कुंडली के दूसरे भाव में मंगल ग्रह होने के सकारात्मक और नकारात्मक प्रभाव


प्रस्तावना

यदि आपके भी दूसरे भाव में मंगल है? तो दोस्तो अब समय आ गया है, कि आप इस लेख को ध्यान से पढ़ें। इस भाव में मंगल ग्रह आपको जीवन से जुड़ी सुख-सुविधाओं को रोक सकता है, और यह आपके फाइनेंसियल स्टेट्स को भी बाधित कर सकता है। इसका एक पक्ष यह भी है, की मंगल आपको जुआ-सट्टा जैसे क्षेत्रों में अच्छा ख़ासा पैसा भी दिला सकता है। मंगल का दूसरा भाव आपको आवेगी और जोखिम लेने वाला बना सकता है। जिन जातकों के द्वितीय भाव में मंगल होता है, उनके व्यवहार में भी परिवर्तन देखने को मिल सकता है। किसी भी चीज के बारे में ऑन-द-स्पॉट निर्णय आपको गलत साबित कर सकता है, और आपके खर्च आउट ऑफ कंट्रोल भी हो सकते हैं। तो चलिए जानते है दूसरे भाव में मंगल के प्रभाव के बारे में।

आने वाले दिनों में किन-किन परिस्थियों का आपको सामना करना पड़ेगा अभी अपनी फ्री जन्मपत्री प्राप्त करें…

दूसरे भाव में मंगल का प्रभाव

  • फाइनेंस
  • प्रोफेशनल लाइफ
  • फॅमिली रिलेशन

दूसरे भाव में मंगल होने का अर्थ

दूसरा भाव जातक के फॅमिली, सेविंग, इनकम और कम्युनिकेशन स्किल से जुड़ा होता है। इस घर को आमतौर पर ‘धन भव’ के नाम से जाना जाता है, जिसका अर्थ होता है, धन का घर। मंगल दूसरे भाव में होने की वजह से यह आपके जोखिम लेने की क्षमता को बढ़ा देती है। दूसरे भाव में मंगल होने की वजह से व्यक्ति समय-समय पर इन्वेस्टमेंट करता रहता है, जिसकी वजह से उसका फाइनेंसियल स्टेटस सही बना रहता है। इसके अलावा, आप अपने ससुराल वालों से आर्थिक मदद की भी उम्मीद करते हैं। दूसरा भाव आपकी प्रॉपर्टी और इनकम से जुड़ा है। यदि मंगल द्वितीय भाव में अकेला है, तो यह आपको अप्रत्याशित लाभ भी दिला सकता है। लेकिन यदि यह अशुभ स्थति में है, तो एजुकेशन के क्षेत्र में आपको मन मुताबिक परिणाम भी नहीं मिल पाते।

आपकी कुंडली में मंगल शुभ है या नहीं, यह जानने के लिए अभी अपनी फ्री जन्मपत्री प्राप्त करें


दूसरे भाव में मंगल का व्यक्तित्व पर प्रभाव

मंगल का द्वितीय भाव आपको मनी माइंडेड बनाता है। आपके लिए किसी भी फाइनेंसियल मेटर को संभालना आसान नहीं होगा, इसलिए आप हमेशा पैसों के पीछे भागते रहते हैं। क्रिएटिविटी और पॉजिटिव माइंडसेट स्थापित करने के लिए आपको बहुत प्रयासों की आवश्यकता हो सकती है। यह आपकी खुद की इमेज को और बेहतर बनाने में मदद कर सकता है। यदि आपका व्यक्तित्व आकर्षक है, तब भी आपको शब्दों को प्रोनाउनस करने में कठिनाई हो सकती है।

हो सकता है कि आपके पास उचित कम्युनिकेशन स्किल न हो, जिसकी वजह से आपको स्पीच रिलेटेड इश्यू भी हो सकता है। कुंडली में मंगल की स्थिति अक्सर आपको ईविल माइंडेड बना देती है। जिसकी वजह से आप अपने करीबी लोगों के साथ संबंध भी तोड़ सकते हैं। अत्याधिक संवेदनशील होने की वजह से छोटी-छोटी बातों पर आपकी बड़ी बहस हो सकती है। ऐसे लोग हमेशा अपनी फाइनेंसियल स्टेट्स को मजबूत बनाने के लिए मेहनत करते हैं।

मंगल के दूसरे भाव में होने से आपके पेशेवर में जीवन पर क्या असर पड़ेगा
अभी कॉल करें, पहला कॉल फ्री…


दूसरे भाव में मंगल का विवाह पर प्रभाव

दूसरे भाव में स्थित मंगल होने की वजह से इसका सीधा सा प्रभाव आपके जीवनसाथी के स्वास्थ्य पर पड़ सकता है। दूसरे भाव का मंगल विवाह के भाव से आठवा होता है। जिसकी वजह से जीवनसाथी को सेहत से जुड़ीं समस्या होती है। महिला जातकों को गर्भावस्था, स्त्री रोग और त्वचा रोग की परेशानी हो सकती है। पुरुषों को सुनने की समस्या या आंखों में दर्द हो सकता है। दूसरे भाव में मंगल का प्लेसमेंट आपको शांतिपूर्ण वैवाहिक जीवन नहीं दे सकता है। द्वितीय भाव में मंगल का होना मैरिज लाइफ के लिए बिलकुल भी अच्छा नहीं माना जाता। आप अपने खराब कम्युनिकेशन स्किल की वजह से अपने जीवनसाथी के साथ आपसी संबंध नहीं बना पाएंगे।

आपका वैवाहिक जीवन कैसा गुजरने वाला है अभी अपने साथी के साथ कीजिए कुंडली का मिलान…


दूसरे भाव में मंगल का कॅरियर पर प्रभाव

मंगल के दूसरे भाव में होने की वजह से व्यक्ति को कॅरियर में जो पोजीशन चाहिए, उसे पाने के लिए बहुत मेहनत करनी पड़ सकती है। कॅरियर में जहाँ भी आपको अवसर मिले वहा पर खुद को आगे बढ़ाए। वरना आपको सफलता नहीं मिल सकती है। पॉजिटिव रिजल्ट प्राप्त करने का एकमात्र तरीका स्वतंत्र रूप से कड़ी मेहनत करना है। ऐसा करके आप अपने कॅरियर के लक्ष्यों के करीब पहुंच सकते हैं। आपको सफलता के मार्ग में रुकावट आ सकती हैं, और आपको बहुत संघर्ष करना पड़ सकता है। हालाँकि, आप कॅरियर में शुरूआती मुश्किलों से आगे बढ़ जाते हैं, तो मंगल आपको एक सफल कॅरियर का आशीर्वाद भी दे सकता है। दूसरे भाव में मंगल के जातक इंजीनियरिंग, रिसर्च या आईटी क्षेत्र में अच्छा प्रदर्शन कर सकते हैं। यहां आपके पैसे बचाने की स्किल भी शेयर बाजार में सफलता पाने में भी मदद मिलती है।

क्या दूसरे भाव में मंगल की उपस्थिति से आपका फाइनेंसियल स्टेट्स होगा मजबूत अभी अपनी वार्षिक रिपोर्ट प्राप्त करें एकदम फ्री…


निष्कर्ष

द्वितीय भाव में मंगल के प्रभाव की वजह से व्यक्ति की सफलता पाने में बहुत मेहनत करनी पड़ती है। इसके अलावा, आपका वैवाहिक सम्बन्धों में भी अधिक समस्याएँ हो सकती हैं। वित्त के मामले में, आप अपने पिछले निवेशों से सफलता अर्जित कर सकते हैं। पैसो को लेकर आपकी परेशानी भी मंगल बढ़ाता है, पर आपके अंदर पैसे बचाने की जो स्किल होती है, उससे राहत मिलती है। कुल मिलाकर, दूसरे भाव में मंगल आपको जीवन की शिक्षा देता है। इस भाव में मंगल यह बताता है की आप जीवन में किन-किन समस्यों से गुजर सकते हैं। जब आप इन परेशानियों का डटकर सामना करते हैं तो आपका आने वाला समय बहुत ही शानदार होता है।

दूसरे भाव में मंगल की उपस्थिति आपके लिए कितना लाभदायक अभी अपनी कुंडली का विश्लेषण कीजिए…