Angarak Yog: वृश्चिक राशि में बना अंगारक योग, आपके लिए क्या है नुकसान

आक्रामक ग्रह मंगल राशि बदलकर वृश्चिक राशि में पहुंचा है। यहां मंगल की केतु से युति हुई है। यह युति अंगारक योग (Angarak Yog) कहलाती है। वृश्चिक राशि में बन रहा यह अंगारक दोष ना केवल वृश्चिक बल्कि राशिचक्र की सभी राशियों को किसी ना किसी तरह से प्रभावित जरूर करेगा। अंगारक दोष को ज्योतिष शास्त्र में इसे बहेद अशुभ योग बताया गया है। इस दोष के कारण व्यक्ति में हिंसक प्रवृत्ति जागती है। व्यक्ति के व्यवहार में आक्रामकता आती है। अंगारक दोष के कारण आपके प्रियजनों से रिश्ते भी खराब होने लगते हैं। वाहन चलाने या किसी इलेक्ट्रिक चीजों का इस्तेमाल करने में दुर्घटना की चिंता बनी रहती है। 16 जनवरी तक मंगल वृश्चिक राशि में रहकर केतु के साथ अंगारक दोष (Angarak Dosh) बना रहा है। जानते हैं देश-दुनिया के अलावा अंगारक दोष आपकी राशि पर क्या प्रभाव डालेगा और इससे बचने के उपाय क्या किए जा सकते हैं।


Angarak Yog: बढ़ाएगा महामारी !

मंगल का राशि बलदकर वृश्चिक राशि में पहुंचना थोड़ा मुश्किल समय रहेगा। वृश्चिक राशि को मंगल की ही राशि कही जाती है। यहां मंगल अपनी ऊर्जा को और बढ़ाता है, लेकिन इस ऊर्जा को केतु का भी साथ मिल जाएगा। इन दिनों केतु वृश्चिक राशि में ही गोचर कर रहा है। केतु और मंगल की युति में वृश्चिक राशि में अंगारक योग बना है। हालांकि ज्यादातर लोग इसे योग की जगह अंगारक दोष कहते हैं। इस अंगारक योग के वैश्चिक स्तर पर महामारी बढ़ेगी। कोरोना के नए वैरिएंट के केस बढ़ने लगेंगे। इस दौरान भूकंप, बाढ़, विमान दुर्घटना और युद्ध जैसी स्थिति का निर्माण बन सकता है। हाल ही में हुई सेना के हेलिकॉप्टर क्रैश की घटना भी मंगल-केतु के कारण हुई है। अगर हम हमारे देश की बात करें, तो 16 जनवरी तक वृश्चिक राशि में बन रहे मंगल-केतु की युति या अंगारक योग कुंडली के सप्तम भाव में बन रहा है। इस दौरान देश की प्रजा में एक अस्थिरता आती है। वहीं सरकार के खिलाफ किसी ना किसी तरह की बातें होने लगती है। प्राकृतिक आपदा के कारण भी देश को नुकसान हो सकता है।
अपने जीवन की किसी भी परेशानी से बचने के लिए आप भगवान शिव की पूजा करें। वेदोक्त पद्धति से शिव पूजा (रुद्राभिषेक पूजा) जरूर करवाएं


Angarak Dosh: आपकी राशि पर मंगल-केतु की युति का असर

मेष- आपको स्वास्थ्य संबंधी चिंता हो सकती है। वाहन आदि का उपयोग बेहद ध्यान से करें। महिलाओं को गायनिक संबंधी प्रॉब्लम भी इस अंगारक योग के कारण हो सकती है।

वृषभ- आपके जीवनसाथी और बिजनेस पार्टनर के साथ मतभेद उभर सकते हैं। सार्वजनिक जीवन में भी आपको हानि हो सकती है।

मिथुन- हेल्थ की समस्या बढ़ सकती है। जॉब कर रहे लोगों के मतभेद बढ़ सकते हैं।
(आपकी कुंडली में कौन सा दोष आपको आगे बढ़ने से रोक रहा है, बात करें हमारे विशेषज्ञ एस्ट्रोलॉजर से, पहला कंसलटेशन बिल्कुल फ्री)

कर्क – आपके व्यवसाय और नौकरी में आपके परफॉर्मेंस में कमी आएगी। आपकी लव लाइफ में भी दिक्कत हो सकती है।

सिंह- अंगारक योग के चलते आपको प्रॉपर्टी संबंधी कुछ समस्या आ सकती है। इस दौरान आप अशांति महसूस करेंगे।

कन्या- वृश्चिक राशि में बन रहे अंगारक योग के चलते आपको कोई नया काम करने से अभी बचना चाहिए। भाई-बहनों से भी आपका वाद-विवाद हो सकता है।

तुला- 16 जनवरी तक बन रहे अंगारक योग के चलते आर्थिक स्थिति कमजोर रहेगी। आपको किसी नए इनवेस्टमेंट से बचना चाहिए।

वृश्चिक – वृश्चिक राशि में मंगल और केतु की युति के कारण बन रहे अंगारक योग के असर के चलते आपका गुस्सा बहुत बढ़ेगा। महिलाओं को भी गायनिक संबंधी दिक्कत हो सकती है।

(अंगारक दोष से बचने के क्या उपाय है? व्यक्तिगत कुंडली में यह किस तरह से नुकसान पहुंचा सकता है। जानिए हमारे विशेषज्ञ ज्योतिषियों से अभी)

धनु- धनु राशि के लोगों को अंगारक दोष के चलते खर्चे अधिक होंगे। ज्यादातर पैसा चिकित्सा पर खर्च होगा।

मकर राशि इस राश के जातकों को भी नुकसान हो सकता है। उनका मनचाहा काम नहीं होगा। साथ ही बड़े भाई बहन के साथ रिश्तों में मतभेद हो सकते हैं। रियल स्टेट में काम करने वालों के लिए सावधान रहने की आवश्यकता है।

कुंभ- अंगारक योग के कारण कुंभ राशि के लोगों को 16 जनवरी तक नए प्रोजेक्ट शुरू करने से बचना चाहिए।

मीन – मीन राशि के जातकों को वृश्चिक राशि में बने अंगारक योग के कारण धर्म-कर्म में मन नहीं लगेगा। आपको यात्रा में भी परेशानी आ सकती है।

साल 2022 आपके लिए क्या लेकर आ रहा है, पढ़िए वार्षिक भविष्यफल 2022