वेलेंटाइन वीक 2022 मनाएं अपने साथी के साथ, राशि अनुसार

वेलेंटाइन डे प्यार का दिन माना जाता है। 14 फरवरी को, वर्ष के किसी भी अन्य दिन से अधिक, रोमांटिक जोड़े अपने प्रेमी और जीवनसाथी को उपहार और प्रेम से सराबोर करते हैं। वैलेंटाइन डे के बारे में बहुत सारी बातें प्रचलित हैं। हाथ से बनाए कार्ड, दिल के आकार के चॉकलेट, और लाल गुलाब सभी इस वार्षिक परंपरा के प्रमुख प्रतीक हैं, जो किसी भी स्टोर पर आसानी से उपलब्ध हो जाते हैं। कोई गालिब के शेर से तो कोई फिल्म के डायलॉग से अपने मनपसंद व्यक्ति को लुभाने की कोशिश करता है। चूंकि, प्यार के लिए एक दिन काफी नहीं है, इसे पूरे सात दिन मनाने का नया चलन है।

वेलेंटाइन वीक 2022 की लिस्ट

इवेंटदिनतारीख
रोज़ डेसोमवार7 फरवरी 2022
प्रपोज डेमंगलवार8 फरवरी 2022
चॉकलेट डेबुधवार9 फरवरी 2022
टेडी डेगुरुवार10 फरवरी 2022
प्रॉमिस डेशुक्रवा11 फरवरी 2022
हग डेशनिवार12 फरवरी 2022
किस डेरविवार13 फरवरी 2022
वेलेंटाइन डेसोमवार14 फरवरी 2022

वेलेंटाइन डे की कहानी

वेलेंटाइन डे की शुरुआत का और कैसे हुई ये कह पाना तो आसान ना होगा लेकिन बहुत सी प्रचलित कहानियां हैं। वैसे ये कब और कैसे शुरू हुआ, इस विषय पर काफी सारी कहानियां प्रचलित है, लेकिन हर कहानी में संत वेलेंटाइन का जिक्र जरूर मिलता है। आइए जानते हैं, वेलेंटाइन डे के इतिहास के बारे में…

कौन थे संत वेलेंटाइन?

वैलेंटाइन रोम में एक पुजारी या बिशप थे, जो ईसा के बाद तीसरी शताब्दी के दौरान रहते थे। उन्हें कथित तौर पर रोमन सम्राट क्लॉडियस द्वितीय द्वारा उनके धोखे और ईसाई विवाह को रोकने के सम्राट के आदेशों का पालन करने की अनिच्छा के लिए जेल में डाल दिया गया था।

उन्हें सताए गए ईसाइयों की मदद करने का दोषी भी माना गया था। क्लॉडियस ने ईसाई शिक्षा के खिलाफ शासन किया था क्योंकि वह नहीं चाहता था कि लोग उसके अलावा किसी और की पूजा करें।

किंवदंती के अनुसार, संत वेलेंटाइन ने क्लॉडियस की बेटी को पत्र लिखे और चमत्कारिक रूप से उसे अंधेपन से छुटकारा दिलाया। उन्होंने क्लॉडियस से भी दोस्ती की, लेकिन जब उसने सम्राट को ईसाई धर्म में बदलने की कोशिश की, तो उन्हे मौत की सजा दी गई। वैलेंटाइन ने अपनी फांसी से पहले क्लॉडियस की बेटी को अपना अंतिम पत्र लिखा, उस पर “आपका वेलेंटाइन” लिख कर हस्ताक्षर किए।

उन्हें पत्थरों से पीटा गया, और रोम में फ्लेमिनियन गेट के बाहर वाया फ्लेमिनिया पर एक ईसाई कब्रिस्तान में दफनाए जाने से पहले उनका सिर काट दिया गया।

दूसरी कहानी

दूसरी कहानी संत वैलेंटाइन की अलग कहानी बताती है, जो तीसरी शताब्दी के रोम में गुप्त रूप से युवा जोड़ों से शादी करता था जब राजा क्लॉडियस द्वितीय ने युवकों के विवाह पर प्रतिबंध लगा दिया था। सम्राट का मानना था कि बिना परिवार के पुरुष रोम के लिए एक मजबूत सेना बनाएंगे। 

संत वैलेंटाइन ने राजा के तौर-तरीकों में दोष देखा और वह गुपचुप तरीके से जोड़ों का विवाह कराने लगा। दुर्भाग्य से, राजा को इसके बारे में पता चला और उसने अपने सैनिकों को संत वेलेंटाइन को मौत के घाट उतारने का आदेश दिया। कहा जाता है कि लोग उस संत को याद करने के लिए वेलेंटाइन डे मनाते हैं जो प्रेमियों को मिलाते हुए मर गया।

कैसे मनाया जाता है वेलेंटाइन वीक?

सभी त्योहारों में से वैलेंटाइन डे ग्रीटिंग कार्ड और पत्रों का विशेष महत्व है। दुनिया में कई जगहों पर आज भी वैलेंटाइन डे के बेहतरीन लेटर के लिए प्रतियोगिता आयोजित की जाती है। रोम में आयोजित होने वाली ऐसी ही एक प्रतियोगिता पूरी दुनिया में बहुत प्रसिद्ध है।

चाहे दुनिया कितनी भी बदल गई हो, लेकिन हाथ से लिखा एक व्यक्तिगत पत्र आपके प्रियजन को स्पेशल महसूस करते हैं। इस तरह से आप अपने प्यार के दिन को यादगार भी बना देगा। प्रिंटर का उपयोग न करने और इसे हाथ से बनाने पर आपके प्यार का महत्व और ज्यादा बढ़ जाता है। वैलेंटाइन डे पर आप अपने पार्टनर को प्रपोज कर इस दिन को और भी खास बना सकते हैं।

ग्रीटिंग कार्ड्स को 19वीं शताब्दी के इंग्लैंड में लोकप्रिय बनाया गया था, और वे अभी भी प्यार के इस त्योहार पर राज करते हैं। वेलेंटाइन डे ग्रीटिंग कार्ड्स उन लोगों के लिए हैं जो अपनी भावनाओं को व्यक्त करने में बहुत शर्माते हैं। ग्रीटिंग कार्ड्स इन आधुनिक समय में लंबी दूरी के प्रेमियों के लिए भी प्राथमिकता का माध्यम रहा है। हालांकि धीरे-धीरे, इलेक्ट्रॉनिक रूप से भेजे गए संदेश उनकी जगह ले रहे हैं।

क्या आपको अपने प्रेमी जीवन में किसी तरह की समस्या हो रही है, तो हमारे ज्योतिष विशेषज्ञों से कराएं समस्या का समाधान…

अपनी राशि के अनुसार मनाए वेलेंटाइन वीक

मेष राशि

मेष राशि के लोग बहुत ही ज्यादा उत्साह से भरे होते हैं, जिस कारण वो कई बार अपने आगे किसी को देख नहीं पाते हैं। कई बार अपने उत्साह में वो अपने साथी को नजरंदाज भी कर जाते हैं। मेष राशि को इस वेलेंटाइन डे पर थोड़ा सॉफ्ट होने की जरूरत है। कोशिश करें कि आप अपने साथी की ज्यादा समय दें और उनकी बातें को सुने और समझें। ये आपके साथी के लिए सबसे अच्छा उपहार हो सकता है।

वृषभ राशि

वृषभ राशि के लोग थोड़े आलसी और स्लो होते हैं, इसलिए आप लंबे समय में कोई प्लान करें तो आपके लिए सही रहेगा। जल्दबाजी में, अंतिम समय पर प्लान बनाना आपके लिए परेशानियां ला सकता है। सच्चे दिल से सही समय की गई कोई प्लान आपके पक्ष में जा सकता है।

मिथुन राशि

मिथुन राशि के लोग ज्ञान का खजाना होते हैं और उन्हे बातें करना बहुत ज्यादा पसंद होता है। इन्हे ऐसे पार्टनर की जरूरत होती है जो इन्हे आराम से सुन सकें। लेकिन इन्हे बोलने के साथ सुनने की आदत भी डालनी चाहिए। एक अच्छा श्रोता बन कर आप अपने साथी के और ज्यादा करीब हो सकते हैं।

कर्क राशि

कर्क राशि के लोग बहुत ही भावुक होते हैं। साथ ही अपनी भावनाएं खुद तक रखना पसंद करते है। अपने इन्ट्रोवर्ट स्वभाव के कारण कई बार लोग इन्हे गलत समझ लेते हैं और मनमुटाव की संभावना हो सकती है। कर्क को अपने मन की बात अपने साथी के साथ सांझा करने की सलाह दी जाती है। ये आपके रिश्ते को मजबूत बनाएगा।

सिंह राशि

सिंह राशि के लोग बहुत ही ज्यादा डोमीनेटिंग होते हैं और अपने पार्टनर को भी दबा कर रखना चाहते हैं। साथ ही इनकी इच्छा होती है की लोग इनकी सराहना और तारीफ करें। इन्हे नई चीजों के साथ प्रयोग करने में मजा आता है। इन्हे खुद के साथ अपने पार्टनर की भावनाओं के बारें में भी सोचना चाहिए। आपके साथी की थोड़ी तारीफ और प्यार भरी बातें आपके जीवन को खुशहाल बना सकती है।

कन्या राशि

कन्या राशि को अपने पार्टनर के साथ खुलने की जरूरत है। ये बहुत ही जरूरी है कि आप अपनी भावनाएं अपने साथी को अच्छे से प्रदर्शित कर सकें। भले आपको प्यार दर्शना नहीं आता हो, लेकिन ये छोटी सी कोशिश आपके रिश्ते को मजबूत बना सकती है।

तुला राशि

तुला राशि के लोग बहुत ही ज्यादा आकर्षक होते हैं और लोगों का मन बहुत जल्द मोह लेते हैं। इनका सौम्य स्वभाव और लच्छेदार बातें हर किसी को पसंद आती है। तुला को कोशिश करनी चाहिए कि वो थोड़ा महत्व खुद से हटा कर अपने पार्टनर पर भी लगाएं।

वृश्चिक राशि

वृश्चिक को सबसे ज्यादा लॉयल्टी पसंद आती है और बनावटीपन से दूर भागते हैं। ये ज्यादातर असुरक्षा की भावना  से घिरे रहते हैं। इन्हे अपने साथी पर भरोसा करना सीखना चाहिए साथ ही अपने साथी के भावना और पसंद को भी महत्व देना चाहिए। 

धनु राशि

धनु राशि रोमांच के कायल होते हैं। ये घुमंतू और स्वजीवी लोग होते हैं जो जीवन में किसी का दखल पसंद नहीं करते हैं, चाहे वो इनका साथी ही क्यों ना हो। इन्हे बंधन में रहना पसंद नहीं होता है। लेकिन इन्हे प्रेम को महत्व देना चाहिए, और अपने साथी के साथ अपने दिल की बातें जरूर शेयर करनी चाहिए।

मकर राशि

मकर राशि के लोग शांत, शर्मीले, इंट्रोवर्ट और एम्बिशियस होते हैं साथ ही बहुत सौम्य और शांत पार्टनर साबित होते हैं। लेकिन अपने जीवन साथी की चुनाव के लिए काफी समय लेते हैं। लेकिन एक बार रिश्ता जुडने के बाद ये पूरे दिल से रिश्ता निभाते हैं। इन्हे अपने साथी को अधिक समय देना चाहिए।

कुम्भ राशि

खुशमिजाज और बात करने में निपुण कुम्भ ज्यादा संवेदनशील नहीं होते हैं। लोग इनसे बहुत जल्दी इम्प्रेस हो जाते हैं, पर दूसरी तरफ इन्हें इम्प्रेस करना इतना आसान नहीं होता है। इन्हे अपने साथी के साथ रिश्ते अच्छे करने की लिए भावनाओं को महत्व देना चाहिए।

मीन राशि

अपरंपरागत चतुराई और संवेदना से भरे हुए मीन बहुत जल्दी लोगों का ध्यान अपनी ओर खींचने में कामयाब हो जाते हैं। अपने चार्म की वजह से ये लोगों के बीच जल्द ही आकर्षण का केंद्र बन जाते हैं। लेकिन ये बहुत ज्यादा काल्पनिक होते हैं और अपने सपनों की दुनिया में रहना पास करते हैं। आपको यथार्थ की भूमि पर रहने का प्रयास करना चाहिए और असामान्य अपेक्षाएं नहीं रखनी चाहिए।

उम्मीद है कि वैलेंटाइन वीक और वैलेंटाइन डे आपके लिए अच्छा रहेगा और हमारे दिए टिप्स का उपयोग कर आप और अच्छा बनाएंगे। 

अपने साथी के साथ कैसा बीतेगा अपना जीवन, अनुकूलता चैक करें…