कुंडली के नवम भाव में मंगल ग्रह होने के सकारात्मक और नकारात्मक प्रभाव

लाल रंग का ग्रह मंगल यह बिलकुल नहीं चाहता कि आपका चेहरा हमेशा लाल हो। कुंडली में नवम भाव में मंगल किस तरह का प्रभाव आपके जीवन पर डालेगा। यह आपकी जन्म कुंडली में मंगल की स्थिति पर निर्भर करता है। उसी के अनुसार ही आपको रिजल्ट मिलता हैं। यह विश्वास करना हमेशा कठिन होता है, कि एक अशुभ ग्रह होने के कारण मंगल जातक के जीवन में चमत्कार भी कर सकता है। पर यह बात बिल्कुल सही है, की मंगल शुभ और अनुकूल हो तो यह व्यक्ति का जीवन बदल कर रख देता है। मंगल की शुभ स्थिति में आप हमेशा मदद के लिए आगे रहते हैं।

मंगल को वायलेंस, एंगर और अग्रेशन के लिए जाना जाता है। यदि व्यक्ति अपनी इन तीनो चीजों को कंट्रोल में नहीं रख सकता, तो हर समय उसके साथ कोई न कोई समस्या लगी रहती है। मंगल को नवम भाव में स्थित होना भी शुभ नहीं माना जाता। नवम भाव में मंगल होने से जातक के जीवन में क्या प्रभाव पड़ता है। चलिए जानते है इस बात को थोड़ी और गहराई के साथ।


नवम भाव में मंगल होने का अर्थ

नवम भाव में मंगल, यह दर्शाता है कि उसके जन्म के समय भाग्य के भाव में गोचर कर रहा होता है। मंगल का यह स्थान आपको खुले विचारों वाला और अधिक रचनात्मक बना सकता है। आप अपने विचारों को दूसरों के साथ साझा करना पसंद करेंगे। नौवें भाव में मंगल की उपस्थिति आपको एग्रेसिव बना देगी, लेकिन दूसरी ओर, यह आपकी ओपिनियन और व्यूस को कंसीडरेशन करने में भी आपकी सहायता करता है। यदि आप अपनी ओरिग्नल भावनायों को दुसरे के सामने व्यक्त करेंगे, तो आप जीवन में बहुत कुछ हासिल कर लेंगे। लोग भी आपको फिर आपके गुस्से से नहीं बल्कि आपकी भावनाओं से पहचानेगे।

नवम भाव में मंगल होने से व्यक्ति लंबी दूरी की यात्रा का आनंद हमेशा लेता रहता है। मगल जोखिम लेने के लिए व्यक्ति को प्रेरित करता है। तो आप किसी एडवेंचर जर्नी का भी लुफ्त उठा सकते हैं। आप फॉरेन ट्रिप पर भी जा सकते हैं। विदेशी कंपनियों से जुड़े वाइट कलर प्रोफेशनल्स आपको इन्टरनेशनल बिज़नस ट्रिप पर भी ले जा सकते हैं। इसके अलावा, यदि मंगल की युति चंद्रमा, बृहस्पति और सूर्य के साथ हो तो, यह आपको निडर और बहादुर बना देती है। यह आपको वर्क प्लेस पर प्रमोशन पाने के लिए भी आपकी मदद कर सकता है, लेकिन प्रॉब्लम का सामना किए बिना यह उपलब्धि पॉसिबल नहीं होगी।

अपनी कुंडली से अपने कॅरियर के बारे में जानें, अभी निशुल्क कुंडली प्राप्त करें।


नवम भाव में मंगल का व्यक्तित्व पर प्रभाव

  • ऐटिटूड
  • धार्मिक विश्वास
  • रिलेशनशिप

नवम भाव में मंगल होने की वजह से व्यक्ति मौज-मस्ती करने वाले, चुलबुले और उत्साही होते हैं। नवम भाव में मंगल हो तो आप गंभीर बातचीत के दौरान अपनी बात साबित करने के लिए हमेशा तैयार रहते हैं। नवम में मंगल होने की वजह से व्यक्ति अपने पैशन को फॉलो करने के लिए एनर्जी और फ्रीडम भी देता है। नवम भाव का मंगल जीवन के शुरुआती चरणों में आत्म-विश्वास विकसित करने में आपकी सहायता करेगा। आत्म-विश्वास बढ़ने की वजह से आपको विश्वास होगा, कि आप सही रास्ते पर हैं। बाद में, यह आपको समाज में एक अच्छी छवि विकसित करने के लिए मार्गदर्शन करेगा। आप अपने दोस्तों के साथ घूमना तो पसंद करते हैं, लेकिन उनके साथ किसी भी तरह का बांड बनाना पसंद नहीं करते हैं। इस वजह से आपके रिश्ते खराब हो सकते हैं।


नवम भाव में मंगल का विवाह पर प्रभाव

नवम भाव में मंगल होने की वजह से व्यक्ति अंतरंग संबंधों में रोमांस बढ़ाने के लिए चंचल और ऊर्जावान होंगे। जीवनसाथी के साथ टैबू टाइप की बातें करते हुए, आपको समय बिताना अच्छा लगेगा। आप अपने वैवाहिक जीवन के बारे में अन्फर्गेटबल मूवमेंट बनाने के लिए, अपने पार्टनर के साथ बातचीत करना पसंद करते हैं। आप पार्टनर का विश्वास जीतने में सफल रहेंगे। इसके अलावा, हो सकता है, कि आपका पार्टनर आपकी कोई इच्छा पूरी न कर पाएं। क्योकिं आप अपने साथी से बहुत अधिक उम्मीदें लगाए बैठे है। नवम भाव में मंगल होने की वजह से आप बाहर भी फ्लर्ट करने से बाज नहीं आएगे। जिसकी वजह से स्थिति प्रतिकूल भी हो सकती है।


नवम भाव में मंगल का कॅरियर पर प्रभाव

नवम भाव का मंगल इस बात का संकेत देता है कि जातक लीगल मैटर्स में हमेशा सतर्क रहेंगे। एरनॉटिक्स, मैनेजमेंट और अकाउंट के क्षेत्र में अपने कॅरियर को आगे बढ़ा सकते हैं। नौवें भाव के मंगल वाले जातकों को रियल स्टेट से सम्बन्धित बिज़नस में रुचि मिल सकती है। इस भाव का मंगल आपको स्पोर्ट में भी सफल कॅरियर बनाने के लिए मार्गदर्शन करता है। इस भाव का मंगल फॉरेन ट्रिप का भी मजा देता है। इसके साथ ही विदेश में रहने का भी आपको मौका मिल सकता है। ट्रेवल से जुड़े हुए बिज़नस में भी आप सफल कॅरियर बना सकते हैं।

नवम भाव को भाग्य भाव, एजुकेशन, लर्निंग, रिसर्च और इन्वेंशन को भी दर्शाता है। व्यक्ति अपने कॅरियर में अधिक ऊंचाई प्राप्त कर सकते हैं, और उन्हें उच्च स्तर पर सफलता मिल सकती है। यह सुझाव दिया जाता है, कि आपको भावनाओं का उपयोग करके निर्णय लेने से बचना चाहिए। नौवें भाव में मंगल होने की वजह से व्यक्ति में मैनेजमेंट स्किल की कमी हो सकती है। जिसकी वजह से आपके पास जो काम होगा। उसको व्यवस्थित तरीके से नहीं कर पायेंगे। नतीजतन, यह आपके कॅरियर पर प्रतिकूल प्रभाव भी डाल सकता है।


निष्कर्ष

अंत में, हमारे पास नवम भाव में मंगल होने से व्यक्ति के जीवन में क्या – क्या प्रभाव पड़ेगा। यह बात अच्छे से समझ आ गई है। नवम का मंगल व्यक्ति के जीवन की कठिन परीक्षा लेता है, और उनसे कड़ी मेहनत की मांग करता है। जिसकी वजह से व्यक्ति को अपने कॅरियर और लक्ष्यों को पाने में मदद मिलती है। यह स्थान आपके वैवाहिक जीवन पर थोड़ा प्रतिकूल प्रभाव डालेगा, इसलिए आपको अपने साथी के प्रति ईमानदार और वफादार रहना चाहिए। यदि मंगल भाग्य भाव में स्थित है, तो आप यात्रा में ज्यादा व्यस्त रह सकते हैं।

नवम भाव में मंगल होने की वजह से व्यक्ति को घर में रहना पसंद नहीं होता है। इन लोगों को ट्रेवल और एक्स्प्लोर करना पसंद होता है। इसके अलावा, इन लोगों को अपने बिलीफ और फेथ पर डटे रहने की आवश्यकता है।