परशुराम जयंती 2022: जानिए तिथि, कथा और महत्व

परशुराम जयंती 2022: जानिए तिथि, कथा और महत्व

भगवान परशुराम ऋषि जमदग्नि और रेणुका के पुत्र हैं। उन्होंने देवी लक्ष्मी के अवतार धरणी से विवाह किया। इस ब्राह्मण योद्धा ने पृथ्वी पर बुरी ताकतों को खत्म करने के लिए जन्म लिया था। उन्होंने विश्व को राक्षसों और बुरी आत्माओं से मुक्त करके ब्रह्मांड में संतुलन बनाया। भगवान परशुराम को ब्रह्म-क्षत्रिय के रूप में भी जाना जाता है क्योंकि उनके पिता ब्राह्मण थे, और उनकी माता क्षत्रिय। प्राचीन मिथक हैं जो यह बताते हैं कि परशुराम बहादुरी और सुरक्षा के देवता हैं। आइए जानें कि इस दिन को मनाने का क्या महत्व है तथा इस दिन कौन-कौन से अनुष्ठान किये जाते हैं। 

भगवान परशुराम की कथा

हिंदू मिथकों के अनुसार, भगवान परशुराम द्वापर युग में रहने वाले सात अमर लोगों में से एक थे। प्राचीन कथा से पता चलता है कि एक बार कार्तवीर्य अर्जुन नाम के राजा ने दिव्य गाय कामधेनु को प्राप्त करने का आदेश दिया लेकिन जमदग्नि जो कि परशुराम के पिता थे उनके रास्ते में आ गए। क्रोधित राजा अर्जुन ने गाय का बल पूर्वक हरण कर लिया, तो भगवान परशुराम ने उसे मार डाला। बाद में, कार्तवीर्य अर्जुन की संतानों ने जमदग्नि को मारकर प्रतिशोध लिया। जब भगवान परशुराम को अपने पिता की मृत्यु के बारे में पता चला, तो उन्होंने हर क्षत्रिय का वध करने का प्रण लिया। और उनके रक्त से पांच झीलों को भर दिया। इस प्रक्रिया में, उन्होंने कई क्षत्रिय राजाओं को घायल किया और उनका 21 जन्म तक वध करते रहें। 

परशुराम तब तक क्षत्रियों को मारते रहें जब तक कि ऋषि रुचिका ने आकर उसे ऐसा करने से रोक नहीं दिया। बाद में, उन्होंने अपनी तपस्या और भक्ति से भगवान शिव को प्रसन्न किया और भगवान शिव ने उन्हें विश्व को बुरी ताकतों से बचाने के लिए दिव्य धनुष देकर आशीर्वाद दिया।

किंवदंती यह भी है कि एक बार परशुराम भगवान शिव के दर्शन के लिए जा रहे थे, लेकिन भगवान गणेश ने उन्हें रोकने की कोशिश की। उन्होंने भगवान गणेश के साथ युद्ध किया और उनका एक दांत तोड़ दिया। तब से भगवान गणेश को एकदंत के रूप में जाना जाने लगा। भगवान परशुराम ने रामायण और महाभारत जैसे महाकाव्य की कथाओं में भी अपनी भूमिका निभाई है। वह भगवान विष्णु के दो अवतारों से मिले, जो भगवान राम और भगवान कृष्ण हैं।

परशुराम जयंती कब है?

परशुराम जयंती 2022मंगलवार, 3 मई 2022
अक्षय तृतीया 2022मंगलवार, 3 मई 2022
तृतीया तिथि प्रारम्भ03 मई, 2022 को 05:18 AM से
तृतीया तिथि समाप्त04 मई, 2022 को 07:32 AM तक

परशुराम जयंती का महत्व

ऐसा कहा जाता है कि भगवान विष्णु स्वयं भगवान परशुराम के रूप में पृथ्वी पर से बुरी ताकतों का नाश करने के लिए अवतरित हुए थे। भगवान परशुराम ने अपनी दिव्य परशु से युद्ध किया और कई राक्षसों का नाश करने में सफल रहें। उन्होंने विश्व में शांति स्थापित करके न्याय किया। यह निडर ब्राह्मण योद्धा उन क्षत्रियों को दंड देने के लिए जाने जाते हैं, जिन्होंने अत्याचार किए। और इसलिए, यह दिन हिंदुओं के लिए खास धार्मिक महत्व रखता है।

इस दिन भक्त अपने शत्रुओं पर विजय पाने के लिए भगवान परशुराम की पूजा करते हैं। वे भगवान विष्णु से धन और सफलता प्राप्ति के लिए भी प्रार्थना करते हैं। भक्त भगवान को प्रसन्न करने के लिए दिन भर उपवास भी रखते हैं। कुछ भक्त अपने पास के मंदिर में भी जाते हैं और विष्णु सहस्रनाम स्तोत्र का पाठ करते हैं। इस दिन भगवान विष्णु की पूजा करने से आपके जीवन में सकारात्मक परिणाम आ सकते हैं। लोग इस शुभ दिन पर गरीबों को अनाज दान करते हैं।

आशीर्वाद प्राप्त करने के लिए अपने घर पर ऑनलाइन विष्णु पूजा का आयोजन करें।

अक्षय तृतीया का पर्व

अक्षय तृतीया त्रेता युग का पहला दिन है, और उसी दिन भगवान परशुराम ने जन्म लिया था,जिसके परिणामस्वरूप हम वैशाख महीने के शुक्ल पक्ष पर परशुराम जयंती के साथ-साथ अक्षय तृतीया भी मनाते हैं। अक्षय तृतीया अच्छे समय की शुरुआत का प्रतीक है। ज्यादातर लोगों का मानना ​​है कि यह सोना खरीदने का शुभ समय है और इसलिए, वे आमतौर पर इस दिन सोना खरीदते हैं। अक्षय तृतीया को भारत के कुछ हिस्सों में आखा तीज के नाम से भी जाना जाता है। भक्त सफलता, समृद्धि और धन अर्जित करने के लिए अपने घर में विष्णु पूजा का आयोजन करते हैं। वे भक्ति गीत भी सुनते हैं और विष्णु चालीसा का पाठ करते हैं।

क्या भगवान परशुराम अभी भी जीवित हैं?

प्राचीन मिथकों की मानें तो इससे पता चलता है कि जब भगवान परशुराम ने तपस्या करते हुए भगवान शिव का स्मरण किया था, जिससे प्रसन्न भगवान शिव ने उन्हें अमरता का वरदान दिया था। कहा जाता है कि भगवान परशुराम अभी भी इस दुनिया में जीवित हैं।

भगवान परशुराम भगवान विष्णु के आवेश अवतार हैं। इसका अर्थ है कि भगवान विष्णु ने साक्षात् अवतार नहीं लिया था जैसे उन्होंने राम और कृष्ण का अवतार लेते समय किया था। यहां, भगवान विष्णु मानव शरीर की आत्मा के रूप में निवास करते हैं और वह जब चाहें मानव शरीर को छोड़ देते हैं। और इसलिए, ऐसा कहा जाता है कि भगवान विष्णु ने परशुराम के शरीर को छोड़ दिया। लेकिन चूंकि भगवान परशुराम अमर थे, इसलिए उन्हें आज भी विश्व में कहीं जीवित माना जाता है। कुछ लोगों का मानना ​​है कि वह मंदराचल पर्वत के पास समाधी में लीन हैं।

निष्कर्ष

परशुराम जयंती भगवान विष्णु और उसके छठे अवतार, परशुराम की पूजा करने का एक अनुकूल दिन है। भगवान विष्णु को प्रसन्न करने के लिए यह दिन श्रेष्ठ है। जो कोई भी पवित्र मन से भगवान का स्मरण करता है, उनपर भगवान विष्णु की कृपा प्राप्त होती है। आप भी वांछित सफलता, धन और ज्ञान प्राप्त कर सकते हैं। इसी के साथ भगवान परशुराम आप और आपके परिवार पर अपनी कृपा बनाये रखें। परशुराम जयंती की शुभकामनाएं !

इस दिन अगर आप भगवान श्रीहरि विष्णु की पूजा करवाते हैं, तो यह आपके लिए अत्यंत लाभकारी होगा। पूजा करवाने के लिए यहां क्लिक करें…