अंक ज्योतिष नंबर 9 (Numerology number 9)

अगर अंक शास्त्र के अनुसार नंबर 9 कि बात करें तो यह नंबर 9 हिंदू धर्म में पूजनीय माना जाता है इसके साथ ही इस अंक को पूर्ण, सिद्ध और दिव्य भी माना जाता है क्योंकि यह एक चक्र के अंत को बयां करता है जिसकी उत्पत्ति भारतीय उपमहाद्वीप से 3000 ईसा पूर्व में हुई है। हमारे पास कहने के लिए और भी बहुत कुछ है तो चलिए बिना किसी लाग लपेट के नंबर 9 के महत्व ,जीवन पथ संख्या 9 कि अनुकूलता के बारे में और जानें।


लव एंड एंजेल नंबर 9

हमें यह विश्वास करना ही होगा कि नंबर 9 नि:स्वार्थ ओर सार्वभौमिक प्रेम और विश्वास का प्रतीक है। यह अंक ये दर्शाता है कि आपको प्यार देने और प्राप्त करने के लिए सदा तैयार रहने की आवश्यकता होती है। किसी भी तरह से आपको यह कभी नहीं भूलना चाहिए कि आपके स्वर्गदूतों को आपसे बहुत प्यार है और इसलिए वे आपकी मदद करने और आपके जीवन को बेहतर बनाने के लिए आ रहे हैं।


9 नंबर अलग कैसे है

जब हम संख्या 9 के आध्यात्मिक अर्थ के बारे में बात करते हैं तो संख्या 9 अक्सर प्राचीन काल से ही दुनिया भर में रहस्यमय विचारों और धर्मों में एक दिव्य अर्थ से जोड़ी जाती रही है।

जैसे कि नौ अनुग्रह होते हैं- प्रेम, शांति, पीड़ा, कोमल, अच्छा, विश्वास, नम्र और संयम।
और एक अंग्रेजी कहावत के मुताबिक बिल्ली के नौ जन्म होते हैं।
इसके साथ ही जन्म के लिए नौ महीने का गर्भकाल का समय निश्चित रूप से सभी मनुष्यों के लिए समान होता है।

देवी माता 9 दिनों तक राक्षसों का मुकाबला करने के लिए उनसे युद्ध करती हैं ताकि दुनिया को आदेश दे सकें।

कुल मिलाकर 9 मूड या नवरस होते हैं जिन्हें हम प्राचीन भारतीय नृत्य, संगीत, चित्रकला, नाटक और मूर्तिकला से जोड़ सकते हैं।
जीवन में कभी भी हार मत मानो किसी भी समस्या के लिए हमारे ज्योतिषियों से मात्र 1 रूपए प्रति मिनट मे चर्चा करें –


अंक ज्योतिष में नंबर 9 का महत्व

अंक 9 का स्वामी ग्रह मंगल है, जिसका जन्म किसी भी महीने की 9,18,27 तारीख को हुआ है और जिनकी मूल संख्या और भाग्यांक या नामांक 9 है।
मंगल ग्रह देवों की सभा का सेनापति है। मंगल ग्रह को एक मर्दाना आकृति के रूप में भी जाना जाता है। नौ नंबर वाले लोग उद्देश्य, कर्तव्य, व्यवस्था और अनुशासन के प्रति सदा मजबूत भावना रखते हैं और इनमें साहस, बहादुरी, धैर्य और आत्मविश्वास जैसे गुण मौजूद होते हैं।
अंक 9 से शासित लोग क्रोधी, तर्कहीन, बेचैन अस्थिर, क्रूर और हिंसक स्वभाव के होते हैं, यह मंगल गृह के गुणों के कारण होता है जिसे कि ज्योतिषियों द्वारा अशुभ ग्रह माना जाता है।

मंगल ग्रह का संबंध रक्त से, पेशीय तंत्र से, अस्थि मज्जा से भी है जो प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करता है और साथ ही यह शरीर के रक्षा तंत्र में भी मदद करता है।

मंगल या अंक 9 द्वारा शासित जातक मार्शल आर्ट, शिकार, खेल, वाद-विवाद, सार्वजनिक भाषण और राजनीति में बहुत ही अच्छे होते हैं। उनके पास गतिशील ऊर्जा होती है, इन्हें साहसी कार्य करना पसंद होता है। सूर्य, चंद्रमा और बृहस्पति मंगल ग्रह के मित्र ग्रह होते हैं, वहीं शनि, शुक्र, राहु और केतु तटस्थ ग्रह माने जाते हैं यानी कि ना मित्र ना शत्रु, बुध इसका एकमात्र शत्रु ग्रह है।


मुख्य नंबर 9

किसी भी महीने की 9, 18, 27 तारीख को जन्म लेने वाले जातकों मे मंगल ग्रह के गुण होते हैं। इनके पास तीव्र ऊर्जा होती है, कभी-कभी ये बेचैन भी होते हैं, ये लगातार किसी ना किसी गतिविधियों में लगे रहते हैं, ये कभी ना हारने वाले जुझारू व्यक्ति होते हैं और किसी भी क्षेत्र में शीर्ष पर पहुंच सकते हैं। ये लोग प्रतिस्पर्धा और खेल भावना भी रखते हैं। ये साहसी होते हैं और इन्हें रोमांच से प्रेम होता है। वे अपने पथ पर बड़ी तेजी से प्रगति करते हैं। इसके अलावा इनका स्वभाव बहुत उग्र होता है और इन्हें आसानी से उकसाया जा सकता है।

ये लोग हमेशा अपने सहकर्मियों ओर अधीनस्थों की अच्छी देखभाल करते हैं लेकिन कभी-कभी वे अपने निजी जीवन में बदकिस्मत साबित होते हैं और अपने जीवन साथी के साथ अक्सर झगड़ा करते हैं। भावनात्मक रूप से आहत होने पर वे क्रूर, आक्रामक और क्रोधित हो जाते हैं। उन्हें अपनी तीन मुख्य कमियों- क्रोध, अहंकार और आक्रामकता से बचना चाहिए।

एस्ट्रो गाइड के माध्यम से अपने सभी बुरे गुणों पर काबू पाएं, मायपंडितएप अभी डाउनलोड करें!


भाग्यांक नंबर 9

ये लोग अपने जीवन कि कठिनाइयों कि वजह से आध्यात्मिक और मानसिक रूप से विकसित और मजबूत होते हैं। ये सच्चे ज्ञान की सराहना करते हैं, लेकिन ये शास्त्रों और अपने आध्यात्मिक शिक्षक से जो सीखते हैं, उस पर आंख मूंदकर विश्वास नहीं करते हैं, बल्कि व्यावहारिक अनुभव के आधार पर ही किसी बात पर विश्वास करते हैं जो छात्रों को वास्तव में आध्यात्मिक होने में सक्षम बनाता है। ये लोग अगर कुछ काम ना करें और आराम कर रहे हों तो ये वे बेचैन हो जाते हैं। ये अपने जीवन को सुखद बनाने में बहुत रुचि रखते हैं और रोमांच और रोमांस से इन्हें बहुत प्रेम और लगाव होता है और ये मानते हैं कि जीवन आनंद लेने के लिए होता है। भाग्यांक 9 लोगों को आध्यात्मिकता की तरफ मुड़ता है और साथ ही इन्हें अच्छा और विनम्र इंसान बनाता है।


नामांक नंबर 9

अगर किसी का नामांक 9 अंक पर हो तो ये जातक को अभिव्यक्त करने वाला, रचनात्मक और आत्मनिर्भर बनाता है। उनके पास जीवन की कठिनाइयों को सहन करने और हराने की दृढ़ इच्छा शक्ति, दृढ़ संकल्प होता है। नामांक 9 खिलाड़ियों, सेना के जवानों, पहलवानों, संगीतकारों आदि के लिए अच्छा हो सकता है।

9 नंबर के लिए अनुकूल रंग
सभी प्रकार के लाल और गुलाबी रंग अंक 9 वालों के लिए उपयुक्त होते हैं, रंगों को हम कई तरह से इस्तेमाल कर सकते हैं जैसे कि कुशन कवर, लिविंग रूम के पर्दे, कपड़े, रुमाल आदि।


शुभ दिन

मंगलवार और शुक्रवार 9 तारीखों के लिए अच्छे होते हैं यदि ये दिन अनुकूल तिथियों पर शुभ मुहूर्त पर पड़ते हैं तो ये अधिक लाभकारी हो जाते हैं।


शुभ तारीख

किसी भी महीने के 9,18 27 अंक 9 के लिए अच्छे होते हैं।
3,6,15 21 24 और 30 भी 9 नंबर के लिए अनुकूल होते हैं।


ध्यान

नंबर 9 के जातकों को भगवान हनुमान की तस्वीर या मूर्ति या मूंगे के टुकड़े पर ध्यान लगाना चाहिए। ध्यान लगाने के लिए प्रात:काल ही उचित समय होता है। ये जातक ध्यान करने के लिए तांबे की प्लेट पर उकेरे गए मंगल यंत्र का भी प्रयोग कर सकते हैं।


भाग्य रत्न

9 नंबर के लोगों के लिए मूंगा सबसे अनुकूल रत्न होता है। यह रत्न मंगलवार के दिन ही खरीदना चाहिए और मंगलवार को ही जौहरी को अंगूठी या पेन्डेन्ट में बनाने देना चाहिए। याद रखें मूंगा में बनी अंगूठी या पेंडेंट मंगलवार के दिन जौहरी से लेनी चाहिए। इस अंगूठी या पेन्डेन्ट को तांबे और सोने के मिश्रण में ही बनाना चाहिए और मंगल ग्रह के लिए निर्धारित अनुष्ठान करने के बाद सुबह 11.00 बजे से पहले पहना जाना चाहिए।


देवी/देवता

9 नंबर वाले जातकों के इनके देवता हनुमान हैं। हनुमान भगवन निस्वार्थ प्रेम के प्रतीक हैं। इन्हें भगवान हनुमान से पूर्ण समर्पण का पाठ सीखना चाहिए और अपने जीवन में इसका अभ्यास करना चाहिए।


मंत्र

9 नंबर वाले जातकों को मन्त्रों का जाप चन्द्रमा के आरोही चक्र में पूरा करना चाहिए और मंत्र को बार-बार दोहराया जाना चाहिए। नंबर 9 के लोग मंत्र को दिन में 108 दोहरा सकते हैं। जो मंत्र इनके लिए लाभकारी है वो है, ओम नमो हनुमते नम:।
खुद को और भी जानें। जानना चाहते हो कैसे? अपनी निशुल्क जन्मपत्री अभी प्राप्त करें!


स्वास्थ्य और रोग

9 अंक के लोगों को हर तरह के बुखार होने का खतरा बना रहता है, क्योंकि इनका पित्त बड़ा रहता है जो बुखार लाता है, ये लोग संक्रमण, कटना और घाव के प्रति भी अतिसंवेदनशील होते हैं। उन्हें तैलीय, चिकना भोजन, अचार, गर्म मसाले और नशीली दवाओं से बचना चाहिए। अंक 9 के व्यक्ति को दूध में उबाले खजूर का प्रयोग करना चाहिए।


कॅरियर

अंक ज्योतिष संख्या 9 वाले लोगों के लिए पत्रकारिता, सामाजिक कार्य, नर्सिंग, शिक्षा, पुलिस बल, सशस्त्र बल, चाइल्डकेयर, स्टॉकब्रोकर, चिकित्सक, शिक्षक या यहां तक कि पर्यावरणविद् भी उपयुक्त कॅरियर हैं।


मित्रता

अंक 9 के जातकों को मित्रता में सावधान रहना चाहिए क्योंकि अक्सर उनके सबसे अच्छे दोस्त उनके विरोधी बन जाते हैं। जो भी लोग किसी भी महीने की 3, 6, 9, 12, 18, 21, 24, 30 तारीख को जन्मे हों इनके मित्र हो सकते हैं।


जीवन में अच्छे वर्ष

इन लोगों के लिए 9वें, 18वें, 27वें, 26वें, 45वें, 54वें, 63वें, 72वें, 90वें और 99वें वर्ष महत्वपूर्ण वर्ष होते हैं।

तो मित्रों आज के लिए इतना ही। यह आपके लिए अंक ज्योतिष संख्या 9 के बारे में था, आशा है कि आप इसके बारे में अच्छी तरह समझ गए होंगे।