नवरात्रि का पहला दिन: ऐसे करें माता शैलपुत्री की पूजा, मिलेगी इन ग्रहों से सुरक्षा

नवरात्रि का पहला दिन: ऐसे करें माता शैलपुत्री की पूजा, मिलेगी इन ग्रहों से सुरक्षा

नवरात्रि एक शुभ त्योहार है जो देवी दुर्गा के पृथ्वी पर आगमन का उत्सव मनाता है। इस साल, नवरात्रि 7 अक्टूबर से शुरू हो रही है। नवरात्रि का पहला दिन 7 अक्टूबर को है। नौ दिन का यह उत्सव मां दुर्गा के प्रत्येक रूप या अवतार को दर्शाते हैं। नवरात्रि के पहले दिन देवी शैलपुत्री की पूजा की जाती है, जो नवदुर्गा का पहला अवतार हैं। शैलपुत्री को भवानी, पार्वती या हेमावती के रूप में भी जाना जाता है और सभी के बीच एक सुंदर, सांसारिक सार है। आइए नवदुर्गा के प्रथम रूप माता शैलपुत्री के बारे में कुछ अधिक जानें।

नवरात्रि पर्व के दौरान दुर्गा सप्तशती की पूजा अवश्य करवाएं, इससे आपके घर में सुख समृद्धि बनी रहेगी।


माता शैलपुत्री कौन हैं?

अपने पिछले जन्म में मां शैलपुत्री को सती के नाम से जाना जाता था और वह भगवान शिव की पत्नी थीं। अपने दूसरे अवतार में, उन्होंने पर्वतराज हिमालय की बेटी के रूप में जन्म लिया और इस तरह उनका नाम शैलपुत्री रखा गया, जो पहाड़ों की बेटी थी। उसके माथे पर अर्धचंद्र के साथ एक सुनहरी आभा है। उनके दाहिने हाथ में त्रिशूल और दूसरे में कमल का फूल है। माता शैलपुत्री नंदी नामक अपने बैल पर विराजमान हैं।

जानिए आने वाला साल आपके लिए कैसा रहेगा…


शैलपुत्री पूजा के लाभ

मां शैलपुत्री मूलाधार चक्र या जड़ चक्र की देवी हैं, और इस शक्ति को जागृत करने पर व्यक्ति आध्यात्मिक जागृति और जीवन में अपने उद्देश्य के लिए अपनी यात्रा शुरू करता है। मूलाधार चक्र को सक्रिय किए बिना किसी के पास कुछ भी सार्थक करने की शक्ति नहीं होती है। कहा जाता है कि अनमोल मानव जीवन का पूरा उपयोग करने के लिए मां शैलपुत्री की पूजा करनी चाहिए। इसलिए नवरात्रि के पहले दिन मां दुर्गा के इस अवतार की पूजा की जाती है।

 


शैलपुत्री का ज्योतिषीय संबंध

अध्यात्म और ज्योतिष एक ही सिक्के के दो पहलू हैं और इन 9 ग्रहों में से प्रत्येक के साथ देवताओं का गहरा संबंध है। नवरात्रि वह त्योहार है जो देवी दुर्गा के नौ रूपों को समर्पित है और आपको यह जानकर आश्चर्य होगा कि नवदुर्गा का प्रत्येक स्वरूप किसी ग्रह विशेष से संबंध रखता है। माता शैलपुत्री की पूजा करने से आप सूर्य के बुरे और नकारात्मक प्रभावों को कम कर उन्हे मजबूत और बेहतर बना सकते हैं। देवी शैलपुत्री का वाहन बैल है और इसी कारण से उन्हें वृषारुधा या वृषारूढ़ भी कहा जाता है।

नवरात्रि के दौरान देवी शैलपुत्री की पूजा करने से सूर्य को बल मिलता है। इसका अर्थ है सरकार में उच्च आधिकारिक पद, जिसमें कानूनी मुद्दे, चिकित्सा विशेषज्ञ आदि शामिल हैं। नवरात्रि के प्रथम दिन सच्चे मन से शैलपुत्री की आराधना एक व्यक्ति को निर्भीक, क्षमतावान सुदृढ़ शरीर और एक शानदार व्यक्तित्व का धनी बनाती है। यदि आपके जीवन में सूर्य से संबंधित किसी भी तरह की ग्रह समस्या चल रही है, तो आपको माता शैलपुत्री का पूजन अवश्य करना चाहिए। इसके साथ सूर्य पूजा का विशेष महत्व है। आप यह पूजा किसी विशेष पंडित से भी करवा सकते हैं। वैदिक रीति से सूर्य पूजा का विशेष महत्व है। वैदिक रीति से यह पूजा करवाने के लिए आप हमसे संपर्क कर सकते हैं। अपने जीवन में सूर्य की ऊर्जा प्राप्त करने के लिए यहां क्लिक जरूर करें।


मां शैलपुत्री पूजा विधि

नवरात्र के पहले दिन सुबह जल्दी उठकर दैनिक क्रियाओं से निवृत्त होकर साफ कपड़े पहनें। इसके बाद नवरात्रि घटस्थापना मुहूर्त 2022 के अनुसार किसी शुभ मुहूर्त में माता की चौकी को पवित्र जल से साफ कर उस पर माता की प्रतिमा या फोटो को स्थापित करें। इसके बाद कलश स्थापना करें और माता शैलपुत्री का ध्यान करें। इसके बाद माता को नियम अनुसार कुमकुम, अक्षत, और सफेद फूल चढ़ाएं। इसके बाद माता को सफेद वस्त्र अर्पित करें। फिर धूप, दीप जलाएं और मां की देसी घी के दीपक से आरती करें। इसके बाद मां को भोग लगाएं और फिर सायंकाल के समय मां की आरती और ध्यान करें।


मां शैलपुत्री की पूजा के लिए करें इस मंत्र का जाप करें।

वन्दे वाडथ्रीछतलाभाय चंद्रार्धकृतशेखरम।

वृषारुढां शूलधरं शैलपुत्री यशस्विनीम्।।

वंदी वद्रीचतालभाय चंद्रार्धाकृतांखरामा।

वृषारृहं शालधररू शैलपुत्री यशस्विनीम्।।


शैलपुत्री व्रत कथा

माता शैलपुत्री का जन्म कैसे हुआ? इसके पीछे एक बेहद ही रोचक कहानी है। प्रजापति दक्ष की पुत्री सती से भगवान शिव का विवाह हुआ था। एक बार जब सती के पिता प्रजापति दक्ष ने एक महायज्ञ किया और समस्त देवताओं को आमंत्रित किया लेकिन भगवान शिव और अपनी बेटी को इस यज्ञ में आमंत्रित नहीं किया।

भगवान शिव के प्रति दक्ष की द्वेष भावना के बावजूद भी माता सती अपने पिता के यज्ञ में जाने के लिए भगवान से आग्रह करने लगी। भगवान शिव ने उन्हें समझाने का प्रयास किया और उन्हें समझाया कि उन्हे दक्ष की ओर से निमंत्रण नहीं मिला है। ऐसे में वहां जाना उचित नहीं है। परन्तु सती नहीं मानी तब भगवान ने उन्हे अपने पिता के यज्ञ में जाने की अनुमति दे दी। सती जब पिता के घर पहुंचीं तो सती की बहनों ने भी उपेक्षा की सिर्फ उनकी मां ने ही उन्हें स्नेह दिया। लेकिन राजा दक्ष ने जब भरी सभा में भगवान शिव के प्रति अपमानजनक वचन कहे, तो इससे सती को बहुत दुख पहुंचा। वे अपने पति का यह अपमान सहन न कर सकीं और योगाग्नि द्वारा अपने आप को जलाकर भस्म कर लिया। माता सती ने अगले जन्म में हिमालय की पुत्री के रूप में जन्म लिया और शैलपुत्री के रूप से जानी गई। उन्होंने दुबारा भगवान शिव से विवाह करने के लिए घोर तप किया। इसीलिए माता शैलपुत्री को पार्वती के नाम से भी जाना जाता है।

पढ़िए नवरात्रि के दूसरे दिन के बारे में…