धनतेरस 2024: तारीख, मुहूर्त, पूजा विधि और मान्यताएं

धनतेरस 2024: तारीख, मुहूर्त, पूजा विधि और मान्यताएं

धनतेरस या धनत्रयोदशी हिंदू महीने अश्विन में उत्तर भारतीय मान्यता के अनुसार कार्तिक माह के कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी को आती है। यह दीपावली या दिवाली के पांच दिवसीय उत्सव की शुरुआत का प्रतीक है। यह आयुर्वेद के संस्थापक और चिकित्सकों के शिक्षक धन्वंतरि की पूजा का भी दिन है। हालांकि, धनतेरस का अर्थ वर्षों में बदल गया है। इस दिन लोग धन और समृद्धि की देवी मां लक्ष्मी की भी पूजा करते हैं। धनतेरस से एक दिन पहले वाघ बरस, गोवत्स द्वादशी या बछ बारस का त्योहार होता है, और धनतेरस के बाद के दिन को काली चौदस या नरक चतुर्दशी कहा जाता है।

धनतेरस 2024 कब है

कार्तिक मास की त्रयोदशी को मनाया जाने वाला धनतेरस 2024 का त्योहार इस साल मंगलवार, 29 अक्टूबर 2024 के दिन मनाया जाएगा। आइए धनतेरस 2024 की तिथि जानें।

धनतेरसमंगलवार, 29 अक्टूबर 2024
धनतेरस पूजा 29 अक्टूबर 2024
धनतेरस 2024 पूजा का शुभ मुहूर्तसायं 07:04 बजे से रात्रि 08:27 बजे तक
त्रयोदशी तिथि आरंभ29 अक्टूबर 2024 को सुबह 10:31 बजे
त्रयोदशी तिथि समाप्ति30 अक्टूबर 2024 को दोपहर 01:15 बजे
यम दीपम मंगलवार, 29 अक्टूबर 2024
प्रदोष काल सायं 06:01 बजे से रात्रि 08:27 बजे तक
वृषभा काल शाम 07:04 बजे से रात 09:08 बजे तक

धनतेरस का महत्व

धन तेरस के दिन को धनत्रयोदशी के रूप में भी जाना जाता है, जिसमें लोग सौभाग्य लाने के लिए नए बर्तन और आभूषण खरीदते हैं। धनतेरस शब्द काफी व्याख्यात्मक है यहां धन का अर्थ है संपत्ति या ऐश्वर्य और तेरस का अर्थ तेरह है। मान्यता के अनुसार इस दिन देवी लक्ष्मी अपने भक्तों के घरों में धन की वर्षा करती हैं।

इसके अलावा, यह पूजा न केवल देवी लक्ष्मी के लिए बल्कि कुबेर के लिए भी की जाती है, जो धन के देवता हैं। देवी लक्ष्मी और भगवान कुबेर की शुभ पूजा कभी – कभी एक साथ की जाती है, क्योंकि ऐसा माना जाता है कि इससे प्रार्थना का लाभ दोगुना हो जाता है।

धन तेरस की कहानी

हिंदू पौराणिक कथाओं में हिम नाम के एक राजा के बारे में बताया गया है, जिसके बेटे की शादी के चार दिन बाद ही एक अनहोनी की आशंका में कई तरह के प्रयास किए थे। धनतेरस की कहानी के अनुसार, राजा हिम ने अपने बेटे को किसी भी महिला से मिलने से रोकने के लिए अपनी शक्ति से सब कुछ किया, लेकिन जब बेटा 16 साल का हुआ, तो वह एक लड़की से मिला और उसे प्रेम हो गया कुछ दिनों बाद उन दोनों ने शादी कर ली।

जब उसकी पत्नी को पता चला कि उसका पति चार दिनों के बाद मर जाएगा, तो उसने उसे उस दिन सोने नहीं दिया और चांदी और सोने के गहनों से अपने पति के कमरे का द्वार बंद कर दिया, ताकि जब भगवान यम सांप के वेश में आए तो, वह सोने और चांदी से चकाचौंध होकर ढेर पर बैठ जाएं। अगले दिन वही हुआ, यमदूत के रूप में सांप आया लेकिन चुपचाप वहां से चला गया और उसके पति की जान बच गई।

धन तेरस की अन्य कथाएं

धन तेरस की एक अन्य कथा में भगवान धन्वंतरि- देवताओं के चिकित्सक और भगवान विष्णु के अवतार की विशेषताओं का विवरण है। वह समुद्र मंथन के दौरान अपने हाथ में अमृत कुंभ लिए बाहर आए। इसके बाद देव और दानवों के बीच की कथा आम जनमानस में काफी प्रचलित है।

धनतेरस की एक अन्य कथा के अनुसार दुर्वासा नाम के एक लोकप्रिय ऋषि ने भगवान इंद्र को शाप दिया और कहा, धन का घमंड तुम्हारे सिर में प्रवेश कर गया है। इसलिए मैं तुम्हें लक्ष्मी विहीन करता हूं। यह श्राप सच हो गया और लक्ष्मी जी इंद्र को छोड़कर समुद्र में लौट गई। इससे इंद्र कमजोर हो गए और राक्षसों ने स्वर्ग पर कब्जा कर लिया। कुछ वर्षों के बाद, वह मदद लेने के लिए भगवान ब्रह्मा और विष्णु के पास गए। भगवान विष्णु ने उन्हें समुद्र मंथन का सुझाव दिया। ऐसे मंथन से अमृत की प्राप्ति होती है और इसे पीकर देवता अमर हो जाते। समुद्र मंथन और अमृतपान के लिए देवता और दानव दोनों लड़ रहे थे। नागों के राजा वासुकी रस्सी बन गए और मंदरा पर्वत मंथन को छड़ी बनाया गया। भगवान विष्णु एक कछुए के अवतार में मंदार पर्वत को अपने पीठ पर थामे रहे। मंथन में मां देवी लक्ष्मी प्रकट हुईं और ऋषियों ने मंत्रों का जाप करना शुरू कर दिया और उन पर पवित्र जल की वर्षा की। शक्तिशाली मंथन के बाद समुद्र से धन्वंतरि का उदय हुआ। उन्हीं के हाथों में अमृत कुंभ अर्थात अमृत कलश था जिसे बाद में भगवान विष्णु ने देवताओं में बांट दिया।

धनतेरस की शाम को लोग लक्ष्मी पूजा के साथ तुलसी और आकाशदीप की भी पूजा करते हैं। यह प्रकृति के प्रति अपना आभार व्यक्त करने का एक तरीका है जो स्वास्थ्य और धन का अंतिम स्रोत है। ये सभी कहानियां इस बात का पर्याप्त प्रमाण हैं कि लोग धनत्रयोदशी को एक शुभ दिन और हिंदुओं के प्रमुख त्योहारों में से एक क्यों मानते हैं।

धनतेरस की तैयारी कैसे करें

लोग इस दिन का बड़े ही उत्साह से इंतजार करते हैं। वैदिक रीति रिवाजों के अनुसार, वे त्योहार से कई दिन पहले अपने घरों को अच्छी तरह से साफ करते हैं, और उस दिन अपने घरों को दीयों, मोमबत्तियों, पेंट, फूलों और असंख्य अन्य चीजों से सजाते हैं। वे मुख्य द्वार के ठीक बाहर रंगोली और छोटे पैरों के स्टिकर (stickers) के साथ द्वार को सजाते हैं, उन्हें देवी लक्ष्मी की पैरों का प्रतीक मानते हैं, और उम्मीद करते हैं कि धन की देवी उनके घरों में प्रवेश करेंगी।

धनतेरस कैसे मनाते हैं

धनतेरस का दिन मुख्य रूप से माता लक्ष्मी को अपने घर लाने का दिन माना जाता है। लोग धनतेरस के दिन सोने या चांदी के गहने और कुछ बर्तन खरीदते हैं।

धनतेरस की शाम को भगवान गणेश, भगवान कुबेर और देवी लक्ष्मी की पूजा की जाती है।

धनतेरस पूजा कैसे करें

धनतेरस की पूजा विधि बेहद ही आसान है, सबसे पहले भगवान गणेश को स्नान कराएं और चंदन के लेप से उनका अभिषेक करें। फिर लाल कपड़ा और फूल भगवान को अर्पित करें। गणेश की पूजा के लिए नीचे दिए गए मंत्र का जाप भी करें।

मंत्र – वक्रतुण्ड महाकाय सूर्यकोटि सम्प्रभ: ।

निर्विघ्नं कुरु मे देव सर्व कार्येषु सर्वदा

इसके बाद भगवान कुबेर को फल, फूल, मिठाई का भोग लगाकर उनके सामने दीया जलाएं। भगवान कुबेर की पूजा करने के लिए निम्नलिखित मंत्र का जाप करें।

ओम यक्षाय कुबेराय वैश्रवणय धनधान्यपदये धन-धन्य समृद्धिं मे देहि दापय स्वाहा ।।

एक उठे हुए चबूतरे या किसी लकड़ी के पटिए पर पर फैले कपड़े पर पानी से भरा कलश और गंगाजल के साथ कुछ सुपारी, फूल, सिक्के और चावल के दाने रखें। चावल के दानों पर मां लक्ष्मी की मूर्ति स्थापित करनी चाहिए। व्यवसायी देवी लक्ष्मी की मूर्ति के पास अपना बही खाता रखते हैं। देवी को हल्दी, सिंदूर, फूल चढ़ाने के बाद उनके सामने दिया जलाया जाता है। मां लक्ष्मी की पूजा करने के लिए आप निम्न मंत्र का जाप कर सकते हैं।

ओम श्रीं ह्रीं श्रीं श्रीं कमले कमलालये प्रसीद ओम श्रीं ह्रीं श्रीं महालक्ष्म्यै नमः

धनतेरस के लिए बहुत से लोग पूरे दिन उपवास रखते हैं और शाम को लक्ष्मी पूजा करने के बाद ही अपना व्रत खोलते हैं। सभी सटीक वैदिक अनुष्ठानों के साथ लक्ष्मी पूजा करना उन लोगों के लिए असुविधाजनक हो सकता है जिन्हें पूजा प्रक्रियाओं का व्यापक ज्ञान नहीं है। धनतेरस पर वैदिक रीति से की गई लक्ष्मी पूजा का विशेष महत्व है। आप भी हमारे विशेषज्ञ पंडितों से वैदिक रीति से लक्ष्मी पूजा करवाकर सभी तरह की आर्थिक समस्याओं को दूर कर सकते हैं।

धनतेरस के उपहार

धनतेरस का त्योहार पारिवारिक समारोहों और एक दूसरे को उपहार देने के लिए आदर्श है। ऐसा माना जाता है कि उपहार समृद्धि और भलाई के लिए शुभकामनाएं देते हैं, और वे अच्छे भाग्य के साथ सकारात्मक ऊर्जा लाते हैं। लोग धनतेरस पर जो चीजें दूसरों को उपहार में देना पसंद करते हैं, वे हैं पीतल के बर्तन, लक्ष्मी की मूर्ति, गणेश की मूर्ति, स्वीट हैम्पर्स, रंगोली, देवी लक्ष्मी के पैरों के निशान, लक्ष्मी यंत्र, गणेश यंत्र, सजावटी दरवाजे के पर्दे आदि। इस धनतेरस आप भी अपने घर खुशियों को लाइए।

Get 100% Cashback On First Consultation
100% off
100% off
Claim Offer