पंगुनी उथिराम या कल्याण व्रत का महत्व

पंगुनी उथिराम या कल्याण व्रत का महत्व

स्कंद पुराण के एक पवित्र ग्रंथ में, आठ महाव्रतों का उल्लेख किया गया कल्याण व्रत, जिसे पंगुनी उथिरम भी कहा जाता है, उनमें से एक है। यह शुभ व्रत फाल्गुनी मास के शुक्ल पक्ष के दौरान उत्तर नक्षत्र में सूर्य के मीन राशि में गोचर करने पर मनाया जाता है। तमिल कैलेंडर के अनुसार, यह दिन तमिल महीने फाल्गुनी की पूर्णिमा है। पंगुनी उथिराम को बहुत महत्वपूर्ण माना जाता है, क्योंकि यह वह विशेष दिन था जब हिमवान की बेटी देवी पार्वती (देवी शक्ति) ने भगवान शिव से विवाह किया था। यह भी माना जाता है कि इसी दिन देवयानी और भगवान मुरुगन का विवाह भी हुआ था।

हिंदु परंपराओं में कल्याण व्रत का दिन बहुत ही शुभ और महत्वपूर्ण है। तमिलनाडु में, इस दिन को पंगुनी उथिरम के त्योहार के रूप में मनाया जाता है। इसे ज्यादातर भारत के दक्षिणी राज्यों जैसे केरल, कर्नाटक और आंध्र प्रदेश में मनाया जाता है। पंगुनी उथिरम के दिन भक्तजन भगवान मुरुगन मंदिर जाते हैं। मदुरै, वेदारण्यम, पेरूर, कांजीवरम, तिन्नवेल्ली और तिरुवरुर में प्रसिद्ध मंदिर हैं, जहां पंगुनी उथिरम का त्योहार बड़ी ही निष्ठा के साथ मनाया जाता है। इनमें से अधिकांश मंदिरों में इस दिन देवी-देवताओं का दिव्य विवाह कराया जाता है और पुजारियों द्वारा कुछ विशेष अनुष्ठान किए जाते हैं। जबकि भारत के उत्तरी भागों जैसे ब्रज, वृंदावन, मथुरा, बरसाना और कुमाऊंनी में कल्याण व्रत यानि फाल्गुन पूर्णिमा को होली के रूप में मनाया जाता है।

पंगुनी उथिराम और कल्याण व्रत का महत्व

हिंदू पौराणिक कथाओं के अनुसार, कल्याण व्रत का पालन करने वाले को भगवान शिव और देवी पार्वती का दिव्य आशीर्वाद प्राप्त होता है। उन्हें अच्छे स्वास्थ्य, धन और खुशी का आशीर्वाद मिलता है। साथ एक खुशहाल जीवन जीने के बाद उन्हें मोक्ष की प्राप्ति होती है और भगवान शिव के निवास कैलाश धाम में जगह मिलेगी। अविवाहित पुरुष और महिलाएं भी अपने सपनों का साथी पाने के लिए यह व्रत कर सकते हैं। साथ ही विवाहित जोड़े संतान की प्राप्ति के लिए यह व्रत रखते हैं।  

पौराणिक कथा के अनुसार, हिंदू देवी-देवताओं ने भी मनचाहा जीवनसाथी पाने के लिए इस व्रत का पालन किया था। कल्याण व्रत का पालन करने और सच्ची श्रद्धा से अनुष्ठानों को सफलतापूर्वक पूरा करने के बाद, भगवान विष्णु ने देवी लक्ष्मी से विवाह किया, चंद्रमा ने दक्ष प्रजापति की 27 पुत्रियों से विवाह किया था। भगवान ब्रह्मा ने देवी सरस्वती से विवाह किया, इंद्र देव ने इंद्राणी से विवाह किया और अगस्त्य ने लोभामुद्रा से विवाह किया। कल्याण व्रत की महिमा के कुछ अन्य उदाहरणों में शामिल हैं: भगवान विष्णु की बेटियां- अमृतवल्ली और सौंदर्यवल्ली ने भी कल्याण व्रत रखा था और साथ ही वल्ली और देवयानी ने भी इस व्रत का पालन किया था। संत सत्यपुराण की दो बेटियों का विवाह महाशष्ठ से हुआ था। इतना ही नहीं, बल्कि देवी सीता ने भगवान राम को, देवी जंभाभाती ने भगवान कृष्ण से, भगवान काम ने राठी से शादी की थी।

बंगाल में, पंगुनी उथिरम को बसोत्सव या डोल पूर्णिमा के रूप में मनाया जाता है। इसके अतिरिक्त, परमेश्वर और पार्वती के दिव्य विवाह को बिहार में फगवाह, आंध्र प्रदेश में बसंत पंचमी, उड़ीसा में डोलजात्रा, मध्य प्रदेश में रंगपंचमी, केरल में मंजल कुली और नेपाल में फागु पूर्णिमा के रूप में मनाया जाता है। पंगुनी उथिरम भारत के अलग-अलग हिस्सों में अलग-अलग नामों से अंकित है, लेकिन उत्साह, आनंद, ऊर्जा दक्षिण भारतीय राज्यों में देखने को मिलता है। ऐसा माना जाता है कि इस दिन अनुष्ठान करने से कुंडली में दोष के हानिकारक प्रभावों को कम होते हैं, जो विवाहित जीवन/विवाह की संभावनाओं को प्रभावित करता है। 

आप हमारे विशेषज्ञों की मदद ले सकते हैं, यह जानने के लिए कि आपकी जन्म कुंडली में कोई दोष है या नहीं।

पंगुनी उथिराम और कल्याण व्रत तिथि

पंगुनी उथिराम और कल्याण व्रत18 मार्च, 2022, दिन-शुक्रवार
सूर्योदय18 मार्च, 2022, - सुबह 06:23
सूर्यास्त18 मार्च, 2022, शाम 06:41
उथिराम नक्षत्रम प्रारंभ18 मार्च 2022 को 12:34 AM
उथिराम नक्षत्रम समाप्त19 मार्च को 2022 12:18 AM

पंगुनी उथिरम के दौरान किए जाने वाले अनुष्ठान

  • पंगुनी उथिरम पर भक्त सुबह जल्दी उठते हैं, स्नान करते हैं और भगवान शिव की पूजा करने से पहले साफ और स्वच्छ वस्त्र धारण करते हैं।
  • किसी भी धातु से बनी भगवान और देवी की मूर्ति को सुंदर फूलों और गहनों से सजाया जाता है और फिर पवित्र पूजा सामग्री के साथ प्रार्थना करके इसकी पूजा करते हैं।
  • फिर भगवान शिव और देवी पार्वती के विवाह की रस्में निभाई जाती हैं। साथ ही विशेष दावत भी तैयार की जाती है, जहां भगवान शिव के अनुयायियों और शिष्यों को आमंत्रित किया जाता है। इसके बाद प्रसाद का वितरण किया जाता है।
  • इस दिन उपवास का संकल्प लिया जाता है, जिसके अनुसार दिन में केवल एक बार ही भोजन किया जाता है। हालांकि, पायसम और फलों को खा सकते हैं।
  • अगले दिन, कल्याणी व्रत के पालनकर्ता भगवान शिव और देवी पार्वती की मूर्ति को अनुष्ठान के एक भाग के रूप में भगवान शिव के एक अन्य पवित्र अनुयायी को दान करते हैं।

कल्याणी व्रत के व्यक्तिगत अनुष्ठानों को जानने के लिए, हमारे विशेषज्ञ ज्योतिषियों से बात करें!