नकारात्मक ग्रह: लाते हैं बुरे प्रभाव

ज्योतिष में केवल ग्रहों के शुभ ही नहीं बल्कि अशुभ फल भी देखने को मिलते हैं। ऐसे में सकारात्मक ग्रहों के साथ ही नकारात्मक ग्रहों के बारे में भी बात करनी चाहिए। इन ग्रहों का प्रभाव जातक के जीवन में सफलता और असफलता को निर्धारित करने में बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। हम आपकी कुंडली में नकारात्मक या बुरे भावों की चर्चा करेंगे। इनमें मुख्य बात यह है कि ये अशुभ ग्रह जातक के जीवन पर कैसे प्रभाव डालते हैं। इसके साथ ही, वे कैसे जातक के जीवन में बाधा या बाधा उत्पन्न कर सकते हैं।


ज्योतिष में नकारात्मक ग्रह

  • वैदिक ज्योतिष में छठे, आठवें और बारहवें भाव को नकारात्मक भाव माना गया है। ज्योतिष की दृष्टि से इसे त्रिक स्थान कहते हैं।
  • जैसा कि पहला घर स्वयं का प्रतिनिधित्व करता है, और छठा घर स्वास्थ्य और बीमारियों का प्रतिनिधित्व करता है। चूंकि 12 वां घर 6 वें घर से 6 वें स्थान पर है, यह बीमारी का भी प्रतिनिधित्व करता है।
  • आठवें घर को गृह क्लेश और गुप्त बाधा का माना जाता है। यह एक बुरा घर भी माना जाता है और जातक की मृत्यु का प्रतिनिधित्व करता है।
  • बारहवां घर हानि का घर होता है। हालांकि नुकसान किसी भी रूप में हो सकता है। इसलिए छठे, आठवें या बारहवें भाव को अशुभ घर माना जाता है और ज्योतिष में इन्हें दुस्थान ग्रह कहा जाता है।
  • पहले स्वामी का छठे भाव में होना स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं पैदा कर सकता है। वहीं, आठवें घर में पहले स्वामी की उपस्थिति दीर्घायु को प्रभावित करती है। इसके विपरीत 12वें भाव का प्रथम स्वामी की हानि दर्शाता है।
  • वैदिक ज्योतिष में, छठा घर ऋण, रोग और शत्रुओं का प्रतिनिधित्व करता है, जबकि आठवां घर मृत्यु, दुर्भाग्य और दुख का प्रतिनिधित्व करता है। जबकि बारहवां घर हानि और अलगाव का प्रतिनिधित्व करता है।
  • ज्योतिष में आठवां घर मृत्यु का घर है।

क्या आप अशुभ ग्रहों से छुटकारा पाना चाहते हैं? विशेषज्ञ ज्योतिषियों से बात करें।

कोई भी अच्छा ग्रह, जब छठे, आठवें या बारहवें भाव में होता है, तो वह अपनी ताकत और ऊर्जा खो देता है। इसलिए, यह अपनी क्षमता और लाभों को जातक को देने में सक्षम नहीं होता है। ऐसा इसलिए है क्योंकि इन घरों में सकारात्मक ग्रह पूरी तरह से अपनी ताकत खो देते हैं। इस प्रकार, जातक के जीवन में कई अनावश्यक समस्याएं पैदा होती हैं, जिनके बारे में जातक को जानकारी नहीं हो सकती है।

हर कोई न केवल अपने लिए बल्कि अपनों के लिए भी लंबी उम्र की प्रार्थना करेगा। हम सभी पृथ्वी पर निश्चित अवधि के जीवन के साथ आते हैं। ज्योतिष किसी जातक के जीवन काल का अनुमान लगा सकता है।


ज्योतिष में मृत्यु का घर कौन सा घर है?

ज्योतिष में आठवां घर मृत्यु का घर होता है। यह दीर्घायु और मृत्यु से संबंधित मामलों को बताता है। यह एक बहुत ही खतरनाक घर है, नकारात्मक ग्रह जातक की लंबी उम्र को प्रभावित करते हैं।

चिंता करने की बजाय चुनौतियों का सामना करने के लिए ज्योतिष को अपना कवच बनाएं। वैदिक ज्योतिष में आपकी सभी समस्याओं का समाधान है। इसे अभी आजमाएं और एक खुशहाल और स्वस्थ जीवन जिएं। अब, आप अपने फोन पर भी सर्वोत्तम ज्योतिष सेवाओं का लाभ उठा सकते हैं।



Get 100% Cashback On First Consultation
100% off
100% off
Claim Offer