प्रदोष व्रत 2021: महत्वपूर्ण प्रदोष व्रत, तिथि, पूजा विधि, महत्व सहित हर जानकारी

प्रदोष व्रत 2021: महत्वपूर्ण प्रदोष व्रत, तिथि, पूजा विधि, महत्व सहित हर जानकारी

देश के विभिन्न हिस्सों में लोग प्रदोष व्रत को पूरी श्रद्धा और समर्पण के साथ करते हैं। यह व्रत भगवान शिव और देवी पार्वती के श्रद्धा में मनाया जाता है। भारत के कुछ हिस्सों में भक्त इस दिन भगवान शिव के नटराज रूप की पूजा करते हैं। स्कंद पुराण के अनुसार प्रदोष व्रत पर उपवास करने के दो अलग – अलग तरीके हैं। सप्ताह के विभिन्न दिन आने वाली प्रदोष तिथि को गुरू प्रदोष, सोम, शनि प्रदोष का ज्योतिषीय उपायों से संबंध है, पहली विधि में, भक्त पूरे दिन और रात, यानी 24 घंटे के लिए सख्त उपवास रखते हैं और जिसमें रात में जागना भी शामिल है। दूसरी विधि में सूर्योदय से सूर्यास्त तक उपवास रखा जाता है, और शाम को भगवान शिव की पूजा करने के बाद उपवास तोड़ा जाता है। इस व्रत को और अधिक सफल बनाने के लिए आप रूद्राभिषेक पूजा के द्वारा भगवान शिव को प्रसन्न कर सकते है। हमारे पंडित आपके लिए यह पूजा करवाने में आपके साथ है, आज ही अपनी पूजा बुक करें। आइए प्रदोष व्रत के बारे में अधिक जानें और पता लगाएं कि क्या प्रदोष व्रत हर महीने आते है? प्रदोष व्रत किस लिए किया जाता है, महत्वपूर्ण प्रदोष व्रत 2021 तारीख और प्रदोष व्रत विधि सहित प्रदोष के कुछ ज्योतिषीय उपाय।

प्रदोष का अर्थ

हिंदी में प्रदोष शब्द का अर्थ है शाम से संबंधित या रात का पहला भाग। चूंकि यह पवित्र व्रत संध्याकाल के दौरान मनाया जाता है, जो कि शाम को होता है, इसलिए इसे प्रदोष व्रत कहा जाता है। हिंदू पौराणिक कथाओं के अनुसार यह माना जाता है कि प्रदोष के शुभ दिन पर, भगवान शिव, देवी पार्वती के साथ अत्यंत प्रसन्न और उदार होते हैं। इसलिए भगवान शिव के अनुयायी इस दिन शिव के नाम का उपवास रखते हैं और दिव्य आशीर्वाद प्राप्त करने के लिए इस चुने हुए दिन पर अपने देवता की पूजा करते हैं।

महत्वपूर्ण प्रदोष व्रत

ऐसा माना जाता है कि यदि आप प्रदोष व्रत का पालन करते हैं, तो आपको धन, आराम और स्वास्थ्य जैसे सभी सांसारिक सुख प्राप्त हो सकते हैं।

– प्रदोष व्रत को लोगों की अंतरतम इच्छाओं को पूरा करने के लिए भी जाना जाता है।

– ऐसा कहा जाता है कि परम देवता अपनी आनंदमय दृष्टि से आपको आपके सभी पापों से अलग कर देते है। आप पुनर्जन्म से भी मुक्त हो सकते हैं।

– यह दिव्य व्रत आपके जीवन से सभी नकारात्मकता और मानसिक स्वास्थ्य के मुद्दों को भी दूर कर सकता है।

– मासिक त्रयोदशी को आने वाले प्रदोष व्रतों का वार के अनुसार भी बहुत महत्व होता है। उदाहरण के लिए..

– जब प्रदोष की तिथि रविवार को होती है तो इसे भानु प्रदोष के नाम से जाना जाता है। यह सुखी, शांतिपूर्ण और लंबे जीवन से जुड़ी है।

– जब प्रदोष व्रत सोमवार को होता है तो इसे सोम प्रदोष के नाम से जाना जाता है। यह वांछित परिणाम और सकारात्मकता प्राप्त करने के लिए किया जाता है।

– जब प्रदोष व्रत मंगलवार को होता है तो उसे भौम प्रदोष व्रत कहा जाता है। यह स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं को रोकने और समृद्धि हासिल करने के लिए किया जाता है।

– जब प्रदोष व्रत बुधवार को होता है तो इसे सौम्यवारा प्रदोष के नाम से जाना जाता है। यह ज्ञान और शिक्षा से संबद्ध है।

– जब प्रदोष गुरुवार को होता है तो इसे गुरु प्रदोष के नाम से जाना जाता है। यह पूर्वजों से आशीर्वाद प्राप्त करने और दुश्मनों और खतरों को खत्म करने के लिए मनाया जाता है।

– जब प्रदोष व्रत शुक्रवार को पड़ता है तो इसे भृगुवरा प्रदोष के नाम से जाना जाता है। यह धन, संपत्ति, सौभाग्य और जीवन में सफलता प्राप्त करने के लिए किया जाता है।

– जब प्रदोष व्रत शनिवार को होता है तो उसे शनि प्रदोष कहा जाता है। शनि प्रदोष व्रत का पालन नौकरी में प्रमोशन पाने के लिए किया जाता है।

नीचे इस साल आने वाले महत्वपूर्ण प्रदोष व्रत 2021 की लिस्ट दी गई है। 

प्रदोष व्रत अगस्त

05 अगस्त , गुरुवार प्रदोष व्रत 2021 (कृष्ण पक्ष प्रदोष)7ः05 से 9ः13 तक
20 अगस्त शुक्रवार प्रदोष व्रत 2021 (शुक्ल पक्ष प्रदोष)6ः51 से 8ः49 तक

प्रदोष व्रत सितंबर

04 सितंबर, शनिवार शनि प्रदोष व्रत 2021 (कृष्ण पक्ष प्रदोष)6ः35 से 8ः53 तक
18 सितंबर, शनिवार शनि प्रदोष व्रत (शुक्ल पक्ष प्रदोष)6ः18 से 8ः41 तक

प्रदोष व्रत अक्टूबर

04 अक्टूबर, सोमवार सोम प्रदोष व्रत 2021 (कृष्ण पक्ष प्रदोष)5ः59 से 8ः27 तक
17 अक्टूबर, रविवार प्रदोष व्रत 2021 (शुक्ल पक्ष प्रदोष)5ः45 से 8ः17 तक

प्रदोष व्रत नवंबर

02 नवंबर, मंगलवार भौम प्रदोष व्रत 2021 (कृष्ण पक्ष प्रदोष)5ः31 से 8ः08 तक
16 नवंबर, मंगलवार भौम प्रदोष व्रत 2021(शुक्ल पक्ष प्रदोष)5ः22 से 8ः04 तक

प्रदोष व्रत दिसंबर

02 दिसंबर, गुरुवार प्रदोष व्रत (कृष्ण पक्ष प्रदोष) 5ः19 से 8ः04 तक
16 दिसंबर, गुरुवार प्रदोष व्रत (शुक्ल पक्ष प्रदोष) 5ः22 से 8ः08 तक
31 दिसंबर, शुक्रवार प्रदोष व्रत (कृष्ण पक्ष प्रदोष) 5ः30 से 8ः16 तक

प्रदोष व्रत कथा

इस दिव्य व्रत से कई महत्वपूर्ण कथाएं जुड़ी हुई हैं। व्यापक रूप से प्रचलित कहानी भगवान शिव की है। मान्यताओं के अनुसार प्राचीन काल में देवताओं और असुरों के बीच युद्ध छिड़ा हुआ था। देवता हार रहे थे। इसलिए, वे मदद के लिए त्रिदेव के पास दौड़े। देवताओं को सलाह दी गई कि वे अमृत प्राप्त करने के लिए समुद्र मंथन करें। हालांकि उन्हें समुद्र मंथन के लिए असुरों की मदद मांगी और बदले में उन्हें उनके हिस्से का अमृत देने का वादा किया।

जब उन्होंने समुद्र मंथन करना शुरू किया तो उसमें से अमृत के पहले हलाहल निकला। यह विष इतना घातक था कि पृथ्वी पर देवों और असुरों सहित प्रत्येक प्राणियों को मार सकता था। इसलिए, भगवान शिव मानवता को बचाने के लिए आगे आए और उन्होंने हलाहल को निगल लिया। तब देवी पार्वती ने अपनी पूरी शक्ति से हलाहल को भगवान के पेट में जाने से रोकने उसे गले में ही रोक लिया। सर्वोच्च देवता की कृपा से धन्य, देवताओं और असुरों ने उनके सम्मान में अपनी कृतज्ञता दिखाने के लिए उनकी स्तुति गाना शुरू कर दिया। उनसे प्रसन्न होकर, भगवान शिव ने अपने सर्वप्रिय बैल नंदिकेश्वर के सिर पर उसके दो सींगों के बीच नृत्य किया। इसलिए उस दिन से, प्रदोष व्रत भगवान शिव और देवी पार्वती की पूजा और प्रसन्न करने के लिए किया जाता है।

प्रदोष पूजा सामग्री

प्रदोष के दिन भगवान शिव की पूजा करने के लिए आपको कुछ सामान्य चीजों को एकत्र करना होगा। आरती की थाली, धूप, दीप, कर्पूर, सफेद फूल, माला, यदि आंकड़े के फूल उपलब्ध हो तो वह भी उत्तम है। सफेद मिठाइयां, सफेद चंदन, कलश, बेलपत्र व धतूरा, शुद्ध घी, यदि गाय का घी उपलब्ध हो तो उत्तम होगा, सफेद वस्त्र और हवन समाग्री।

प्रदोष पूजा विधि और मंत्र

प्रदोष के दिन गोधूलि काल यानी सूर्योदय और सूर्यास्त से ठीक पहले का समय शुभ माना जाता है। इसी दौरान प्रदोष काल की सभी प्रार्थनाएं और पूजाएं की जाती हैं। सूर्यास्त से एक घंटे पहले, भक्त स्नान करते हैं और पूजा के लिए तैयार हो जाते हैं।

एक प्रारंभिक पूजा की जाती है जहां देवी पार्वती, भगवान गणेश, भगवान कार्तिक और नंदी के साथ भगवान शिव की पूजा की जाती है। जिसके बाद एक अनुष्ठान होता है जहां भगवान शिव की पूजा की जाती है और एक पवित्र बर्तन या कलश में उनका आह्वान किया जाता है। इस कलश को दरभा घास पर रखा जाता है, जिस पर स्वास्तिक खींचा जाता है और उसमें पानी भर दिया जाता है।

वहीं कुछ स्थानों पर शिवलिंग की पूजा भी की जाती है। शिवलिंग को दूध, दही और घी जैसे पवित्र पदार्थों से स्नान कराया जाता है। इस दिन भक्त शिवलिंग पर बिल्व पत्र चढ़ाते हैं। कुछ लोग पूजा के लिए भगवान शिव की तस्वीर या पेंटिंग का भी इस्तेमाल करते हैं। ऐसा माना जाता है कि प्रदोष व्रत के दिन बिल्वपत्र चढ़ाने से बहुत ही शुभ फल प्राप्त होता है। इस अनुष्ठान के बाद, भक्त प्रदोष व्रत कथा सुनते हैं या शिव पुराण पढ़ते हैं।

महा मृत्युंजय मंत्र का 108 बार जाप

पूजा समाप्त होने के बाद, कलश से पानी लिया जाता है और भक्त पवित्र राख को अपने माथे पर लगाते हैं। पूजा के बाद, अधिकांश भक्त दर्शन के लिए भगवान शिव के मंदिरों में जाते हैं। ऐसा माना जाता है कि प्रदोष के दिन भगवान शिव के मंदिर में दीपक जलाना बहुत फलदायी होता है। प्रदोष व्रत पर इन सरल उपायों का अत्यंत ईमानदारी और पवित्रता के साथ पालन करके, भक्त आसानी से भगवान शिव और देवी पार्वती को प्रसन्न कर सकते हैं और उनका आशीर्वाद प्राप्त कर सकते हैं। 

यदि भी भगवान शिव और माता पार्वती का आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं तो आज ही लाइव रुद्राभिषेक पूजा के लिए बुक करें!