नवरात्रि का पांचवा दिन: देवी स्कंदमाता की पूजा करें, मिलेगी ग्रह दोष से सुरक्षा

नवरात्रि का पांचवा दिन: देवी स्कंदमाता की पूजा करें, मिलेगी ग्रह दोष से सुरक्षा

देवी दुर्गा के पांचवें स्वरूप का नाम स्कंदमाता है। भगवान स्कंद जिन्हें उत्तर भारत में कार्तिकेय के नाम से जाना जाता है, स्कंद की माता होने के कारण उन्हें स्कंदमाता कहा जाता है। देवी का यह रूप गोरा या सुनहरे रंग से चमचमता है। वह सिंह पर बैठी है और उसके चार हाथ हैं। वह अपने दो हाथों में कमल धारण करती है और उसकी गोद में भगवान स्कंद या कार्तिकेय विराजमान हैं। देवी दुर्गा का यह रूप विशेष रूप से महत्वपूर्ण है, क्योंकि यह देवी को उनके मातृत्व रूप में दर्शाता है। स्कंदमाता का रूप दर्शाता है कि देवी अपने बच्चे की तरह पूरे ब्रह्मांड की देखभाल करती हैं। माता स्कंद माता की कृपा से मंगल ग्रह से जुड़े दोष दूर होते हैं। आप भी अपने मंगल दोष दूर करना चाहते हैं, तो माता स्कंद देवी की पूजा के लिए हमसे संपर्क कर सकते हैं। आप पढ़िए माता का स्वरूप कितना विशाल है और जानिए आखिर क्या है माता की पूजा विधि-


स्कंदमाता का स्वरूप

नवरात्रि का 5 वां दिन देवी स्कंदमाता अर्थात देवी दुर्गा की 5 वीं अभिव्यक्ति और भगवान कार्तिकेय की मां को समर्पित है, जिन्हें देवताओं ने राक्षसों के खिलाफ युद्ध में अपने सेनापति के रूप में चुना था। देवी स्कंदमाता की छवि में भगवान स्कंद माता की गोद में है और और उनके दाहिने हाथ में कमल का चित्रण है। उसकी चार भुजाएं, तीन आंखें और चमकदार उज्ज्वल रंग है। उन्हें पद्मासनी भी कहा जाता है, क्योंकि उन्हें अक्सर उनकी मूर्ति में कमल के फूल पर बैठे हुए चित्रित किया जाता है। उन्हें पार्वती, माहेश्वरी या माता गौरी के रूप में भी पूजा जाता है। देवी का बायां हाथ अपने भक्तों को कृपा से वरदान देने की मुद्रा में है।

नवरात्रि में दुर्गा सप्तशती की पूजा करना काफी लाभदायक होता है, पूजा अवश्य करवाएं…


स्कंदमाता का महत्व

पौराणिक मान्यताओं के अनुसार एक भयानक राक्षस तारकासुर ने एक बार भगवान ब्रह्मा को अपनी महान भक्ति और अत्यंत कठिन तपस्या से प्रसन्न किया था। उन्होंने भगवान ब्रह्मा से आशीर्वाद के रूप में खुद को अमर बनाने के लिए कहा। भगवान ब्रह्मा ने उन्हें आशीर्वाद देने से इनकार करते हुए कहा कि कोई भी मृत्यु से बच नहीं सकता है। तारकासुर ने चतुराई से काम लिया और भगवान शिव के पुत्र के हाथों मृत्यु का वरान मांगा। तारकासुर ने सोचा कि भगवान शिव कभी शादी नहीं करेंगे। फिर वरदान के नशे में चूर तारकासुर ने पृथ्वी पर लोगों को सताना शुरू कर दिया। उसकी ताकत के डर से देवताओं ने भगवान शिव से विवाह करने का अनुरोध किया। उन्होंने सहमति व्यक्त की और देवी पार्वती से विवाह किया। जिससे भगवान कार्तिकेय या स्कंद कुमार का जन्म हुआ और आगे चलकर उन्होंने तारकासुर का वध कर दिया। शक्ति का स्कंदमाता स्वरूप मां-बेटे के रिश्ते का प्रतीक हैं। स्कंदमाता की पूजा करने से आपको उनसे अपार प्रेम और स्नेह मिलता है और आपकी सभी मनोकामनाएं पूरी होती हैं। आप इस नश्वर संसार में भी परम आनंद प्राप्त कर सकते हैं। आइए नवरात्रि के पांचवें दिन स्कंदमाता की पूजा विधि जानें।

 


स्कंदमाता पूजा विधि

नवरात्रि के पांचवे दिन देवी ब्रह्मचारिणी की पूजा उन देवी – देवताओ एवं गणों व योगिनियों की पूजा से शुरू की जाती है जिन्हें प्रथम दिन कलश में आमत्रित किया गया था। इन गण, देवी देवताओं को फूल, अक्षत, रोली व चंदन चढ़ाया जाता है। फिर उन्हें मधु, घृत, शर्करा, दही, व दूध से स्नान कराया जाता है। कलश देवता की पूजा के पश्चात इसी प्रकार नवग्रह, नगर देवता, ग्राम देवता और दशदिक्पाल की पूजा करें। इसके पश्चात स्कंदमाता की पूजा करें। उन्हें दूध, फल, फूल, सिंदूर, देवी के कपड़े और अन्य श्रंगार जैसी वस्तुओं का उपयोग करके पूजा करें। अंत में आरती कर पूजा समाप्त करें और प्रसाद बांटें।

यदि आप उपरोक्त अनुष्ठान से अनजान हैं, तो हमारे अनुभवी पंडितों को आपके लिए एक व्यक्तिगत पूजा करने के लिए आमंत्रित करें। नवरात्रि में अपनी सभी मनोकामना की पूर्ति के लिए दुर्गा पूजा जरूर करवाएं।


माता स्कंदमाता पूजा मंत्र

मां स्कंदमाता की पूजा के लिए करें इस मंत्र का जाप करें…

सिंघासनगता नित्यम पद्मश्रृद्ध करद्वी ।

शुभदास्तु सदा देवी स्कन्द माता यशेश्वरी ।।

सिंघासनगता नित्यम पद्माृतकारद्वय ।

शुभदास्तु सदा देवी स्कंद माता यशस्विनी ।।

नवरात्रि एक विशेष अवसर है। नई शुरुआत करने और देवी शक्ति को अपना समर्पण और श्रद्धा अर्पित करने का समय। इस नवरात्रि अपने लिए बुक करें लक्ष्मी पूजा और पाएं वैभव का आशीर्वाद।


स्कंदमाता का ज्योतिषीय संबंध

देवी स्कंदमाता क्रूर सिंह पर विराजमान हैं। वह शिशु स्कंद को गोद में उठाएं है। वह अपने ऊपरी दो हाथों में कमल का फूल लिए हुए हैं। शायद यही कारण है कि देवी स्कंदमाता की उपस्थिति को शुभ्रा कहा जाता है जो उनकी सफेद रचना को दर्शाती है। स्कंदमाता की पूजा से भगवान कार्तिकेय से प्यार, साहस और वीरता का आशीर्वाद प्राप्त होता है। वैदिक ज्योतिष के अनुसार स्कंदमाता की पूजा से मंगल ग्रह पर सकारात्मक प्रभाव पड़ते है। नवरात्रि के पांचवें दिन स्कंदमाता की पूजा से मंगल मजबूत होता है। मंगल के सकारात्मक प्रभाव का अर्थ है गतिविधि, रुचियों, इच्छा, शारीरिक गुणवत्ता, उद्देश्य समन्वित जीवन शक्ति, मदद करने की क्षमता, मानसिक दृढ़ता में सकारात्मक वृद्धि। इसके अलावा मंगल के अच्छे प्रभाव आपको निर्भीकता, शिष्टता, केंद्रित, संघर्षशीलता और शक्ति भी प्रदान करते हैं।

 


स्कंदमाता की कथा

भगवान शिव का विवाह देवी सती से हुआ था। हालांकि, जब सती ने अपने पिता द्वारा आयोजित महायज्ञ में खुद को विसर्जित कर दिया, तो भगवान शिव क्रोधित हो गए और उन्होंने सभी सांसारिक मामलों को छोड़ने का फैसला किया और तुरंत गहरी तपस्या में चले गए। जल्द ही, तारकासुर नाम के एक राक्षस ने अन्य देवताओं पर हमला करके दहशत और परेशानी पैदा करना शुरू कर दिया। साथ ही, तारकासुर को वरदान था कि केवल भगवान शिव या उसका बच्चा ही उसे मार सकता है। तब देवताओं के अनुरोध पर, ऋषि नारद ने मां पार्वती से मुलाकात की। उसने उसे देवी सती के रूप में अपने पिछले जीवन के बारे में सब कुछ बताया और उसे अपने वर्तमान जन्म के उद्देश्य के बारे में भी बताया। नारद द्वारा मार्ग निर्देशित होने के बाद मां पार्वती अत्यधिक ध्यान और तपस्या करनी लगी। उन्होंने बिना अन्न, जल के एक हजार से अधिक वर्षों तक घोर तपस्या की। अंत में, भगवान शिव ने उसके समर्पण पर ध्यान दिया और उससे शादी करने के लिए तैयार हो गए।

जब भगवान शिव की ऊर्जा मां पार्वती के साथ संयुक्त हुई, तो एक उग्र बीज उत्पन्न हुआ। हालाँकि, यह उग्र बीज इतना गर्म था कि अग्नि के देवता भगवान अग्नि भी इसे ले जाने में असमर्थ थे। उन्होंने इसे गंगा को सौंप दिया, जिन्होंने तब बीज को सुरक्षित रूप से ले जाया और इसे जंगल में जमा कर दिया। यहां बीज की देखभाल छह बहनों ने की थी, जिन्हें कृतिका (माता) के नाम से जाना जाता था। समय के साथ, उग्र बीज एक बच्चे के रूप में बदल गया। चूंकि, कृतिकाओं ने उनकी देखभाल की, इसलिए इस बच्चे को भगवान शिव और मां पार्वती के पुत्र भगवान कार्तिकेय के रूप में जाना जाने लगा। जल्द ही, भगवान कार्तिकेय को देवताओं की सेना का सेनापति बनाया गया और उन्हें तारकासुर को हराने के लिए विशेष हथियार दिए गए। कार्तिकेय ने तब तारकासुर के साथ एक भयंकर युद्ध किया और अंततः राक्षस को मार डाला और दुनिया में शांति लाई।

चूंकि, कार्तिकेय का जन्म एक गर्म बीज से हुआ था, इसलिए उन्हें स्कंद के नाम से जाना जाने लगा, जिसका संस्कृत में अर्थ है उत्सर्जकष्। और उनकी माता, माँ पार्वती, को स्कंदमाता के नाम से जाना जाने लगा।

नवरात्रि के छठवें दिन क्या करें, क्या न करें…