भारतीय (Vedik) बनाम वैस्टर्न ज्योतिष के बारे में जानिए

क्या आप स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं से जूझ रहे हैं? शादी में देरी हो रही है? आर्थिक तंगी का शिकार हैं? या आपको अन्य समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है?, तो कोई बात नहीं, आप ज्योतिष की सहायता से उत्तर पा सकते हैं। ठीक है, जब भी हम जीवन में किसी कठिनाई में फंस जाते हैं, तो ज्योतिष शास्त्र ही हमारा बचाव करता है। यह कुछ ही समय में हमारी समस्याओं का समाधान कर सकता है, और हमें चिंता मुक्त बना सकता है।

भारतीय और पश्चिमी ज्योतिष का हम पर एक जैसा प्रभाव हो सकता है, लेकिन अगर आप करीब से देखें तो दोनों अलग हैं। और यदि आप ऐसा करते हैं, तो आपके मन में एक प्रश्न उठ सकता है – कौन सा अधिक सटीक ज्योतिष है? इस सवाल का जवाब हम आपको देने की कोशिश करेंगे। हम आपको बताना चाहेंगे कि वैदिक ज्योतिष की सटीक भविष्यवाणियां होंगी, क्योंकि यह विंशोतारी दशा प्रणाली का उपयोग करती है। यह आगे हमें ग्रहों के भविष्य और उनकी स्थिति की पहचान करने में मदद करता है। इस प्रकार, यह पश्चिमी ज्योतिष से अधिक सटीक है।

अब, यह ब्लॉग आपके लिए दिलचस्प होगा, क्योंकि हमने एक छत के नीचे सर्वश्रेष्ठ ज्योतिषियों को बुलाया है, ताकि भारतीय ज्योतिष पश्चिमी ज्योतिष से अलग कैसे है, इस पर अधिक प्रकाश डाला जा सके। जैसा कि हम जानते हैं, ज्योतिष कई मानवीय कष्टों का बचावकर्ता है, जो दुखों को दूर कर सकता है और हमारे जीवन को ढेर सारी खुशियों से भर सकता है। दुनिया में सबसे ज्यादा माना जाने वाले ज्योतिष में से वैदिक ज्योतिष और पश्चिमी ज्योतिष हैं। वे न केवल अपने मूल स्थान में भिन्न होते हैं, बल्कि कुछ अन्य महत्वपूर्ण क्षेत्रों में भी अलग होते हैं।

चाहे वह वैदिक ज्योतिष हो या पश्चिमी ज्योतिष, वे हमें समस्याओं को खत्म करने और जीवन में हमारी खुशी बहाल करने में मदद करते हैं। वैदिक और पश्चिमी ज्योतिष के बीच अंतर को समझने से पहले, आइए हम दोनों तौर-तरीकों की बुनियादी अवधारणाओं के बारे में जानें।

वैदिक ज्योतिष की अवधारणा क्या है

वैदिक ज्योतिष सभी के लिए है, और यही कारण है कि स्टीव जॉब्स भी अपने कठिन समय के दौरान भारत आए। यदि आप भारतीय वैदिक ज्योतिष के बारे में जानना चाहते हैं, तो हम बताते हैं कि वैदिक ज्योतिष में 27 + 1 नक्षत्र हैं, जिनमें 12 राशियां, 9 ग्रह और 12 घर शामिल हैं।

वैदिक ज्योतिष में, नक्षत्र, दशा और जन्म कुंडली अधिक गहन अंतर्दृष्टि प्रदान करके महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। यह कुछ अधिक जटिल सिद्धांतों का उपयोग करता है, लेकिन यह बहुत प्रभावी और सटीक हो सकता है।

अपनी कुंडली में ग्रहों के परिवर्तन और दशाओं को जानें, निशुल्क जनमपत्री प्राप्त करें..

वैदिक ज्योतिष चार्ट

नीचे सारणीबद्ध रूप में 12 वैदिक ज्योतिष संकेतों की सूची, उनके प्रतीक, तत्व और सत्तारूढ़ ग्रहों की जानकारी दी गई है।

वैदिक नामज्योतिषीय चिन्हप्रतीकतत्वशासक ज्योतिषीय निकाय
मेषमेषमेढ़ा अग्निमंगल
वृषभवृषबैलपृथ्वीशुक्र
मिथुनमिथुन जुड़वा वायु बुध
कर्ककर्ककेकड़ाजलचंद्रमा
सिंहसिंहसिंहअग्निसूर्य
कन्या कन्याकुंवारीपृथ्वीबुध
तुलातुलातराजू वायुशुक्र
वृश्चिकवृश्चिकबिच्छू जलमंगल
धनुधनुधनुर्धरअग्निबृहस्पति
मकरमकरअश्वमानव पृथ्वीशनि
कुंभ कुंभ मटका वायुशनि
मीनमीनमछलीजलबृहस्पति

पश्चिमी ज्योतिष का सिद्धांत

पश्चिमी ज्योतिष को लोकप्रिय रूप से ‘सूर्य ज्योतिष’ के रूप में जाना जाता है। किसी भी अन्य प्रकार के ज्योतिष की तरह यह पद्धति ज्योतिष की एक समान परिभाषा साझा करती है। लेकिन, गणना और सिद्धांत भिन्न है, क्योंकि इसमें 12 विभिन्न राशियों को शामिल किया गया है।

यह ज्यादातर पश्चिमी देशों में सूर्य की स्थिति को देखते हुए किया जाता है। यह वर्ष को 12 अवधियों और 12 राशियों में विभाजित करेगा। इन अवधियों में सूर्य अलग-अलग नक्षत्रों में रहेगा और उसके अनुसार ग्रह जातकों पर सकारात्मक या नकारात्मक प्रभाव डालेगा।

पश्चिमी सूर्य राशियां और उनकी तिथियां

मेष (21 मार्च – 19 अप्रैल)
वृषभ (20 अप्रैल – 20 मई)
मिथुन (21 मई – 20 जून)
कर्क (21 जून – 22 जुलाई)
सिंह (23 जुलाई – 22 अगस्त)
कन्या (23 अगस्त – 22 सितंबर)
तुला (23 सितंबर – 22 अक्टूबर)
वृश्चिक (23 अक्टूबर – 21 नवंबर)
धनु (22 नवंबर – 21 दिसंबर)
मकर (22 दिसंबर – 19 जनवरी)
कुंभ (20 जनवरी – 18 फरवरी)
मीन (11 फरवरी – 20 मार्च)

वैदिक ज्योतिष बनाम पश्चिमी ज्योतिष

भारतीय वैदिक ज्योतिष और पश्चिमी ज्योतिष दोनों एक दूसरे से काफी अलग हैं। हम कह सकते हैं कि इन दोनों के बीच एक महीन रेखा है। ज्योतिष का भारतीय संस्करण निश्चित राशि को मानता है। दूसरी ओर, पश्चिमी ज्योतिष पृथ्वी के केंद्र बिंदु को देखते हुए एक चल राशि का उपयोग करता है। इसके अलावा, ज्योतिष की इन मान्यताओं के बीच एक उल्लेखनीय अंतर है, जिसका उल्लेख नीचे किया गया है।

वैदिक ज्योतिष का उपयोग करके अपनी जन्म कुंडली का विश्लेषण करें, निशुल्क प्राप्त करें जन्मपत्री

मूल

वैदिक ज्योतिष की उत्पत्ति प्राचीन काल में ऋषियों द्वारा की गई थी। यह पृथ्वी पर सबसे प्रमुख शास्त्र है जो विभिन्न राशियों का प्रतिनिधित्व करता है। जबकि पश्चिमी ज्योतिष मिस्र की संस्कृति से अत्यधिक प्रभावित है। पश्चिमी ज्योतिष भविष्यवाणी का एक रूप है, जिससे ज्योतिषी मिस्र के देवताओं के आने वाली घटनाओं की भविष्यवाणी करने के इरादे के बारे में जान सकते हैं।

तरीकें

इन दो तौर-तरीकों द्वारा उपयोग की जाने वाली गणना के तरीके भी अलग-अलग हैं। भारतीय ज्योतिष निश्चित राशि को मानता है, जिसे ‘नाक्षत्र राशि’ के रूप में भी जाना जाता है। जबकि, पश्चिमी ज्योतिष में सूर्य की स्थिति और पृथ्वी के केंद्र के साथ चल राशि का उपयोग किया जाता है, जिसे उष्णकटिबंधीय राशि चक्र के रूप में जाना जाता है।

ग्रह

वैदिक ज्योतिष में कुल नौ ग्रह हैं, जिसमें राहु और केतु शामिल हैं। वहीं पश्चिमी ज्योतिष कुंडली तैयार करने के लिए इन नौ ग्रहों के साथ तीन और ग्रहों को मानता है। वे नेपच्यून, यूरेनस और प्लूटो हैं। भारतीय ज्योतिष भविष्यवाणी करने के लिए नक्षत्रों (नक्षत्रों) का उपयोग करता है, जबकि पश्चिमी ज्योतिष इसका उपयोग नहीं करता है।

निष्कर्ष

एस्ट्रो विशेषज्ञ दोनों ज्योतिष के बारे में यही कहते हैं, कि यह हमें भविष्य की घटनाओं का अंदाजा लगाने के लिए विभिन्न तकनीकों का उपयोग करते हैं। हालांकि, वैदिक ज्योतिष, साथ ही पश्चिमी ज्योतिष, खोज के लायक हैं। आशा है कि आपको यह ब्लॉग पढ़कर अच्छा लगा होगा, और आप चाहें तो हमारे एस्ट्रो-टीच प्लेटफॉर्म पर इसी तरह के लेख पढ़ना जारी रख सकते हैं।