दिसंबर 2024 के लिए उपनयन संस्कार तिथियां और मुहूर्त

दिसंबर 2024 के लिए उपनयन संस्कार तिथियां और मुहूर्त

इतिहास

क्या आप उपनयन संस्कार और उपनयन संस्कार मुहूर्त 2024 के महत्व के बारे में अधिक जानते हैं? उपनयन संस्कार को जनेऊ संस्कार या यज्ञोपवीत संस्कार के नाम से भी जाना जाता है। यह हिंदू धर्म में महत्वपूर्ण अनुष्ठानों में से एक है। इसलिए सलाह दी जाती है कि आप आने वाले वर्षों के लिए भी उपनयन संस्कार मुहूर्त की तारीखें देखें, जैसे हमने आपके लिए उपनयन संस्कार मुहूर्त 2024 की तारीखें दी हैं। इस शुभ अवसर की गणना का मुख्य उद्देश्य यह है कि बच्चे को सभी देवी-देवताओं और परिवार के सदस्यों का आशीर्वाद मिले। तो आइए उपनयन संस्कार मुहूर्त 2024 के बारे में अधिक जानने के लिए आगे बढ़ें।

अपने ग्रह की स्थिति के आधार पर हमारे विशेषज्ञों से निःशुल्क कुंडली चार्ट प्राप्त करें।

उपनयन संस्कार मुहूर्त 2024

हिंदू धर्म में पूरे सम्मान के साथ सोलह संस्कार किए जाने चाहिए। उपनयन संस्कार उन सोलह संस्कारों में से एक है और इसे उपनयन संस्कार के नाम से भी जाना जाता है। उपनयन संस्कार तीन सफेद रंग के धागों से किया जाता है जो स्वभाव से पवित्र होगा। इसे बाएं कंधे से दाहिनी ओर पहनना चाहिए। इसे वे लड़के पहनेंगे जिनकी उम्र 8 वर्ष से अधिक है।

सनातन धर्म के अनुसार उपनयन संस्कार ईश्वर से सीधा संबंध बताता है। इस अनुष्ठान के लिए मुहूर्त जांचने को यज्ञोपवीत संस्कार मुहूर्त के रूप में भी जाना जाता है। यज्ञो शब्द का अर्थ है वह व्यक्ति जिसे यज्ञ-हवन करने का अधिकार हो। ऐसा माना जाता है कि उपनयन संस्कार को सही विधि से करने से सभी पाप और दोष समाप्त हो जाते हैं। इसलिए यह ध्यान देने की बात है कि एक बच्चे को दूसरा जन्म मिलता है।

पहले के दिनों में, लड़के को उपनयन संस्कार करने के बाद ही शिक्षा प्राप्त करने की अनुमति दी जाती थी। इस लेख में हम आपके बच्चे का उपनयन कब करें इसके बारे में विस्तार से बताएंगे।

अपनी जन्मपत्री निःशुल्क प्राप्त करें

उपनयन संस्कार मुहूर्त 2024 के लाभ और महत्व

हिंदू संस्कृति के अनुसार उपनयन या उपनयन संस्कार संस्कार का ज्योतिषीय, वैज्ञानिक और धार्मिक महत्व है। उपनयन संस्कार त्रिमूर्ति (ब्रह्मा, विष्णु और शिव) से जुड़ा है। इस प्रकार तीन उपनयन या तीन धागे इन तीन देवताओं का प्रतिनिधित्व करते हैं। ब्रह्मा ने इस संसार की रचना की, विष्णु इस संसार के संरक्षक हैं और शिव संहारक हैं। यही कारण है कि उपनयन संस्कार का सीधा संबंध देवताओं से माना जाता है।

आइए उपनयन संस्कार मुहूर्त 2024 दिसंबर माह की तारीखों और समय पर नजर डालें।

तारीखदिनसमय
बुधवार, 4 दिसंबर 2024बुधवार07:40 - 10:25
गुरुवार, 5 दिसंबर 2024गुरुवार13:40 – 18:30
शुक्रवार, 6 दिसंबर 2024शुक्रवार07:45 - 12:00
बुधवार, 11 दिसंबर 2024बुधवार10:15 – 16:00
गुरुवार, 12 दिसंबर 2024गुरुवार07:45 - 09:50
सोमवार, 16 दिसंबर 2024सोमवार07:40 – 12:50
गुरुवार, 19 दिसंबर 2024गुरुवार11:15 – 14:00

निष्कर्ष

यदि आपका बच्चा लड़का है तो उपनयन संस्कार के महत्व को जानना उचित है। जीवन भर देवताओं का आशीर्वाद प्राप्त करें। किसी ज्योतिषी से बात करें और उसकी कुंडली के अनुसार उपनयन संस्कार करने की शुभ तिथियां और समय जानें।

अपने पहले परामर्श पर 100% कैशबैक प्राप्त करें अभी किसी ज्योतिषी से बात करें!

Get 100% Cashback On First Consultation
100% off
100% off
Claim Offer