2022 में इन राशियों पर रहेेगी शनि की साढ़े साती और शनि का ढैय्या (Shani Sade Sati)

ज्योतिष में शनि को न्याय का देवता कहा जाता है, लेकिन इस शनि से सभी डरते हैं। शनि महादशा और शनि की साढ़े साती अक्सर लोगों को परेशानी में डालती देखी गई है। शनि की साढ़े साती सात वर्षों के लिए होती है। इन सात वर्षों में व्यक्ति काम तो बहुत करता है, लेकिन उतना रिजल्ट नहीं मिल पाता है। शनि की चाल बहुत धीमी है। 2022 में शनि राशि बदलकर मकर से कुंभ में जाएंगे। जानते हैं किन राशियों के लिए शनि की साढ़े साती तब शुरू होगी, किसे होगा शनि की साढ़े साती से नुकसान, किसे मिलेगा फायदा।


Shani Sade Sati 2022: ये चार राशियां होगी प्रभावित

शनि ग्रह बहुत धीमे चलते हैं। 29 अप्रेल 2022 में शनि राशि बदलकर मकर से कुंभ में पहुंचेंगे। इसके बाद 12 जुलाई में फिर से मकर राशि में प्रवेश करेंगे। शनि के इस तरह से राशि बदलने और फिर से मकर में आने से राशिचक्र की पांच राशियों पर इसका असर पड़ेगा। अप्रैल में राशि बदलने से एक राशि की शनि की साढ़े साती शुरू होगी और एक राशि की साढ़ेसाती खत्म होगी, लेकिन जुलाई में शनि फिर से राशि बदलेंगे। इसका असर भी कुछ राशियों पर होगा। देखते हैं कौन सी पांच राशियां शनि के कारण बहुत अधिक प्रभावित होगी।

मकर राशि

साल 2022 में मकर राशि पूरी तरह से शनि की साढ़े साती से प्रभावित होगी। इस दौरान आपको लगेगा कि आपके काम बहुत धीमी गति से आगे बढ़ रहे हैं। हालांकि मकर शनि की ही राशि है, इसलिए शनि मकर राशि के लोगों को मेहनत करने और धैर्य रखने के लिए प्रेरित करेगा।

कुंभ राशि

साल 2022 में कुंभ राशि के सभी लोग शनि की साढ़े साती से प्रभावित होंगे। हालांकि कुंभ राशि शनि की मूल त्रिकोण राशि भी कहलाती है। ऐसे में कुंभ राशि के लोगों पर शनि की साढ़े साती का विशेष दुष्प्रभाव नहीं होगा। हालांकि इस दौरान आपको सामंजस्य बनाए रखने में दिक्कत होगी। साथ ही आपका धैर्य कमजोर होगा।

(शनि की महादशा और साढ़े साती से बचने का आसान उपाय है वेदोक्त पद्धति से शनि पूजा, आप पूरी तरह से वेदोक्त पद्धति से शनि पूजा करवाने के लिए क्लिक करें।)

मीन राशि

अप्रेल में जब शनि राशि बदलकर कुंभ राशि में जाएंगे, तो साल 2022 में मीन राशि के जातकों की साढ़े साती शुरू हो जाएगी। शनि की इस साढ़े साती के असर से  मानसिक चिंता रहेगी। किसी बात का अकारण डर बना रहेगा। बनते-बनते काम अटकने लगेंगे। हालांकि आप दृढ़ इच्छा शक्ति से काम करेंगे, तो शनि की साढ़े साती में आपको फायदा ही होगा।

वृश्चिक राशि

साल 2022 में वृश्चिक राशि के लोगों को शनि की साढ़े साती का आखिरी चरण चलेगा। इस दौरान आप आलस्य से घिरे रहेंगे। हालांकि अप्रेल से जुलाई तक का समय आपके लिए अच्छा रहेगा, लेकिन जुलाई के बाद आप फिर से शनि की साढ़े साती के आखिरी चरण में आ जाएंगे। आपके काम बनेंगे, लेकिन धैर्य नहीं होने के कारण आपका विवाद बहुत ज्यादा होगा।


साढ़े साती के अलावा शनि का ढैय्या भी करेगा परेशान

राशिचक्र की चार राशियां जहां शनि की साढ़े साती से प्रभावित रहेंगी। वहीं चार राशि के लोगों को शनि का ढैय्या या शनि की पनौती परेशान करेगी। इनमें मिथुन, तुला, कर्क और वृश्चिक राशियां है। वृश्चिक राशि पर शनि की साढ़े साती का असर खत्म होगा, लेकिन शनि की ढैय्या उन्हें परेशान कर सकती है। हालांकि शनि को न्याय का देवता कहा जाता है, इसलिए शनि हमेशा उन लोगों का साथ देता है, जो अच्छे कामों में लगे हुए हैं या नियम विरुद्ध काम नहीं करते हैं। 2022 में इन राशि के लोगों को सलाह है कि वे अच्छे कार्य करें, जिससे शनि प्रसन्न हों और आपके काम बनने लगें।

(यदि कुंडली में शनि की स्थिति कमजोर हों, तो जातक के काम नहीं बनते हैं या अधिक से अधिक मेहनत के बाद भी वैसा रिजल्ट नहीं मिलता, जिसकी उम्मीद हैं। आप एक बार हमारे विशेषज्ञ एस्ट्रोलॉजर से अपनी कुंडली का विश्लेषण जरूर करवाएं, पहला कंसलटेशन बिल्कुल मुफ्त!)