Angela Merkel की 16 लम्बी पारी खत्म, जानें क्यों?

Angela Merkel की 16 लम्बी पारी खत्म, जानें क्यों?

जर्मनी में हाल ही में हुए चुनाव से वहां की राजनीती में बहुत बड़ा बदलाव हुआ है। कहा जा सकता है कि जर्मनी में राजनीति के एक युग का अंत हो गया। 16 साल तक जर्मनी की चांसलर रह चुकी Angela Merkel ने अपना पद छोड़कर Olaf Scholz को चांसलर पद का भार सौंप दिया है। जर्मनी में नई सत्ता स्थापित करने के लिए तीन दलों ने समझौता किया है। Angela Merkel 2005 से जर्मनी का नेतृत्व कर रही हैं, और विश्व की सबसे ताकतवर महिलाओं में भी गिनी जाती है। 67 वर्षीय Angela Merkel के जीवन में आया यह बहुत बड़ा बदलाव है। अचानक से इस बदलाव के पीछे क्या है ग्रहों का खेल, आगे कैसा रहेगा उनका सफर जानते हैं-

अब हुआ ज्योतिषी विशेषज्ञों से बात करना बहुत ही आसान, अभी फ्री कॉल करें


7 ग्रहों ने करवाया Angela Merkel से पद छोड़ने का निर्णय

17 जुलाई 1954 को हैम्बर्ग, जर्मनी में जन्मी Angela Merkel की सूर्य कुंडली में तुला राशि का शनि है, जो उच्च का है। वे खुद कन्या राशि की जातक है और मिथुन राशि में स्वग्रही बुध है। इनके अग्नि तत्व में मंगल-राहु का अंगारक दोष है। इन्हीं सब योग के कारण वे एक सशक्त महिला के रूप में उभरी। बुध के कारण वे दूरदर्शी रही और स्थितियों का पूरा विश्लेषण किया। हालांकि इन दिनों Angela Merkel की सूर्य कुंडली में 9 में से सात ग्रह कुंडली में नकारात्मक 6वें और 8वें भाव में विराजमान थे, इसलिए पद छोड़ने का फैसला भी उन्होंने अपने नियत समय से एक सप्ताह पहले ले लिया। आने वाले समय की बात करें, तो उनके लिए स्वास्थ्य की दृष्टि से समय थोड़ा मुश्किल हो सकता है। हालांकि जर्मनी में उनकी राय और बात अब भी महत्वपूर्ण मानी जाएगी।

(कहां अटक रही है आपकी बात, कब होगा आपके जीवन में सब कुछ अच्छा, आपकी कुंडली में कोई दोष तो नहीं, पाइए फ्री जन्मपत्री अभी)


Angela Merkel का यादगार राजनीतिक सफर

जर्मनी में Angela Merkel की राजनीतिक पारी हमेशा याद रखी जाएगी। Angela Merkel ने अपने 16 साल के कार्यकाल में बहुत से बड़े मुद्दों पर डट कर काम किया। अफगानिस्तान में चल रहे विद्रोह के समय भी उन्होंने रुसी राष्ट्रपति व्लादीमीर पुतिन से मिलकर चर्चा की थी। Angela 22 नवंबर 2005 को जर्मनी की चांसलर बनने वाली पहली महिला थीं। उन्होंने अपने रिकॉर्ड कार्यकाल में विदेशों से सराहना और देश में काफी लोकप्रियता हासिल की। पिछले तीन साल में कोरोना मुद्दे पर चीन के खिलाफ प्रखर रूप से बोलने वाली वे पहली व्यक्ति रहीं।

क्या 2022 आपके लिए लोकप्रियता लेकर आ रहा है, पढ़िए वार्षिक भविष्यफल 2022