अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस: जानें जीवन में योग के फायदे और प्रभाव

आज के दौर में काम का अनियंत्रित समय मानव जीवन पर महत्वपूर्ण असर डाल रहा है। इससे उपजे तनाव, चिंता, नकारात्मकता और हताशा से समय-समय पर छुटकारा पाना जरूरी हो गया है। जब सही समय पर इस तरह की नकारात्मक भावनाएं दूर नहीं होती हैं तो ये व्यक्ति के स्वास्थ्य को प्रभावित करती हैं। ऐसे कई तरीके उपाय हैं, जिनसे कोई भी तनाव मुक्त हो सकता है। इनमें से योग एक सबसे प्रभावी और शक्तिशाली तरीका है।


अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस का महत्व और अर्थ

योगाभ्यास शरीर और उसकी आत्मा को स्वस्थ और शुद्ध कर सकता है। योग समग्र कल्याण पर ध्यान केंद्रित करता है। इसमें कई समस्याओं का हल है। जब लोग प्रतिदिन योगाभ्यास करते हैं तो उनके जीवन के कई पहलुओं में सुधार होता है। वजन कम करने, एकाग्रता व ध्यान के स्तर को बढ़ाने, त्वचा को बेहतर बनाने और कई बीमारियों से निजात योग के जरिए पाया जा सकता है।

मन की शांति, धैर्य, आत्मविश्वास और साहस लोगों को जीवन जीने का अधिक गहन तरीका मुहैया कराता है। योग अस्तित्व के हर स्तर पर सामंजस्य और मिलन की स्थिति है और पूरी दुनिया में कई रूपों में प्रचलित है।

भारत और दुनियाभर में प्रतिवर्ष 21 जून को अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस व्यापक रूप से मनाया जाता है। योग के महत्व के बारे में जागरूक करने के लिए हर साल विश्व योग दिवस मनाया जाता है। यह लोगों के स्वास्थ्य पर इसके विभिन्न लाभों और प्रभावों के बारे में जागरूक करने के लिए मनाया जाता है। इसलिए, यह लोगों के मन, शरीर और आत्मा को एकजुट करने के लिए एक प्रभावी अभ्यास है।


अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस - इतिहास

अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पहली बार 21 जून 2015 को मनाया गया था। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 27 सितंबर 2014 को संयुक्त राष्ट्र महासभा में एक प्रभावशाली भाषण देकर इसकी शुरुआत की थी। इसके बाद 21 जून को अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस घोषित किया गया। इसके बाद लोगों को योग के फायदे नजर आने लगे, जिनमें से फायदों को देखना शुरू कर दिया, जिनमें से कई देखे जा सकते हैं और कुछ नहीं।

अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस को वैश्विक स्वास्थ्य और विदेश नीति की योजना के तहत अपनाया गया है। प्रस्ताव 69/131 से योग को स्वास्थ्य और कल्याण के लिए एक समग्र दृष्टिकोण के रूप में पहचान मिली।


भारत से हुई योग की उत्पत्ति

योग शब्द संस्कृत के शब्द ‘युज्‘ से आया है, जिसका अर्थ होता है संघ। भारत में प्राचीन काल से प्रमुख रहे योग को दुनियाभर में मान्यता मिल गई है। पूर्व वैदिक काल से भारत महर्षि पतंजलि के योगदान की बदौलत योग से परिचित है, जिन्होंने योग सूत्रों में विभिन्न योग मुद्राओं और अभ्यासों का आयोजन और संकलन किया।

योग काफी समय से भारतीय जीवन शैली का एक हिस्सा रहा है और भारतीय संस्कृति व सभ्यता में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। इसमें न केवल मानवता के भौतिक तत्व शामिल हैं, बल्कि व्यक्ति का आध्यात्मिक रूप से उत्थान भी करता है। इसलिए यह सदैव ज्ञान, कर्म और भक्ति की एक बहती हुई नदी है।


जून के बारे में तथ्य - अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस

21 जून एक शुभ दिन है, जब हम सदगुरुओं को श्रद्धांजलि देते हैं। यह ग्रीष्म संक्रांति का दिन भी है। इस दौरान, उत्तरी ध्रुव सूर्य की ओर झुक जाता है या हम कहेंगे कि सूर्य उत्तर से दक्षिण की ओर बढ़ने लगता है। योग के दृष्टिकोण से यह समय ध्यान शुरू करने का प्रतीक है। यह देखना भी रोचक है कि इस गोलार्द्ध के भीतर 21 जून साल का सबसे लंबा दिन होता है।


योग के लाभ - अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस

योगासनों की तकनीकों का मतलब पुराने दर्द, सिरदर्द, गठिया और पीठ के निचले हिस्से का दर्द कम करने के लिए विश्राम से हैं। ऐसे कई अन्य क्षेत्र भी हैं, जहां योग मददगार हो सकता है। चलो देखते हैं।

  • योग शरीर और दिमाग दोनों के लिए फायदेमंद है।
  • यह प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करता है।
  • योग मानसिक शांति प्रदान करता है।
  • यह शरीर में मांसपेशियों को पोषण देता है।
  • यह श्वसन संबंधी समस्याओं को दूर करने में मदद करता है।
  • यह मेटाबॉलिज्म प्रक्रिया को संतुलित करने में मदद करता है।
  • यह वजन कम करने में मदद करता है, शरीर को अच्छा आकार देता है और दिल संबंधी प्रणाली को स्वस्थ रखता है।

अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस की शुभकामनाएं

योग के बारे में प्रत्येक चीज किसी न किसी तरह से फायदेमंद है। यह विज्ञान, कला और गणित सब है। योग न केवल स्वास्थ्य चुनौतियों को दूर करने में मदद करता है बल्कि दुनियाभर के लोगों को एक-दूसरे से जोड़ता भी है। यह स्वास्थ्य सुरक्षा और स्वास्थ्य के स्थायी विकास दोनों को जोड़ता है। आइए नियमित रूप से योग का अभ्यास करें और अपने जीवन को स्वस्थ बनाएं।

आखिर में
योग हमेशा से ही शारीरिक, मानसिक, भावनात्मक और आध्यात्मिक समेत जीवन के प्रमुख मुद्दों की दवा रहा है। प्राचीन काल में योगियों ने व्यापक रूप से इसका इस्तेमाल किया है, जो इस ज्ञान को पीढ़ी दर पीढ़ी ले गए। जब हम कैसे, कब और क्यों जैसे सवाल लेकर आते हैं तो उन सभी का जवाब योग के माध्यम से दिया जाता है। यह जीवन का सही सार सिखाता है।

अपना वांछित कॅरियर पाने में योग कैसे मदद कर सकता है। जानिए हमारे ज्योतिष से