सातवें घर का बुध: जानिए कैसा रहेगा आपका भाग्य

एक दिन आप सुबह सोकर उठें और आपको पता लगे कि आपकी विवाह संबंधी इच्छा भगवान ने सुन ली है। यदि ऐसा होता है तो आपके मन में पहला प्रश्न यही आएगा कि “कैसे हुआ”? ज्योतिष शास्त्र के अनुसार आपको इस चमत्कार के लिए बुध को धन्यवाद देना चाहिए। ऐसा इसीलिए हुआ कि बुध आपकी जन्मपत्रिका के सातवें घर (जो विवाह संबंध और जीवनसाथी का कारक है) में बैठा हुआ है। जिन जातकों के सप्तम भाव में बुध होता है, वे अक्सर अपने वैवाहिक जीवन का आनंद उठाने में व्यस्त रहते हैं।

बुध के नैसर्गिक गुणों में कम्यूनिकेशन स्किल्स, बुद्धिमता और तीव्र याददाश्त जैसे गुणों को माना जाता है, ऐसे में आपके लिए अपने जीवनसाथी को इम्प्रेस करना बहुत आसान होता है। यदि यहां बैठा बुध पूरी तरह से आपके अनुकूल हो तो आप अपनी रिलेशनशिप में बहुत आगे तक जाते हैं। यहां बैठा बुध आपको अपना मनवांछित जीवनसाथी खोजने में भी मदद करता है जिसकी सहायता से आप समाज में सम्मान और प्रशंसा अर्जित कर सकते हैं। लेकिन यदि आपकी कुंडली में बुध प्रतिकूल है, तो यह आपके वैवाहिक जीवन को किसी दूसरी दिशा में भी मोड़ सकता है जिसकी आप कल्पना भी नहीं कर सकते।

दूसरे भाव में बुध की उपस्थिति से किन-किन परिस्थियों का आपको सामना करना पड़ेगा अभी अपनी फ्री जन्मपत्री प्राप्त करें..


सातवें घर में बैठे बुध का क्या अर्थ है? (What does Mercury In The 7th house Mean?)

वैदिक ज्योतिष के अनुसार यदि बुध जन्मपत्रिका के सातवें भाव में बैठा हो तो यह आपकी समस्त इच्छाओं को पूरा कर सकता है। इसका अर्थ यह भी है कि जातक के जन्म के समय बुध सप्तम भाव से गुजर रहा था और इसी कारण वह अपने मनचाहे व्यक्ति के साथ विवाह कर सकता है। ज्योतिष के सिद्धांतों के अनुसार, जो भी ग्रह विवाह भाव में स्थित है, वह सीधे लग्न भाव पर दृष्टि डालता है और यदि बुध ऐसा करता है, तो यह आपके व्यक्तित्व और कौशल में अद्भुत रूप से सुधार कर सकता है।

सप्तम भाव जातक के विवाह संबंध, जीवनसथी और व्यवसाय से जुड़ा होता है। बुध का सातवें भाव में होना जातक की सीखने की क्षमता, तर्क शक्ति और सोचने की प्रक्रिया को प्रभावित करता है। यह युति वैवाहिक जीवन में सफलता प्राप्त करने में आपकी मदद कर सकता है।

अपने वैवाहिक जीवन की संभावनाओं को जानिए, अपनी जन्मपत्रिका खोलें।

सप्तम भाव के बुध का कारक (Influence of Mercury in 7th House)

  • विवाह संबंध
  • व्यापारिक साझेदारी
  • आपसी समन्वय
  • मानसिक योग्यताएं

सप्तम भाव के बुध का आपके व्यक्तित्व पर प्रभाव (Impacts Of The Mercury In The 7th House On Your Personality)

सप्तम भाव और बुध का मिलना आपको एक महान व्यक्तित्व का स्वामी बनाता है। बुध के कारण आपकी तर्क शक्ति दूसरों से अधिक होती है। इसके कारण आपकी एनालिसिस पॉवर भी अत्यधिक होती है। सातवें भाव का बुध आपको अपने ओवरऑल कम्यूनिकेशन स्किल्स को निखारने में मदद करता है और इसलिए, आप किसी भी विषय पर गंभीर बातचीत अथवा वाद-विवाद में दूसरों को परास्त कर सकते हैं।

यदि आपकी जन्म कुंडली में बुध कमजोर है या प्रतिकूल है, तो हो सकता है कि आपको इसके नेगेटिव इफेक्ट्स भी झेलने पड़े। आप दुखी महसूस कर सकते हैं और कई बार जरूरी डिसीजन्स लेने में झिझक सकते हैं। बहुत बार आपके लिए आगे बढ़ना मुश्किल हो जाता है। हालांकि सातवें भाव में बैठा बुध आपके इंटरपर्सनल स्किल्स को इम्प्रुव करता है।

दूसरे भाव में बुध होने से आपके पेशेवर में जीवन पर क्या असर पड़ेगा अभी कॉल करें, पहला कॉल फ्री…


सातवें घर का बुध तथा आपके वैवाहिक संबंध पर इसका प्रभाव (Impacts Of The Mercury In The 7th House On Your Marriage)

जन्मपत्रिका में सप्तम भाव विवाह संबंध तथा जीवनसाथी का कारक है, इसलिए यदि इस घर में बुध की उपस्थिति हो तो आपका वैवाहिक जीवन सफल होने की संभावना बढ़ जाती है। आप अपने जीवनसाथी के साथ रोमांटिक समय का आनंद ले सकते हैं। आप दोनों के बीच एक मजबूत बंधन होगा, दोनों के बीच आपसी सामंजस्य होगा जिसके चलते आप अपने साथी के साथ उचित तालमेल बिठा सकते हैं। साथ ही, आप एक दूसरे के सहयोग से अपने वैवाहिक जीवन के सभी लक्ष्यों को प्राप्त कर सकते हैं।

यदि बुध कुंडली के सप्तम भाव में स्थित है, तो इसका एक अर्थ यह भी है कि आपके लिए आपके संबंध एक ऐसी कैद बन गए हैं जहां से आप चाहकर भी बाहर नहीं निकल सकते। परिवार में किसी बच्चे के जन्म के दौरान बुध और भी अधिक समस्याएं पैदा कर सकता है। हालांकि, आप अपने रिश्ते में सामंजस्य स्थापित कर सकते हैं लेकिन यह कई उतार-चढ़ावों से निपटने के बाद ही संभव होगा।

आपका वैवाहिक जीवन कैसा गुजरने वाला है अभी अपने साथी के साथ कीजिए कुंडली का मिलान…


सप्तम भाव में बुध का आपके कॅरियर पर प्रभाव (Impacts Of The Mercury In The 7th House On Your Career)

जन्मकुंडली में सप्तम भाव में बुध की अनुकूल स्थिति आपको अप्रत्याशित लाभ प्राप्त करने के लिए मार्गदर्शन प्रदान करती है, विशेषकर सेल्स, मार्केटिंग, मीडिया और पत्रकारिता के क्षेत्र से जुड़े व्यक्तियों को पॉजिटिव रिजल्ट्स मिलने की संभावना अधिक होती है। इसके अलावा यदि आप बैंकिंग या फाइनेंस रिलेटेड सेक्टर से जुड़े हुए हैं तो भी यह आपके लिए खुशखबरी लाता है। आपका कॅरियर तरक्की की दिशा में तेज रफ्तार से भागता है और आप अपनी प्रोफेशनल लाइफ में नई ऊंचाईयों पर पहुंच जाते हैं।

सप्तम भाव का बुध आपकी क्रिएटिविटी और सृजनात्मक विचारशक्ति को बढ़ाता है। इस प्रकार, आप इंटीरियर डिजाइन या वास्तुकला के क्षेत्र में एक कामयाब कॅरियर बना सकते हैं। पढ़ाई में आपके गंभीर प्रयास रंग ला सकते हैं और आपको कॅरियर में सफलता मिल सकती है। दूसरों के साथ कम्यूनिकेशन करने का आपका तरीका और नई चीजें सीखने का उत्साह आपको आपके मनवांछित क्षेत्र में जॉब दिलाने की संभावनाओं को बढ़ा देता है।

क्या दूसरे भाव में बुध उपस्थिति से आपका फाइनेंसियल स्टेट्स होगा मजबूत अभी अपनी वार्षिक रिपोर्ट प्राप्त करें एकदम फ्री…


समापन

यहां हमने समझा कि किस तरह विवाह भाव में बैठा बुध अपने जातकों को अलग-अलग तरह से सपोर्ट देता है। इसकी वजह से आपको अपने वैवाहिक जीवन में सकारात्मक परिणाम मिल सकते हैं, लेकिन यह पार्क में टहलना जैसा आसान नहीं होगा वरन् आपको भी कुछ मेहनत करनी होगी। बुध का प्रतिकूल होना आपके प्रेम संबंधों को नुकसान पहुंचा सकता है और यह संबंध को चरम स्तर तक ले जाने में बाधा डाल सकता है। हालांकि यह तथ्य भी सत्य है कि आपका रिश्ता समय के साथ मिटता नहीं है।

ऐसी स्थिति में ज्योतिषी सुझाव देते हैं कि कुछ पाने के लिए आपको त्याग करना चाहिए और अपने वैवाहिक संबंधों में आपसी विश्वास बढ़ाना चाहिए। कुल मिलाकर सप्तम भाव में स्थित बुध आपके जीवन में उचित फल प्रदान करता है। आशा है, इस ब्लॉग के माध्यम से आपकी सभी शंकाओं का समाधान हो गया होगा। फिर भी यदि आपके मन में कोई प्रश्न है अथवा कुछ जानना चाहते हैं तो आप सीधे हमारे टॉप एस्ट्रोलॉजर्स से बात कर अपनी समस्या सुलझा सकते हैं।

दूसरे भाव में बुध की उपस्थिति आपके लिए कितना लाभदायक अभी अपनी कुंडली का विश्लेषण कीजिए…



Get 100% Cashback On First Consultation
Pay Now