सीएम होते-होते क्यों डिप्टी सीएम रह गए Keshav Prasad Maurya? अब पता चला रहस्य!

उत्तर प्रदेश में 2022 में विधानसभा चुनाव (UP Election 2022) होने वाले हैं। इस चुनाव को लेकर सभी राजनीतिक पार्टियां सक्रिय हो गई है। बीजेपी के नेता भी एक बार फिर भाजपा की वापसी के लिए जोर-शोर से लगे हुए हैं। इसी बीच उत्तर प्रदेश के Deputy CM Keshav Prasad Maurya का एक बयान आया है, जिसने सियासी गलियारों का तापमान बढ़ा दिया है। केशव प्रसाद मौर्या ने हाल ही में कहा कि अयोध्या और काशी में भव्य मंदिर निर्माण जारी है और अब मथुरा की तैयारी है। इससे कयास लगाए जा रहे हैं कि इस बार हिंदूत्व के मुद्दे को सबसे आगे रख सकती है। देखते हैं यूपी विधानसभा चुनाव 2022 में केशव प्रसाद मौर्य कितना देंगे ग्रह उनका साथ-

क्या ग्रह आपकी सफलता में डाल रहे अड़ंगा, अभी हमारे ज्योतिष विशेषज्ञों से जानें समाधान…


Keshav Prasad Maurya के लिए समय जरा...

उत्तरप्रदेश के Deputy CM Keshav Prasad Maurya जन्म 7 मई 1969 के उत्तरप्रदेश के सिराथू में हुआ था। उनकी सूर्य कुंडली पर नजर डालें, तो उनकी कुंडली में सूर्य मेष राशि में है, जो उच्च का है। इस कारण से केशव प्रसाद को अपने राजनीतिक कॅरियर में हमेशा सफलता मिलती रही है, लेकिन कुंडली में सूर्य के साथ शनि है। शनि-सूर्य का नीच राजयोग बन रहा है। कुंडली में स्वग्रही मंगल और उच्च का शुक्र है, जो कुंडली को मजबूती प्रदान करता है। हालांकि सूर्य के साथ शनि होने से Keshav Prasad Maurya को वह सफलता नहीं मिल पाती है, जिसकी उन्हें तलाश रहती है। इसी शनि के कारण वे सीएम होते होते डिप्टी सीएम हो गए। आने वाले समय को लेकर बात की जाए, तो आने वाले UP Election 2022 में उनकी कुंडली में सार्वजनिक जीवन के स्थान से केतु का गोचर होगा, इसलिए उस समय उन्हें मिक्स टू नेगेटिव परिणाम मिलेंगे।

सरकारी नौकरी मिलने में आपको दिक्कत आ रही है? या प्राइवेट नौकरी में बॉस से नहीं पट रही है। यदि ऐसा है, तो हो सकता है आपका सूर्य कमजोर हो। तुरंत सूर्य पूजा करवाकर मनचाहा परिणाम जरूर पाएं।


Keshav Prasad Maurya विधायक से डिप्टी सीएम तक

केशव प्रसाद मौर्या के राजनीतिक कॅरियर के बारे में बात की जाएं, तो केशव प्रसाद साल 2012 में सिराथू से बीजेपी के पहले विधायक बने थे। यह पहली बार था जब सिराथू से बीजेपी का कोई नेता विधायक बना हो। इससे पहले वह साल 2002 का विधानसभा चुनाव हार गए थे। इलाहाबाद विधानसभा क्षेत्र से 2007 का विधानसभा चुनाव भी केशव हार गए थे, जो उन्होंने बीजेपी के उम्मीदवार के रूप में लड़ा था। बहरहाल, केशव प्रसाद मौर्चा उत्तरप्रदेश विधानसभा चुनाव (UP Election 2022) को लेकर एक्टिव है, और जनता के बीच अपनी बातें रख रहे हैं। कई बार वह अपने बयानों के कारण विवादों में भी फंस जाते हैं।

साल 2022 कैसा गुजरेगा, जानिए अपना राशिफल….