलाओं द्वारा पसंद किया जाता है। वे लंबे जीवन और समृद्धि के प्रतीक हैं। मूनस्टोन प्यार और जुनून का प्रतीक है। ये रत्न खूबसूरती बढ़ाने के साथ ही कई इंसान के लिए कई तरह से फायदेमंद भी होते हैं।

जुलाई

रूबी जुलाई में जन्म लेने वालों के लिए जन्म का रत्न माना जाता है। यह रत्न अपने आप में बेहद खास रत्न है। इसे हम कीमती रत्नों का राजा और सफलता का प्रतीक कह सकते हैं। इसकी सुंदरता इसके गहरे लाल रंग में है, जो प्यार और जुनून का रंग है। यह रत्न बेहद सुंदर और आकर्षक माना जाता है।

अगस्त

 

अगस्त में जन्म लेने वाले लोगों के लिए पेरिडॉट, स्पिनल और सार्डोनीक्स जन्म रत्न माने जाते हैं। पेरिडॉट पीले-हरे से हरे-पीले रंग में आता है और पहनने वाले को बुरी आत्माओं से बचाता है। स्पिनल तीखा लाल, नारंगी, बैंगनी, बैंगनी, नीले और नीले हरे रंग में उपलब्ध है। यह क्रोध को कम करता है और सद्भाव बनाए रखता है। सार्डोनीक्स सबसे प्राचीन रत्न माना जाता है और भूरे-लाल से भूरे रंग में पाया जाता है। यह रत्न पहनने वाले को साहसी, खुश और आत्मविश्वासी बनाए रखता है। यह विवाह और साझेदारी में भी स्थिरता रखता है। यह संबंध को चीर स्थिर बनाए रखता है।

सितंबर

सितंबर में जन्म लेने वालों के लिए नीलम जन्म का रत्न है। यह नीले, हरे, बैंगनी, इंडिगो, नारंगी, पीले जैसे सभी जीवंत रंगों में पाया जाता है। इन सभी में से नीलम पहनने वाले को ईर्ष्या और नुकसान से बचाता है और कुछ तीव्र उपचार शक्तियों को भी धारण करता है। ये रत्न अपने आप में खास शक्तियों को समाहित करके रखते हैं। यही कारण है कि इनका प्रभाव जातक के जीवन पर देखने को मिलता है।  

 

अक्टूबर

अक्टूबर के महीने में जन्म लेने वालों के लिए ओपल और टूमलाइन दो जन्म रत्न माने जाते हैं। ये दोनों रत्न कई रंग संयोजनों में उपलब्ध रहते हैं। ऐसा कहा जाता है कि टूमलाइन की उत्पत्ति भारत में हुई थी। इसके साथ ही ऐसा प्रतीत होता है कि इसमें सभी रंगों की शक्तियां समाहित होती हैं। ओपल ऑस्ट्रेलिया, यूरोप, अमेरिका, ब्राजील, इंडोनेशिया, मेडागास्कर, इथियोपिया, मैक्सिको, पेरू और तुर्की में पाया जाता था।

नवंबर

नवंबर में पैदा हुए लोगों के लिए पुखराज और सिट्रीन दो जन्म रत्न माने जाते हैं। दोनों रत्न अन्य रत्नों की तुलना में प्रचुर मात्रा में उपलब्ध हैं और कम खर्चीले हैं। इस बारे में कहा जाता है कि दोनों रत्न अत्यधिक ऊर्जा का दावा करते हैं, ये रत्न पहनने वालों के लिए खुशी और सौभाग्य लेकर आते हैं। पुखराज हल्के नीले, पीले, नारंगी, गुलाबी और लाल रंग (दुर्लभ) में उपलब्ध है। पुखराज को हृदय में धारण करने से धारण करने वाले को बल मिलता है और मन और बुद्धि का आशीर्वाद मिलता है। सिट्रीन पीले से भूरे नारंगी रंग में उपलब्ध होता है। दिल की बीमारियों को ठीक करने के लिए यह अच्छा रत्न होता है।

दिसंबर

फिरोजा, तंजानाइट, जिरकोन दिसंबर में पैदा हुए लोगों के लिए जन्म के रत्न माने जाते हैं। ये रत्न रंगों की एक विस्तृत श्रृंखला में पाए गए थे। तंजानाइट नीले से नीले से लेकर बैंगनी तक रंगों में उपलब्ध है। फिरोजा नीले से हरे रंग में उपलब्ध है। जिक्रोन सभी इंद्रधनुषी रंगों में उपलब्ध है।


रत्न कहां से खरीदें?

आमतौर पर जब कोई व्यक्ति रत्न खरीदने की मंशा रखता है तो उसके पास कई विकल्प मौजूद रहते हैं। रत्न खुले बाजार में खरीदे जा सकते हैं, लेकिन अब डिजिटल दुनिया में भी सब कुछ उपलब्ध है। इन रत्नों को खरीदने का सबसे अच्छा स्थान ऑनलाइन है। आप हमारे विशेषज्ञ की टीम से परामर्श करने के बाद अपना सबसे उपयुक्त रत्न यहां खरीद सकते हैं। वे आपके लिए सही रत्न की ओर आपका मार्गदर्शन करेंगे। तो एक गहरी सांस लें और अपने भाग्यशाली रत्न के साथ इस खूबसूरत यात्रा का हिस्सा बनें। हमारे विशेषज्ञ से बात करके अपना पसंदीदा रत्न खरीदें।


कीमती रत्न क्या हैं?

अब सवाल यह उठता है कि कीमती रत्न क्या है। पारंपरिक कीमती रत्न हीरा, पन्ना, माणिक, नीलम, प्राकृतिक मोती और कई अन्य अर्ध-कीमती रत्न हैं। रत्न विशेषज्ञ की सलाह के बाद ही खरीदें। कई रत्न भारत में तथा कई दुनिया के अन्य देशों में पाए जाते हैं।


भारत में रत्नों की कीमत क्या है?

प्रत्येक रत्न कीमती होता है क्योंकि उनमें से कई रत्न दुर्लभ होते हैं और खुले बाजार में प्रचुर मात्रा में उपलब्ध नहीं हैं। उनकी कम मौजूदगी ही उनकी ऊंची कीमत का सबब बनती है। यही कारण है कि कीमतें अलग-अलग स्त्रोतों पर भिन्न-भिन्न होती हैं। भारत में रत्नों की कीमतें विभिन्न वेबसाइटों पर देखी जा सकती हैं। आप हमारे उत्पाद पृष्ठ पर हमारी कीमतें भी देख सकते हैं।

इस लेख में हमने आपको रत्नों और उनसे जुड़ी कई महत्पवूर्ण जानकारी प्रदान की है। हमेें यकीन है कि अब आप इन रत्नों के महत्व और लाभों को जान गए हैं। इसलिए हम आपको एक ऐसा रत्न खरीदने की सलाह देंगे, जो सिर्फ आपके लिए बनाया गया हो। उन्हें अपने अपनाओ, गले लगाओ, उनका पालन-पोषण करो, उनसे प्रेम करो और उन पर विश्वास करो, अगर आप धारण करने वाले रत्न पर इतना विश्वास रखते हैं तो यह रत्न आपको एक नए और अलग अनुभव की तरफ ले जा सकते हैं।  यह आपके जीवन में बड़ा बदलाव ला सकते हैं और जीवन को सुखद बना सकते हैं। इन रत्नों को  आभूषण, पेंडेंट, उंगली की अंगूठी के रूप में पहना जा सकता है। यहां तक की यदि आपके जीवन में कोई महत्वपूर्ण है जैसे आपका बेटा, बेटी, जीवनसाथी, माता, पिता या दोस्त तो आप इसलिए रत्नों को अपनाएं और इसे पहनना शुरू करें। यदि आपके पास इस या किसी अन्य ज्योतिषीय प्रश्न के बारे में कोई प्रश्न है, तो कृपया हमारे ज्योतिष विशेषज्ञ की टीम से जुड़ें, हमेें यकीन है कि आप अच्छे के लिए अपने जीवन में बदलाव का अनुभव करेंगे।



Get 100% Cashback On First Consultation
100% off
100% off
Claim Offer