कुंडली का तीसरा भाव : क्या कहता है ज्योतिष

कुंडली में तीसरा भाव या घर भाई बहन का घर होता है। यह संवाद, मानसिक स्थिति, बुद्धि, यात्रा, कल्पना और व्यवहार के बारे में संकेत देता है। इसके जरिए जातक अपनी कलात्मक रुचियों व क्षमताओं के बारे में जानकारी हासिल कर सकता है। तीसरा भाव आपकी संवाद क्षमताओं को नियंत्रित करता है और यह बताता है कि आप दूसरों के साथ कैसे बातचीत करते हैं। वैदिक ज्योतिष में इसका दूसरा नाम सहज भाव है।

ज्योतिष में कुंडली को जन्म कुंडली, बर्थ होरोस्कोप के रूप में भी जाना जाता है। कुंडली में ग्रहों की स्थिति के साथ-साथ सूर्य और चंद्रमा की स्थिति को दर्शाया जाता है।

ज्योतिषी किसी व्यक्ति के जीवन को समझने और स्पष्ट करने के लिए जन्म कुंडली का अध्ययन करते हैं। वे इसका उपयोग उन घटनाओं की पहचान करने के लिए करते हैं, जो किसी व्यक्ति के जीवन में होने की संभावना है। कुंडली को 12 खंडों या भावों में विभाजित किया गया है। कुंडली में मौजूद प्रत्येक घर जीवन के विभिन्न पहलुओं को प्रभावित करता है। मसलन कॅरियर, स्वास्थ्य, प्रेम, विवाह आदि सभी कार्य इन ग्रहों से भी प्रभावित रहते हैं। इनके माध्यम से विशेषज्ञ कुंडली पर शोध और व्याख्या करते हैं।


तीसरे घर में ग्रहों का असर

ये उसी तरह के गुण या असर दिखाता है, जैसा असर किसकी जातक को धन भाव या दूसरे घर के जरिए हासिल होते हैं।

तीसरे भाव में सूर्य

इस भाव में सूर्य के संवाद के विभिन्न माध्यमों पर अपना ध्यान केंद्रिंत करता है। आपको यात्रा करना और लोगों के संपर्क बनाना अच्छा लगता है। यह आपको अति आत्मविश्वासी होने से बचाता है। आप अपने लिए गए फैसलों व उनके परिणामों से भावनात्मक जुड़ाव महसूस करेंगे। आप शिक्षित हैं, उच्च योग्यता रखते हैं। आप अपनी जानकारी व अंतज्र्ञान दूसरों के साथ साझा करते हैं।

तीसरे भाव में चंद्रमा

चंद्रमा जो कल्पना और ज्ञान को नियंत्रित करता है, स्वाभाविक रूप से आपको रचनात्मक, सहज और ग्रहण करने लायक बना देगा। यह आपकी इच्छाओं के साथ आपके भावनात्मक संबंध को मजबूत करता है। चूंकि आप दूसरों की भावनाओं के प्रति भावुक और संवेदनशील हैं, इसलिए आप बिचौलिए की भूमिका बेहतरीन निभा सकते हैं। आप अपने भाई-बहनों के बहुत करीब हैं।

तीसरे भाव में बृहस्पति

जब बृहस्पति तीसरे भाव में होता है, तो मानसिक क्षमताओं में सुधार होता है। सहज ज्ञान से युक्त होना आपके लिए बहुत ही स्वाभाविक होता है। आप नई जानकारी को समझने में सक्षम होंगे और परियोजनाओं पर तेजी से काम कर सकेंगे। इस भाव में बृहस्पति की उपस्थिति आपकी प्रारंभिक शिक्षा में मदद करेगी। आप अपने भाई-बहनों, रिश्तेदारों, पड़ोसियों और सहकर्मियों के साथ अच्छे संबंध बनाएंगे।

तीसरे भाव में शुक्र

आपकी कुंडली के तीसरे घर में शुक्र का साथ है तो आप सभी प्रकार के संचार के जरिए अपने आप को अच्छी तरह से व्यक्त करने में सक्षम होंगे, चाहे वह लिखित माध्यम हो या मौखिम माध्यम, आप अपनी बात को सही तरीके से रख पाएंगे। आप सामंजस्यपूर्ण और व्यवस्थित संबंध पसंद करते हैं। आपके लिए बेहतर होगा कि आप टकराव और वाद विवाद या बहस से बचें। सही मायने में आपको पता होना चाहिए कि कब बोलना है और दृढ़ रहना है।

तीसरे भाव में मंगल

तीसरे घर में मंगल की मौजूदगी जोश, जुनून, बहादुरी, शक्ति और ऊर्जा का प्रतिनिधित्व करती है। आपमें कई लोगों को प्रेरित करने की क्षमता होती है। आप मानसिक रूप से सतर्क और उत्साही होते हैं, लेकिन आपके उत्साह और ऊर्जा को सही दिशा में लगाना जरूरी होता है। मंगल की ऊर्जा आपको जल्दबाजी में निर्णय लेने के लिए प्रेरित कर सकती है, यह जल्दबाजी बाद में नुकसानदायक हो सकती है। आपको अपने भाई-बहनों और साथियों के साथ समस्या हो सकती है।

तृतीय भाव में बुध

तीसरे भाव में बुध आपकी वाणी या संवाद क्षमता को बहुत बेहतर बनाता है। आप अपने विचारों को पूरी तरह से व्यक्त कर सकते हैं। सहकर्मियों के साथ काम करना आपके लिए सामान्य बात है। बुध आपके लिए जातक के लिए खुद को व्यक्त करना आसान बनाता है। आप अपने मन के भाव आसानी से व्यक्त कर सकते हैं। आप दूसरों के साथ जुडऩे में खुशी महसूस करते हैं। आपके पास उच्च स्तर की बुद्धि और क्षमता होती है, बावजूद इसके आप भटकते हुए नजर आ सकते हैं।

तृतीय भाव में शनि

तीसरे भाव में शनि की उपस्थिति आपको गंभीर व्यक्ति बनाती है। ऐसे में यह स्थिति आपके लिए संपर्क संबंधी समस्याएं पैदा कर सकती है। शनि की स्थिति आपके लिए नए बदलाव में सेट नहीं होने देगी, आप असहज महसूस करेंगे, नई परिस्थितियों में समायोजित नहीं हो पाएंगे। यह आपकी कार्यक्षमता को भी धीमा करने का कारण बनेगी। आपके पास उत्कृष्ट ध्यान और आत्मनिरीक्षण की क्षमता हैं। आपके अपनी उम्र के ही कई दोस्त बनेंगे।

तीसरे भाव में राहु

तीसरे भाव में राहु सौभाग्य, धन संचय, पड़ोसियों के साथ सौहार्दपूर्ण संबंध, यात्रा, लेखन और प्रकाशन में सफलता दिलाता है। आपके पास गेम-चेंजर बनने की ताकत है।

तीसरे भाव में केतु

तीसरे भाव में केतु होने का कारण आपकोकौशल और ज्ञान पर महारत हासिल है। आप सवाल बहुत पूछते हैं, यह आपकी प्रवृति या स्वभाव का ही एक हिस्सा है। आपको एक प्रशिक्षक की तलाश होगी, यह आपको निजी स्वार्थों, हितों से ऊपर उठा देगा। एक परोपकारी केतु आपको बहादुर बनाता है। यह आपके मन को आध्यात्मिकता की ओर भी अग्रसर करता है। तीसरे भाव में पीडि़त केतु भाई-बहनों के साथ-साथ सहकर्मियों और सहयोगियों के साथ आपके संबंधों पर कहर बरपाता है।

क्या आपकी कुंडली में शुक्र अनुकूल है?
जन्मपत्री से जानें।


तीसरे घर में राशि चक्र की राशियां

ज्योतिष में चतुर्थ भाव परिवार और भावनाओं के प्रति आपके ऊर्जावान दृष्टिकोण को प्रकट करता है। परिवार को एक साथ बांधने के लिए आप अपनी बुद्धि और संचार कौशल का उपयोग करेंगे। अग्नि से जुड़ी राशि रचनात्मकता और कार्य दोनों के बीच सामंजस्य स्थापित करेगी। पृथ्वी तत्व व्यावहारिकता और रूढि़वादिता को दर्शाते हैंं। जल राशि भावनात्मक ऊर्जा को दर्शाती है। एक पूरा परिवार बनाने के लिए आप नजदीकी रिश्तेदारों को एक साथ लेकर आएंगे।

तीसरे भाव में मेष

मेष राशि वायु से जुड़ी राशि हैै और यह वायु से जुड़ा घर है। ऐसे में इस संयोग के साथ पैदा हुए लोग दुनिया को समझने और लोगों के बीच अपनी बात रखने, बातचीत करने के लिए काफी बेहतर रहेंगे। वे अपनी नई नवेली और अपरंपरागत सोच पर भरोसा करेंगे। ये बात करने में स्पष्ट होंगे। बिना किसी लाग लपेट सीधे बात करना पसंद करेंगे। बात करते समय थोड़े उग्र भी हो सकते हैं। हालांकि इनके मन में कोई दुर्भावना नहीं होगी। ये मन में अगर कुछ सोच रहे हैं तो संभव है कि उनके मुंह से वो निकल जाए। उन्हें ऐसी दोस्ती पसंद है जिसे ज्यादा केयर की जरूरत न हो। अगर वे आपसे एक बार जुड़ जाते हैं तो यकीन मानिए वे हमेशा आपकी परवाह करेंगे, आपके प्रति प्रतिबद्ध रहेंगे।

तृतीय भाव में वृषभ

वायु के घर के साथ एक पृथ्वी राशि। इस संयोग के साथ पैदा हुए लोग स्थिर, रूढि़वादी और सतर्क होते हैं। वे जानते हैं कि लोगों के साथ किस तरह बातचीत करनी होती है। लोग उनके प्रति कैसा नजरिया रखते हैं। लोगों को किस तरह देखना होता है। दुनिया कैसे का काम करती है, ये उसे समझना चाहते हैं। वे इस बारे में चिंतित रहते है कि उनकी समझ क्या कहती है। उनकी सुरक्षा और जरूरतें पूरी हो रही हैं या नहीं। वे कुछ भी करने से पहले उस बारे में सोच लेते हैं। ये अपनी परम्परागत तरीकों से जुड़े रहते हैं। दीर्घकालिक संबंध बनाते हैं। इनके संबंध या साझेदारी समर्पण और प्रतिबद्धता पर आधारित होती है। वे व्यावहारिक विचारों और अपनी परंपराओं के संरक्षण को प्राथमिकता देते हैं।

तीसरे घर में मिथुन

तीसरे घर में मिथुन, वायु राशि इस घर की स्वामी होती है। ऐसे संयोग वाले लोग अपनी संवाद क्षमता, ज्ञान के जरिए दुनिया से बातचीत करते हैं। ये नेटवर्किंग के जरिए लोगों को जोड़ते हैं। इनके दोस्त देती से बढ़ते हैं। वे जीवन के बारे में, लोगों के नजरिए के बारे में अधिक से अधिक जानना व अधिक से अधिक सीखना चाहते हैं। वे सीखने का आनंद लेते हैं। ये किसी किसी भी मुद्दे पर तुरंत सोचते हैं, फैसला लेते हैं। एक ही समय में कई सूचनाओं को एकत्रित कर लेते हैं, उन्हें सही दिशा भी दे देते हैं। इनमें सीखने का उत्साह अद्भुत होता है।

तीसरे घर में कर्क

कर्क, जल से जुड़ी राशि है और यह घर वायु का है। इस संयोग के तहत पैदा हुए लोग संवेदना, सहानुभूति और भावनात्मक बुद्धिमत्ता के धनी होते हैं, ये दुनिया में लोगों से मिलते समय बेहद समझदारी से काम लेते हैं। ये दुनिया के कर्क राशि के नजरिए से देखते हैं। ये उम्मीद करते हैं कि लोग अपनी भावनाओं को व्यक्त करें। ये उम्मीद करते हैं कि लोग प्रेरणादायक हों। ये बातचीत सीधे नहीं करते परोक्ष रूप से करते हैं, सूक्ष्म रूप से करते हैं। अगर वे नकारात्मक भावनाओं से जुड़ते हैं तो इनकी आक्रामकता कम हो जाती है। ये बातचीत करते समय इस बात का ध्यान रखते हैं कि दूसरा इनसे क्या उम्मीद करता है। ये बातचीत के दौरान अपनी शैली में बात करना पसंद करते हैं। वे ऐसी दोस्ती पसंद करते हैं, जिसमें दोस्त एक दूसरे का ध्यान रखे। जो भावनाओं से पोषित हो।

तीसरे घर में सिंह

सिंह, अग्नि से जुड़ी राशि है और यह घर वायु का है। इस संयोग में जन्म लोग दुनिया से इंट्रेक्ट करते समय हास्य, कल्पनाओं पर आधारित रहते हैं। उन पर विश्वास करते हैं। दुनिया कैसे काम करती है, यह सिंह के अपने अलग नजरिए से देखते हैं। ये उम्मीद करते हैं कि जो लोग उनके संपर्क में आए हैं, वे ऊर्जावान लोग हैं। ये जब भी कुछ महत्वपूर्ण कार्य करते हैं तो ये ये हमेशा अपनी प्रशंसा सुनना पसंद करते हैं। जब भी कोई इनके लिए कुछ अच्छा करता है तो खुलकर उसकी तारीफ करता है। इनके लिए दोस्ती रचनात्मक, प्रतिस्पर्धी और आनंददायक होनी चाहिए।

तीसरे घर में कन्या

कन्या, पृथ्वी से जुड़ी राशि है और यह घर वायु का है। इस संयोग में पैदा हुआ लोग दुनिया से मिलने समय या बात करते समय बेहद विचारशील और विवेकपूर्ण होकर बात करना पसंद करते हैं। दुनिया के काम करने के तरीके को लेकर ये बेहद संजीदा होते हैं। ये दूसरों की मदद करते हैं और सही काम करते हैं। वे सभी को साथ लाने वाले होते हैं। ये मार्गदर्शन करने वाले होते हैं। वे चुपचाप व्याकरण से जुड़ी त्रुटियों को सही करने में लगे रहते हैं। दोस्ती इनके लिए समस्याओं के समाधान तलाशने का साधन है। ये समस्याओं के हल के लिए एक दूसरे से संपर्क बनाए रखते हैं।

तीसरे घर में तुला

तुला, वायु से जुड़ी राशि है और यह घर वायु का है। ऐसे में इस संयोग में जन्मे लोग दुनिया को समान और संतुलित नजरिए से देखना पसंद करते हैं। ये इसी तरह से बातचीत भी करते हैं।
दुनिया कैसे काम करती है, इसे लेकर इनकी सोच बिल्कुल स्पष्ट है। ये थोड़ा सा भी संदेह होने पर दूूसरों का क्षमा करने में विश्वास रखते हैं। ये सच को साथ रखने में यकीन करते हैं। ये मानते हैं कि एक व्यक्ति के जीवन में कई अहम मोड़ आते हैं। ये अच्छे श्रोता होते हैं। ये किसी भी अहम मामले में अपना फैसला इतना जल्दी नहीं सुनाते हैं। सभी पक्षों पर गौर करके अपनी बात रखते हैं। इससे पहले वे निष्कर्ष पर नहीं पहुंचते हैं।

तीसरे घर में वृश्चिक

वृश्चिक, जल से जुड़ी राशि है और यह घर वायु का है। इस संयोग में जन्म लेने वाले लोग दूसरों से आमतौर पर सवाल बहुत पूछते हैं। ये मजबूत होते हैं और बातों को जोड़तोड़कर पेश करते हैं। दुनिया कैसे काम करती है, इस बात को ये वृश्चि राशि के नजरिए से ही देखते हैं। वे उम्मीद करते हैं कि लोग अपनी बातों को अपने में गुप्त रखने वाले और मितव्ययी होंगे। ये अपनी बात जोरशोर सेे रखना संद करते हैं। इनसे बात करना ऐसा होता है जैसे किसी जांच अधिकारी से बात कर रहे हों। दोस्ती इनके लिए एक गहरा संबंध है। इनके लिए यह बदलावों को स्वीकार करने वाला संबंध होता है। दोस्त के साथ बातचीत करना इनके लिए मन पर रखा बोझ हल्का करने जैसा होता है।

तीसरे घर में धनु

धनु, अग्नि से जुड़ी राशि है और यह घर वायु का है। इस संयोग में जन्मे लोग दुनिया के साथ बातचीत करते समय थोड़े जटिल हो जाते हैं। वे बात करने में अपनी बुद्धि, जटिल विचारों और दर्शन पर भरोसा करते हैं। दुनिया कैसे काम करती है, इस बारे में उनकी सोच धनु के नजरिए के मुताबिक काम करती है। इनके मुताबिक लोग उच्च शिक्षा से जुड़े होने चाहिए। उनकी सोच आदर्शवादी होनी चाहिए। ये समझ की गहराई को जानते हैं और इसी तरह एक समृद्ध और व्यापक शब्दकोश की जानकारी रखने को पूरा महत्व देते हैं। इनका मानना होता है कि मित्रता बुद्धिमान, साहसी लोगों के साथ की जानी चाहिए। दोस्तों पर पूरा विश्वास होना चाहिए, उनमें भावुकता होनी चाहिए।

तीसरे घर में मकर

मकर, पृथ्वी से जुड़ी राशि है और यह घर वायु का है। इस संयोग में जन्में जातक लोगों से बातचीत करते समय बहुत ही नियंत्रित होकर बात करते हैं। निर्देश देते हैं और एक रणनीति के आधार पर काम करते हैं। जहां तक बात दुनिया के काम करने के तौर तरीकों की है, इनके पास अंतहीन सवाल हैं। ये सवाल लोगों की जिम्मेदारी और क्षमताओं से जुड़े होते हैं। ये काम शुरू करने से पहले लक्ष्य निर्धारित करना पसंद करते हैं। यह कार्य के दौरान दूसरों को भी प्रोत्साहित करते रहते हैं, प्रेरित करते रहते हैं। जब से किसी के साथ काम करते हैं, आगे बढ़ते हैं तो इनकी दोस्ती भी अपने आप आगे बढ़ती नजर आती है।

तीसरे घर में कुंभ

कुंभ, वायु से जुड़ी राशि है और तीसरा घर वायु का है। इस संयोग में जन्में लोग दुनिया को सामाजिक, वैचारिक और आरामदायक जीवन के नजरिए से देखना पसंद करते हैं। वे जिज्ञासु प्रवृति के होते हैं। ये जानना चाहते हैं कि लोग आपस में एक साथ कैसे फिट हो जाते हैं, कैसे सामंजस्य बैठा लेते हैं। वे अपने साथियों के साथ समाज और संस्कृति की आनंद कैसे और कहां उठाते हैं। वे मानते हैं कि यह ग्रह संचार या संवाद का एक बहुत बड़ा नेटवर्क है। इसके परिणामस्वरूप ये तकनीक को बेहद प्यार करते हैं। तीसरे भाव में इस राशि के तहत पैदा हुए लोग रचनात्मक, सामाजिक रूप से जागरूक होते हैं। ये सामाजिक ताने बाने को बनाने में रुचि दिखाते हैं।

तीसरे घर में मीन

मीन, जल से जुड़ी राशि है और तीसरा घर वायु का है।इस संयोग में पैदा हुए लोग दुनिया में दूसरे लोगों से से जुडऩे और उन्हें समझने के लिए अपनी रचनात्मकता, अंतज्र्ञान और सहानुभूति पर भरोसा कर सकते हैं। दुनिया कैसे काम करती है, इसे लेकर उनका नजरिया मीन राशि के नजरिए पर आधारित होता है। ये दूसरे लोगों से संवेदनशील और भावनात्मक होने की उम्मीद करे हैं। ये उन्हीं लोगों से बात करना पसंद करते हैं, जिनका संवाद का तरीका इनके जैसा होता है। उनसे बात करना ऐसा होता है जैसे कोई बारिश हो रही है या कोई झरना बह रहा है। इनके लिए मित्रता सामाजिक, शैक्षिक, आर्थिक या सांस्कृतिक जुड़ाव, कैसी भी हो सकती है।


ज्योतिष में तीसरे घर का क्या मतलब है?

वैदिक ज्योतिष में तीसरा भाव संचार, यात्रा, भाई- बहनों, कल्पना, मानसिक बुद्धि, इच्छाओं, व्यवहार और रुचियों से जुड़ा होता है। यह आपके ज्ञान और कलात्मक क्षमताओं को प्रकट करता है। तीसरा घर मुख्य रूप से संपर्कों और सभी प्रकार के पत्राचार को नियंत्रित करता है।


ज्योतिष में तीसरे घर का क्या मतलब है?

वैदिक ज्योतिष में तीसरा भाव संचार, यात्रा, भाई- बहनों, कल्पना, मानसिक बुद्धि, इच्छाओं, व्यवहार और रुचियों से जुड़ा होता है। यह आपके ज्ञान और कलात्मक क्षमताओं को प्रकट करता है। तीसरा घर मुख्य रूप से संपर्कों और सभी प्रकार के पत्राचार को नियंत्रित करता है।


तीसरे भाव के लिए कौन सा ग्रह उपयुक्त है?

शनि अपनी दो राशियों के साथ तीसरे भाव का स्वामी हो सकता है। तीसरे घर में शनि (वृश्चिक और धनु राशि) बताता है कि जात का कोई छोटा भाई बहन नहीं है। शनि घर के परिणामों को प्रतिबंधित करता है।

एक घर में तीन ग्रह होने का मतलब क्या होता है?
जब एक घर में कई ग्रह आते हैं तो वह स्थिति स्टेलियम कहलाती है। इसमें तीन या चार ग्रह होते हैं। चार ग्रह तब जब सूर्य या चंद्रमा शामिल होते हैं। आपका स्टेलियम आपके महत्वकांक्षाओं पर असर डालता है।


समापन

ज्योतिष समय-समय पर आने वाली जीवन की समस्याओं से निपटने में हमारी सहायता करता है। तीसरे घर पर ध्यान देना हमें अपने व्यक्तिगत जीवन और सांस्कृतिक विकास में ऊंचाइयों तक ले जा सकता है।
अपने घर में ज्योतिष संबंधी सभी परेशानियों को अलविदा कहें। वास्तविक परिणामों के लिए हमारे विशेषज्ञ ज्योतिषियों से संपर्क करें। अभी बात करें!