मीन राशि में बृहस्पति की उल्टी चाल, क्या आपका जीवन करेगा उथल-पुथल?

MyPandit मई 17, 2022
मीन राशि में बृहस्पति की उल्टी चाल, क्या आपका जीवन करेगा उथल-पुथल?

ग्रहों की वक्री चाल भी हमारे जीवन को महत्वपूर्ण रूप से प्रभावित करती है। अब महत्वपूर्ण ग्रह की मीन राशि में वक्री चाल शुरू होने वाली है, जो आपको असहज कर सकती है। देवताओं के गुरु यानी बृहस्पति मीन राशि में 29 जुलाई, 2022 को वक्री होने वाला है। बृहस्पति का प्रभाव आम तौर पर सकारात्मक और आशान्वित होता है। वह उन चीजों का लाभ हमें प्रदान करता है, जिनकी हमें जरूरत होती है। यह हमें व्यावहारिक होने में मदद करता है और फिर बेहतर अंतर्दृष्टि के साथ अपनी यात्रा पर आगे बढ़ता है। यह चिंता करने का वक्त नहीं है, यह आपका सर्वश्रेष्ठ देने और हर चुनौती का सामना करने का वक्त है। आइए जानते हैं कि बृहस्पति ग्रह का वक्री होने आपके जीवन को किस तरह से प्रभावित करने वाला है…ग्रहों की वक्री चाल भी हमारे जीवन को महत्वपूर्ण रूप से प्रभावित करती है। अब एक नए ग्रह की मीन राशि में वक्री चाल शुरु होने वाली है, जो आपको असहज कर सकती है। देवताओं का गुरु यानी बृहस्पति मीन राशि में 29 जुलाई, 2022 को वक्री होने वाला है। बृहस्पति का प्रभाव आम तौर पर सकारात्मक और आशान्वित होता है। वह उन चीजों का लाभ हमें प्रदान करता है, जिनकी हमें जरूरत होती है। यह हमें व्यावहारिक होने में मदद करता है और फिर बेहतर अंतर्दृष्टि के साथ अपनी यात्रा पर आगे बढ़ता है। यह चिंता करने का वक्त नहीं है, यह आपका सर्वश्रेष्ठ देने और हर चुनौती का सामना करने का वक्त है। आइए जानते हैं कि बृहस्पति ग्रह का वक्री होने आपके जीवन को किस तरह से प्रभावित करने वाला है…


मेष राशि के जातकों के लिए औसत समय

मेष राशि के जातकों के लिए बृहस्पति बारहवें भाव से वापस घूमना शुरू कर देगा। इस वक्री अवस्था में आपका स्वास्थ्य अच्छा रहने की संभावना है। आपको किसी भी प्रकार के निवेश से बचने की सलाह दी जाती है, क्योंकि आपको नुकसान हो सकता है। यह वक्री स्थिति नौकरी या व्यापार करने वालों के लिए परेशानी खड़ी कर सकती है। अधिक मुनाफा कमाने के लिए आपको थोड़ी अधिक मेहनत करनी होगी। विवाहित जोड़ों के बीच संबंध औसत रहने की संभावना है।

उपायः सकारात्मक परिणामों के लिए आपको गणेश जी की उपासना करने की सलाह दी जाती है।


वृषभ राशि वालें अपने स्वास्थ्य का ध्यान रखें

वृषभ राशि के लिए बृहस्पति (गुरु) 11वें भाव में वक्री होंगे। इस अवधि के दौरान आपको अपने स्वास्थ्य का ध्यान रखना होगा, क्योंकि बृहस्पति के वक्री होने के कारण कुछ स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं उत्पन्न हो सकती हैं। वहीं आर्थिक मौर्चे पर बात की जाए, तो यह आपके लिए कठिन समय है। इसलिए किसी भी प्रकार के शॉर्ट टर्म निवेश से बचने की सलाह दी जाती है। दोस्तों अगर आप बिजनेस में हैं या नौकरी कर रहे हैं, तो आपको अपने काम पर ज्यादा ध्यान देने की जरूरत है। शादीशुदा लोग साथ में अच्छा समय बिता सकते हैं, इसका अधिकतम लाभ उठाएं और अपने जीवन को खुशहाल बनाएं।

उपाय: भगवान शिव की उपासना आपके लिए लाभदायक साबित होगी।


मिथुन राशि के जातकों पर इस प्रतिगामी चाल का क्या असर होगा?

बृहस्पति मिथुन राशि के जातकों के दसवें भाव से अपनी यह यात्रा शुरू करने जा रहा है। मिथुन राशि के लोगों को स्वस्थ जीवन शैली बनाए रखने की सलाह दी जाती है, क्योंकि स्वास्थ्य संबंधी छोटी-मोटी समस्याएं होने की संभावना है। आपको वित्त के मामले में भी सावधान रहने की सलाह दी जाती है। बृहस्पति की इस वक्री चाल से आपका पेशेवर जीवन अस्त-व्यस्त नजर आ रहा है। विवाहित जोड़ों या जो एक रिश्ते में हैं उनके लिए यह अवधि मध्यम रहने की संभावना है। आपकी जन्म कुंडली में स्थित ग्रह आपके विवाह और प्रेम जीवन को भी आकार देते हैं। अपने निःशुल्क जन्मपत्री विश्लेषण के साथ अभी देंखें।

उपाय: अशुभ प्रभावों को दूर करने के लिए भगवान विष्णु की पूजा करें।


कर्क राशि के जातकों पर क्या प्रभाव पड़ेगा

कर्क राशि के जातकों के लिए बृहस्पति नौवें भाव में वक्री होगा। इस अवधि के दौरान स्वास्थ्य में मामूली परेशानी होने की संभावना है। वहीं अचानक खर्च होने के संकेत मिल रहे हैं, इसलिए कठिन समय के लिए अपना पैसा बचाएं और सोच समझकर खर्च करें। जो लोग व्यापार या नौकरी कर रहे हैं, उन्हें सावधान रहने की आवश्यकता है। वहीं वैवाहिक जीवन में भी उतार-चढ़ाव देखने को मिल सकती है।

उपाय: सकारात्मक प्रभावों के लिए मां दुर्गा की पूजा करें।


सिंह राशि के जातकों को नहीं मिलेगी अपेक्षित लाभ

सिंह राशि के जातकों के लिए बृहस्पति आठवें भाव से वक्री हो होगा। इस दौरान आपको सलाह दी जाती है कि अपने स्वास्थ्य का ध्यान जरूर रखें। स्वस्थ आदतों का पालन करने और अपने फिटनेस स्तर की भी जांच करने की सलाह दी जाती है। बृहस्पति की इस वक्री स्थिति के कारण व्यवसायियों और वेतनभोगी कर्मचारियों को अपेक्षित लाभ नहीं मिल पाएगा। लंबी अवधि के निवेश के लिए समय अनुकूल नहीं है। विवाहित जातकों के लिए यह चरण मध्यम प्रतीत होता है। इस अवधि के दौरान आपका हर दिन कैसा गुजरने वाला है, इसकी जानकारी के लिए अभी MyPandit ऐप डाउनलोड करें, और दैनिक भविष्यवाणियां प्राप्त करें…

उपाय: जीवन से नकारात्मकता को दूर करने के लिए भगवान शिव की पूजा करें।


कन्या राशि के उद्यमियों के लिए चुनौतीपूर्ण समय

कन्या राशि के जातकों के लिए वक्री बृहस्पति अपने सातवें भाव से पिछड़ी यात्रा शुरू करेगा। इस समय आपका स्वास्थ्य ठीक रहने की संभावना है। हालांकि, आर्थिक मुद्दों पर बात करें, तो किसी भी तरह का निवेश करते समय आपको सावधान रहने की आवश्यकता है। यह प्रतिगामी उद्यमियों के लिए चुनौतीपूर्ण हो सकता है। अगर आप पार्टनरशिप में काम कर रहे हैं, तो आपके साथियों के साथ आपके मन-मुटाव के भी संकेत है। विवाहित लोगों के बीच भी कुछ विवाद हो सकते हैं, इसलिए शांति से बातचीत कर मुद्दों को सुलझाएं।

उपाय: शांतिपूर्ण जीवन के लिए भगवान गणेश की पूजा करें।


तुला राशि के लोगों को आर्थिक मोर्चे सही योजना बनाने की सलाह

तुला राशि के जातक छठे भाव में वक्री बृहस्पति का अनुभव करेंगे। इस वक्री स्थिति के दौरान अपने स्वास्थ्य से संबंधित किसी भी समस्या को अनदेखा न करें, क्योंकि छोटी-छोटी समस्याएं भविष्य में बड़ी परेशानी का कारण बन सकती हैं। आर्थिक रूप से, अधिक लाभ प्राप्त करने के लिए उचित योजना के साथ आगे बढ़ें। नौकरीपेशा कर्मचारियों और कारोबारी लोगों को अपने काम में कुछ दिक्कतों का सामना करना पड़ सकता है। हालांकि, विवाहित जोड़ों और रिलेशनशिप में रहने वालों के लिए यह एक शानदार समय हो सकता है।

उपाय: अनेक लाभ प्राप्त करने के लिए भगवान विष्णु की पूजा करें।


वृश्चिक राशि के जातकों के जीवन में आएंगे उतार-चढ़ाव

वृश्चिक राशि के जातकों के लिए गुरु (बृहस्पति) वक्री होकर पंचम भाव में रहेगा। इस समय आपकी सेहत में उतार-चढ़ाव हो सकता है, इसलिए स्वास्थ्य का उचित ध्यान रखने की सलाह दी जाती है। अगर आप किसी शॉर्ट टर्म निवेश की योजना बना रहे हैं, आपको इससे बचने की सलाह दी जाती है, क्योंकि यह उचित समय नहीं है। व्यवसाय या नौकरी में लगे जातकों को अपने प्रदर्शन में गिरावट देखने को मिल सकती है। विवाहित जोड़े या जो किसी रिश्ते में हैं, उनका अपने साथी के साथ विवाद हो सकता है। आप अपने संबंधों को बेहतर ढंग से समझने के लिए अपनी निःशुल्क वार्षिक रिपोर्ट भी देख सकते हैं।

उपाय: मनचाहा फल पाने के लिए भगवान शिव की पूजा करें।


धनु राशि के लोग वित्त से जुड़े मामलों में सावधान रहें

धनु राशि के लिए वक्री बृहस्पति अपने चौथे भाव से प्रतिगामी यात्रा शुरू करेगा। इस अवधि के दौरान उम्मीद की जा सकती है, कि आपका स्वास्थ्य एकदम ठीक रहेगा, हालांकि आपको स्वस्थ आहार और व्यायाम करना होगा। वित्त से जुड़े मामलों में आपको सावधान रहने की जरूरत है। नौकरीपेशा कर्मचारियों या व्यवसाय से जुड़े लोगों को कुछ परेशानी हो सकती है। वहीं पार्टनरशिप में काम कर रहे कारोबारियों के बीच कुछ तनावपूर्ण स्थिति हो सकती है। आपको अपने वैवाहिक जीवन में भी समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। इसलिए धैर्य रखने की कोशिश करें और आपसी समझ से अपनी समस्याओं को हल करें।

उपाय: सकारात्मक परिणाम प्राप्त करने के लिए भगवान गणेश की पूजा करें।


वक्री बृहस्पति का मकर राशि पर प्रभाव बढ़ाएगा खर्च

मकर राशि के लिए बृहस्पति तीसरे भाव से प्रतिगामी होगा। इस दौरान आपका स्वास्थ्य अच्छा रहने की संभावना है। आपके ख़र्चों में बढ़ोतरी हो सकती है। आपको सलाह दी जाती है कि किसी भी जोखिम भरी वित्तीय गतिविधियों को करने से बचें, यह आपको परेशानी में डाल सकता है। आपको अपने काम पर अधिक ध्यान देने चाहिए। हालांकि, शादीशुदा लोगों और रिलेशनशिप में रहने वालों के लिए कुछ खास नहीं है, उनका जीवन सामान्य रहने की आवश्यकता है। अपने साथी के साथ आपकी संगतता कैसी रहेगा, यह जानने के लिए अभी अनुकूलता जानें…

उपाय: अधिक से अधिक लाभ पाने के लिए भगवान शिव की पूजा करें।


कुंभ राशि के जातक वित्तीय मामलों में रहें सतर्क

कुंभ राशि के जातकों के लिए बृहस्पति दूसरे भाव से वक्री होगा है। आपको बता दें कि यह आपके स्वास्थ्य के लिहाज से बिल्कुल अनुकूल नहीं है। इसके अलावा आपकी आर्थिक स्थिति भी डांवाडोल हो सकती है। इस दौरान आपको अपने वित्त का ध्यान रखने की जरूरत है। जो लोग नौकरी या व्यवसाय में लगे हैं, उन्हें अपने काम में कुछ नई चुनौतियों का सामना करना पड़ सकता है। शादीशुदा जातकों को अपने पार्टनर से दूरी का अनुभव हो सकता है।

उपाय: भगवान विष्णु की पूजा करने से लाभ होता है।


मीन राशि के जातकों की वित्तीय स्थिति रहेगी स्थिर

मीन राशि के जातकों के लिए वक्री गति पहले भाव से शुरू होगी। कुछ शारीरिक और मानसिक परेशानियां होने की संभावना है। वहीं आर्थिक मौर्चे पर, आप स्थिर वित्तीय प्रवाह की उम्मीद कर सकते हैं। इस अवधि के दौरान, व्यवसाय या नौकरी करने वाले लोगों को कुछ चुनौतियों का सामना करना पड़ सकता है। जो लोग किसी रिश्ते में हैं या शादीशुदा हैं, उनके लिए यह समय आनंददायक साबित हो सकता है।

उपाय: अपने जीवन में समृद्धि प्राप्त करने के लिए देवी दुर्गा की पूजा करें।


निष्कर्ष

हम जानते हैं कि किसी ग्रह की प्रतिगामी ऊर्जा (वक्री चाल) के प्रभाव संभालना कठिन हो सकता है, लेकिन यदि आप उचित योजना और मार्गदर्शन के साथ आगे बढ़ते हैं, तो आपको अपने लक्ष्यों को प्राप्त करने से कोई नहीं रोक सकता है। इसके लिए आपको एक मार्गदर्शक की जरूरत होती है, जो आपको हर मुद्दे पर सही ज्योतिषीय सलाह दे सके। आप हमारे विशेषज्ञ ज्योतिषियों से भी बृहस्पति के वक्री होने के लिए अधिक विस्तृत जानकारी और व्यक्तिगत उपचार प्राप्त करने के लिए परामर्श कर सकते हैं। पहला परामर्श नि: शुल्क है…




यह लेख शेयर करे

हाल के पोस्ट


संपर्क में रहना

Download App Now!

Subscribe

Youtube Video

लोकप्रिय लेख

View All