वृषभ डेक्कन (vrishabha decans) : वृषभ के डेक्कन और उनका ज्योतिष महत्व

वृषभ डेक्कन (vrishabha decans) : वृषभ के डेक्कन और उनका ज्योतिष महत्व

चलिए पहले डेक्कन को समझते हैं। जब आप अपने राशि चक्र चिह्न को तीन बराबर भागों में बांटते हैं। उसके एक भाग को डेक्कन कहते है। प्रत्येक राशि चिह्न 30 डिग्री से बना होती है और इसका तीसरे हिस्से को डेक्कन के रूप में परिभाषित कर सकते हैं। इसके बारे में अभी विचार करने से पहले हम ज्योतिषीय पूर्वानुमानों की बात करें, तो हम ज्यादा बेहतर तरीके से इसे समझ सकते हैं।


वृषभ डेक्कन - संक्षेप में

  • पहले वृषभ(Taurus) डेक्कन में 20 अप्रैल से 29 अप्रैल के बीच जन्मे लोग आते हैं। इनका स्वामी शुक्र (Venus) है। यह ग्रह उन्हें सभी सुंदर चीजें प्रदान करता है।
  • दूसरे वृषभ (Taurus) डेक्कन में 30 अप्रैल से 10 मई के बीच पैदा हुए लोग आते हैं। इनका स्वामी बुध ग्रह है जो उन्हें उत्कृष्ट संचार कौशल प्रदान करता है।
  • तीसरे वृषभ (Taurus) डेक्कन में 11 मई से 20 मई के बीच जन्म लेने वाले लोग शामिल हैं। इनका स्वामी शनि है। यह ग्रह उन्हें दृढ़ संकल्प शक्ति और निष्ठा के साथ सर्वश्रेष्ठ बनाता है।

वृषभ (Taurus) डेक्कन क्या है?

यदि आपका जन्म 20 अप्रैल से 20 मई के बीच हुआ है, तो आप वृषभ राशि के जातक हैं। ज्योतिषीय रूप से यह आपके व्यक्तित्व के बारे में बहुत कुछ बता सकता है और आपकी भविष्यवाणियों के मामलों में ज्योतिषियों की भी बहुत मदद कर सकता है।

हालांकि, एक डेक्कन आपको और भी विस्तृत संभावनाएं देगा। राशि चक्र का एक तिहाई हिस्सा है डेक्कन । प्रत्येक राशि चक्र के हिस्से 30 डिग्री होती है, इसलिए एक वृषभ डेक्कन 10 डिग्री होगा। यह गणना वृषभ राशि के तीनों डेक्कन के लिए बनती है। हम यहां एक-एक करके उन पर चर्चा करने वाले हैं।


वृषभ (Taurus) पहला डेक्कन - 20 अप्रैल से 29 अप्रैल

वे अपने रोजमर्रा के जीवन में अविश्वसनीय रूप से गतिशील हैं। वे जहां भी जाते हैं बहुत ज्यादा ध्यान आकर्षित करते हैं। उनकी रुचि की बातें उनके भावुक पक्ष को दुनिया के सामने लाएंगी। वे अपनी पसंद की चीजों के साथ मजबूत और अलहदा हैं। आप संवेदनशील मामलों में उन पर भरोसा कर सकते हैं।

वे विवेक के साथ उन पर विचार करेंगे, भले ही उनका दृष्टिकोण स्पष्ट हो। जब पहले वृषभ डेक्कन अपने लिए साथी की तलाश करते हैं, तो वे उनमें स्थिरता और वफादारी को ढूंढ़ेगे। इन्हीं गुणों का निवेश वे अपने रिश्तों में भी करेंगे। पहले वृषभ डेक्कन कभी भी उनके प्रति अपना प्रेम और आस्था जाहिर करने में शरमाते नहीं, जिन्हें वे प्यार करते हैं। एक बार जब वे कुछ करने की ठान लेते हैं, तो उससे पीछे नहीं हटते। ऐसा कह सकते हैं कि वे काफी जिद्दी होते हैं। जब वे कुछ करना चाहते हैं, तो उन्हें रोक पाना नामुमकिन होता है। पहले वृषभ डेक्कन का वास्ता मुश्किलों और प्रतिकूलताओं से पड़ता ही है, लेकिन वे हमेशा इनसे पार पा जाते हैं। वे जोखिम लेना पसंद करते हैं, कुछ लोग शॉर्ट कट भी आजमाते हैं।


शुक्र (venus) कैसे प्रभावित करता है वृषभ के पहले डेक्कन को

पहले वृषभ डेक्कन का स्वामी ग्रह है शुक्र (venus)। यही वजह है कि वे कामुक और जोशीले होते हैं। शुक्र इन्हें इच्छा-शक्ति प्रदान करता है, साथ ही वे आनंद के साधक भी होते हैं। उन्हें नई चीजें तलाशना पसंद है। यदि आप अक्सर उनके साथ रहते हैं, तो किसी न किसी जोखिम से आपका वास्ता पड़ता ही है।

वे अपने भविष्य के बारे में चिंतनशील होते हैं। वे इस बारे में सोचते हैं कि वे अपने जिंदगी से क्या चाहते हैं। वे जीवन से बहुत सारी उम्मीदें कर सकते हैं और इसके लिए काम से कभी पीछे भी नहीं हटेंगे। अपने सपनों का पीछा करते हुए वे अपना सब कुछ उन चीजों के लिए देंगे, जो वे हासिल करना चाहते हैं। पहले वृषभ डेक्कन के पास धन और भौतिक साधनों की कोई कमी नहीं होती। हालांकि, उनकी यह प्रकृति उन्हें जीवन के सरल सुखों से दूर कर देती है। वे अत्यधिक कलात्मक और आत्मविश्वासी प्रवृत्ति के भी होते हैं।

आप कलात्मक हैं या शैक्षिक? आपका लग्न और चंद्र राशि ही इसका जवाब दे सकती है। इन ज्योतिषीय कारकों को जानना जरूरी है, ताकि आप अपने व्यक्तित्व को बेहतर समझ सकें। तो, हम इसे कहां से प्राप्त करते हैं?

आपकी जन्म पत्रिका, आपके जन्म के समय में खगोलीय पिंडों की स्थिति में यह राज छिपा है। अभी जानिए इनके बारे में। अपने लग्न और चंद्र राशि के बारे में जानिए

नि:शुल्क जन्मपत्री विश्लेषण

 


वृषभ का दूसरा डेक्कन - अप्रैल 30 से 10 मई

वे अपनी कला में बेहद पारंगत होते हैं। कलाकार होने के नाते वे भाग्य के भरोसे नहीं बैठे रहते, वे जिन चीजों को पाना चाहते हैं, उसके लिए बहुत दृढ़ होते हैं। यदि आप उनकी देखरेख में हैं, तो वे बहुत सख्त हो सकते हैं और वे हर चीज पर नियंत्रण रखना चाहते हैं। वे भौतिकवादी लक्ष्यों को प्राप्त करना भी पसंद करते हैं। आखिर तो वे वृषभ जातक हैं, वे कई बार गलत भी हो सकते हैं।

उनके स्वभाव में एक द्वंद्व है, जो कभी-कभी उन्हें सबसे सरल समस्याओं को हल करने से भी दूर ले जाता है। चूंकि विचार बाधित होते हैं, इसलिए सबसे बुद्धिमान दूसरे वृषभ डेक्कन के जातक कभी कभी असमंजस की स्थिति में आ जाते हैं। यह सब उस समय की उनकी मन स्थिति पर निर्भर करता है। वे व्यावहारिक और दार्शनिक अध्ययन और अनुसंधान में अच्छे होते हैं। अपने रिश्तों में वह गहराई में जाना पसंद करते हैं और मजबूत बंधन बनाते हैं। वे सबसे ईमानदार और प्रतिबद्ध भागीदारों में से हैं।


बुध (Mercury) कैसे प्रभावित करता है वृषभ के दूसरे डेक्कन को

बुध उन्हें महत्वाकांक्षी बनाता है। वे दृढ़ संकल्प के साथ अपनी सफलता की कामना करते हैं। ग्रह उन्हें जबरदस्त व्यक्तित्व और संचार कौशल के साथ सर्वश्रेष्ठ बनाता है। जैसा कि हमने पहले भी उल्लेख किया है, आप पाएंगे कि ये लोग ज्यादा ईमानदार होते हैं। आत्म-सम्मान उनके लिए महत्वपूर्ण है, और इसके साथ ही दृढ़ इच्छा शक्ति आती है। वे इस बात को लेकर बहुत उत्साहित होंगे कि उन्हें क्या पसंद है और क्या नहीं।

वे केवल एक बार तब अपने मन की बात कहेंगे, जब उन्हें लगेगा कि कोई दूसरा रास्ता नहीं बचा है। वे बिना जांचे परखे कभी बात नहीं करेंगे। कभी-कभी लोग उनके व्यक्तित्व से चिंतित हो सकते हैं। वे अपने आस-पास होने वाली हर चीज का निरीक्षण करते हैं और जो कुछ चल रहा है, उसके बारे में जानते हैं, भले ही ऐसा लगता है कि वे चौकस नहीं हैं। दूसरे वृषभ डेक्कन को किसी भी स्थिति के मुताबिक ढल जाते हैं, और ऐसा करने से उनकी क्षमताएं भी बढ़ जाती है। वे सामने आना पसंद नहीं करते, पर उन कामों को पूरा करना पसंद करते हैं, जो उन्होंने अपने जिम्मे लिए हैं।


वृषभ का तीसरा डेक्कन - 11 मई से 20 मई

अगर कोई बात जो आपको इन जातकों के बारे में जानना चाहिए, तो वह यह कि वे आकर्षक हैं। हालांकि वे किसी और के मुताबिक खुद को नहीं ढालते। वे अपने सख्त और कठोर रवैए की वजह से कई बार बदनाम भी होते हैं। हालांकि इसे हमेशा नकारात्मक नहीं कहा जा सकता। उनका यह रवैया उन्हें वफादार और उच्च अनुशासित बनाता है। आश्चर्यजनक रूप से पर्याप्त धैर्य भी उनका गुण है। वे उच्च व्यावसायिक लक्ष्य, सामाजिक प्रतिष्ठा और अपने कार्यक्षेत्र में सफलता के लिए प्रयास करते हैं।

तीसरे वृषभ डेक्कन के जातक दृढ़ इच्छाशक्ति वाले होते हैं। वे जहां भी जाते हैं, वहां शीर्ष पर पहुंचने के गुण रखते हैं। उनके पास जुझारू कौशल का एक सही संतुलन होता है और उन्होंने जो भी ख्वाब देखते हैं, उसे हासिल करके ही रहते हैं। यदि ऐसा नहीं हो पाता तो वे अपने कौशल को बढ़ा कर फिर से कोशिश करते हैं। आखिरकार वे वृषभ हैं, जो कभी हार नहीं मानते। स्वभाव से स्वतंत्र और सीधे होते हैं। जब वे काम करते हैं, तो उन्हें किसी का हस्तक्षेप सख्त नापसंद होता है। जब वे अपने में होते हैं, तो उन्हें पसंद आता है कि लोग उन पर ध्यान दें।


शनि (saturn )कैसे प्रभावित करता है वृषभ के तीसरे डेक्कन को

पराक्रमी शनि तीसरे वृषभ डेक्कन का स्वामी होता है, नियम और कठोरता या अनम्यता (जो भी आप इसे कहते हैं, उनके मूड के आधार पर) इसी ग्रह से आती है। वे अपने लिए एक रास्ता बनाते हैं और वे नियमित रूप से उसका पालन करते हैं। वे उस राह पर आगे तक जा सकते हैं, क्योंकि वे किसी नए विचार की ओर भटकना पसंद नहीं करते। और यह गुण उन्हें दुनिया में सबसे ज्यादा सफल होने में मदद करता है।

दूसरी ओर, वे जुनून के साथ अपने निकट और प्रियजनों को प्यार करते हैं। वे वित्तीय सुरक्षा और इच्छा-पूर्ति के लिए कड़ी मेहनत करते हैं। वे काफी कामुक होते हैं, जैसा कि हमने उल्लेख किया है, और एक ही समय में काफी प्रफुल्लित करने वाले होते हैं। इसी के साथ भौतिकवादी चीजों के प्रति भी इनका रुझान अच्छा होता है और सौंदर्य को भी समझते हैं। यहां तक कि एक छोटे से बजट पर, वे आपके लिए खूबसूरत चीजें लाएंगे। आप हमेशा उन्हें अच्छी तरह से तैयार पाएंगे, उनका टॉरियन अंदाज आकर्षित करेगा। वे चुनौतियों और प्रतिकूलताओं से पीछे नहीं हटना चाहते।

यह समझना महत्वपूर्ण है कि आप अपने जीवन में किन प्रतिकूलताओं और चुनौतियों का सामना कर रहे हैं, है ना? इंतजार मत कीजिए,

आज ही अपना नि:शुल्क जन्मपत्री विश्लेषण प्राप्त करें।

जो कि वृषभ डेक्कन वालों पर से पर्दा उठाएगा। यह जानना आपके लिए जरूरी है। हमें अक्सर उन्हें एक ही तरह से देखने की आदत होती है। आशा है कि यह उनके दूसरे पहलू पर भी प्रकाश डालेगा। प्यार से उनसे मुलाकात करें!