सीता नवमी तिथि का महत्व और इससे जुड़ी कहानियां

परिचय

सीता को देवी लक्ष्मी का अवतार माना जाता है। सीता नवमी का त्योहार सीता के जन्म के अवसर पर मनाया जाता है। ऐसा माना जाता है कि देवी सीता का जन्म वैशाख महीने के शुक्ल पक्ष की नवमी तिथि (नौवें दिन) को हुआ था। इसी दिन सीता नवमी मनाई जाती है। ऐसा माना जाता है कि विवाहित महिलाएं इस दिन व्रत रखती हैं, और अपने पति की लंबी उम्र के लिए मां लक्ष्मी की पूजा करती हैं।

सीता का जन्म

सीता के जन्म को लेकर कई तरह की कहानी प्रचलित है। कुछ लोगों का मानना है कि मिथिला में कई सालों से वर्षा नहीं हुई थी। जिसकी वजह से वहां अकाल पड़ रहा था। तब राजा जनक द्वारा एक यज्ञ किया गया, उसके बाद वे हल लेकर मिथिला की भूमि पर जुताई करने पहुचे। जुताई करते समय उन्हें सोने के बक्से में एक बच्ची पड़ी मिली, वही सीता कहलाई। दूसरी कहानी बताती है कि भारत के बिहार राज्य में सीतामढ़ी नाम का एक जिला है, जिसे सीता की जन्मस्थली के रूप में जाना जाता है। जबकि एक और कहानी के अनुसार नेपाल में नेपाल का प्रदेश क्रमांक 2 में सीता का जन्म स्थान माना जाता है।

वाल्मीकि रामायण के तमिल संस्करण के अनुसार, सीता देवी सीतामढ़ी स्थान के मिथिला क्षेत्रों में हल चलाने के दौरान जमीन के अंदर राजा जनक को मिली थी। उस समय राजा जनक और उनकी पत्नी सुनैना ने उन्होंने उसे गोद लिया और सीता नाम दिया, क्योंकि जुताई गई भूमि को संस्कृत में “सीत” कहा जाता है।

रामायण मंजरी के संशोधित ग्रंथों के अनुसार, कहा जाता है कि एक बार राजा जनक ने मेनका को आकाश में देखा और उससे एक बच्चे की कामना की। उसकी इच्छा का जवाब देते हुए, मेनका ने उन्हें बताया कि उसने एक आध्यात्मिक बच्ची को जन्म दिया है, और उसे गोद लेने के लिए कहा। राजा जनक ने हां कह दी। इस तरह सीता का जन्म हुआ। सीता का विवाह बाद में राजा दशरथ के पुत्र भगवान राम से एक स्वयंवर के माध्यम से किया गया था।

जीवन में हर दिन को सुखमय बनाने के लिए हमारे एस्ट्रो की राय ले, वो भी सिर्फ 1/मिनट की दर से।

सीता की मृत्यु क्यों और कैसे हुई

सीता की मृत्यु को लेकर भी कई तरह की कहानी प्रचलित है। सीता के जन्म से लेकर मृत्यु तक का पूरा वर्णन रामायण में मिलता है। तो चलिए शुरू करते हैं।

  • जब भगवान राम ने लंका के राजा रावण को हराया और सीता को वापस जीतकर अयोध्या लौट आए। सभी ने इस कार्यक्रम का जश्न मनाया और लोगों ने सीता के साथ भगवान राम का बड़े धूमधाम से स्वागत किया। भगवान राम ने आने वाले 10,000 वर्षों तक शांति और खुशी के साथ अयोध्या के सिंहासन पर राज किया।
  • राम के राजा रहते हुए, किसी ने सीता की पवित्रता पर संदेह करते हुए कहा कि कैसा राजा है लंका में रावण के पास गुलाम रहते हुए भी, इन्होने सीता को वापिस अपने पास रख लिया। जब यह बात राम चन्द्र जी को पता चली, तो वे दुखी हो गये। चूँकि भगवान राम ने हमेशा अपने राज्य और उसके लोगों को प्राथमिकता दी थी, वह अपनी पत्नी पर लगाए गए आरोप से दुखी हो गए। जब सीता को लंका से वापिस लाये, तब भी उन्होंने अग्नि परीक्षा दी थी। तब भी सीता को अपनी पवित्रता साबित करने के लिए अग्नि परीक्षा ली गई थी। भगवान राम पर प्रजा और राज्य का दबाव था, जिसकी वजह से उन्होंने सीता को गर्भवती होने के दौरान राज्य से दूर जंगल में छुड़वा दिया।
  • वह महान ऋषि वाल्मीकि के आश्रम में रहने लगी। वही पर दो पुत्रों को जन्म दिया जो जुड़वां थे। जबकि भगवान राम ने कई वर्षों तक राज्य पर शासन किया, उन्होंने विभिन्न यज्ञ किए। उनमें से एक था अश्वमेध यज्ञ। जिसमें एक एक घोड़ा पुरे देश में घुमाया जाता था। उसके पीछे रथ से कुछ गणमान्य लोग साथ में चलते थे। जो कोई भी उस घोड़े को पकड़ता था उसका अर्थ होता था की वो भगवान राम से युद्ध करेगा। उसे जंगल में दो युवा लड़कों ने पकड़ लिया, जब लक्ष्मण और हनुमान जैसे लोगों ने उनसे घोड़े को वापस लेने की कोशिश की, तो वे भी उन लड़कों से हार गए।
  • जब भगवान राम को पता चला की लक्ष्मण और हनुमान जैसे वीर योद्धा उन दो युवा लड़कों से हार गये, तो वे स्वयं उनसे लड़ने के लिए वन में पहुचे।
  • जब काफी समय बीत जाने के बाद सीता को अपने बेटे नजर नहीं आये , तो वे अपने बच्चों की तलाश में वहां आई जहां पर युद्ध हो रहा था। उन्होंने देखा की उनके पास एक घोड़ा बाधा हुआ है। सामने भगवान राम से उनके दोनों पुत्र युद्ध कर रहे हैं। बीच में आकर उन्होंने इस युद्ध को रोक दिया और बताया की यह दोनों उसके जुड़वां बेटे हैं – लव और कुश। इन लड़कों को स्वयं सीता ने पाला था, और चूंकि वे महान योद्धा और भगवान विष्णु के अवतार के पुत्र थे, इसलिए उन्हें कोई नहीं हरा पाया।
  • चूंकि सीता कई सालो से राम और अयोध्या से दूर थी, फिर से उन्हें अयोध्या के लोगों के सामने अपनी पवित्रता साबित करने की जरूरत थी। इससे वह नाराज और निराश हो गई। जीवन भर इन सब चीजों का सामना करने के बाद, उसने महसूस किया कि उनके जाने का समय आ गया है। इसलिए, उन्होंने देवी पृथ्वी से अपने गर्भ में समाने की अनुमति मांगी। परिणामस्वरूप, जहां देवी सीता खड़ी थी, वहां पर धरती फट गई, और वे उसमें समा गई। इस प्रकार सीता के जीवन चक्र का अंत हो गया।

सीता नवमी का महत्व

  • हिंदू कैलेंडर के अनुसार वैशाख माह के शुक्ल पक्ष की नवमी तिथि को सीता नवमी मनाई जाती।
  • इस दिन विवाहित महिलाएं माता सीता की पूजा करती हैं, और अपने पति की लंबी उम्र की कामना करती हैं।
  • ऐसा माना जाता है कि मंगलवार के दिन देवी सीता का जन्म पुष्य नक्षत्र में हुआ था।
  • इसके अलावा, भगवान राम, जिनसे देवी सीता का विवाह हुआ था, उनका जन्म भी चैत्र माह के शुक्ल पक्ष में नवमी तिथि को हुआ था, और इसलिए इसे राम नवमी के रूप में भी जाना जाता है।
  • अपने पति राम के प्रति सीता की भक्ति और प्रेम को आदर्श माना जाता है।

अपनी सभी चिंताओं को अलविदा कहो और ज्योतिषीय उपायों के माध्यम से अपनी ज़िन्दगी को खुशहाल बनाओ, वो भी सिर्फ 1 रुपये/मिनट की दर से।

सीता जयंती 2022 की महत्वपूर्ण तिथियां और मुहूर्त

प्रतिस्पर्धातिथि और समय
सीता नवमीमई 09, 2022 को 06:32 पी एम बजे।
सीता नवमी पूजा मुहूर्त10:14 ए एम से 12:52 पी एम
सीता नवमी समाप्ति तिथिमई 10, 2022 को 07:24 पी एम बजे

सीता नवमी पर किये जाने वाले अनुष्ठान

  • सीता नवमी के शुभ दिन पर, विवाहित महिलाएं पवित्र नदियों में नहाती है। नहाते समय एक मंत्र का जाप करती है। निम्नलिखित मंत्र का जाप करते हुए सूर्योदय से पहले एक नहाना चाहिए: “गंगा च यमुने चैव गोदावरी सरस्वती | नर्मदे सिंधु कावेरी जलेस्मिन संनिधिम कुरु।”
  • सीता नवमी के शुभ दिन पर व्रत सूर्योदय के साथ शुरू होता है। इस दिन महिलाओं को पूरे दिन केवल पानी ही पीना होता है। वो किसी भी तरह का फलाहार नहीं खा सकती है। अगले दिन सुबह एक गिलास पानी पीकर व्रत तोड़ना चाहिए। कोई भी महिला अगर सिर्फ पानी पर ही अपना व्रत नहीं रख सकती है, तो वो दूध और सूखे मेवे खा सकती है।
  • भगवान राम और सीता की चंदन, फूल, फल और धूप से पूजा की जाती है, और प्रसाद चढ़ाया जाता है।
  • आप किसी योग्य पंडित को बुलाकर भी पुरे विधि-विधान के साथ राम-सीता की पूजा, जप और यज्ञ करवा सकते हैं। राम पूजा में राम रक्षा स्तोत्र, राम मंत्र जाप और आरती शामिल होती हैं।

राम और सीता सच्चे प्रेम के उदाहरण हैं, जिन्होंने अपने जीवन में कई तरह के बलिदान किए। उनका पूरा जीवन संघर्ष के बीच गुजरा। हर कदम पर जिन्दगी ने उनकी कठिन परीक्षा ली। लोगों को उनके आदर्श जीवन से हमेशा कुछ सीखना चाहिए।