एमी ऑर्गेनिक्स: खरीदें या नहीं, क्या कहते हैं एक्सपर्ट

1 सितम्बर को एमी ऑर्गॅनिक्स के आईपीओ खुलने के साथ ही यह इश्यू उतार- चढ़ाव भरा सफर तय करेगा। हमारे विशेषज्ञों की मानें तो इस केमिकल बनाने वाली कंपनी के साथ संभलकर ट्रेड करेंं। जानिए कुछ और खास बातें…

सूरत की इस कंपनी का यह आईपीओ सब्सक्रिप्शन के लिए 1 से 3 सितंबर तक खुला रहेगा। कंपनी ने इसका प्राइस 603 से लेकर 610 रुपए तक तय किया किया है और एमी का इरादा है कि इस आईपीओ को NSE और BSE दोनों में लिस्ट किया जाएं। इस इश्यू के लिए 24 शेयरों का लॉट साइज तय किया गया है,  जिसका मतलब है कि प्राइस बैंड के अपर प्राइस के मुताबिक निवेशकों को कम से कम 14,640 रुपये का निवेश करना होगा और इस आईपीओ का इश्यू साइज 569.63 रुपए होगा।  

इस आईपीओ में 200 करोड़ रुपए के इक्विटी शेयरों का एक नया मुद्दा और मौजूदा शेयरधारकों द्वारा 60,59,600 इक्विटी शेयरों की बिक्री का प्रपोजल शामिल है।


भविष्यवाणियां: लिस्टिंग के बाद कैसा होगा कंपनी का रुतबा?

हमने 14 सितंबर को एमी ऑर्गेनिक्स की BSE और NSE में लिस्टिंग हो जाने के बाद इस कंपनी और घटनाक्रम से जुड़े कुछ ज्योतिषी विश्लेषण किये है। आइये जानते है इनके बारे में: 

ज्योतिषीय विश्लेषण के अनुसार, एमी ऑर्गेनिक्स को अपनी सेल्स और रेवेन्यू ग्रोथ को बढ़ाने के लिए अपनी मार्केटिंग स्ट्रैटजी को तगड़ा करना होगा। 

लिस्टिंग के बाद, कंपनी के परफॉरमेंस पर काफी हद तक विदेशी निवेशकों (FII) और घरेलू निवेशकों (DII) का प्रभाव बढ़ेगा। ज्योतिषी कह रहे हैं कि यहां ट्रेडिंग किया जा सकता है, लेकिन सही स्ट्रेटेजी के साथ आगे बढ़ें…


एमी ऑर्गेनिक्स के आईपीओ में हुए हालिया बदलाव

आकंड़ों की मानें तो हाल ही में एमी ऑर्गेनिक्स में 31 अगस्त तक इसके कुछ खास 20 इंवेस्टर्स ने 170.89 करोड़ रुपए का निवेश किया है। इस निवेश के बाद यह आईपीओ इश्यू लाया गया है।  


आखिर क्या करती है एमी ऑर्गेनिक्स

सूरत स्थित एमी ऑर्गेनिक्स स्पेशिअलिटी केमिकल्स बनाती है। एमी अपने दवाई निर्माण के साथ ही फार्मा इंटरमीडिएट के मैन्युफेक्चर के लिए भी जानी जाती है। 

एमी ऑर्गेनिक्स की लिस्टिंग के बाद इस कंपनी के लिए सब कुछ बहुत आसान नहीं होगा, इसके रास्ते में कुछ चुनौतियां आएंगी लेकिन साथ ही ओवरऑल ग्रोथ की ओर भी सितारे इशारा कर रहे है ।